मौसी ने मसला मेरा लंड

Mausi ne masla mera lund

दोस्तो, मेरा नाम राज है और मैं लखनऊ का रहने वाला हूँ।

मैंने लगभग सारी कहानियाँ पड़ी हैं।

मेरी उम्र इस वक़्त ३० साल है और मैं एक साधारण सा दिखने वाला युवक हूँ।

वैसे तो मैंने काफ़ी चूतों का आनंद लिया है लेकिन वो सारी बातें फिर कभी।

आज जो मैं घटना सुनाने जा रहा हूँ वो मेरे जीवन में अचानक हुई और शायद इसीलिए ये मुझे काफ़ी पसंद भी है।

बात आज से करीब ३ साल पहले की है।

मेरी एक दूर की रिश्तेदार, जो मेरी मौसी लगती हैं उनके पति का लखनऊ तबादला हुआ।

इससे पहले मैंने उन्हे बचपन में देखा था।

तबादला होने के बाद वो सपरिवार हमारे घर आए।

जब मैंने उन्हे देखा तो देखता रह गया।

मेरी मौसी की उम्र उस वक़्त करीब ३८ साल रही होगी।

लेकिन कसम से उनका फिगर देख कर मेरा तो लंड खड़ा हो गया।

खैर इधर-उधर की बातें होती रही लेकिन मेरा सारा ध्यान उनके बदन पर ही था।

दोस्तो, मैं उनका फिगर बता दूं – ३८-३०-३४।

दोस्तो, बड़े उम्र की औरतें हमेशा से मेरी कमज़ोरी रही हैं।

हाँ, तो मैं उनके आस-पास मंडरा रहा था और उनकी तारीफ़ भी कर रहा था।

उनको भी मेरी कंपनी पसंद आ रही थी और हम जल्द ही घुल-मिल गये।

शायद उन्होंने मुझे उनके चूचों को घूरते देख लिया था।

उनकी आँखों में एक अजीब सी शरारत थी।

उस दिन के बाद हमारी फोन पर बात होने लगी।

बातों-बातों मे मुझे पता चला कि मौसा जी अक्सर घर से बाहर रहते हैं और उनके बीच हमेशा तक़रार होती रहती है।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  पंजाबन कुड़ी सिमरन चुद गई

मैंने उनको समझाया और ये भी कहा की आपको कोई भी प्राब्लम हो तो मुझे कॉल कर लिया करें।

इस तरह हमारी बात-चीत गहरी होती गयी और बहुत अंतरंग भी।

एक दिन उन्होंने मुझे घर बुलाया।

जब मैं वहाँ पहुचा तो घर पर कोई नहीं था।

मौसी ने नाइटी पहन रखी थी जो पारदर्शी तो नहीं थी लेकिन रोशनी में आर-पार दिख रहा था।

मेरे लंड ने सलामी देना शुरू कर दिया था।

वो किचन में चाय बना रही थीं और हम उनके बगल मे खड़े हो कर बात कर रहे थे।

अचानक वो कुछ उठाने के लिए मेरे बगल से गुज़री और उनकी चूचियाँ मेरे बदन से रगड़ खा गयी।

मेरे बदन में बिजली का झटका लगा।

लेकिन फिर हम सामान्य हो गये।

थोड़ी देर बाद फिर यही हुआ।

मैंने उनकी आँखों मे देखा तो वो लाल थी।

उन्होंने पूछा – क्या देख रहे हो?

मैंने कहा कि काश आप मेरी बीवी होती?

उन्होंने कहा – अगर मैं तुम्हारी बीवी होती तो?

मैंने कहा – कुछ नहीं, आप को बुरा लग जाएगा।

दरअसल मैं निश्चिंत होना चाहता था कि कहीं वो बुरा तो नहीं मानेंगी।

लेकिन उन्होंने कहा कि नहीं बुरा लगेगा बताओ ना।

मैं उनके करीब आ गया और उनकी आँखों मे देखते हुए बोला कि अगर आप मेरी बीवी होती तो मैं अभी आपको बहुत प्यार करता।

उन्होंने पूछा कि कैसे प्यार करते?

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मैंने कहा – वैसे ही जैसे एक पति अपनी पत्नी को करता है।

और ये कहते हुए मैंने उनके होंठों पर एक चुंबन ले लिया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  स्कूल के मालिक ने सपना पूरा किया

उसके बाद हमारे होंठ एक-दूसरे से चिपक गये और हम एक-दूसरे की बाहों में खोने लगे।

मैंने जैसे ही उनके गर्दन पर चूमा उनके मुँह से सिसकारी निकल गयी।

आआआआअहह…

फिर मैं उनके पूरे बदन को बेतहाशा चूमने लगा।

उनके हाथ मेरे बदन पर चल रहे थे।

चूमते हुए मैंने उनके चुचियों को नाइटी के उपर से मसलना शुरू किया।

ह्म्म्म्ममममम… उउउउउउउफ्फ्फ्फ्फ्फ… आआआअहह… आआहह…

और ज़ोर से दबाओ राज, बहुत समय से किसी ने इनको छुआ नहीं है।

आआआहह… और दबाओ कहते हुए वो मचलने लगीं।

मैं उनको ले कर बेडरूम में आ गया और बिस्तर पर पटक दिया।

उनकी नाइटी उतार दी और ब्रा के उपर से ही उनकी चूचियाँ मसलने लगा।

वो पूरी तरह से मदहोश हो चूकी थीं।

मेरा एक हाथ उनकी पैंटी के अंदर पहुंच चुका था।

उनकी चूत पर एक भी बाल नहीं था।

चूत पूरी गीली थी।

मैं चूमते-चूमते चूत तक पहुंचा।

जैसे ही मैंने चूत पर मुँह लगाया उनके मुँह से सिसकारी निकल पड़ी और वो गांड उठा के मचलने लगीं।

मैंने जीभ से चूत की फांकों को सहलाया और पूरी जीभ चूत में डाल दी।

हमम्म्ममममममममम… उफफफफफफ्फ़… आआआअहह… इस्स्स्स्स्स्स्स… और चोदो मेरी चूत…

आआहह…

उनके हाथ धीरे से मेरे लंड तक पहुंचा और वो उसे मसलने लगी।

अब सारी दीवारें गिर चुकीं थी।

हम ६९ की मुद्रा में आ गये।

वो लंड को चूस रही थीं और मैं उनकी चूत के रस का पान कर रहा था।

थोड़ी देर बाद हम सीधे हुए और मैंने उनकी चूत के मुँह पर लंड का सुपारा टिकाया और एक झटके में आधा लंड अंदर डाल दिया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Bus Me Ki Aunty Ki Chudai

वो एक-दम से चिहुक उठीं।

बोलीं – धीरे करो, बहुत दिनों से चूत में लंड नहीं गया है।

मैं कहाँ सुनने वाला था।

एक झटका लगाया और पूरा लंड अंदर।

उनके मुँह से सिसकारियाँ निकल रहीं थीं।

पूरे कमरे में फ़चक-फ़चक की आवाज़ आ रही थी।

वो भी गांड उठा-उठा कर मज़े से चुदवाने लगीं।

करीब १० मिनिट की धक्कों के बाद मेरा पानी निकल गया और मौसी भी २ बार झड़ चुकी थीं।

उनके चेहरे पर संतुष्टि के भाव थे।

हम दोनों ही खुश थे।

उसके बाद हमें जब भी मौका मिलता, हम चुदाई करते।

बाद में मैंने उनकी गांड भी मारी लेकिन वो अगली बार।

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..

आपको कहानी कैसी लगी ज़रूर बताईएएगा।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!