मेरे बाप का पाप-2

Mere baap ka paap-2

मैंने उस समय फ्रॉक के नीचे कुछ नहीं पहना था और पापा मेरे बूब्स के खड़े निप्पल को अपनी मुठ्ठी में भरकर दबा रहे थे और साथ ही वो मेरे दोनों बूब्स को भी मसल रहे थे. उस वजह से में मस्ती से भरी मज़ा ले रही थी. तभी पापा ने मुझसे पूछा, क्यों बेटी तुमको अच्छा लग रहा है? तो मैंने कहा कि हाँ पापा मुझे बहुत मज़ा आ रहा है और वो कहने लगे कि तुम इसी तरह कुछ देर बैठो, क्योंकि आज में तुमको शादी से पहले ही शादी वाला पूरा मज़ा देता हूँ क्योंकि अब तुम जवान भी हो गयी हो और तुम यह मज़े लेने के लायक भी हो गयी हो, आज में तुमको बहुत मज़े दूंगा. जब में इस तरह से तुम्हारे बूब्स को दबाता हूँ तब तुम्हे कैसा लगता है? पापा मेरे खड़े बूब्स को निचोड़कर बोले, तो में एकदम उतावली होकर बोली उफ्फ्फ हाए पापा ऊहह्ह्ह सीईईईईइ इस तरह तो मुझे और भी अच्छा लगता है जब तुम कपड़े उतारकर नंगी होकर मज़ा लोगी तब और भी ज़्यादा मज़ा आएगा, वाह तुम्हारे बूब्स बड़े मस्त है.

फिर मैंने पापा से पूछा कि मेरे बूब्स इतने छोटे क्यों है? मम्मी के तो बहुत बड़े है? वो कहने लगे कि तुम घबराओ मत बेटी तुम्हारे बूब्स को भी में तुम्हारी मम्मी की तरह बड़ा कर दूँगा. बेटी तुम अपने पूरे कपड़े उतारकर नंगी होकर बैठो तब बड़ा मज़ा आएगा. फिर मैंने उनसे पूछा पापा क्या में अपनी पेंटी को भी उतार दूँ? में उस समय बिल्कुल अंजान बनी हुई थी, वो बोले कि हाँ बेटी तुम अपनी पेंटी को भी उतार दो लड़कियों का असली मज़ा तो उनकी पेंटी में ही होता है. आज में तुमको वो सारी बातें बताने वाला हूँ, जब तक तुम्हारी शादी नहीं होती तब में ही तुमको शादी वाला मज़ा दूँगा और तुम्हारे साथ में ही सुहागरात मनाऊंगा तुम्हारे बूब्स बहुत टाइट है और पापा मेरी फ्रॉक के अंदर अपना एक हाथ डालकर मेरे दोनों को बूब्स को दबातें हुए बोले कि बेटी अब तुम नंगी हो जाओ.

दोस्तों जब पापा ने मेरे बूब्स को मसलते हुए मुझे अपने कपड़े उतारने के लिए कहा तब मुझे पूरा विश्वास हो गया था कि आज मुझे अपने पापा के लंड का असली मज़ा मिलेगा और में उनके लंड को खाने की बात को सोचकर गुदगुदा गयी थी. उसके साथ में अपनी मम्मी की रंगीन चुदाई को याद करती हुई कुर्सी से नीचे उतरी और अपने कपड़े उतारने लगी, उसके बाद में अपने पूरे कपड़े उतारकर नंगी होकर मम्मी की तरह ही अपने दोनों पैरों को फैलाकर उस कुर्सी पर बैठ गयी. दोस्तों मेरे छोटे छोटे बूब्स तने हुए थे और अब मुझे ज़रा सी भी शरम नहीं आ रही थी. मेरी दोनों गोरी जाँघो के बीच मेरी चूत पापा को साफ दिख रही थी और पापा मेरी गदराई हुई चूत को बहुत गौर से देख रहे थे. मेरी चूत का वो गुलाबी छेद बड़ा मस्त था, अब पापा अपने एक हाथ से मेरी गुलाबी कली को सहलाते हुए बोले हे राम बेटी तुम्हारी तो जवान हो गयी है. फिर मैंने उनसे पूछा पापा मेरी क्या जवान हो गयी है? तब वो कहने लगे कि अरे बेटी तुम्हारी चूत जवान हो गई है.

फिर उन्होंने मेरी चूत को ज़ोर से दबा दिया और पापा के हाथ से मेरी चूत के दबाए जाने पर में एकदम सनसना गयी और में मस्ती से भरी अपनी चूत को देख रही थी. तभी पापा ने अपने अंगूठे को क्रीम से चुपड़कर मेरी चूत में डाल दिया. वो मेरी चूत को उस क्रीम से चिकनी कर रहे थे. अब अंगूठा अंदर जाते ही मेरा बदन कांप गया और तभी पापा ने मेरी चूत से उनका अंगूठा बाहर किया तो वो उस पर लगे मेरी चूत के रस को देखकर बोले कि बेटी यह क्या है? क्या तुमने किसी से चुदवाकर मज़ा लिया है? में अब अपने पापा के अनुभव को देखकर एकदम दंग रह गयी और में घबराकर अंजान बनती हुई उनसे बोली कैसा मज़ा पापा? बेटी क्या यहाँ कोई आया था? नहीं पापा यहाँ तो कोई भी नहीं आया, तो फिर तुम्हारी चूत में यह गाढ़ा रस कैसा? वो मुझे क्या पता? पापा जब आप मेरे बूब्स को मसल रहे थे शायद तब कुछ गिरा था में बहाना बनाकर बोली. फिर वो कहने लगे कि लगता है तुम्हारी चूत ने एक बार पानी छोड़ दिया है. फिर पापा मुझे टावल देकर बूब्स को मसलते हुए बोले लो तुम इस टावल से साफ कर लो.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  जवान देसी बेटी की चुदाई कहानी

अब मैंने पापा से टावल को लेकर अपनी चूत को रगड़ रगड़कर साफ किया और पापा को उमेश वाली बात पता नहीं चलने दी. में अब अपने बूब्स को मसलवाते हुए पापा से खुलकर गंदी बातें कर रही थी ताकि में सभी कुछ जान सकूँ और वो मुझसे पूछने लगे बेटी जब में तुम्हारे बूब्स को दबाता हूँ तब तुम्हे कैसा लगता है? मैंने उनको जवाब दिया उफफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह पापा तब मुझे जन्नत जैसा मज़ा मिलता है और वो मुझसे पूछने लगे क्यों बेटी तुम्हारी चूत में भी तुम्हे अब कुछ महसूस होता है? अब में उनके सामने थोड़ा सा बेशरमाकर बोली मैंने कहा कि हाँ पापा मुझे बड़ी गुदगुदी हो रही है, तो वो मुझसे कहने लगे हाँ में अब ज़रा सा तुम्हारे बूब्स को और दबा लूँ. फिर उसके बाद में तुम्हारी चूत को भी मज़ा देता हूँ, बेटी तुम यह बात किसी को मत बताना.

फिर मैंने कहा उफ्फ्फ हाँ पापा इसमे बहुत मज़ा है और किसी को कुछ भी नहीं पता चलेगा. अब पापा मेरे बूब्स को लगातार मसलते रहे और में उनके साथ जन्नत का मज़ा लेती रही. फिर कुछ देर बाद में एकदम से तड़पकर बोली ऊह्ह्ह्ह उह्ह्हह्ह पापा प्लीज अब आप बंद करो यह बूब्स को दबाना और अब आप अपनी बेटी की चूत का मज़ा लो. दोस्तों अब में भी अपने पापा के साथ खुलकर बातें कर रही थी और उस समय हम दोनों बाप, बेटी पति, पत्नी थे. फिर पापा मेरे बूब्स को छोड़कर अब मेरे सामने आ गए उस समय पापा का मोटा लंड तनकर खड़ा होकर मेरी आँख के सामने फुदकने लगा था. मैंने लंड तो पापा का पहले भी देखा था, लेकिन इतनी पास से में आज पहली बार देख रही थी इसलिए मेरा मन अब उसको लपककर पकड़ने को ललचाने लगा था और फिर मैंने उसको पकड़ लिया और में दबाने लगी.

अब मेरी चूत पापा के मस्त लंड को देखकर अपनी लार टपकाने लगी थी, में पापा के केले को पकड़कर बोली आशशश पापा आपका लंड बहुत मोटा है और यह इतना मोटा मेरी चूत के अंदर भला कैसे जाएगा? तो वो बोले कि अरे पगली मर्द का लंड हमेशा ऐसा ही होता है और मोटे से ही तो असली मज़ा आता है, लेकिन पापा मेरी चूत तो बहुत छोटी है? फिर वो कहने लगे कि कोई बात नहीं बेटी तुम देखना तुम्हे वो पूरा मज़ा जाएगा, लेकिन पापा इससे तो मेरी आज फट ही जाएगी? अरे बेटी नहीं फटेगी, तुम इससे एक बार चुद जाओगी तो हर रोज़ चुदवाने के लिए तड़पती रहोगी और अब तुम अपने दोनों पैरों को फैलाकर अपनी चूत को खोल दो, क्योंकि सबसे पहले में अपनी बेटी की चूत को चाट लेता हूँ और फिर उसके बाद में चुदाई करूंगा.

अब में समझ गयी थी कि पापा मम्मी की तरह मेरी चूत को चाटना चाहते है और मैंने जब मम्मी को उनकी चूत चटवाते हुए देखा था तभी से में मन ही मन में सोच रही थी कि काश पापा मेरी चूत को भी एक बार चाटते. अब जब पापा ने मुझसे मेरी चूत को फैलाने के लिए कहा तो मैंने तुरंत अपने दोनों हाथ से अपनी चूत की दरार को फैलाकर पूरा खोल दिया. अब पापा अपने घुटनों के बल नीचे बैठ गये और वो मेरी रोयेदार चूत पर अपने होंठो को रख चूमने लगे.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  Meri Sagi Beti SANIYA ki Chudai

फिर पापा के पहली बार चूमने पर में कांप गयी. फिर दो चार बार चूमने के बाद पापा ने अपनी जीभ को मेरी चूत के चारों तरफ चलाते हुए उन्होंने अब मेरी चूत को चाटना शुरू कर दिया और वो हल्के हल्के मेरे बाल भी चाट रहे थे, जिसकी वजह से मुझे ग़ज़ब का मज़ा आ रहा था. अब पापा मेरी चूत को चाटते हुए चूत का दाना भी चाट रहे थे में उस वजह से बड़ी मस्त थी और उमेश तो बस मुझे जल्दी से चोदकर चला गया उसने मेरे बूब्स भी नहीं दबाए थे जिसकी वजह से कुछ मज़ा और जोश नहीं आया था, लेकिन पापा तो एकदम चालाक समझदार खिलाड़ी की तरह मुझे वो पूरा मज़ा दे रहे थे और उन्होंने मेरी चूत के बाहर से चाट चाटकर पूरा गीला कर दिया था.

अब पापा मेरी चूत की दरार में अपनी जीभ को चला रहे थे और कुछ देर तक इसी तरह से करने के बाद पापा ने अपनी जीभ को मेरी गुलाबी चूत के छेद में डाल दिया और जब उनकी जीभ मेरी चूत के छेद में गयी तो मेरी हालत पहले से ज्यादा खराब हो गयी और में अब उस मस्ती से तड़प उठी क्योंकि पहली बार मेरी चूत चाटी जा रही थी और मुझे उसमे इतना मज़ा आया कि में नीचे से अपने कूल्हों को उछालने लगी, कुछ देर बाद पापा मेरी चूत को चाटकर अलग हुए और अब उन्होंने अपने खड़े लंड को मेरी चूत पर लगा दिया वो अपने लंड से मेरी चूत को रगड़ने लगे थे. दोस्तों कुछ देर पहले चूत की चटाई के बाद अब उनके लंड की रगड़ाई ने मुझे बिल्कुल पागल बना दिया था और में अपने उतावलेपन से पापा से कहने लगी उफ्फ्फ्फ़ प्लीज पापा अब आप चोद भी दो मेरी चूत को आअहह ऊऊहह.

फिर पापा ने मेरी तड़पती हुई उस आवाज़ पर मेरे बूब्स को उसी समय ज़ोर से कसकर पकड़कर अपनी कमर को थोड़ा सा ऊपर उठाकर धक्का मार दिया. फिर एक करारा धक्का लगने पर पापा का आधा लंड मेरी चूत में चला गया और पापा का मोटा और लंबा लंड मेरी छोटी सी चूत को ककड़ी की तरह चीरकर अंदर घुसा था और लंड के आधा अंदर जाते ही में दर्द से तड़पकर उनसे बोली आअहह्ह्ह ऊऊईईईई स्सीईईइ माँ में मर गयी पापा, प्लीज धीरे धीरे पापा आपका बहुत मोटा है उफ्फ्फ्फ़ पापा मेरी चूत इससे अब पूरी तरह से फट गयी है, मुझे बहुत अजीब सा दर्द हो रहा है, में मर जाउंगी प्लीज.

दोस्तों पापा का वो मोटा और लंबा लंड मेरी चूत में एकदम कसा हुआ था. मेरे उस दर्द और करहाने की वजह से पापा ने उसी समय धक्के मारना बंद कर दिया और उन्होंने मेरे बूब्स को मसलना शुरू किया. अब मुझे कुछ देर बाद दोबारा थोड़ा सा मज़ा आने लगा था. फिर करीब 6-7 मिनट बाद मेरा वो दर्द एकदम खत्म हो गया था और अब पापा अपने लंड को मेरी चूत में बिना रुके लगातार धक्के लगा रहे थे जिसकी वजह से धीरे धीरे पापा का पूरा लंड मेरी चूत की झिल्ली को चीरता फाड़ता हुआ अंदर घुस गया, लेकिन में दोबारा उस दर्द से छटपटाने लगी थी और मुझे ऐसा लगा जैसे किसी ने मेरी चूत में चाकू घुसाया है जिसने मेरी चूत के सभी जगह से छीलकर दर्द जलन पैदा कर दी थी और जिसको अब सहना मेरे लिए बहुत मुश्किल था. अब में अपनी कमर को झटकते हुए बोली उफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह पापा आज मेरी फट गयी है, प्लीज अब इसको बाहर निकालो मुझे नहीं चुदवाना.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  पापा के लंड से मेरी चूत का संगम

फिर पापा अपना लंड डालते हुए मेरे गाल चाट रहे थे और वो मेरे गाल चाटते हुए मुझसे बोले कि बेटी रो मत, अब तो पूरा चला गया, हर लड़की को पहली बार दर्द होता है, लेकिन फिर मज़ा भी उसको उतना ही आता है. दोस्तों कुछ देर के बाद मेरा करहाना अब बंद हुआ तो पापा मुझे धीरे धीरे धक्के देकर चोदने लगे. पापा का लंड कस कसकर मेरी चूत के अंदर आ जा रहा था और अब सच में मुझे मज़ा आ रहा था. अब जब भी पापा ऊपर से धक्का लगाते तो में भी नीचे से अपनी गांड को उछालने लगती और उमेश तो मुझे केवल ऊपर से रगड़कर चोदकर चला गया था, मेरी असली चुदाई तो अब मेरे पापा कर रहे थे. फिर देखते ही देखते पापा ने अपना पूरा लंड मेरी चूत के अंदर तक डाल दिया था. फिर मैंने महसूस किया कि पापा का लंड तो उमेश के लंड से बहुत दमदार और मज़ेदार था.

फिर जब पापा धक्का लगाते तो उनके लंड का टोपा मेरी बच्चेदानी तक छू जाता. मुझे आज जन्नत के मज़े से भी अधिक मज़ा मिल रहा था. तभी पापा ने मुझसे पूछा क्यों बेटी अब तुम्हे दर्द तो नहीं हो रहा है ना? तो मैंने उनसे कहा कि नहीं पापा अब तो मुझे बहुत मज़ा आ रहा है आह्ह्हहह पापा और ज़ोर ज़ोर से आप मुझे धक्के देकर चोदो और पापा इसी तरह करीब बीस मिनट तक लगातार धक्के देकर मुझे चोदते रहे और फिर बीस मिनट के बाद पापा के लंड से गरम गरम मलाईदार पानी मेरी चूत में गिरने एक एक बूंद टपकने लगी, जिसको में बहुत अच्छी तरह से महसूस कर रही थी और जब पापा का वीर्य मेरी चूत में गिरा तो में पापा से चिपक गयी और मेरी चूत भी झड़ने लगी.

उस समय हम दोनों साथ ही झड़ रहे थे. दोस्तों पापा ने मुझे उस रात को पूरी रात चोदा और जब रात भर चुदाई से थककर दूसरे दिन दोपहर 12 बजे सोकर उठे तो मैंने पापा से पूछा कि पापा आज फिर से आप मेरी चुदाई करोगे? तो वो हंसकर कहने लगे अरे मेरी जान अब में बेटीचोद बन गया हूँ और अब तो में तुझे हर रोज़ ही चोदकर मज़े दूंगा, क्योंकि अब तू मेरी दूसरी बीवी है, लेकिन पापा जब मम्मी आ जाएँगी तो क्या करोगे? अरे मेरी जान उसको तो में बस एक बार चोद दूँगा और वो ठंडी हो जाएगी और फिर में तेरे कमरे में आ जाया करूँगा. दोस्तों में फिर उस अपनी पहली चुदाई के बाद से पापा के साथ हर रोज़ सुहागरात मनाने लगी थी. मुझे उनके साथ ऐसा करने में बड़ा मज़ा आने लगा था और में भी अब पूरे जोश में आकर उनके साथ अपनी चुदाई के पूरे पूरे मज़े लेने लगी. उन्होंने मुझे हर बार चोदकर संतुष्ट किया. दोस्तों यह थी मेरी वो कहानी जिसको में आप तक पहुँचाने के बारे में बहुत दिनों से सोच विचार कर रही थी.

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!