मम्मी ने मौसी की चूत का भोसड़ा बनवाया-2

Mummy ne mosi ki choot ka bhosda banwaya-2

अब मौसी ने थोड़ा सा गुस्से में आकर कहा हाँ, लेकिन दीदी अब तो कई सप्ताह गुजर जाते है उन्हे मेरे साथ संभोग किये, में कब तक ऐसे ही तड़पती रहूँ और मुझे भी अब बहुत याद आने लगी है। अब मम्मी ने कहा कि संभोग, यह क्या होता है यह किस चीज़ का नाम है? अरे मेरी नादान बन्नो इसे चुदाई कहते है और अब तीन तीन बच्चे बाहर आने के बाद भी तू तो ऐसे शरमाती है जैसे कुँवारी कली हो, चल कोई बात नहीं आज में तेरी प्यास को जरुर बुझवा दूँगी। अब मौसी ने कहा कि मुझे सब पता है कि तुम मुझे क्या बताओगी दीदी, यही ना कि में अपनी चूत में मोमबत्ती डालकर इसको शांत कर लूँ या फिर कोई बेंगन घुसा लूँ।

अब मम्मी ने कहा कि पहले तो तू अपने शब्दों को सही कर तू हमेशा ऐसे ऐसे शब्द बोलती है जो समझ में ही नहीं आते और में तेरी चूत में मोमबत्ती नहीं घुसने दूँगी बल्कि पूरा पांच का मोटा ताज़ा लंड डलवाकर आज तुझे वो मज़े दे दूंगी, जिसके लिए तू अब तक इतना परेशान हो रही है। फिर अपनी मम्मी के मुहं से वो बात सुनकर में मन ही मन बहुत खुश हो गया और में आज रात को अपनी मौसी की चूत मारने के बारे में सोचने लगा और थोड़ी देर बाद ही मैंने सुना कि मम्मी उनसे कह रही थी कि देख सपना में तुझे चुदवा तो दूँगी, लेकिन मेरी एक शर्त है।

फिर मौसी पूछने लगी कि वो क्या दीदी? यही कि तुझे चूत और लंड की बातें पूरी तरह से खुलकर करनी होगी, एकदम किसी बज़ारू रंडी की तरह, तब मौसी ने कहा कि हाँ ठीक है, लेकिन आप मुझे यह बताए कि आप मुझे चुदवाएगी किससे?

तब मम्मी ने उनसे कहा कि वो तुम्हे आज रात को ही पता लग जाएगा और जैसे तैसे दिन काटने के बाद रात आई और सबके सोने के बाद मम्मी मेरे रूम में आ गई और वो मेरे होंठ पर किस करते हुए मुझसे कहने लगी कि चल मेरे चोदू राजा, आज अपनी मौसी की चूत का स्वाद भी चख ले, ऐसी माँ तूने कभी नहीं देखी होगी कि वो खुद भी चुदवाए और अपनी बहन को भी चुदवाए? तब मैंने कहा कि मम्मी क्या आपने मौसी को बता दिया कि आज उसकी चूत को कौन मारेगा? नहीं बेटा मैंने अभी उसको कुछ भी नहीं बताया है, अब तू जब मेरे साथ चलेगा तब वो खुद ही देख लेगी और उसको सब पता चल जाएगा।

अब मैंने उनसे कहा कि उसको मेरे साथ ऐसा करने पर बुरा तो नहीं लगेगा? एक तो वो हम दोनों से नाराज हो जाए। फिर मम्मी कहने लगी कि अरे वो बुरा कैसे मानेगी उस साली की चूत में खुद ही चुदाई के नाम के कीड़े काट रहे है और जब कोई औरत एक बार अपनी चुदाई करवाने के बारे में सोचती है तब फिर वो किसी से भी अपनी चुदाई करवा लेती है और इस तरह में मम्मी के साथ ही उनके रूम में चला आया।

तब मैंने देखा कि मौसी मम्मी के बेड पर बैठी हुई थी और मुझे देखकर वो थोड़ा सा संभलकर बैठ गयी। अब मम्मी ने कहा कि सपना देख लो अपने चोदू को, आज यही तुम्हारी चूत मारेगा और उनकी बात को सुनकर मौसी का चेहरा एकदम लाल हो गया और वो झपटते हुए बोली कि हाए दीदी आप कैसी बात कर रही है, भला में अपने भांझे से कैसे संभोग कर सकती हूँ।

मेरी मम्मी ने कहा कि तू फिर मेरी शर्त को भूल रही है अरे जब में अपने सगे बेटे से अपनी चुदाई करवा सकती हूँ और इसको अपने सामने ही अपनी बेटी की चूत भी मरवाने का मज़ा दिलवा चुकी हूँ तब तुझे इसके साथ चुदाई के मज़े लेने में क्या परेशानी है?

अब मौसी बोली कि हाए दीदी आप कितनी निर्लज हो, भला अपने लड़के से भी कोई माँ अपनी चुदाई करवाती है? तभी मम्मी उनको कहने लगी तू बोल तुझे चुदवाना है या में तेरे सामने चुदवाकर अपनी चूत की खुजली इससे मिटवा लूँ साली नाटक करती है, अरे थोड़ा सा सोच घर की बात घर में ही रहेगी और ससुराल जाकर पता नहीं मोहल्ले के किस लड़के से तू अपनी चुदाई करवाने लगी तो तुझे उस वजह से एड्स का ख़तरा भी हो सकता है, में कह रही हूँ कि राज से ही चुदाई करवा ले, घर की बात घर में ही रहेगी और इसका लंड भी बहुत दमदार बड़ा शानदार है।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब मौसी ने कहा कि दीदी मुझे तो ऐसा इसके साथ करने में बड़ी शरम आती है, में यह सब कैसे कर सकती हूँ? तब मम्मी ने मौसी की साड़ी के ऊपर से ही उनकी चूत के पास चिकोटी काटते हुए कहा कि मेरी रानी एक बार लंड डलवा लेगी तो उसके बाद तू अपने ससुराल भी जाना भूल जाएगी। चल अब जल्दी से इस साड़ी को खोल डाल और यह बात कहकर मम्मी ने मौसी की साड़ी को खींचना शुरू किया और थोड़ी ही देर के बाद मौसी सिर्फ़ ब्लाउज और पेटीकोट में रह गयी और अब मुझसे वो सब द्रश्य को देखकर बिल्कुल भी बर्दाश्त करना बहुत मुश्किल हो रहा था और इसलिए मैंने मम्मी के बूब्स को दबाते हुए कहा कि मम्मी पहले एक बार आप मुझसे अपनी चुदाई करवा लो।

उसके बाद हम मौसी को भी देख लेगे। फिर मम्मी ने मुझसे कहा कि साले अब तू पहले अपनी मौसी को ही चोदना तूने पहले कुछ दिनों से मेरी नाक में दम कर दिया है कि मौसी को चोदना है और अब जब मैंने उसको चुदाई के लिए तैयार कर लिया है तो तू मुझसे कह रहा है कि पहले तू मेरी चुदाई करने चला, तू चल अब जल्दी से अपना लंड अपनी मौसी को दिखा और फिर मेरी मम्मी ने इतना मुझसे कहते ही झट से मेरी लूँगी को एक ज़ोर का झटका देकर खोल दिया उस समय मैंने नीचे कुछ भी नहीं पहना हुआ था और अब मौसी को अपने सामने ब्लाउज और पेटीकोट में देखकर वैसे ही मेरा लंड फनफनाने लगा था। में उस समय बहुत जोश में था।

अब मम्मी ने मेरे लंड को पकड़कर खींचते हुए मौसी की तरफ बढ़ाते हुए कहा कि लो ज़रा तुम इसको एक बार अपने हाथ में लेकर देखो इस साले का हमेशा कितना गरम रहता है और जैसे ही मौसी ने अपने नाज़ुक से हाथ को डरते हुए आगे बढ़ाकर मेरे लंड पर लगाया तो मुझे उसकी वजह से एक झटका सा लगा और मौसी ने तुरंत अपने हाथ को पीछे हटा लिया।

मम्मी ने उनको कहा कि पकड़ ले साली इतना क्यों नखरा दिखाती है और जल्दी से इसको चूस ले, तुझे असली मज़ा आने लगेगा। दोस्तों मम्मी ने मौसी से अपनी बात को खत्म करते हुए अपने सारे कपड़े भी उतार दिए और में तो पहले से ही नंगा था।