मेरी सेक्सी बहन शालिनी की चुदाई-1

(Meri Sexy Bahan Shalini ki chudai-1)

हैल्लो फ्रेंड्स.. मेरा नाम रोहित है.. मेरी उम्र 23 साल की है और में इस साईट की बहुत कहानियां पढ़ चुका हूँ और इसका बहुत बड़ा फैन हूँ.. इसलिए आज मैंने भी सोचा कि अपनी भी एक कहानी आप सभी लोगो से शेयर करूं.

दोस्तों यह स्टोरी मेरी पहली स्टोरी है और मेरी बड़ी बहन की है और यह आज से कुछ साल पहले की है. में आप सबको अपनी फेमिली के बारे में बताता हूँ. हमारी फेमिली में 4 सदस्य हैं.. मेरे मम्मी, पापा मेरी एक बड़ी बहन और में. मेरे पापा एक बिजनेसमैन है और हम दिल्ली में रहते है और मेरी मम्मी एक सरकारी बैंक में नौकरी करती है. हमारे घर में सभी लोग बहुत अच्छे दिखते है.. मेरे पापा, मेरी मम्मी जो कि एक बहुत खूबसूरत औरत है. वो अपने आप की बहुत देखरेख करती है और मेरी बहन का तो क्या कहना? वो तो एक बहुत ही सेक्सी लड़की है और उसका फिगर भी बड़ा मस्त है मेरी बहन का नाम शालिनी है. में भी दिखने में बहुत स्मार्ट हूँ.

हमारा दिल्ली में 3 बेडरूम का एक घर है जिसमे एक रूम मम्मी पापा का है.. एक शालिनी का है और एक मेरा. शालिनी और मेरे बेडरूम का बाथरूम एक ही है. मेरी सेक्स में बहुत ही रूचि है.. लेकिन मुझे कभी किसी के साथ मौका नहीं मिला और मेरी कोई गर्लफ्रेंड भी नहीं थी. जब घर में कोई नहीं होता था तो में हमेशा कंप्यूटर चालू करके बहुत सी ब्लू फिल्म देखा करता था.. लेकिन मेरे मन में अभी तक शालिनी को लेकर कोई ग़लत अहसास नहीं था.. लेकिन पिछले कुछ दिनों से शालिनी में कुछ बदलाव आ रहा था और उसके कपड़े पहनने में वो अक्सर धीरे धीरे फोन पर बातें करती रहती थी. तो मुझे शक था कि उसका कोई बॉयफ्रेंड है और उसके शरीर में भी बहुत कुछ बदलाव आ रहे थे.. उसकी छाती का साईज़ थोड़ा बढ़ने लगा था और मुझे पूरा यकीन था कि वो कहीं ना कहीं मज़े ले रही है.

फिर मैंने कुछ दिनों के बाद एक सेक्सी स्टोरी पढ़ी.. जिसमे एक भाई और बहन थे और वो उसमे सेक्स का मज़ा घर ही लेते थे. फिर उस दिन के बाद कभी कभी मेरे मन में भी ऐसे ख्याल आने लगे और में चुप चुपकर शालिनी को और उसके शरीर को ध्यान से देखने लगा. वो एक बेहद सेक्सी लड़की थी उसका शरीर गदराया हुआ था उसके बूब्स कयामत ढा रहे थे और वो जब चलती थी तो पीछे से क्या क़यामत लगती थी. में फिर उसको सोच सोचकर मुठ मारने लगा और सोचने लगा कि क्या कभी स्टोरी वाली बात मेरी लाईफ में भी सच होगी? और क्या में भी अपनी सेक्स की भूख को खत्म कर सकता हूँ.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  ठंड दूर की बहन के साथ कम्बल में

फिर में कभी कभी उसके नहाने के बाद जब नहाने जाता था तो उसकी ब्रा और पेंटी को हाथ में लेकर मुठ मारता था.. मुझे उस चीज़ का एक नशा सा होने लगा था.. लेकिन उसे बोलने की मेरी कभी हिम्मत भी नहीं हो सकती थी. फिर में हर रोज उसको ग़लत नज़र से देखने लगा और मुझे यह भी पता था कि वो ब्रा पहनकर नहीं सोती है. तो यही बात सोचकर में बिना उसको महसूस किए और मुठ मारे बिना नहीं सोता था. फिर मेरा मन तो करता था कि पीछे से जाकर पकड़ लूँ और चुदाई कर डालूं और में उसके अंडर गारमेंट की तलाश में रहने लगा और उनको सूंघकर चाटकर पागल होने लगा.

फिर मम्मी पापा सुबह ऑफिस चले जाते थे और शालिनी ने भी कोई एक्सट्रा लॅंग्वेज क्लास शुरू कर दी थी तो वो भी सुबह 10 बजे के बाद.. शाम के 4 बजे तक घर पर नहीं रहती थी और फिर में अकेला ही घर में रहता था. फिर एक दिन मेरे मन में उसके अलमारी को चेक करने का ख्याल आया.. लेकिन वो अलमारी को हमेशा ताला लगाकर रखती थी और चाबी को हमेशा अपने पास रखती थी.. लेकिन हमारे घर में हर ताले की एक चाबी मेरी मम्मी की अलमारी में रहती थी. तो मैंने एक दिन मौका पाकर वो चाबी का गुच्छा ही मम्मी की अलमारी में से निकाल लिया और फिर सुबह होने का इंतजार करने लगा.. लेकिन उस रात मुझे पूरी रात नींद नहीं आई और मुझे ऐसा लग रहा था कि सुबह कोई खजाना मिलने वाला है. उस रात को मैंने 3 बार मुठ मारी और फिर जैसे तैसे मेरी आंख लग गयी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाई के लंड का प्यार-2

जब में सुबह उठा तो सब लोग जाने के लिए तैयार हो रहे थे और फिर में भी उठा फ्रेश होकर नाश्ता करके सबके जाने का इंतजार करने लगा. फिर एक एक करके सब लोग निकल गये और आखरी में मेरी बहन भी निकल गयी. तो मैंने झट से दरवाजा बंद किया और फिर मेरी धड़कने बढ़ने लगी और मैंने अपने सारे कपड़े वहाँ पर ही हॉल में ही उतार दिए और अपने रूम से चाबी का गुच्छा लेकर शालिनी के रूम में जाने लगा. मेरा लंड एकदम टाईट हो चुका था और ऐसा लग रहा था कि में एक चोर हूँ. फिर मैंने शालिनी की अलमारी खोली जिसमे आगे उसके कपड़े और मेकअप का समान रख हुआ था. फिर मैंने देखा कि नीचे वाली जगह पर एक बेग में उसके अंडर गारमेंट रखे हुए थे.. मेरी धड़कने और बढ़ने लगी.. मैंने उस बेग को बाहर निकाल लिया और एक एक करके सब बाहर निकालने लगा और बेड पर फैला दिया.

उस बेग में अलग अलग कलर की और अलग अलग तरह की ब्रा पेंटी थी.. जिसे देखकर में अपनी बड़ी बहन को महसूस करने लगा. एक काले कलर की ब्रा जिसमे कि आगे की तरफ जाली लगी थी वो बहुत ही अच्छी लग रही थी और में अपने आप को रोक नहीं पा रहा था. उसके पास बहुत अलग अलग तरह के अंडरगार्मेंट्स थे. में उन ब्रा और पेंटी के ऊपर ही लेट गया और एक हाथ से लंड हिलाने लगा. फिर थोड़ी देर बाद जब झड़ने वाला था तो में बेड के कोने पर बैठकर ब्रा, पेंटी को हाथ में लेकर झड़ गया. मुझे अब बहुत अच्छा लग रहा था.

फिर में बाथरूम में जाकर फ्रेश हुआ और थोड़ी देर उन ब्रा, पेंटी पर ही लेटा रहा और अपने नीचे शालिनी को महसूस करने लगा. थोड़ी देर के बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और में फिर उन ब्रा, पेंटी में शालिनी को महसूस करके हिलाने लगा. मुझे उस वक़्त बहुत मज़ा आ रहा था.. लेकिन दोस्तों में बता नहीं सकता कि अब मुझे बड़ा आराम मिल रहा था. फिर थोड़ी देर लोटने के बाद में कुछ और उसकी अलमारी में ढूढ़ने लगा.. लेकिन एक पेकेट में नेपकिन के अलावा मेरे लिए कुछ ज्यादा नहीं था. वो अब मेरा रोज का काम हो गया और सबके निकलने के बाद में रोज ऐसा करने लगा और इंतजार करने लगा कि कभी मेरा यह सपना सच भी हो सकता है या नहीं.. यही सोचने लगा और मेरी अब भूख और बढ़ने लगी कि में शालिनी के बेग के कुछ और कैसे पता करूं. फिर में बहुत बार उसके मोबाईल को चेक करने की कोशिश करने लगा.. लेकिन अलमारी की तरह वो अपने मोबाईल को भी लॉक रखती थी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  बहन को सुहागरात मनाना सिखाया-3

फिर एक दिन शालिनी को थोड़ा बुखार हो गया और मम्मी ने मुझे उसके रूम में सोने को ही कहा था. में भी खुशी खुशी चला गया कि शायद कुछ करने को मिले. फिर में टीवी देखने लगा और वो सो गयी.. लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हुई कि में उसको कुछ और सोचकर हाथ भी लगाऊँ. फिर थोड़ी देर बाद मेरा ध्यान उसके मोबाईल पर पड़ा और जब मैंने चैक किया तो वो खुला हुआ था और मेरी धड़कने फिर बढ़ गयी और मैंने चोरी छिपे उसका मोबाईल उठा लिया और मैसेज चेक करने लगा. उसमे एक शेखर नाम के लड़के के बहुत सारे मैसेज थे और कुछ नॉर्मल बातों के साथ साथ सेक्सी बातों के भी मैसेज थे. उन मैसेज के जवाब में शालिनी ने भी बहुत सेक्सी मैसेज में बात की हुई थी. पहले तो मुझे अच्छा नहीं लगा.. लेकिन में कुछ बोल भी नहीं सकता था. फिर मैंने जब उसके मोबाईल में उसकी फोटो देखी तो बहुत सारी फोटो एक लड़के के साथ थी. तो मुझे अब पक्का यकीन था कि यह वही शेखर है और बहुत से फोटो में उन्होंने किस किया हुआ था और गर्दन पर किस करते हुए भी फोटो थी. फिर मेरे मन में ख्याल आया कि में एक बार उससे बात करूं.. लेकिन रुक गया. फिर मैंने एक अलग फोल्डर में चेक किया और फिर मेरे होश उड़ गये उसमे उनसे हमारी बाथरूम में कांच के सामने खड़े होकर अपनी बिना कपड़ो की फोटो खींची हुई थी.

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!