पड़ोसी की नई शादीशुदा बीवी की सील तोड़ी-3

Pados ki new shadishuda biwi ki seal todi-3

फिर वो मुझसे बोला कि चल ठीक है में अकेला ही चला जाता हूँ, लेकिन तू मेरा एक काम जरुर कर देना, घर पर आज मेरी पत्नी सीमा बिल्कुल अकेली है तो उसे अगर किसी चीज़ की ज़रूरत पड़े तो तू उसे वो जरुर ला देना, वो यहाँ पर कोई भी सामान की दुकान, बाजार कुछ भी नहीं जानती. फिर मैंने उससे कहा कि ठीक है, में इतना तो कर ही दूँगा और वो मुझसे यह बात बोलकर चला गया.

दोस्तों तब से में बस मन ही मन यह बात सोचने लगा कि किस बहाने से में उसके घर पर जाऊंगा? मुझे आज कैसे भी करके उसकी चुदाई जरुर करनी है और मुझे आज एक बहुत अच्छा मौका मिला है, मुझे इसका कैसे भी करके फायदा उठाना चाहिए? तभी बाहर से मुझे एक मीठी सी आवाज़ आई, रेहान क्या तुम अभी फ़ुर्सत में हो? उसको सुनते ही मेरे तो होश का कोई ठिकाना नहीं रहा, लेकिन फिर में कुछ देर उस आवाज को अपने कानों की गलती समझकर सोचने लगा, लेकिन कुछ देर बाद जब मुझे दोबारा वो सुनाई दी तो मैंने जल्दी से उठकर ज़ोर से हाँ कहते हुए उसके रूम में चला गया.

फिर मैंने उसके कमरे में जाते ही देखा कि वो एक काली कलर की साड़ी पहने हुई थी, उफफफ्फ़ वाह क्या सेक्सी लग रही थी.

दोस्तों वो एकदम मस्त दिख रही थी और मैंने बस उसको इतना ही देखा था कि मेरा लंड एक बार फिर से उसके सामने जाकर तुरंत खड़ा हो गया था. अब वो मेरी तरफ देखने लगी और वो मुझसे बोली कि क्या तुम बाज़ार से मुझे कुछ सब्जियां ला दोगे? और तब उसकी नज़र मुझसे बात करते समय भी मेरे चेहरे की तरफ नहीं थी. मैंने देखा कि वो तो मेरे लंड को बिना अपनी आँख झपकाए लगातार घूर घूरकर देखे जा रही थी.

फिर में उसके कहने पर बाजार सब्ज़ी लाने चला गया और जब में करीब 15-20 मिनट के बाद घर पर लौटा तो मैंने देखा कि वो किचन में आज भी बिल्कुल वैसे ही खड़ी हुई है, जैसे पहले दिन खड़ी थी और उसका मुहं दूसरी तरफ और पीठ मेरी तरफ यानी दरवाजे की तरफ.

फिर मैंने इस बार थोड़ा कमीनापन दिखा दिया और बहुत हिम्मत करके इस बार में चुपचाप उसके पीछे चला गया और मैंने उसकी साड़ी को हल्के से ऊपर खींचना चाहा, लेकिन वो इस बार पहले ही सचेत हो गई और तुरंत डरकर मुझसे दूर हटकर खड़ी हो गई, लेकिन वो मुझसे कुछ नहीं बोली और मैंने उसे सब्जी दे दी और वहीं पर थोड़ी देर खड़े रहने के बाद में एक बार फिर से मौका पाकर उसके पीछे चला गया और मैंने अब दोबारा उसकी साड़ी को ऊपर खींचा, लेकिन दोस्तों इस बार वो मुझसे कुछ भी नहीं बोली, एकदम चुप रही.

फिर मैंने उसे अपनी बाहों में जकड़ लिया और अब मैंने उसकी साड़ी को ऊपर करके तुरंत उसकी पेंटी को नीचे कर दिया और अब में अपने एक हाथ से उसके बूब्स को दबाने और दूसरे हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा था. फिर मैंने महसूस किया कि उसकी वजह से वो कुछ ही देर में एकदम आग की तरह गरम हो गई और धीरे धीरे मोन करने लगी.

फिर मैंने जल्दी से उसकी चूत में अपनी एक उंगली को डाल दिया और मेरी उंगली के चूत के अंदर जाते ही वो उछल पड़ी और तब मैंने महसूस किया कि उसकी चूत इतनी टाईट थी कि मुझे अब यह बात बिल्कुल भी समझ में नहीं आ रही थी कि उसका पति उसको चोदता भी है या नहीं, मुझे अब ऐसा लगा कि जैसे उसकी सील अब भी पैक है और जब में अपनी उंगली को अंदर बाहर करने लगा तो वो उहफफफ्फ़ आहह्ह्हह हाँ और ज़ोर ज़ोर से करो, उफफ्फ्फ्फ़ हाँ मज़ा आ गया करने लगी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर पांच मिनट के बाद उसने अचानक से मेरा हाथ पकड़कर ज़ोर से खींचकर अपनी चूत से बाहर निकाल लिया और उसने जल्दी से अपनी पेंटी को ऊपर किया और वो अपने रूम की तरफ चल गई. दोस्तों में यह देखकर एकदम हैरान था कि वो मुझे अपने रूम में आने का इशारा कर रही थी, में उसके रूम की तरफ उसके पीछे पीछे बढ़ा. तभी मैंने देखा कि वो अंदर तो चली गई, लेकिन उसने अपने रूम को बंद नहीं किया. फिर में भी उसके पीछे पीछे अंदर चला गया. तब मैंने देखा कि वो अपने बेड पर बिल्कुल सीधी लेटी हुई है और उसे देखकर में तुरंत समझ गया कि यह आज मुझसे अपनी चुदाई करवाना चाहती है और में ऐसा मौका कभी भी नहीं छोड़ सकता था.

तभी में अंदर गया और मैंने उसके कमरे के दरवाजे को अंदर से बंद किया और फिर में उसके बेड पर बिल्कुल उसके पास में लेट गया और धीरे से उसकी साड़ी को ऊपर की तरफ करने लगा और फिर मैंने धीरे से उसकी पेंटी को पूरा नीचे करके अब मैंने उसकी छोटी सी प्यासी बिना चुदी चूत को देखना चालू किया.

फिर मैंने देखा कि उसकी चूत बिल्कुल साफ गोरी थी और एकदम मुलायम थी और उसको देखकर मुझे लग रहा था कि शायद इसे किसी ने भी एक बार भी नहीं चोदा होगा, जिससे उसकी चूत की सील अब तक पैक थी. मैंने फिर उसकी चूत में अपनी दो उँगलियों को डाल दिया और बहुत धीरे से अंदर बाहर करने लगा. लगातार कुछ देर तक ऐसा करने से उसकी चूत अब बहुत गरम हो गई थी और उसके मुहं से वो आवाजे आने लगी थी उफफफ्फ़ आहह्ह्ह स्ईईईईई और तब तक मेरे हाथ में बहुत गरम गरम महसूस हुआ.

फिर मैंने जब कुछ देर बाद अपनी उंगली को चूत से बाहर निकाला. तब मैंने देखा कि उसकी चूत से ऊँगली के साथ साथ पानी भी निकल गया. मैंने फिर उसके ब्लाउज की तरफ अपना एक हाथ आगे बढ़ाया और मैंने जल्दी से उसके ब्लाउज और ब्रा को खोल दिया. तब मैंने देखा कि उसके बूब्स भी बहुत गोरे बिल्कुल टाईट और उनकी निप्पल एकदम तनी हुई थी.

//क्रमशः//