मासूम सी परी मुझे दीवाना कर गई-2

Masum si pari mujhe diwana kar gai-2

मैंने उसे अपनी गोद में बिठाया. मैं पलंग पर दोनों पैर नीचे करके बैठा था. वो मेरे एक पैर पर बैठ गयी. वो अपने हाथों से अब भी अपनी ब्रा को छुपा रही थी. मैंने उसके हाथों को अलग किया और उसकी नरम गुलाबी ब्रा के ऊपर से उसके चुचियों को सहला दिया.

वो अपने हाथों से मेरे शर्ट का बटन खोल रही थी. तभी उसके कमर को दोनों हाथ से पकड़ कर उसे दूसरी तरफ बैठा दिया. अब भी वो मेरे गोद में ही बैठी थी, बस अब उसकी पीठ मेरी तरफ थी.

मैंने अपने होंठों से उसकी पीठ को चूमा. उसके बालों को उसके पीठ से हटा कर मैंने ब्रा की स्ट्रिप खोल दी और अपने दोनों हाथों से उसके ब्रा के ऊपर से चुचियों को सहलाते हुए उसके ब्रा को हटा दिया. उसकी तेज और गर्म सांसें मादक आवाज के साथ मेरे लंड को उत्तेजित कर चुकी थी.

मेरे दोनों हाथ उसके लिए ब्रा का काम कर रहे थे. उसके सख्त निप्पल, उसकी मलाई जैसी चुचियों को सख्ती दे रहे थे. मैं उसकी चुचियों को मसल रहा था और वो मेरे गोद में मचल रही थी.

तभी मेरा हाथ उसकी गीली पैंटी के ऊपर घूमने लगा और बिना कोई ज्यादा देर किए मैंने उसकी पैंटी को भी उसकी जाँघों से अलग कर दिया.

अब मेरा बायां हाथ उसके दोनों वक्ष पर था. वहीं दायां हाथ उसकी बुर को मसल रहा था. मैंने उसे अलग किया और अलग करने के साथ ही अपने आपको भी कपड़ों की बेड़ियों से मुक्त कर दिया.

उसने मेरे लंड को हल्का सा स्पर्श ही किया. जिससे अब मुझे भी लगने लगा था कि मेरा लंड कोई मांस का अंग नहीं, बल्कि पत्थर का ही टुकड़ा है.

वो बिना किसी कपड़े के बिस्तर पर लेटी हुई थी. उसका बदन दूध से भी गोरा चमक रहा था. चेहरे के चमक पर लिपस्टिक बिखर गई थी. अपने हाथ से बिस्तर को पकड़ती हुई वो सकुचाई सी मेरी आँखों में देख रही थी. उसके शरीर पर मेरी पकड़ के अनगिनत निशान बन चुके थे.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  लिंग की आत्मकथा-1

मैंने जन्नत की तरफ निगाह की. उसके दो चिकने पैरों के बीच बिल्कुल छोटी सी गुलाबी चूत, जिस पर थोड़े बहुत नर्म बाल ही रहे होंगे, बड़ी कामुक छटा बिखेर रही थी.

मैं उसके पैरों के बीच पहुंच गया और उसकी बुर पर अपने होंठों को टिका दिया. उसकी एक कामुक और मादकता से लबरेज आह निकल गई. उसने घबरा कर अपनी जांघों को समेट लिया और जन्नत का द्वार मेरी पहुँच से दूर करने का बेदम सा प्रयास किया.

मैंने अपने मुँह को उसकी बुर पर जबरन लगा दिया और जीभ से उसकी नर्म फांकों को चाट लिया. इसी बीचे मैंने हाथों से उसकी टांगों को खोल दिया.

वो बिस्तर पर अपने हाथ पटकती हुई किसी मासूम परी से कम नहीं लग रही थी. मैं अपने हाथों के उंगलियों से उसकी बुर की तंग गलियों में जगह बनाता हुआ आगे बढ़ा जा रहा था. वो मादक आवाजों से सिसकारते हुए मुझे जोश दिलाए जा रही थी.

कमरे में मानो सब खत्म सा हो गया था और उसकी मादक आवाजों के सिवा कुछ भी नहीं रह गया था.

मैंने उसकी बुर से मुख मोड़ा और अपने लंड को ऊपर लाते हुए उसकी दोनों चूचियों के बीच में रख दिया. वो मेरे लंड की सख्ती से अपनी छाती को गर्म महसूस करने लगी. उसी पल मैंने उसकी दोनों चूचियों से अपने लंड को मसला. उसकी भाव भंगिमा से लग रहा था कि वो अब लंड बुर में लेना चाहती थी. मैं भी उसे चोदना चाहता था, लेकिन मेरा मन था कि उसे कम से कम दर्द हो और उसका पहला अनुभव अच्छा हो.

वो कुंवारी थी, ये तो मैं उसकी बुर की चिपकी हुई फांकों को देखते ही समझ गया था. इसलिए उसकी पहली बार चुदाई में मैं विलम्ब कर रहा था.

कुछ देर तक उसका डर खत्म करने के बाद और उसे पूरी तरह से कामुक कर देने के बाद मैंने अपने लंड को उसकी बुर के मुँह पर रखा. मैं लंड को बुर की फांकों में रखने के साथ ही बार बार हटा भी देता था … जिससे उसकी बुर को भी लंड लेने की ललक जाग गई थी और उसकी बुर की फांकें भी खुलती चली गईं.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  सुमन को लंड का मजा चखाया

मेरे लंड ने महसूस कर लिया था कि उसकी कुंवारी बुर की फांकों से पानी भी कुछ ज्यादा आने लगा था … जिससे एक प्राकृतिक चिकनाई ने चुदाई के लिए लंड रास्ते को सुगम बनाने में मदद करना शुरू कर दी थी. तब भी ये चिकनाई शायद मुझे कम लगी. मैंने अपने लंड पर कुछ ज्यादा सा लोशन लगा दिया … जो मैं पहले ही लाकर बिस्तर के पास रख चुका था.

फिर मैंने बहुत तसल्ली से उसके अन्दर अपने लंड को डालने लगा. जब आप पहली बार किसी को चोदते हैं, तो झटका तो पहली बार लगाना ही होता है. मैंने जब देखा कि वो कम्फ़र्टेबल है, मैंने एक झटका जोर से लगा दिया.

इससे उसके मुँह से चीख निकली और दर्द से उसने अपनी कमर को झटक दिया, जिससे लंड अन्दर नहीं जा पाया.

मेरे न चाहते हुए भी उसके अन्दर का डर बाहर निकल गया. मैंने उसे फिर से प्यार किया और बताया कि बस एक बार दर्द होगा. बहुत प्यार करने के बाद किसी तरह वो तैयार हुई. इस बार मैंने अपनी पकड़ मजबूत की … और झटका देने से पहले अपने होंठों को उसके होंठों से जोड़ दिया.

लंड का टोपा जैसे ही फांकों के अन्दर फंसा … अब बारी तेज झटके देने की थी. इस वक्त मेरी पकड़ ऐसी हो गई थी कि वो हिल भी न पाए. उसके नाखून मेरे पीठ की गहराई में छप रहे थे.

इस बार मैंने तेज झटका लगाया, तो वो तड़प कर रह गयी … उम्म्ह… अहह… हय… याह… उसने छूटने की कोशिश की, लेकिन मैंने उसे छोड़ा नहीं. उसकी आँसू मेरे गाल पर लग रहे थे. मैंने उसके आंसू पौंछे, गालों को सहलाया और थोड़ी देर बाद थोड़ा जोर देकर उसके अन्दर तक पहुंच गया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  IIT Mumbai Mein Chudai Jari

वो आंख बंद कर लंबी सांसों के साथ सिसकारियां ले रही थी.

इधर धीरे धीरे हम चुदाई की गाड़ी को बढ़ाते चले गए. ऐसी लड़की, जब आपको चोदने के लिए मिल जाए, तो आप पहली बार में ज्यादा करिश्मा नहीं कर सकते हैं. मैं तो खुद अपने नियंत्रण में नहीं था. पहली बार मुश्किल से हम 5 मिनट तक सेक्स कर पाए. बिस्तर में कुछ खून के छींटे लगे थे और मेरा लंड तो लाल हो ही चुका था.

एक बार के सेक्स के बाद उसके अन्दर हिम्मत ही नहीं बची थी कि हम दोनों दूसरी बार चुदाई का मजा ले सकें. वैसे भी अब तक ढाई बज चुके थे. हम दोनों एक दूसरे की बांहों में यूं ही नंगे लिपट कर सो गए.

सुबह पांच बजे हम दोनों की नींद खुली. उस समय हम दोनों ने एक बार और सेक्स किया, जिसमें उसे 3 बार परमानंद की प्राप्ति हुई.

फिर मैं उसे साथ लेकर बाथरूम में गया और उसे शावर के नीचे खड़ा करके अच्छे से नहलाया और बाहर आकर जाने के लिए तैयार होने लगे.

अब हम एक नए अनुभव, आनन्द और शरीर के अंदरूनी हिस्सों पर प्यार के कई निशानों के साथ घर लौट आए.

यह हमारे लंबे प्यार की शुरूआत थी. इस प्रेम यात्रा में हम दोनों ने एक दूसरे को कई बार तृप्त किया और इस प्यार का परिणाम एक जोड़े के रूप में बन जाना अभी प्रतीक्षित है. आपको मेरी ये प्रेम से भरी सेक्स कहानी कैसी लगी, प्लीज़ अपने मेल भेजिएया.

राहुल सिंह

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!