मौसी की बेटी की गर्म चुदाई-1

Mausi ki beti ki garm chudai-1

Mausi Beti Chudai, कुवारी लड़की का सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी मौसी की बेटी ने मुझे उसकी चूत चुदाई के लिए उकसाया. वो छुट्टियों में हमारे घर आई. घर छोटा था तो सब साथ साथ सोते थे.

दोस्तो, मेरा नाम रजत है. मैं यू पी के वाराणसी का रहने वाला हूं. मैं दिखने में काफी स्मार्ट हूं और रोजाना जिम करता हूं. मेरी बॉडी अच्छी बनी हुई है और मैं काफी आकर्षक दिखता हूं.

मेरी लम्बाई 5 फीट 6 इंच है. मैं अपना खुद का व्यापार करता हूं. मेरा काम ज्यादा बड़ा नहीं है. मैं छोटे स्तर पर मेवों का व्यापार किया करता हूं. अभी साथ में पढ़ाई भी चल रही है इसलिए मुझे वहां भी समय देना पड़ता है.

दोस्तो, मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सी कहानियां पढ़ी हैं. मैं इस साइट का नियमित पाठक हूं और रोज इस साइट पर आकर गर्म सेक्स कहानियों का मजा लिया करता हूं. मैं मुठ बहुत कम मारता हूं लेकिन लंड को सहला लिया करता हूं.

आज मैं आप लोगों को अपने साथ घटी एक घटना के बारे में बताना चाहता हूं. यह कुवारी लड़की का सेक्स कहानी मेरे और मेरी मौसी की लड़की के बीच की है. मेरी मौसी की लड़की का नाम दिव्या है. यह नाम बदल दिया गया है. उसका असल नाम कुछ और है.

दिव्या दिखने में ठीक ठाक है. वो 19 साल की है. उसकी हाइट 5 फीट 2 इंच है. वह अभी पढ़ाई कर रही है. उसके साथ जब ये वाकया हुआ था वो समय दिसम्बर 2019 का था. उन दिनों दिव्या मेरे घर पर कुछ दिनों के लिए रहने के लिए आई हुई थी.

दोस्तो, मेरा घर बहुत छोटा है और मेरे परिवार में मम्मी, पापा और एक छोटी बहन है. हम चारों लोग एक ही साथ एक ही बिस्तर पर सोते हैं. फिर दिव्या के आ जाने के कारण हम चारों लोग एक बिस्तर पर नहीं सो सकते थे.

इसलिए पापा किचन में बिस्तर लेकर सोने चले गए. अब हम चार लोग बचे थे. मैं, मम्मी, मेरी छोटी बहन और दिव्या. अब हम चारों भी बिस्तर पर सो गए. बेड पर पहले मेरी बहन, फिर माँ, उसके बगल में दिव्या और उसके बगल में मैं सो गया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मेरी चूत की चुदास भैया के लिये

मुझे नींद आ रही थी इसलिए मैं जल्दी सो गया. ठंड ज्यादा होने के कारण मेरी बहन और मम्मी एक रजाई में थे और मैं और दिव्या एक रजाई में थे. रात को जब मेरी नींद खुली तो मुझे कुछ अजीब लगा क्योंकि कोई मेरे सीने पर हाथ फेर रहा था.

जब मैंने उस हाथ को पकड़ा तो वो दिव्या का हाथ था. मुझे लगा कि शायद वो नींद में है इसलिए उसका हाथ मेरे सीने पर आ गया है. फिर मैं उसके हाथ को अपने सीने पर से हटा कर सो गया.

उस रात ऐसा कई बार हुआ. कभी वो हाथ मेरे सीने पर रखती तो कभी मेरे पेट पर. एक बार तो उसने अपना हाथ मेरे लंड पर ही रख दिया और जिसकी वजह से मेरा लंड एक दम से टाइट हो गया. उसकी इस हरकत की वजह से मेरी नींद उड़ गई लेकिन मैं किसी भी तरह से फिर सो गया.

दोस्तो, उस रात मैं केवल यही सोचता रहा कि काश दिव्या की चूत मुझे चोदने के लिए मिल जाती. उसने मेरे लंड पर हाथ रख कर मेरे अंदर की हवस को जगा दिया था. दिव्या मेरी बहन के जैसी थी लेकिन अब मुझे उसमें चोदने के लिए केवल एक चूत दिखाई दे रही थी.

अगली सुबह मैंने सोचा कि इस बारे में दिव्या से बात करूं लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हुई उससे बात करने की. अब मैं रात होने की प्रतीक्षा करने लगा और रात भी हो गई. रात में फिर सारे लोग वैसे ही सोने लगे.

आज मुझे नींद नहीं आ रही थी. कल रात की हरकत के बाद तो मेरे मन में तूफान सा उठा हुआ था. मैं बस लेटा हुआ था और नींद में होने का नाटक कर रहा था.

क़रीब 12:30 बजे रात में दिव्या ने मेरे पेट पर हाथ रखा. कुछ देर वो हाथ को ऐसे ही रखे रही. जब मैंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी तो उसने सोचा होगा कि मैं नींद में हूं. फिर उसने एक बार फिर से पेट पर हाथ फिरा कर देखा. अबकी बार भी मैंने कुछ हलचल नहीं की.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  टीचर ने मेरी बहन चोद डाली

वो पूरी तरह से आश्वस्त हो चुकी थी कि मैं अब गहरी नींद में हूं. 5 मिनट के बाद ही उसने धीरे से अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया. उसके हाथ रखते ही मेरा लंड एकदम टाइट हो कर खड़ा हो गया. जिसकी वजह से उसे थोड़ा सा शक हुआ और उसने अपना हाथ तुरन्त हटा लिया.

जब मैं कुछ नहीं बोला तो उसे लगा कि शायद मेरा लंड नींद में ही खड़ा हो गया. अब उसने फिर से मेरे लंड पर हाथ रखा. मेरे लंड में झटके लगने लगे. मेरी हालत खराब होने लगी.

फिर दिव्या ने हल्के हल्के से मेरे लंड को दबाना शुरू कर दिया. उसके ऐसा करने से मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था. जब मुझसे कण्ट्रोल नहीं हुआ तो मैंने अपना एक हाथ सीधे उसकी चूत पर रख दिया. मेरे ऐसा करने से वो एकदम से डर गई.

मगर उसने कुछ बोला नहीं. उसने न ही मेरा हाथ अपनी चूत पर से हटाने की कोशिश की. मुझे भी बहुत मजा आ रहा था. उसकी चूत की फीलिंग लेते हुए मैं तो पागल सा होता जा रहा था.

मैं दिव्या की चूत को उसकी सलवार के ऊपर से ही सहलाने लगा और कई मिनट तक उसकी चूत को ऐसे ही कपड़ों के ऊपर से मसलता रहा. कुछ देर बाद मुझे महसूस हुआ कि उसकी चूत काफी गीली गीली लगने लगी थी.

मौसी की लड़की की चूत का पानी शायद निकल गया था. फिर मैं उठा और बाथरूम में पेशाब करने चला गया. मेरे पेशाब करके आने के 5 मिनट बाद दिव्या भी बाथरूम गई और फिर थोड़ी देर बाद वापस आ कर सो गई.

मगर मेरी आँखों में तो जैसे नींद थी ही नहीं. मेरे मन में कुछ और ही चल रहा था. अब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने अपने एक हाथ को उसकी एक चूची पर रख दिया और धीरे-धीरे उसके स्तन को दबाने लगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  ट्रैन में चोदा बहन की बुर उसकी मर्ज़ी से-5

फिर मैं एक कदम और आगे बढ़ा. अब मैंने अपना दूसरा हाथ उसकी सलवार में घुसा दिया और उसकी चड्डी के अंदर हाथ देकर उसकी चूत को अपने हाथ में पकड़ लिया. दिव्या जाग तो रही थी लेकिन कुछ बोल नहीं रही थी.

शायद उसको शर्म आ रही थी. मगर इतना तो मैं भी यकीन के साथ कह सकता था कि उस वक्त उसको भी बहुत मजा आ रहा होगा. फिर ये घटना होने के बाद में उसने मुझे कई दिन बाद बताया भी था कि उसको सच में पहली रात को कितना मजा आ रहा था.

तो दोस्तो, मैंने मौसी की लड़की की चूची पर हाथ रखा हुआ था और मैं उसकी चूची को लगभग 10 से 15 मिनट तक दबाता रहा. मैं उसकी चूत और चूची दोनों को एक साथ बारी-बारी से मसल रहा था.

दोस्तो उसकी चूत एकदम सॉफ्ट थी. मैं आपको बता नहीं सकता हूं कि उसकी चूत सच में कितनी मुलायम थी. उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल आना शुरू हो गये थे. मैं अपनी एक उंगली से उसकी चूत को सहला रहा था.

ऐसा लग रहा था जैसे कि मैं किसी मखमल पर हाथ फिरा रहा हूं. उसकी चूत में गर्मी भी बहुत थी. उसकी गर्म गर्म चूत की फीलिंग मुझे अलग से महसूस हो रही थी.

मैं कभी उसकी चूत में उंगली करता और कभी उसकी चूची को दबा देता. इस तरह से करीब आधे घंटे तक मैं उसकी चूत और चूची को छेड़ छेड़ कर खेलता रहा. दिव्या अब पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी.

 

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!