मम्मी को अपने दोस्त से चुदवाया-2

(Mummy ko apne dost se chudwaya-2)

राजेश ने कहा कि हाँ वो उनसे बहुत प्यार करता है और आपके बिना नहीं रह सकता.. ऐसा बोलने लगा. तो मम्मी ने उसे एक और थप्पड़ लगाया और बोली कि वो उसकी माँ की तरह है और उनसे ऐसी बात करने की हिम्मत कैसे हुई? और वो अपना समान उठाकर चली गयी और ऑटो पकड़कर घर रवाना हो गयी. तो राजेश से यह सब सुनने के बाद में और प्रतीक ज़ोर ज़ोर से हंसने लगे और बहुत देर तक हँसे और राजेश ने मुझसे पूछा कि क्या मेरी मम्मी ने घर पर कुछ भी नहीं कहा और उसके लिए झूट बोला? तो मैंने कहा कि हाँ..

फिर मैंने पूछा कि अब क्या करेंगे अपना प्लान तो फैल हो गया? तो प्रतीक ने कहा कि अगर आंटी ने राजेश के घर वालों को यह बात कह दी तो क्या होगा? तो हम सभी डर गये और हमने निर्णय लिया कि राजेश मम्मी को सॉरी बोल देगा और राजेश भी मान गया.. लेकिन राजेश की मम्मी के सामने जाने की हिम्मत नहीं हो रही थी तो उसने उसी रात में मम्मी को फोन किया.. लेकिन मम्मी ने फोन नहीं उठाया और फोन कट कर दिया और राजेश बार बार फोन करता और मम्मी फोन कट कर देती. फिर राजेश ने मम्मी को सॉरी लिखकर मैसेज किए उसने उन्हे बहुत सारे मैसेज किए.

तो करीब 100 मैसेज के बाद मम्मी का जवाब आया कि राजेश कल उन्हे (मम्मी) से मार्केट में मिले और राजेश ने भी हाँ लिखकर जवाब में मैसेज भेज दिया. फिर अगले दिन दोपहर में मम्मी मार्केट के लिए घर से निकली और राजेश को जिस जगह मिलने को कहा था वहाँ पर मिली और राजेश पहले से ही वहीं पर मम्मी का इंतजार कर रहा था. तो मम्मी के पास पहुंचते ही राजेश मम्मी को सॉरी बोलने लगा और फिर मम्मी ने कहा कि अगर वो राजेश की हरकत को राजेश के घरवालों को बता दे तो क्या होगा?

राजेश ने यह बात सुनी और उसकी आँखो में आंसू आ गए और वो मम्मी के पैरों में गिर गया और मम्मी से सॉरी बोलने लगा. तो मम्मी ने उसे उठने को कहा और कहा कि अगर वो भविष्य में ऐसा दोबारा कुछ ना करे तो वो उसे माफ़ कर देगी और किसी को कुछ नहीं बताएगी. तो राजेश ने मम्मी से वादा किया कि वो ऐसा कुछ नहीं करेगा और अब इसके बाद अगले दिन हम दोनों राजेश और में मिले तो राजेश ने हमे पूरी बात बताई. तो मैंने कहा कि चलो अब मुसीबत टली और अब हम आगे कुछ नहीं करेगे और राजेश भी मेरी बात से सहमत था.

फिर बाद में प्रतीक राजेश से अकेले में मिला और राजेश की पूरी बात सुनने के बाद बोला कि राजेश तू ऐसे हार मत मान.. तू आंटी को चोदेगा और ज़रूर चोदेगा और उन्होंने तुझसे माफी मंगवाई है ना.. तो तू ऐसे चोदना कि वो तेरे पैरों में गिरे और बोले कि मुझे छोड़ो. फिर प्रतीक ने राजेश को बहुत भड़का दिया और राजेश को फिर से तैयार कर लिया और राजेश ने मुझसे मिलकर मुझे बताया कि वो एक बार और मम्मी को चोदने की कोशिश करना चाहता है. तो मैंने कहा कि ठीक है कर ले ट्राई और राजेश ने कहा कि अब प्रतीक के पास एक प्लान है और हम उसी पर चलेगें.

प्रतीक ने राजेश को फिर से मेरी मम्मी के पास जाने और उनका विश्वास हासिल करने को कहा.. राजेश ने ऐसा ही किया और करीब दो महीने की कोशिश के बाद राजेश ने मम्मी का खोया हुआ विश्वास फिर से वापस हासिल कर लिया और इसके बाद हमने यानी मैंने और राजेश ने प्रतीक से पूछा कि उसका आगे का प्लान क्या है?

प्रतीक ने कहा कि 15 दिन बाद होली है और उसके घरवालों ने होली की एक छोटी सी पार्टी रखी है जो कि पास के ही एक मेरिज हॉल में रखी गयी है.. वहाँ पर ही मेरी मम्मी को राजेश चोदेगा. तो हमने पूछा कि इतने सारे लोगो के बीच में यह सब कैसे होगा? और मम्मी वहाँ चिल्लाई तो सब आ जाएगें. तो प्रतीक बोला कि पार्टी में भांग का भी उपयोग होगा और हम आंटी, अंकल (यानी मेरे मम्मी, पापा ) को भांग पिला देंगे.. उससे काम आसान हो जाएगा. तो ऐसे ही 15 दिन निकल गये और होली का दिन आ गया.. में और मम्मी, पापा प्रतीक की बताई हुई जगह पर पहुंचे. वहाँ पर सब लोग होली खेल रहे थे और वहाँ पर कुछ तो भांग पीकर मस्त हो रहे थे. वहाँ पर प्रतीक के घरवाले और राजेश के मम्मी, पापा भी मौजूद थे.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर हम तीनों के माता, पिता एक दूसरे से मिले और होली खेलने लगे और करीब 30 मिनट के बाद में मम्मी, पापा के लिए ठंडाई लेकर गया.. तो मम्मी ने पूछा कि क्या यह नॉर्मल है? इसमें भांग तो नहीं है ना? तो मैंने कहा कि नहीं.. यहाँ पर बिना भांग वाली ठंडाई भी है और में आपके लिए वही लाया हूँ.

मम्मी, पापा दोनों ने पूरा पूरा ग्लास पी लिया और फिर से होली खेलने लगे और फिर बहुत देर बाद भांग का असर दिखना शुरू हुआ.. प्रतीक ने और मैंने मम्मी, पापा को एक-एक ग्लास और भांग वाली ठंडाई पिला दी और दोनों ने भांग पहली बार ली थी.. इसलिए उसका बहुत असर हुआ और पापा को नशा चड़ गया था. इसलिए वो सही तरह से खड़े नहीं हो पा रहे थे. तो मैंने और राजेश ने पापा को वहाँ पर बने एक रूम में ले जाकर लेटा दिया और पापा वहाँ पर जाकर सो गये. फिर दूसरी तरफ मम्मी की हालत भी अच्छी नहीं थी. उनको भी नशा बहुत चड़ गया था.

फिर प्रतीक मम्मी को एक दूसरे रूम में ले गया.. यह रूम मेरिज हॉल का सबसे अंदर का रूम था और मम्मी बार बार पापा को बुलाने के लिए बोल रही थी. तो प्रतीक ने कहा कि वो अभी बुलाकर लाता है और रूम बाहर से बंद करके हमारे पास आ गया और हमसे बोला कि प्लान के हिसाब से ही सब कुछ चल रहा है. अब राजेश का काम रह गया है और उसने राजेश को रूम के अंदर भेज दिया. प्रतीक मुझे अपने साथ एक दूसरे रूम में ले गया.. वहाँ पर एक टीवी रखा हुआ था और प्रतीक ने टीवी चालू किया तो उसमे मम्मी और राजेश दिखे.. तो प्रतीक ने बोला कि उसने रूम में एक कैमरा लगा दिया है ताकि हमें भी सब दिखता रहे.. हम दोनों वहाँ पर बैठ गये और टीवी देखने लगे..

फिर राजेश रूम में पहुंचा तो रूम में एक नाईट बल्ब जल रहा था और राजेश ने रूम को अंदर से बंद कर लिया था.. मम्मी बेड पर नशे में लेटी हुई रही थी राजेश मम्मी के पास गया और उन्हे देखने लगा और जल्दी से पूरा नंगा होकर मम्मी के ऊपर लेट गया और मम्मी का चेहरा चूमने लगा. फिर जल्दी से उसने मम्मी की साड़ी हटाई और मम्मी का ब्लाउज उतारा और पागलों की तरह उनके बूब्स दबाने लगा और उन्हे ब्रा के ऊपर से ही किस करने लगा.

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!