मेरे एप्पल फोन की रिपेयरिंग-1

Mere apple phone ki repairing-1

हैल्लो दोस्तों, में पूनम एक बार फिर से आप लोगों के सामने अपनी दूसरी सच्ची चुदाई की कहानी लेकर आई हूँ और यह मेरे बहुत रोचक सेक्स अनुभव था. दोस्तों यह घटना उस समय की है, जब मेरे कॉलेज की छुट्टियाँ शुरू हो गई थी, इसलिए में खुशी खुशी अपने घर पर लौट रही थी और मुझे नए नए इंजिनियरिंग कॉलेज जाने में बहुत मज़ा आ रहा था और मम्मी ने मेरी अच्छी पढ़ाई की लगन को देखकर मुझे एक एप्पल का 45000 रूपये का एक फोन दे दिया था.

अब मेरे कॉलेज में कुछ दोस्त भी बन गए थे, उन सभी में से एक थी श्रेया, जो मेरे पास बैठती थी और वो बहुत बदमाश किस्म की लड़की थी. वो हर रोज मुझे अपने मोबाईल पर ब्लूफिल्म दिखाती और वो हमेशा बहुत कमाल की फिल्म लाती थी, वो जब भी मेरे घर पर आती तो हम दोनों बहुत मज़े करते और ब्लूफिल्म देखते फेक अकाउंट पर सेक्स चेटिंग करते और कभी कभी मज़ाक में वो मेरे बूब्स को दबा देती तो कभी में उसके बूब्स को दबा देती थी और हम दोनों ने बहुत कम समय में बहुत सारी सेक्सी कहानियाँ भी पढ़ी, जिसमें मैंने चुदाई के बहुत सारे अलग अलग तरीके देखे, वो बहुत मजेदार रोचक थे और में कॉलेज के इन एक दो महीनो में बहुत बदल गयी थी. दोस्तों यह सब मेरी दोस्त श्रेया के कारण था.

वो मुझे अक्सर अपनी झूठी सेक्स कहानी सुनाकर गरम करती थी, वैसे स्कूल में मैंने ऐसा कभी नहीं किया था, क्योंकि में थोड़ी सी मोटी हूँ, इसलिए मेरे ज़्यादा दोस्त भी नहीं थे और श्रेया के साथ दोस्ती होने के बाद मुझे अपने लड़की होने का एहसास होने लगा था और में अब लड़को के तरफ आकर्षित होने लगी थी, लेकिन मेरी इस अच्छी कहानी में दुखो की भी कमी नहीं थी, क्योंकि मेरी मम्मी एक प्राइवेट कंपनी में काम करती थी, पापा और उनका दस साल पहले ही तलाक़ हो चुका था और मेरी मम्मी बहुत गुस्सैल स्वभाव की औरत है, वो आज भी मुझे हर छोटी छोटी बातों पर डांटती है.

दोस्तों यह घटना एक साल पहले की है, तब में 18 साल की थी और मेरी लम्बाई 5.3 और मेरा फिगर 36-32-36, रंग गोरा गोल चेहरा, में स्वभाव से थोड़ी भोली थी, यह सब उस कुतिया श्रेया के वजह से हुआ. दोस्तों उसने एक दिन मुझे मज़ाक मज़ाक में ऐसा धक्का दिया कि मेरा एप्पल का फोन नीचे गिरकर टूट गया और हम दोनों ने मिलकर उसे किसी तरह जोड़ दिया, लेकिन वो बिल्कुल भी काम नहीं कर रहा था और अब में बहुत डर गई और मैंने मन ही मन सोचा कि अगर मैंने अपनी मम्मी को बताया तो मुझे बहुत मार पड़ेगी और नया फोन खराब हुआ है, यह बात मम्मी को पता ही चल जाएगी, लेकिन अब मेरे पास पैसे भी नहीं थे, क्योंकि मम्मी तो मुझे गिनकर हर महीने 500 रूपये महीने का देती है, जो मेरे पास खर्चा हो जाता है, मेरे पास बचता एक रुपया भी नहीं है और में अब फोन के खराब होने की बात को सोचकर बहुत उदास थी और मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था कि में अब क्या करूं? तो श्रेया ने मुझसे कहा कि उसे एक दुकान का पता है, जो सस्ते में फोन ठीक करता है. फिर मैंने कहा कि मेरे पास जमा किए हुए 700 रूपये है, तो उसने चिल्लाकर कहा कि हाँ यार बहुत है और में उसके साथ दुकान पर चली गई और हम दुकान पर पहुंचते तो देखा कि वहां पर एक 11-12 साल का बच्चा बैठा हुआ है.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  एक समझौते का बदला

मैंने जब उससे फोन ठीक करवाने का खर्चा पूछा तो उसने मुझसे कहा कि उसे पता नहीं, उसका मालिक आएगा तो बता सकता है और वो कब आएगा पता नहीं. ऐसे हालत में श्रेया ने मुझसे कहा कि तू ज्यादा चिंता मत ले यार, यह इसको फोन देकर चल, दो दिन बाद वो इसको ठीक कर देगा तो हम आकर ले जाएँगे, वो पैसे भी ज़्यादा नहीं लेता.

दोस्तों मुझे उसकी बातों पर पूरा भरोसा था, इसलिए में उस बच्चे के हाथ में फोन देकर अपने घर पर आ गई, दो दिन तक में घर पर मम्मी से छुपकर रही कि कहीं मुझसे मोबाईल के बारे में ना पूछ ले. फिर जब में श्रेया उस दुकान पर गये तो इस बार वहां पर एक 35-38 साल का हट्टा कट्टा सांवला सा आदमी बैठा हुआ था. वो लंबा चौड़े सीने वाला, सांवला रंग, हाथ में लोहे की चूड़ी, उसने एक कान में बाली पहनी हुई थी, जब हमने अपने मोबाईल के बारे में उसको बताया तो उसने हमारा मोबाईल दे दिया और जो खर्चा उसने हमे बताया हमारे उसको सुनकर होश ही उड़ गए, वो बोला 2500 रूपये. अब हम दोनों ने उसे बहुत कोसा और पैसे कम करने को कहा, लेकिन उसने कहा कि उसने हमारे मोबाईल पर 2000 रूपये की एक टूटी हुई दूसरी मशीन लगाई है, दूसरे दुकान वाले इसके 4000 रूपये तक माँगते है.

फिर श्रेया ने उससे कहा कि हम यह पैसे आपको किस्तो में चुका देंगे, लेकिन वो मानने वाला नहीं था, हम पूरी तरह से घबरा गये थे. तभी श्रेया ने कह दिया कि पैसे मेरे घर पर है, वो कल सुबह दस बजे आकर फोन ले जाएगी, तो उसने उस पर भरोसा किया और मेरे घर का पता लेकर उसने मेरे 700 रूपये भी रख लिए और हमे जाने दिया. दोस्तों मुझे तब लगा कि हम कल तक पैसों का कहीं से जुगाड़ कर लेंगे, यह बात सोचकर श्रेया ने उससे ऐसा कहाँ होगा तो में भी उसके साथ चुपचाप वहां से चली आई.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  BHABHI Aor uss ki Sister Behani DIDI ko saari raat choda-10

अब घर पर आने के बाद में उसने बताया कि उसने जो पता उसको दिया है, उस कागज पर उसने हमारे घर का पता ग़लत लिख दिया है और वो दुकानदार कभी भी मुझे नहीं ढूंड पाएगा, तो मुझे उसकी यह बात सुनकर बहुत राहत मिली कि आज पहली बार उसने कोई दिमाग़ का काम किया था.

उसके अगले दिन रोज की तरह मम्मी सुबह 8 बजे ही अपनी नौकरी पर निकल गई और करीब 11 बजे में कॉलेज जाने के लिए तैयार हो रही थी कि तभी दरवाजे पर लगी घटी बजी. फिर मैंने सोचा कि लगता है हमारी कोई पड़ोसन होगी, वो चीनी या चायपत्ति माँगने आई होगी, लेकिन दरवाज़ा खोलते ही मेरा सर दर्द से फटने लगा, क्योंकि अब ठीक मेरे सामने वही मोबाईल ठीक करने वाला था. उसकी आँखे पहले से बड़ी बड़ी और लाल नज़र आ रही थी.

आदमी : क्यों मेडम जी, आप लोग ने जानबूझ कर मुझे ग़लत फ्लेट नंबर दिए थे ना? लेकिन मैंने आपके नाम पूछते हुए आपको और आपके फ्लेट को ढूंड ही लिया.

में: मेरा नाम?

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

आदमी : हाँ कल मैंने आप दोनों को एक दूसरे के नाम से पुकारते हुए सुना था, चलो अब आप मेरे पैसे दो वरना में यहाँ पर ज़ोर से चिल्ला चिल्लाकर सभी को आप लोगों की हैसियत बता दूँगा, साले रहते बड़े बड़े घर में है और हज़ार रुपये के लिए ग़रीबो को ठगते है.

दोस्तों वो मुझे बहुत बुरी तरह से कोसने लगा था तो मैंने कोई बाहर सुन ना ले और मेरी मम्मी को ना बता दे, यह बात सोचते हुए उसको अंदर बुलाकर ड्रॉयिंग रूम में बैठा दिया, लेकिन अब मुझे बहुत घबराहट हो रही थी, में उसे वहां पर बैठाकर अंदर गई और श्रेया को अपने दूसरे फोन से कॉल किया, जैसे ही मैंने उसे यह बात बताई तो उसने मेरी मदद करने से साफ मना कर दिया वो और मुझसे कहने लगी कि उसके पास मेरा मोबाईल है तो में ही उससे बात करूं तो मुझे भी उसका ऐसा जवाब सुनकर बहुत गुस्सा आया.

में : साली कुतिया तेरी वजह से में आज फंस गई हूँ और तू ही मेरी आज मदद भी नहीं कर रही, मुझे तेरी ऐसी दोस्ती नहीं चाहिए, कहीं मर जा साली.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Ashwini or Rujuta {tv actress} ki mazedar Chudai kari

श्रेया : क्या? मेरी वजह से, तुझे क्या में अपनी गोद में उठाकर उस दुकान पर ले गई थी, चल अब अच्छा हुआ मर रंडी साली, तेरे पास पैसे तो होंगे नहीं अब तू उससे अपनी चूत चुदवाकर उसके पैसे चुका.

दोस्तों मुझसे यह बात कहकर उसने फोन ज़ोर से पटक दिया और मुझे रोना आने लगा था. फिर कुछ मिनट तक में एकदम चुपचाप खड़ी रही और सोचती रही कि में अब क्या करूं? क्या उसको अपने घर के सामान दे दूँ? नहीं वो नहीं लेगा और उसने लिया भी तो मम्मी मुझे पकड़ लेगी और वो मुझे बहुत मारेगी, क्या में मम्मी की अलमारी को तोड़ दूँ? नहीं में यह भी नहीं कर सकती, क्या में कहीं से बाहर निकलने की जगह देखकर भाग जाऊं? नहीं यह भी नहीं हो सकता, क्योंकि हम 4th मंजिल पर रहते है या फिर श्रेया के कहे तरीके से में उसके साथ एक बार सो जाऊं, मतलब पैसों की जगह में अपनी चूत को कुर्बान कर दूँ?

दोस्तों मुझे वो कुछ मिनट अब सालो से लग रहे थे और में पूरी तरह से पसीने से भीग चुकी थी और फिर नहीं नहीं यह मेरी समस्या है और में ही इसको हल करूँगी. तभी बाहर से आवाज आई, मेडम अब कितना टाईम लगेगा, मुझे और भी बहुत सारे काम है? तो मैंने कुछ नहीं कहा और मैंने अपने कपड़े बदले, लीप स्टिक, पर्फ्यूम लगाया और फिर में बेडरूम से बाहर आ गई.

मैंने उस समय अपनी टी-शर्ट के अंदर से अपनी ब्रा को उतार दिया था और अपनी पेंटी और पज़ामा उतारकर एक छोटी सी स्कर्ट को पहन लिया था, क्योंकि अब मैंने फ़ैसला कर लिया था कि में इस आदमी को आज अपनी तरफ आकर्षित करके किसी तरह छुटकारा पा लूँगी, उससे पहले मुझे थोड़ा सा डर था कि में मोटी हूँ, इसलिए शायद में इतनी सेक्सी नहीं हूँ और क्या पता यह मुझसे पटेगा भी या नहीं, जो भी हो मेरे पास मेरी चूत तो है ही, में उसे ज़रूर फंसा लूँगी.

दोस्तों यह सभी बातें सोचते हुए में जैसे ही अपने बेडरूम से बाहर निकली तो मैंने देखा कि वो मुझे लगातार घूर रहा था, में उसके सामने चुपचाप खड़ी होकर उसकी सोच को जानने की कोशिश कर रही थी.

 

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!