मेरी हॉट मामी की सेक्स स्टोरी- 3

((Meri Hot Mami Ki Sex Story- 3)

अब तक अपने पढ़ा था

मैं उस रात मामी की गांड चुदाई कर के मेरे बिस्तर पे मामी के साथ सो गया, मामी कब उठ के अपनी बैडरूम मे चली गयी थी मुझे पता नहीं चला। सुबह को उठके मैंने देखा तोह मेरे सिस्टर पे सिर्फ मामी की ब्रा ही पड़ा हुआ मिला और उस ब्रा मे मेरा वीर्य लगा हुआ था और साथ मे मामी की जिस्म के खुसबू पूरा महक रहा था। मैंने उसे अपने कमरे मे छुपा के रख दिया ताकि मामाजी के नज़र उसपे ना पड़े।

उसके बाद मैं बाथरूम के तरफ जाने लगा तो देखा की मामाजी अभी तक सो रहे थे और मामी रसोईघर मे थी और नास्ता बना रही थी, आज तोह मामी बास्केल्स साड़ी मे उनकी फिगर मस्त दिख रहा था, मैं धीरे से उनके पीछे गया और उनको पीछे से हुग करते हुए अपना दोनों हाथ सीधा उनके बड़े बड़े चुची पे थमा दिया। तब मामी की कोई रिएक्शन नहीं था और मुझे देख के मेरे होंठ पे एक किश किया तोह मैं हैरान हो के पूछा आपको पता चल गया की मैं हूँ ?

मामी- हाँ, मुझे पता था। हम तीनो के अलावा घर मे और कोई नहीं है तुम्हारा मामाजी ९बजे उठेंगे और अभी ७बजे है तोह तुम्हारे जागने का समय है तोह ऐसा पीछे से तुम ही करोगे न, तोह अभी ये २ घंटे के अंदर तुम्हारे मामाजी जागने से पहले मेरे चूत के साथ कुछ तूफानी करना चाहोगे?

मैं- अभी आपका मूड हो तोह मैं वो चांस को क्यों गवाना चाहूंगा, अभी आपको यहीं पे अभी अपना लंड का जलवा दिखा कर रहूँगा।

मामी- मेरे शेर, यहाँ पे नहीं बाथरूम चलो वहां पे करेंगे। यहाँ पे हमारे आवाज़ सुन के तुम्हारे मामाजी जाग जायेंगे तोह हमे यह सब करते हुए देख लेंगे तोह दोनों मुशीबत मे आ जायेंगे।

मामी एक कटोरी मे तेल ले के बाथरूम चली और उनके पीछे पीछे मैं, हम दोनों अंदर जाते ही पहले हम एक दुषरे को हॉट किश करने लगे । उसके ५-१० मिनट बाद मामी मेरे कपडे उतारने लगी उसके बाद मामी मुझे उनके जिस्म से सब उतारने को बोले तोह मैंने खुसी से पहले उनकी साड़ी निकाला उसके बाद उनकी पेटीकोट अब उनके ३६साइज के शीने से सब उतारने की देरी था जिसे मैं ब्लाउज के ऊपर से ही दबाते जारहा था और मामी धीरे धीरे गरम होने लगी थी।

मैं सब निकल के मामी के बड़े बड़े चुची को दबाते हुए पूछा की आपकी साइज क्या है तोह वह सरमते हुए बोली ३६ साइज है, मैं थोड़ा चौंक के उनसे पूछा ज्यादा तर शादी शुदा औरत जो एक दो बच्चे के माँ बनने के बाद उनके साइज उतना बड़ा होता पर आपके अभी से इतने बड़े कैसे हुए?

मामी- मैं कॉलेज मे ही अपनी जवानी के मज़े ले चुकी हूँ, और सबने मेरे चुची को दबा के चुशे हैं ।

मैं- मामी आप तो एक अबल की रंडी निकले, तोह आप यह मुझे बताओ मामाजी से पहले आप कितने लड़को के साथ यह सब कर चुके हो?

मामी- मैं कॉलेज के टाइम मे ३लड़को के साथ उसके बाद मेरी शादी तुम्हारे मामाजी से हुयी उसके बाद दीपक के साथ और अब तुम्हारे साथ कर रही हूँ।

मैं- पर कुछ भी बोली आप अपने फिगर अच्छे तरह से संभाल के रखा है, कोई भी आपको देख के अपना प्यास एक बार ज़रूर बुझाना चाहेगा किसी भी हालत मे।

मामी- तोह फिर तुम किस बात के लिए अभी इंतज़ार कर रहे हो? हम दोनों जवान हैं और दोनों जब एक ही प्यास में तड़प रहे हैं तोह देर न कर के जल्दी प्यास मिटाओ ना।

मामी इतना बोल के मेरे लंड को अपने मुँह मे ले कर लॉलीपॉप के तरह चूसने लगी और मैं खड़ा हो के ऊपर से उनकी फोटो लेने लगा कुछ ही देर मे उनके मुँह मे अपना वीर्य छोड़ दिया तोह मामी सब बड़े प्यार से पिगयी, अब मामी मेरे गीले लंड को अपने दोनों चुची के बिच रख के  मेरे लंड को खड़ा करने लगी। जब वो पूरा सख्त हो के मामी की चूत के अंदर जाने के लिए तैयार हो चूका था तोह मामी ने मुझे कमोड पे बिठाया फिर अपनी चूत पे थोड़ा थूक लगा के सीधा मेरे खड़े लंड पे अपनी चूत को सेट कर के बैठ गयी। मैं मामी की कमर को पकड़ के ऊपर निचे कर के उनकी चुदाई करने लगा और चुदाई से मामी की चूत गीले होने लगा था तो मेरा लंड बड़े आराम से पूरा अंदर तक जाने लगा था और मैं मामी की बड़े बड़े चुची चूसने लगा और उसे पूरा लाल कर दिया।

मेरा जब वीर्य निकलने वाला था मामी को किश करते हुए पूछा मामी मेरा निकलने वाला है तोह उसको मैं कहाँ छोड़ू? मामी अपनी आंखे बंद कर के चुदाई का मज़ा लेते हुए बोली अरे मेरा शेर कुछ मत सोचो अंदर ही छोड़ दो, आज से यह हक़ सिर्फ तुम्हे ही दे रही हूँ। जब भी करते वक़्त छोड़ना है तोह चूत में अपना वीर्य छोड़ना बाकि जो होगा बाद मे देखा जायेगा । तोह मैंने चुदाई का स्पीड बढ़ा के उनकी चूत में अपना वीर्य छोड़ दिया, तब मामी की चेहरे पे अलग सी चमक थी। मामी की चूत में सब छोड़ने के बाद भी वो अपनी चूत मे मेरा लंड को डाल के वैसे ही कमोड मे हम बैठे रहे और दोनों एक दुषरे को किश कर रहे थे।

कुछ देर बाद मेरे ऊपर से उठ गयी उसके बाद हम दोनों शावर के निचे दोनों मिल के नहाने लगे तब मामी मेरे लंड के खेल रही थी और मैं उनकी बड़े बड़े चुची के साथ हम दोनों करीब १५मिनट तक मिल के नहाया और उसके बाद दोनों ने अपने कपडे पहने लगे। मामी बाथरूम से निकलने से पहले मुझे एक रोमांस भरा किश दे के चली गयी और मैं भी उनके पीछे पीछे रसोई घर चला गया मामी को पीछे से किश करे हुए बोलै मामी मुझे आपकी ब्रा देदो मैं उसके साथ अपना दिन गुजरूंगा और पूरी रात के लिए आपके अपने बिस्तर मे ले के साथ गुजरूंगा ।

मामी कुछ देर बाद वोह अपने बैडरूम में गए अलमारी से एक ब्रा निकाल के लाये और मेरे हाथ मे थमा दिया और बोली अब तुम्हारे मामाजी जाग जायेंगे यह लो मेरी ब्रा अब उसी से अपना दिन बिताओ बाकि सब मेरे लिए रात मे करने को बचा के रखना कहीं ऐसा ना हो की शुरू करने से पहले ही तुम सारा मज़ा बर्बाद ना कर दो। मैंने मामी से बोलै की बस आज रात दुल्हन के कपड़ो मे रहना आज हम सुहागरात मनाएंगे बोला तोह मामी राज़ी हो गए, दिन मे मामी मामाजी से मस्ती करती थी और रात होने पर मामी मेरे साथ बिस्तर और जिस्म को गरम कर के दोनों नंगे हालत मे एक दुषरे के बहो मे लेट के बिताते थे।

उस दिन जैसे तैसे काट दिया अब हम दोनों काफी उस पल के लिए उत्साहित थे की काम मामाजी अपने काम मे जायेंगे उसके बाद हम अपना पलंग तोड़ चुदाई का काम शुरू करेंगे। आखिरकार वह वक़्त आही गया और मामाजी मामी को गुड नाईट किश कर के चले गए और मामी अपनी सारा घर का काम ख़तम कर के अब मेरे लिए उस रात के लिया सुहागरात के दुल्हन बनने के लिए अपने बैडरूम मे चली गयी, अब बिना किसी लाज शर्म के बेफिक्र हो के अपनी कपडे उतार के नंगी हो के दुल्हन के कपडे पेहेन रही थी की मैं उनके पीछे से उनकी आधी नंगी जिस्म के साथ खेलने लगा।

मामी- थोड़ा सब्र करो स्वीट हार्ट कुछ देर बाद तोह सब करोगे तब तक थोड़ा इंतज़ार करो।

मैं- क्या करूँ मेरी जान आपकी जिस्म को देखने के बाद मेरा कोई नियंत्रण नहीं रख पता हूँ बस जी भर के चुदाई कर के खुश देखना चाहता हूँ ।

मामी- दुल्हन के रिवाज मे देखने को बोल रहे हो और अभी से तुम चालू हो गए?

मैं- जल्दी करो मामी आपकी फिगर ही ऐसे हैं जो मुझसे रहा नहीं जाता हैं।

मामी १०मिनट में सब पेहेन के तैयार हो गयी, मामी रसोई घर मे गयी साथ मे हनी और तेल के बोतल लायी पहले मामी के साथ किश किया उसके बाद मामी ने मेरे लंड पे हनी लगा के १०-१५ मिनट तक खूब कुशा उसके बाद लंड पे तेल लगा के मालिश किया और मुझे बोली की मेरे हाथो से अब मामी के बदन से सब एक एक कर के उतारने को ।

मैं देर न कर के मामी को पूरी तरह से नंगी कर दिया और मामी को उठा के लिया बिस्तर पे लेटा दिया और उनकी दोनों टाँगे फाड् के उनकी पिंक चूत को चाटने लगा और मामी कुछ ही देर में अपना पानी छोड़ दिया उसके बाद मैं देर न कर के मेरा लंड को सीधा मामी की चूत मे डाल के उनको उस रात खूब चुदाई किया, मामी पूरा जोश मे थी पर मैं उनकी चूत मे ३-४ बार अपना बीर्य छोड़ के थक गया था और थक के मारे मैं मामी के ऊपर ही सो गया। फिर मामाजी के लौटने से पहले आखरी बार मामी को पलंग तोड़ चुदाई किया और मामी नींद मे ही सो के बस सिसकिया निकल रहे थे, मामी नींद मे ही बोल रही थी कम ऑन रवि मुझे आज चोद डालो मैं बस तुम्हारी हूँ। पर मैं मामी की बात पे गौर ना कर के उन्हें पेलता गया और आखिर मे मैंने उनकी बड़े बड़े चुची पे और मुँह पे बीर्य गिरा दिया फिर उनको वैसे हालत में छोड़ के मैं फ्रेश  के कपडे पहन लिया और आ के सीधा अपने कमरे मे सो गया।

सुबह उठा तो देखा मामाजी जाग चुके थे और बाथरूम गए हुए थे मैं यह देख के सीधा मामी के पास चला गया जा के मामी को किश किया थोड़ा गुस्से के नज़र से देखने लगी तोह मैंने पूछा क्या हुआ रात को मज़ा नहीं आया क्या? मामी थोड़ा स्माइल कर के बोली रात को जितना हुआ उसके लिए बहोत खुस हूँ पर आज से तुम मुझे छूना मत, मैं चौंक के पूछा क्या हुआ? मैंने रात मे कुछ गलत कर दिया क्या या फिर मामाजी ने सब जान गए?

मामी- मेरे प्यारे भोला भांजा, अभी से मेरी पीरियड शुरू हो गयी है तोह आज से १०-१५ तक हम कुछ करने वाले नहीं है।

मैं- मामी आपके साथ कुछ नहीं कर पाउँगा तोह मैं रात में सो नहीं पाउँगा।

(मामी कुछ देर सोचने लगी)

मामी- ठीक है, पर रात को तुम मेरे कमरे मे आना और सिर्फ थोड़े दूर रह के मेरे नंगी जिस्म को देख के हस्तमैथुन कर के सो जाओ।

मैं- ठीक है अब इतने दिन सिर्फ इसी से गुजरना पड़ेगा।

Loading...