मुझे किस किस ने चोदा-5

(Sex Story Hindi: Mujhe Kis Kis Ne Choda- Part 5)

कहानी का पहला भाग : मुझे किस किस ने चोदा-1

मेरी सेक्स स्टोरी हिंदी के पिछले भाग
मुझे किस किस ने चोदा-4
में अब तक आपने पढ़ा कि

पापा मुझसे बोले- आरती मेरी जान, मैं तुमको चोदना चाहता हूं!
मैं बोली- प्लीज चोद दो मुझे, अपना लंड मस्त डाल दो मेरी चूत में!
पापा बोले- सच बता, आज तक किसी से चुदवाई हो?
मैंने बोला- हां पापा, मैंने आज से पहले कई बार चुदवाया है, पर आज से आपसे चुदाई कराऊंगी और जिससे आप बोलोगे, उनसे चुदवाऊंगी.
इतना सुनते ही पापा ने पूरे जोर से मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया, बोले- थैंक यू आरती! तो आज से तू मेरी गर्लफ्रेंड भी है और मेरी बेटी भी! सबके सामने बेटी रहना, और जैसे ही अकेले मौका मिले, मेरी गर्लफ्रेंड बन जाना!
मैं बोली- सबके सामने भी आपकी गर्लफ्रेंड रहूंगी!
और मैं उनके होठों को काटने लगी, मुझे बहुत जोश आ गया था।

उसी समय भाभी के पापा बोले- समधी साहब, आप दोनों के बीच में हम लोगों की भी कोई जगह है कि हम लोगों को भूल गए?
पापा बोले- आप नहीं होते तो मैं आरती को कैसे मिलता. आप लोग आ जाओ और शुरू हो जाईये, इसमें पहला हक़ आप लोगों का ही है.
तभी मैं बोली पापा को- मेरे राजा, आप पहले जी भर के चोदो मुझे, अपना लंड बाहर मत निकालिएगा.
यह सुनते ही पापा ने लंड की स्पीड बढ़ा दी और मेरी दोनों टांगों को ऊपर कर दिया और जम के लगे चोदने ‘आहह हउंह हह ओहह हहह मेरे राजा… और चोदो मुझे… फाड़ दो मेरी चूत को… पूरा डाल दो!
और जोर से चिल्लाई मैं, मेरी चूत पूरी गीली हो चुकी थी, पूरे कमरे में फच फच की आवाज चुदाई की गूंज रही थी.

बाकी के तीनों अंकल मेरी चुदाई देख कर फुल जोश में आ गए और अपना अपना लंड अपने हाथों से रगड़ने लगे. सब जोश में गंदा से गंदा मुझे बोल रहे थे.

करीब बीस मिनट की गजब चुदाई के बाद पापा अकड़ने लगे और बोले- आरती, तुम्हारी चूत बहुत चुदासी है, तू एक नम्बर की छिनाल है साली, कुतिया बहुत चोद रहा हूं, तुम्हें, अब मेरा लौड़ा फाड़ रहा है तेरी चूत को… देख और मेरा लंड रस निकल रहा है, कहां डालूं बोल?
मैं बोली- वाहह मेरे कुत्ते… मेरी चूत में भर दे… मेरी चूत बहुत प्यासी है। भर अपने लंड रस से!
और फिर पापा मेरा कंधा पकड़ कर लिपट गये, उनका लंड रस गर्म गर्म मेरी चूत में डाल दिया और हांफते हुए मेरे से लिपट गये. करीब पांच मिनट बाद मेरे ऊपर से उठे और मुझे थैंक्स बोला।

पापा उन अंकल लोगों को बोले- अब तीनों मिल कर आरती को सेटिस्फाई करो, इसका बहुत गजब चुदाई करवाने का स्टेमिना है।
तभी तीनों अंकल मेरे बेड में ऊपर आ गए और बोले- साली कुतिया,क्या चुदाई करवाती है!
तभी मैं सुरेश अंकल को बोली- कमीने, बहुत जड़ी बूटी खाता है तो आ फाड़ मेरी चूत को!
और मैंने उन्हें पकड़ कर अपने ऊपर चढ़ा लिया.

तभी राजेंद्र अंकल बोले-मुझे तो तेरी मस्त गांड मारनी है.
सुरेश अंकल बोले- थोड़ा इसको पिला दो, नहीं दर्द ना सह पायेगी!

मैं बेहद चुदासी थी, पापा सेटिस्फाई कर नहीं पाये थे तो मैंने कहा- मुझे कुछ नहीं पीना, सब सह लूंगी डालो जितना दम हो!
राजेंद्र अंकल बोले- सुरेश तुम नीचे लेट जाओ, ये ऊपर तुम्हारे लंड पर बैठेगी, तभी घुसेगा इसकी चूत में लंड तुम्हारा! और फिर इसकी गांड में मेरा लौड़ा भी सेट हो जायेगा.
तुरंत सुरेश अंकल लेट गये, मैं उनके लंड पर दोनों टांगों को फैला कर बैठी और सुरेश अंकल का लंड अपनी चूत में सेट किया, जैसे उनका लंड चूत में छू गया, मेरे आग लग गई पर इतना मोटा और लम्बा था कि मेरे चूत के होल में फिट ही नहीं हो रहा था. पर मैं इतनी बेताब थी कि उसमें घुसाने लगी.

तभी सुरेश अंकल बोले- राजेंद्र, आरती का कंधा पकड़ कर जोर से दबा दो, थोड़ा दर्द होगा पर घुस जायेगा.
राजेंद्र अंकल ने मेरे कंधे को पकड़ कर जोर से दबा दिया, मैं भी बैठ गई सुरेश अंकल के लंड पर… जैसे ही लंड एक झटके में अंदर घुसा, चररर की आवाज आई और मैं जोर से चिल्लाई और रोने लगी, ‘मम्मी मम्मी…’ चिल्ला उठी- छोड़ दो मुझे, मैं मर जाऊंगी, बहुत दर्द हो रहा है, प्लीज मत चोदो!
नाखून से काटने लगी.
सुरेश अंकल एक और जोर का झटका दिया, अब पूरा एक हाथ का लंड मेरी चूत में समा गया और मैं लिपट गई उनसे दर्द के मारे!

तभी राजेंद्र अंकल ने मेरी गांड में पीछे होल में थूक लगाया और अपना लंड एक झटके में पूरा घुसा दिया मैं और जोर जोर से रो रही थी.
सुरेश अंकल बोले- राजेंद्र, अब दोनों तरफ से रगड़ना शुरू करते हैं! जम कर चोद, दस मिनट में सारा दर्द गायब हो जायेगा आरती का!
और दोनों ने बिना परवाह किए लंड को मेरी चूत और गांड में अंदर बाहर करना शुरू कर दिया. मैं चिल्ला उठी और बोली- प्लीज छोड़ दो, मैं मर जाऊंगी!

मेरे आंसू निकल रहे थे पर वो चोदना बंद नहीं किए बल्कि मुझे गाली दे रहे थे, बोले- आरती तुम तो फ्रेश माल हो, आज से छिनाल बनी हो साली रण्डी, अब बिना लंड के तू एक दिन भी नहीं रह पायेगी।
और मैं लगातार रोती रही इतना दर्द तो पहली बार जब करवायी थी, मेरी सील टूटी थी तब भी नहीं हुआ था। करीब बीस मिनट तक वो दोनों चोदते रहे और मैं रोती रही.

अब अचानक जाने क्या हुआ कि मेरा सारा का सारा दर्द एकदम जाने कहां गायब हो गया और रात मुझे बहुत गुदगुदी और मजा आने लगा. इतना जोश चढ़ रहा था कि मैं अब उन सभी अंकल को नाम से पुकारते हुए गन्दी गन्दी बातें और गालियां देने लगी। सच में ये मैंने जिया है इतना एक्साइटेड मैं पहले कभी नहीं हुई.
मैं बोली- गांडू सुरेश, और चोद, तू बहुत कमीना है. आरती को आज संतुष्ट कर तो जानू कि तू फौजी है वरना तू भाड़ू कहलायेगा!

इतना सुनते ही सुरेश अंकल बोले- आरती तू तो बहुत बड़ी रंडी है, तेरे को आज मैं ऐसे चोदूंगा कि तेरी चूत बह चलेगी और फिर मेरे अलावा किसी का लंड तुझे पसंद नहीं आयेगा।
तभी मेरे पापा ये सब देख कर बोले- वाहह, आज तक मैंने ऐसा सीन किसी ब्लू फिल्म में भी नहीं देखा, ना आरती जैसा माल, ना ही इतनी चुदककड़ लड़की क्या मस्त चुदाई करवाती है आरती! क्या एक्सप्रेशन हैं तेरे… तू तो मरे को भी जिन्दा कर दे! तुझे चुदते देख कर तो नब्बे साल के आदमी का भी लंड खड़ा हो जायेगा!

भाभी के पापा को बोले- समधी साहब, आप भी कहीं फिट हो जाओ!
तभी राजेंद्र अंकल बोले- यार तुम आरती के मुंह को चोदो, बहुत मजा आएगा क्यूं?
मैं बोली भाभी के पापा को- हां आ जा मेरे राजा, ला चूस लूं तेरा लौड़ा!
मेरी बात सुन कर भाभी के पापा, जो लंड को अपने हाथों से रगड़ रहे थे, मुझे चुदते देख कर वो सीधे बेड में मेरे मुंह के सामने आ गये और अपना लंड मुझे लेने को बोले- ले आरती, चूस!
मैं अपना मुंह खोल कर भाभी के पापा का पूरा लंड अपने मुंह में भर लिया और जम के चूसने लगी, चाटने लगी. इतना टेस्टी लंड मुझे कभी नहीं लगा और मैं उसे लालीपोप की तरह चाटने लगी. भाभी के पापा मेरे बाल पकड़ कर जोर जोर से लंड को मेरे मुंह में अंदर बाहर करने लगे और जम के धक्के लगाने लगे. वो पूरी तरह जोश में आके मेरे मुंह को ही चोदने लगे.
मैंक्या बोलूं, क्या हो रहा था, आज मैं अब जमीन पर तो नहीं थी, बस उड़ रही थी.

तभी पीछे गांड चोद रहे अंकल ने बोला- आरती, तुम्हें आज मेरा जीवन धन्य हो गया, क्या गजब की गांड मारी, मैंने आज तक नहीं देखी और ना मुझे इतना मजा आया, सच में मेरा लंड पूरा फनफना रहा है, अब मैं झड़ने वाला हूं, मेरा लंड रस बस निकलने को है.
और मेरे बालों को पकड़ कर राजेंद्र अंकल ने मेरी गांड को जोर से कस के और अपना पूरा लौड़ा अन्दर घुसा दिया पूरी तरह! अंकल मेरी गांड चोदते हुए जोर से पकड़ के घुसाने लगे और मेरे बाल जोर से पकड़ कर गाली देते हुये बोले- और ले अपनी गांड में मेरा पूरा लंड!
और इस तरह से उन्होंने अपना लंड गरम गरम रस मेरी गांड में भर दिया और मेरे पीठ से लिपट गए.

जैसे ही उनका गरम-गरम रस मेरी चूत में भरा, मुझे बहुत मजा आया। मैं बोली- राजेंद्र, तूने क्या कर दिया, कैसे गजब चोदा कि इस गजब का मज़ा दे डाला!
इतने में अब मेरी पीठ को चूमते हुए राजेंद्र अंकल उठ गए.

मेरे पापा यह देख कर बोले- समधी साहब, आप अपना लंड आरती के गांड में डाल दो, उसकी गांड खाली हो गयी.
भाभी के पापा अपना लंड मेरे मुंह से निकाले और पीछे जाकर मेरी गांड में अपना लंड फिट कर दिया और मेरे कूल्हों का चुम्मा लेते हुए बोले- क्या मस्त उठी हुई तेरी गांड है आरती, आज तेरी गांड मारता हूं!
और अपना पूरा लंड मेरी गांड में जोर से डाला एक ही झटके में पूरा भाभी के पापा का लंड मेरी गांड में घुस गया, तो भाभी के पापा बोले- कितनी मस्त चिकनी गांड है, आज तक मैंने नहीं देखी, एक ही झटके में पूरा लंड घुस गया.

मैं बोली- अभी राजेंद्र अंकल बहुत चोदे मेरी गांड को… और उनका लंडरस भी अभी मेरी गांड में भरा है, इसलिए इतनी चिकनी मिल गई, नहीं ताकत लगती अंदर घुसाने में!
तब भाभी के पापा बोले- बहुत मस्त गांड है तुम्हारी!
भाभी के पापा मुझे उल्टा करके बहुत चोद रहे थे, मेरी गांड में अपना पूरा लौड़ा दिया और बोले- आरती तुम्हें आज बहुत चोदूंगा. तुमने पापा से भी मस्त चुदाई करवाई है, अब मैं भी तुम्हारे पापा जैसा हूं, मुझसे भी अपनी गांड को वैसे ही चुदवाओ.
मैं बिल्कुल पागल हो गई.

उधर सुरेश अंकल, वह मेरी चूत के दीवाने थे, वो उधर मेरी चूत पर पूरा लंड डाले.
मैं बोली- सुरेंद्र साले, और चोद बहुत!
दोनों तरफ से मेरे अंदर लंड फचाफच घुस रहे थे और मैं पूरी तरह मस्त चुदवा रही थी, भाभी के पापा रगड़ के कम से कम 15 मिनट मुझे चोदे और बोले- मैंने 50 साल में आज तक इतनी मस्त चुदाई नहीं की, मुझे सुहागरात में भी इतना मजा नहीं आया जो आज तुझे चोदने में आया.
वो बोले- अब मेरा लंड रस निकलने वाला है!
और बड़े जोश में मेरे कंधे को पकड़ कर बोले- आरती, ले अब!
और जम के धक्के मेरी गांड में लगाते हुए अपना गरम वीर्य मेरी गांड में भर दिये. मुझे भी आज पीछे बहुत मजा आया. अब भाभी के पापा खाली हो गए मेरे को चूमते हुए बोले- थैंक्यू आरती, तुम बहुत सेक्सी हो, मैंने तुम्हें आज चोद कर अपना जीवन धन्य कर लिया।

अब आर्मी वाले सुरेश अंकल ने मुझे अपने नीचे लिटा लिया और मेरी दोनों टांगों को फैला कर अपने कंधे पर रख कर मेरी चूत बहुत फैला कर लंड पेल दिया और पूरा जबरदस्त तरीके से चूत मारने लगे- आरती, आज तू पागल हो जाएगी मादरचोद बहुत चुदासी है!
और पूरे रूम में चुदाई की फचफच की आवाज आने लगी, मुझे जबरदस्त चोद रहे थे.
“आज तक मुझे इतना मजा नहीं आया!” ऐसा सुरेश अंकल बोले.

मेरी चूत बहुत गीली और चिपचिपी हो चुकी थी, मैं पुरी चुदाई के नशे में थी, मुझे कुछ होश नहीं रहा, मैं बस पागल सी हो गई, ना जाने कौन सी दुनिया में थी, बस बोले जा रही थी- और पूरा लौड़ा डाल कुत्ते पूरा पेल दे, फाड़ दे मेरी चूत अब!
सिर्फ इस समय सुरेश अंकल अकेले अब मेरी चूत को जबरदस्त चोद रहे थे। सुरेश अंकल बोले- आरती, तुम बहुत अच्छी हो! मैंने तुम्हें आज चोद कर अपनी जिंदगी बना ली, मैंने अपनी पूरी जिंदगी में कभी भी इतनी मस्त ना चुदाई की, ना ही किसी लड़की ऐसे मुझसे जबरदस्त चुदवाया, खुद मेरी बीवी ने भी इतना मजा नहीं दिया, आज तुम्हें चोद कर ऐसा लग रहा है जैसे अब मुझे कुछ नहीं चाहिए, बस आरती एक तुम्हारी चूत हमेशा चोदता रहूं!

मैं बोली- सुरेश कुत्ते, अब मुझसे रहा नहीं जा रहा!
और मैं सुरेश अंकल को जम के काटने नोचने लगी और बोली- अब मेरी चूत से पानी निकलने वाला है, मैं झड़ने वाली हूं, मुझे अपने मस्त लंड से और चोदो जम कर… मेरे चूत में अपना पूरा लंड डाल दो!
तभी अंकल बोले- ले साली, और चुदा रंडी, आरती!

फच फच की तेज आवाज चूत से आने लगी, मैं भी अपनी कमर उठा कर चुदवाने लगी.
सुरेश अंकल बोले- अहहह वाहहह मजा आ गया!
और मेरे होठों को कस के चाटने लगे.
अब मैं भी कस के लिपट गई और मेरी पूरी बाडी ऐंठने लगी.
मैंने सुरेश अंकल को अपनी बाहों में जोर से कस लिया और उनके होठों को चूमने चाटने लगी और काटने भी लगी। तभी मेरी चूत एकदम मस्त बहने लगी. मेरी चूत का गर्म गर्म रस निकलने लगा और मैं झड़ गई।
आज मैं 20 साल में पहली बार संतुष्ट हुई थी, मैं बोली- सुरेश निकाल अपना लंड मेरी चूत से! मेरा काम हो गया आज… अंकल आपने मुझे फुल सटिसफाइड कर डाला थैंक्यू।

सुरेश अंकल ने बोला-मेरा काम अभी नहीं हुआ.
मैं बोली- अब क्या करूं? बोलो? सच में गजब का स्टेमिना है आपका!
सुरेश अंकल बोले- अपने मुंह में लो मेरा लंड और मुझे भी खाली करो!
मैं बोली- ठीक है, मेरे मुंह में डालो अपना लंड!

मेरी चूत से जैसे अपना लंड निकाला एकदम कड़क मेरे चूत रस से सना हुआ, मेरे मुंह में सुरेश अंकल ने डाला पर जा ही नहीं रहा था, मैंने अपना पूरा मुंह खोल कर लंड भर लिया और चूसने लगी, जम के चूसने लगी.
सुरेश के लंड से अजीब नशीली सी चुदाई की खुशबू भी आ रही थी.

करीब 15 मिनट मेरे मुंह को सुरेश चोदता रहा, अंदर बाहर मुंह में लंड तेज़ी से करने लगे। मैं भी जी भर के उनका लंड चूसने लगी और चाट चाट के लंड पूरा जबरदस्त अंदर मुंह में भर लेती थी।
तभी सुरेश बोला- आज आरती, तूने मेरा लंड रस निकलने में मजबूर कर दिया. जबरदस्त चुदवाती है और गजब का चूसती है लंड, लो आरती पियो मेरे लंड का माल, अब मैं छोड़ रहा हूं।
मैं बोली- हां, पूरा मेरे मुंह में खाली कर दो!
और मैंने अपना मुंह खोल दिया, पूरा लंडरस सुरेश का अंदर गटगट पीने लगी. बहुत ही गर्म रस निकल रहा था, करीब आधी कटोरी लंड रस निकला, मैं भी मान गई कि सच्चा फौजी मर्द है, और पूरा साफ कर दिया सुरेश अंकल का लंड चाट चाट कर!

सुरेश अंकल बोले- आरती, यादगार चुदाई के लिए थैंक्यू, आज तुमने मुझे संतुष्ट कर दिया। आरती तुम पहली लड़की हो जिसने मुझे संतुष्ट किया है तुम बहुत सेक्सी हो!
मैं बोली- आज तक मुझे भी किसी मर्द ने इतना फुल सटिसफाइड नहीं किया, खास तौर पर मेरी चूत को आज आपने किया फुल संतुष्ट !
मैंने बोला- थैंक्यू सुरेश अंकल, आप जबरदस्त हो, मुझे रोज चोदना, जब भी बोलोगे, जहां बुलाओगे, मैं आ जाऊंगी। मुझे सिर्फ आपका मस्त लंड चाहिए और मुझे जो बोलोगे मैं करूंगी।

तभी उन्होंने अपनी पैन्ट की जेब से 10000 निकाल कर मुझे दिए और मेरे होठों को चूम कर बोले- जब बोलोगी, मैं आ जाऊंगा और तुम्हें ऐसे ही मस्त अलग-अलग स्टाइल से चोदूंगा।
मेरे पापा को भी बोले- यह आरती मेरे लायक है, मुझसे शादी कर दो.
मेरे पापा बोले- ठीक है सुरेश भाई, अपनी बीवी को छोड़ दो, मैं आरती की शादी तुझसे कर दूंगा. पर मैं भी रोज आकर इसे चोदूंगा. हम और तुम दो इसके पति हो जाएंगे।
सुरेश अंकल बोले- ठीक है, मंजूर है। मैं 15 दिन में कर के बताता हूं.
और मुझे गले से लिपटा लिया और मेरे होंठों को चूमने लगे, बोले- आज से तुम मेरी वाइफ हो आरती!
मैं बोली- आज से तुम मेरे ब्वायफ्रेंड हो.

वहीं पर मेरी नेलपॉलिश रखी थी, सुरेश अंकल ने रेड कलर की नेल पॉलिश ले कर मेरी मांग भर दी और बोले- मैं और तुम आज से पति पत्नी… आज की सुहागरात कल मना लूंगा!
और मेरे पापा के लिए बोले- मेरे ससुर को भी मेरे साथ रखना।
मैं बोली- थैंक्यू!
इस तरह से मैंने आज एक मनचाहा मुंह बोला पति पा लिया।

कैसी लगी मेरी बिल्कुल रियल घटना? यह मेरी सच्ची बात है। जैसा मेरे साथ हुआ, जो मैंने किया, एक एक शब्द सही वैसा का वैसा ही लिखा है। यह बात तब की है जब मैं बीस साल की थी. आज चौबीस साल की हो गई हूं और आज तक अन मैरिड हूं।

Loading...