न्यूली वेड लड़की की चुदाई की ट्रेन के टॉयलेट में

(Newly Wed Ladki Ki Chudai Ki Train Ke Toilet Me)

मेरा नाम अनमोल है मैं जयपुर का रहने वाला हूं,  मेरा हैंडीक्राफ्ट का काम है और मैं काफी समय से यह काम कर रहा हूं क्योंकि मेरे पिता जी पहले हैंडीक्राफ्ट का काम करते थे लेकिन जब से उनकी तबीयत खराब हुई है उसके बाद में ही हैंडीक्राफ्ट का काम कर रहा हूं, इसके सिलसिले में मैं अक्सर इधर-उधर जाता रहता हूं और यह काम मेरा बहुत ही अच्छा चल रहा है क्योंकि मैंने यह काम अपने पिताजी से सीखा है इसलिए मैं इसकी सप्लाई बाहर करता हूं। पहले मेरे पिताजी बाहर की सप्लाई नहीं किया करते थे लेकिन जब से मैंने काम संभाला है उसके बाद से मैं इसको बाहर भी लेकर जाता हूं। मेरी दुकान जयपुर में ही है और जब मैं कहीं बाहर जाता हूं तो मेरे पिताजी दुकान में बैठते हैं, जब मेरे पिताजी दुकान में होते है तो वह दुकान का काम संभालते हैं। मेरे बाहर बहुत सारे कस्टमर हैं, और मैं उन्हें नए तरीके का डिजाइन देता हूं इसलिए वह मुझसे ही सामान लेते हैं। Newly Wed Ladki Ki Chudai Ki Train Ke Toilet Me

मेरे पिताजी के एक दोस्त की लड़की है उसका नाम सीमा है, वह मुझे भी बहुत अच्छी लगती है और मेरे पिताजी ने मेरी उससे रिश्ते की बात कर दी क्योंकि सीमा के पिताजी मेरे पिता के बहुत अच्छे दोस्त है इसलिए वह मना नहीं कर पाए और उन्होंने रिश्ते के लिए हामी भर दी। जब यह बात मेरे पिताजी ने मुझे बताई तो मैंने उन्हें कहा कि आप बहुत ज्यादा जल्दी कर रहे हैं, अभी मुझे कुछ और समय चाहिए, हालांकि मैं सीमा को पसंद करता हूं परंतु मुझे समय चाहिए, यदि आप मुझे कुछ समय दे दे तो मैं अभी सिर्फ सीमा से सगाई कर लूंगा। वह कहने लगे कि तुम अभी सगाई कर लो, शादी तुम कुछ समय बात कर लेना।

पहले मैं इस बात के लिए बिलकुल राजी नहीं था परंतु उन्होंने मेरी सगाई करवा दी, जब मेरी सगाई सीमा से हो गई तो मेरे घर वाले भी बहुत खुश थे और हम दोनों भी खुश है  सीमा भी मुझे पहले से ही पसंद करती थी, उन लोगों का हमारे घर पर पहले से ही आना जाना था इसलिए हम दोनों एक दूसरे को बहुत पसंद करते हैं परंतु मैं अभी सगाई के मूड में नहीं था, मेरे पिताजी ने मेरी सगाई करवा दी तो मैं उन्हें ना भी नहीं कह पाया। उसके बाद सीमा और मेरी मुलाकात अक्सर होती रही।                    “Newly Wed Ladki Ki Chudai”

मैं वैसे तो ज्यादातर बाहर रहता था परंतु जब भी मैं जयपुर में होता तो सीमा के साथ समय बिताता था। मुझे उसके साथ समय बिताना अच्छा लगता है और वह भी मेरे साथ ही समय बिताना पसंद करती थी। जब मेरे पास समय होता तो मैं उसे फोन कर दिया करता था और वह भी मुझे फोन कर देती थी  वह मुझसे पूछती थी की तुमने समय पर खाना खाया या नहीं। वह मेरी बहुत ही चिंता करती थी, मैं उसे कहता कि तुम शादी से पहले ही मेरी इतना चिंता कर रही हो शादी के बाद  तुम कहीं बदल तो नहीं जाओगी। वह कहने लगी नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं होगा, तुम्हें मैं कभी भी शिकायत का मौका नहीं दूंगी। हम दोनों अक्सर मिलते रहते थे। एक बार मैं अपने काम के सिलसिले में दिल्ली जा रहा था तो मैंने सोचा मैं ट्रेन से ही जाता हूं, मैंने ट्रेन का रिजर्वेशन करवा दिया और मैं जब दिल्ली जा रहा था तो उस दिन मुझे सीमा स्टेशन तक छोड़ने आई क्योंकि सीमा को भी कुछ काम था इसलिए वह मुझे स्टेशन छोड़ने आई और उसके बाद वह घर चली गई।

हम दोनों स्टेशन में ही काफी देर तक बैठे हुए थे और हम दोनों स्टेशन में बैठकर काफी देर तक बात कर रहे थे। जब ट्रेन आई तो मैं ट्रेन में बैठ गया और सीमा वॉस घर चली गई। मैं ट्रेन में बैठकर सीमा को फोन कर रहा था, वह कह रही थी कि मैं अभी स्टेशन से बाहर ही निकली और वहां से ऑटो लेकर मैं सीधा घर के लिए चली जाऊंगी। जैसे ही मैंने फोन रखा तो मेरे सामने एक शादीशुदा जोड़ा आकर बैठ गया। उन लोगों की नई नई शादी हुई थी और मैं उन्हें देख रहा था। मैं भी अपने दिमाग में सोच रहा था कि जब मेरी शादी सीमा से होगी तो मैं भी उसे लेकर कहीं जाऊंगा। वह लोग मेरे सामने वाली सीट में हीं बैठे हुए थे इसलिए मैं उन्हें देखे जा रहा था। फिर मैंने सोचा कि क्यों ना मैं उनसे बात कर लूं, जब मैंने उनसे बात की तो मैंने उनसे उनका नाम पूछा, दोनों ने अपना नाम बताया लड़के का नाम अजय था और लड़की का नाम निहारिका।                            “Newly Wed Ladki Ki Chudai”

मैंने उनसे पूछा कि क्या आप लोग जयपुर के ही रहने वाले हैं, वह कहने लगे हां हम लोग जयपुर के ही रहने वाले हैं। वह कहने लगे कि हमारी शादी को अभी एक महीना ही हुआ है और हम लोग घूमने जा रहे हैं, मैंने उनसे पूछा कि आप लोग घूमने कहां जा रहे हैं, वह लोग कहने लगे कि हम लोग विदेश घूमने के लिए जा रहे हैं। दिल्ली में हमारे कुछ रिश्तेदार रहते हैं उनसे मिलते हुए हम वहीं से चले जाएंगे। वह दोनों बहुत खुश लग रहे थे और मुझे उन्हें देखकर बहुत ही खुशी हो रही थी। अजय से मेरी बहुत अच्छी बातचीत हो गई थी और निहारिका से भी मेरी बात हो रही थी। अजय मुझसे पूछने लगा कि आप क्या करते हैं, मैंने उसे बताया कि मैं हैंडीक्राफ्ट का काम करता हूं।      “Newly Wed Ladki Ki Chudai”

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

निहारिका मुझे कहने लगी कि आप जूतियां भी बनाते होंगे, मैंने उसे कहा कि हम लोग ऑर्डर पर ही बनवाते हैं। मैंने उसे एक सिंपल दिखाया, उसे वह बहुत पसंद आया वह मुझसे पूछने लगी कि वो कितने का है, मैंने उसे कहा कि यह मेरी तरफ से आपको गिफ्ट है क्योंकि आप लोगों की नई शादी हुई है। मैंने निहारिका को वह जूती दे दी। वह उसके पैरों पर बहुत अच्छी लग रही थी और अजय भी कह रहा था कि यह जूती बहुत अच्छी लग रही है। हम लोग बैठ कर बात कर रहे थे और सफर बीता जा रहा था, मुझे समय का बिल्कुल भी पता नहीं चला कि कब उन लोगों के साथ बैठकर समय हो गया है।                           “Newly Wed Ladki Ki Chudai”

ट्रेन में सब लोग सो चुके थे और मेरी सामने वाली सीट में निहारिका सो रही थी मैंने जब निहारिका की गांड को देखा तो मेरा मूड खराब होने लगा और मुझे उसे देख कर बहुत अच्छा महसूस होने लगा। मैंने अपने लंड को बाहर निकाल लिया और हिलाना शुरू कर दिया जब निहारिका ने मुझे देखा तो उससे भी बिल्कुल नहीं रहा गया और हम दोनों ही उठकर ट्रेन के बाथरूम में चले गए। जब हम दोनों ट्रेन के बाथरूम में गए तो उसने तुरंत ही मेरे लंड को अपने मुंह में समा लिया और बहुत अच्छे से मेरे लंड को चूसने लगी। उसने बहुत देर तक मेरे लंड को अपने मुंह से बहुत अच्छे से चूसा मैंने जब उसके कपड़े खोले तो उसकी योनि बहुत ही मुलायम थी। मुझसे बिल्कुल भी नहीं रहा गया और मैंने तुरंत ही उसकी योनि के अंदर अपने लंड को डाल दिया। मैंने उसे बड़ी तेज झटके मारे और वह बहुत खुश हो रही थी जब मैं उसे धक्के दिए जा रहा था। काफी देर तक मैंने उसे झटके दिए अब मैंने अपने लंड को बाहर निकालते हुए निहारिका की गांड के अंदर डाल दिया जैसे ही मेरा लंड उसकी गांड मे गया  तो वह चिल्ला पड़ी और मुझे बहुत अच्छा महसूस होने लगा।                   “Newly Wed Ladki Ki Chudai”

मैंने अपने लंड को उसकी गांड के अंदर बाहर करना शुरू कर दिया और वह बहुत ज्यादा मचल रही थी। मैंने उसकी गांड को कसकर पकड़ा हुआ था और उसकी गांड से बहुत ज्यादा खून निकल रहा था। अब वह भी पूरे मूड में आ चुकी थी और अपनी गांड को मुझसे मिला रही थी। वह बहुत ही अच्छे से अपनी गांड को मेरी तरफ धक्के देती और मैं भी उसे बड़ी तेजी से धक्के मारता जाता जिससे कि हम दोनों के अंदर से बहुत ज्यादा गर्मी बाहर की तरफ निकल रही थी। मुझसे भी बिल्कुल निहारिका की गर्मी झेली नही जा रही थी और मै उसे बड़ी तेजी से झटके दिए जा रहा था मुझे बहुत मजा आ रहा था जब मैं उसे धक्के देते जाता। वह भी अपनी चूतड़ों को मुझसे मिला रही थी और कह रही थी कि तुमने मेरी गांड को बुरी तरीके से छील दिया है। मैंने उसे बड़ी तेज तेज झटके मारे उसी के बीच में मेरा वीर्य निहारिका की गांड में जा गिरा और वह बहुत ही खुश हो गई। जब मैंने अपने लंड को उसकी गांड से बाहर निकाला तो वह बहुत खुश थी और हम दोनों जाकर आराम से सो गए। मैंने उस दिन निहारिका का नंबर भी ले लिया था और मैं कभी-कभार उसके घर पर भी चला जाता था उसने मुझे अपने हनीमून की नंगी तस्वीरें भी भेजी थी।                             “Newly Wed Ladki Ki Chudai”