नेहा की चूदाई

(Neha Ki Chudai)

मेरा नाम सौरभ (बदला हुआ नाम) लंबाई 5फुट 9इंच है गोरा हूं और मेरे शरीर की खास बात ये है कि मेरी आंख सबसे सुंदर है ये मेरी पहली कहानी है और ये real कहानी है जो कि पड़ने के बाद आप सभी को पता चल जाएगा मै मध्यप्रदेश के जबलपुर का रहने वाला हूं मेरी उम्र अभी 21 वर्ष है ये कहानी आज से दो साल पहले की है जब मै 19 साल का था शरीर में जोश नया था पहले तो मुट्ठ मार के काम चला लेता था लेकिन दिन प्रतिदिन चूट की इक्छा होने लगी थी इन्हीं दिनों की बात है मेरे घर के बगल में मतलब नेहा नाम कि लड़की रहती थी उम्र 20 साल उसका फिगर 32,28,32 का है लंबाई 5 फुट एकदम गोरी और सेक्सी माल थी उसका चाकर किसी दूसरे लड़के के साथ था ये मेरे को पता था काफी दिन निकल गए उसको देखते हुए एक दिन मै दोपहर को घर से निकला और देखा के दरवाजा खुला है तो सोचा थोड़ा बात कर लू जब अंदर जाके देखा तो कमरा का दरवाजा लगा था लेकिन थोड़ा थोड़ा अवाज आ रही थी जब दरवाजे के उपर से देखा तो पता चला कि चुदाई हो रही है।

फिर मै आ गया थोड़े दिन बाद वो रोड में कुर्सी रख के धूप सेख रही थी। मै भी चला गया और वहीं खड़ा होकर बात करने लगा फिर बो थोड़ा काम से अंदर गई और मै कुर्सी मै बैठ गया थोड़ी देर बाद वो आकर सीधा मेरे ऊपर बैठ गई उसकी गान्ड मेरे लंद से छू रही थी। मेरे लंद खड़ा हो गया था तोड़ी देर बैठेने के बाद मै घर आकर उसके नाम की मुट्ठ मार लिया। एक दिन वो कपड़े धूल रही थी बात करते करते मैंने उससे पूछा कि उस दिन तुम क्या कर रहे थे। तो वो बोली कुछ नहीं। लेकिन मै बोला मेरे को सब पता है जो तुम कर रहे थे। फिर वो बोली किसी से बोलना मत मै बोला ठीक है। फिर हम लोग सभी बाते करने। लगे कि लंद के बारे में चूत और हम लोग धीरे धीरे सभी बाते करने लगे थे। लेकिन मेरे को उसकी चुदाई करना था। एक दिन मैंने उसे अपने फोन में ब्लू फिल्म दिखाई बहुत दिन हम साथ में ब्लू फिल्म देखते थे।एक दिन मैंने उसे बहुत हिम्मत कर के बोला कि मेरे को भी तेरी चुदाई करनी है तो वो बोली नहीं मै नहीं करूंगी और साफ मना कर दिया।

उसका बॉफ्रेंड उसको बात करने के लिए एक कीपैड फोन दिया था। और वो फोन को चार्ज में लगा के खुच काम कर रही थी। इतने में उसके पापा फोन देख लिए और पूछा कि किसका फोन है। तो वो डरते हुए बोली कि सौरभ का फोन है चार्ज में लगाया के गया है। उसके पापा बोले ठीक है मैं उससे पूछूंगा। फिर साम को वो मेरे घर आई और बोली कि एक काम कर दे तो मै बोला कोनसा काम तो बोली मेरा फोन पकड़ गया है और मै पापा से बोल दी हूं की फोन तेरा था। वो बोली कि पापा पूछे तो बोल देना कि फोन मेरा है। लेकिन मेरे को दर लग रहा था। फिर वो बोली जो तेरे को चाहिए में सब दूंगी तेरे को फिर मेरा मन हुआ चूत मिल रही है ।लेकिन डर भी लग रहा था। फिर मै सोचा एक बार रिस्क लेना पड़ेगा फिर मै साम को उसके घर गया तो उसके पापा और वो थी घर में फिर उसके पापा ने मेरे से पूछा कि फोन चार्ज में लगाया था क्या ने बोला हां मेरे घर की लाइट नहीं थी बोले कों सा फोन था मै बोला कीपैड फिर को बोले ठीक है। फिर मै फोन लेकर घर आ गया। अब मेरे मन्न में उसकी चुदाई का सोच के मुट्ठ मार लिया फिर थोड़े दिन बाद बोला की मेरे को चुदाई करनी है तो वो बोली ठीक है।

जिस दिन घर में कोई नहीं रहेगा तो कॉल के दूंगी मै बोला ठीक है। उसके एक हप्ते बाद उसका घर पूरा खाली था पापा काम मे और मम्मी मामा के यहां गई थी फिर उसने सुबह मेरे को कॉल करके बता दिया कि आज दोपहर को आ जाना। फिर मै पहले जाकर लंद के बाल साफ किए और नहा के तैयार हो गया फिर लगभग 12:30 बजे मैंने उसको कॉल किया तुम तैयार हो तो बोली हा फिर मै बोला चुपचाप दरवाजा खोलो फिर मै चुपके से अंदर चला लिया और दरवाजा बंद कर दिया। फिर जाकर हम बिस्तर में बैठ गए। फिर मै उसके बदन में हाथ फेरने लगा और बिस्तर के लिए दिया और उसके ऊपर आ कर होंट पीने लगा बहुत किस कर रहा था गाल में कान में गर्दन में वो भी गर्म होने लगी थी मेरा लंद भी खड़ा होकर उसको सलाम के रहा था फिर मै उसके ऊपर का किस करते करते टीशर्ट निकाल दी और दूध को दबाने लगा जोर से तो उसने बोला आराम से दबाओ दर्द के रहे है।

फिर काली ब्रा के हुक को खोल कर गोरे दूध को पीना सुरु के दिया एक को जोर से दबाता और दूसरे को पिता वो मेरे सिर को अपने दूधो मे दबाने लगी फिर वो बहुत गर्म हो कर मेरे से बोली अब जल्दी कर मेरे से रुका नहीं जाता है फिर वो मेरे कपड़े उतार कर केवल अंडरवियर में कर दी और किस करने लगी वो भी पैंटी में थी फिर मै उसकी पैंटी उतार कर अलग कर दिया चूत मे छोटे छोटे बाल थे। फिर मैंने उसकी चूत मे किस किया और उसके ऊपर आकर उसके होंठ चूसने लगा फिर मैंने उसके पैर फैलाया और लंद निकाल कर उसके हाथो में दे दिया वो इतना लंबा लंद देख कर बोली इतनी बड़ा बहुत दर्द होगा। फिर मैंने उसे समझाया कि आराम से करूंगा को बोली ठीक है।

फिर उसने मेरा लंद पकड़ के अपनी चूत के छेद पर रखा और मैंने लंद को आराम से दबाते हुए थोड़ा अंदर डाल दिया वो बोली रुको दर्द हो रहा है। मै रुक गया और किस करने लगा थोड़ी देर बाद मैंने लंद में जोर लगाते हुए लंद पूरा चूत में डाल दिया और थोड़ा रुक गया फिर चुदाई सुरु कि को आहे भर रही बोल रही थी आराम से और में चूत पहली बार पाकर जोर जोर से चोद रहा था फिर वो मेरे कमर को पकड़ के जोर जोर से चुदावा रही थी फिर उसने एक दम से मेरे को रोक लिया और वो झड़ गई और मै उससे चोदता रहा। 15 से 20 की चुदाई के बाद मैंने अपना पानी चूत से निकाल के उसके पेट के ऊपर गिरा दिया फिर उसी के ऊपर लेट गया थोड़ी देर बाद टाइम देखा और कपड़े पहने और उसको कपड़े पहना कर किस किया और चुप चाप बाहर आ गया। दोस्तो ये थी मेरी पहली कहानी मुझे मेल कर के रिप्लाई करे। अगली कहानी जल्द ही भेजूंगा प्यारी नेहा के साथ की चुदाई की दूसरी कहानी।

Loading...