पराई बीवी को रखैल बनाकर सुहागरात मनाई-2

Parayi aurat ke sath suhagrat-2

फिर में उसके बाद ब्रश करने के लिए बाथरूम में चला गया और जब में ब्रश कर रहा था तो जया ने आकर मुझसे पूछा क्यों क्या हुआ समझ गये ना ठीक तरह से मेरी बात को? अब मैंने उसको कहा कि मुझे आपने अभी शाम तक का समय दिया है ना इसलिए आप मुझे सोचने का थोड़ा सा समय तो दो. उनको यह बात कहते हुए में सीधा बाथरूम में चला गया.

नहाने के कुछ देर बाद में सीधा फिल्म देखने के लिए चला गया और उस फिल्म का नाम था ‘’द सीक्रेट्स ऑफ वुमन” और उस फिल्म को देखने के बाद मैंने मन ही मन में सोच लिया था कि उसको में अपनी पत्नी जरुर बनाऊंगा, इसलिए मैंने घर जाने से पहले बाहर बाजार से फूल भी में अपने साथ में लेकर गया जिससे चुदाई का माहोल अच्छा हो, जब में अपने रूम पर करीब शाम के 7 बजे आया तो मैंने देखा कि जया उस समय बहुत दुखी नजर आ रही थी में अपने कपड़े बदलकर उसके पास चला गया. तभी जया ने मुझे देखते ही मुझसे पूछा कि क्यों अब तो बोलो क्या तुम मुझे अपने पत्नी बनाओगे या नहीं? मैंने उससे कहा कि हाँ तुम आज से मेरी पत्नी यानी मेरी रखेल हो और मेरे मुहं यह शब्द सुनकर जया बहुत खुश होकर झट से मुझे किस करके बोली कि तो आज रात ही हमारी पहली सुहागरात है.

मैंने कहा कि हाँ ठीक है तो आज जल्दी ही हम खाना खा लेते है, रोहित तो रात को 8 बजे को ही सो गया, जया ने उसको उठाकर पास वाले कमरे में सुला दिया उसके बाद हम लोग जल्दी से खाना खाकर रात 8.30 तक जया के बेडरूम में आ गए. जया जोश में आते हुए कह रही थी कि में तो पूरे दिन तुम्हारे लिए तड़प रही थी. तब मैंने उसको बोला कि क्यों अभी तो हमारे पास पूरे 13 दिन बाकी है ना? तो जया झट से यह बोली कि 13 दिन नहीं हमारे पास अब बची हुई पूरी जिंदगी पड़ी है. दोस्तों मुझे तो उसके मुहं से वो बात सुनकर हंसी आई और तब मैंने जया को अपनी बाहों में उठाकर उसको बेड पर लेटा दिया, मैंने पहले से ही जया से कहा कि मेरा यह पहला अनुभव है मुझे तुम ही सब कुछ सिखाना.

उसने जवाब दिया कि में अपने उस वादे के हिसाब से तुम्हे तो इस काम में एकदम अनुभवी बनाऊंगी, क्यों ठीक है ना? मैंने कहा कि हाँ ठीक है. फिर उसके बाद मैंने जया से उनके कपड़े उतारने के लिए बोला जया ने अपनी साड़ी और ब्लाउज को उतार दिया और में भी तब तक पूरा नंगा हो चुका था, मैंने जया की ब्रा के हुक को खोलकर जब उसको नीचे उतारा तो उनके तने हुए निप्पल को देखकर मेरा लंड झट से तनकर खड़ा हो गया क्योंकि मैंने देखा कि उसने तो अपनी चूत को भी पहले से ही एकदम साफ कर लिया था में तो उसके संगमरमर के बदन को देखकर बिल्कुल हैरान हो गया. अब जया ने मेरे लंड पर अपनी नज़र को डालते हुए मुझसे बोली कि तुम्हारा यह डंडा तो बहुत ही बड़ा है और यह मुझे बहुत ही दर्द करेगा, मैंने तो इतना बड़ा केवल ब्लू फिल्मों में ही देखा था, तुम थोड़े धीरे से धक्के मारना प्लीज़.

अब जया ने मेरे लंड को अपने हाथों में लेकर वो उसको कुछ देर तक सहलाती रही और में भी उसके गोरे गोरे और रसीले बूब्स को दबाता रहा, जब मेरे लंड के टोपे पर पानी निकल गया तो मैंने मुस्कुराते हुए जया के सर को पकड़कर झुकाते हुए उसके हाथों को अपने लंड के पास सटा दिया. फिर जया पहले तो अपनी जीभ को बाहर निकालकर उससे मेरे लंड को चाट रही थी और उसके बाद वो मेरे लंड के टोपे को अपने मुहं में लेकर अपने सर को अब धीरे धीरे ऊपर नीचे करते हुए मेरे लंड को चूसने लगी थी जिसकी वजह से थोड़ी ही देर में मेरा लंड अब चुदाई के लिए बिल्कुल ही तैयार हो गया था, इसलिए अब मैंने जया को लेटने के लिए बोला और मैंने उसके बूब्स को दबाने का काम जारी रखा जिसकी वजह से जया जोश में आकर मोन करने लगी अहह्ह्हह्ह्ह्ह अहूऊऊऊ आराम से मसलो ऊऊह्ह्ह्ह मुझे बहुत दर्द हो रहा है आईईईईईई प्लीज और थोड़ी ही देर के बाद जया ने कहा कि में अब झड़ने वाली हूँ आह्ह्ह्ह. अब में जया के ऊपर चढ़ गया और में उसको ज़ोर से चोदने के लिए मैंने उसकी चूत के छेद को खोलने के लिए बोला. तब जया अपने दोनों हाथों से उसकी चिकनी चूत को खोल दिया. फिर मैंने उसकी चूत पर अपना लंड सटाते हुए एक ज़ोर का झटका मारा, जिसकी वजह से लंड चूत को फैलाता हुआ अंदर जा पहुंचा.

फिर जया ने ज़ोर से आह लेते हुए पूरी तरह से जैसे वो उछल पड़ी.

मैंने उससे पूछा कि क्या तुम्हे दर्द हुआ? तब जया बोली कि हाँ आअहहह्ह्ह्हह अब मैंने अपनी कमर को धीरे से धक्के देकर हिलाना शुरू कर दिया और उसके निप्पल के दूध को भी में पीता रहा, लेकिन जया तो मेरे हर एक झटके के साथ ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ ले रही थी. अब जया को ऐसा करते हुए देखकर मैंने उसके बूब्स को अपने मुहं से बाहर निकालकर उससे पूछा क्यों क्या हुआ दर्द हो रहा है?

जया ने कहा कि हाँ तुम थोड़ा धीरे धीरे धक्के मारो अहह्ह्ह्ह उूउफफफफ्फ़ करीब बीस मिनट तक ऐसे ही लगातार हमारी चुदाई चलती रही और मैंने जया से कहा कि में अब झड़ने वाला हूँ. फिर जया ने मुझसे कहा कि अंदर ही डाल देना प्लीज और फिर झड़ने के बाद मैंने जया से पूछा कि कैसा लगा? उसने मुझे बताया कि बहुत अच्छा लगा, उसके बाद मैंने जया से कहा कि अभी तो मेरा लंड तुम्हारी चूत के अंदर केवल थोड़ा ही घुसा है जब में अपना पूरा लंड तुम्हारी चूत के अंदर डालकर धक्के दूंगा तब तुम्हे और भी ज़्यादा मज़ा आएगा.

मेरी तो यह पहली चुदाई थी, इसलिए में बहुत ज़्यादा जोश में था और उस वजह से अपना पूरा लंड तुम्हारी चूत में नहीं डाल सका. फिर उसके बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला और उससे पूछा कि क्या तुम इसको चाटोगी? वो मुस्कुराते हुए बोली कि आज की तरह मुझे चुदाई का मज़ा कभी नहीं मिला, सही रूप में मेरी सुहागरात तो आज ही है, आज तुमने मुझे चोद ही दिया और अब तुम ही मेरे सब कुछ हो, तुम्हें मुझसे बस एक बार कहने की ज़रूरत है तुम जो भी मुझसे कहोगे में वो सब करूँगी बस केवल तुम मुझे ऐसे ही यह मज़े हमेशा देते रहना और मुझसे इतना कहकर उसने मेरा लंड अपने मुहं में लेकर पहले चूसना और उसके बाद चाटना भी शुरू कर दिया और कुछ देर बाद मेरा लंड चाट चाटकर साफ कर देने के बाद वो मुझसे बोली कि उसको पेशाब आ रहा है. फिर में भी उसी समय उठकर जया के साथ ही बाथरूम में चला गया.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब जया ने मुझसे कहा कि लो अब तुम मेरी चूत पर पेशाब करो और मैंने वैसा ही किया जैसा वो मुझसे करवाना चाहती थी, मैंने खड़े होकर उसकी चूत को अपने पेशाब से नहलाकर मस्त कर दिया और उसके बाद जया ने नीचे बैठकर पेशाब करना शुरू किया और उसके बाद उसने अपनी चूत को पानी से धो लिया. फिर उसके बाद जया ने मेरे लंड को अपने हाथों में लेकर उसके टोपे को खोलकर पानी से साफ किया. अब में उसके साथ ही रूम में वापस आ गया रूम में वापस आने के बाद मैंने जया के हाथ को पकड़कर अपने लंड को उसे पकड़ा दिया और एक बार फिर से लंड को चूसने के लिए बोला, तब जया बेड पर लेट गयी और उसने मेरा लंड अपने मुहं में ले लिया और वो उसको ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी थी उसी के साथ साथ में भी उसके दोनों बूब्स को बारी बारी से मसलता गया और में अपने दूसरे हाथ से उसकी चूत को सहला रहा था और साथ ही साथ में अपनी उँगलियों को उसकी चूत के अंदर बाहर भी कर रहा था और थोड़ी ही देर में मेरा लंड दोबारा से तन गया. फिर जया ने मेरे लंड को उसके मुहं से बाहर निकालकर वो कहने लगी कि चलो अब तुम मुझे पीछे से चोदो. वैसे करने में हमे बड़ा मज़ा आएगा और मुझे यह बात कहते हुए जया तुरंत उल्टा हो गई और मैंने उसके पीछे से मेरा लंड उसकी चूत में डालने के लिए एक ज़ोर का झटका मारा तो जया ने दर्द की वजह से कहा कि ऊईईईईइ माँ में मर गई प्लीज थोड़ा धीरे से धक्के मारो ऊउईईईईईईई ना. फिर मैंने उसके सर के बालों को पकड़कर अपने लंड को अंदर डालने का काम लगातार ज़ारी रखा.

दोस्तों में एक तरफ जया की चूत में अपने लंड को अंदर डालने के लिए ज़ोर ज़ोर से झटके मार रहा था तो दूसरी तरफ में उसके बूब्स को बुरी तरह से मसल भी रहा था. फिर कुछ देर के बाद जया ने मोन करते हुए पूछा कि उफफ्फ् और कितना बाहर है? मैंने उसको बताया कि अब बस थोड़ा सा ही बाहर है, तो उसने मुझसे कहा कि तुम अब उसको भी अंदर डाल दो ना आह्ह्ह्हहह ऊओहहह्ह्ह्ह और आज तुम फाड़ डालो मेरी इस चूत को आज तुम इसकी पूरी आग को बुझा दो और मुझे जमकर चोदो और वो यह सब कहते हुए ज़ोर ज़ोर से सांसे खींचने लगी और मेरे धक्को की रफ़्तार की वजह से जया अपनी जगह से दो इंच ऊपर सरक चुकी थी और वो ज़ोर से चीख पड़ी और उसकी वो दर्द भरी चीख पूरे रूम में गूँज उठी और फिर भी मैंने अपनी उस रफ़्तार को वैसे जारी रखा.

दोस्तों कम से कम चालीस मिनट तक यह घमासान चुदाई लगातार चलती रही और आखरी में मेरे लंड का पूरा पानी जया की चूत में गिरा देने के बाद जब मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला तो मैंने देखा कि मेरे लंड पर उसके और मेरे वीर्य के साथ साथ थोड़ा सा खून भी लगा हुआ था, मैंने जया को अपने लंड पर लगे हुए उस खून को दिखाते हुए उससे पूछा कि यह क्या है? तो जया ने हंसते हुए कहा कि तुम्हारे इस लंबे और मोटे लंड के लिए मेरी चूत अभी तक कुँवारी थी, इसलिए यह सब तुम्हे नजर आ रहा है और फिर मैंने जया से पूछा कि तुम्हारे पति ने क्या कभी भी तुम्हारी गांड में उनका लंड डालकर धक्के नहीं मारे? तो उसने मुझे बताया कि उसको तो अपनी चूत में ही सही तरह से धक्के नहीं मारने आते तो वो क्या खाक मेरी गांड में धक्के मारेगा? अब थोड़ी देर के बाद में बाथरूम में चला गया और कुछ देर के बाद जब में वापस जया के पास आया और मैंने उनको फ्रेश होने के लिए बोला, लेकिन वो वैसे ही लेटी रही.

फिर में उसको अपनी बाहों में उठाकर बाथरूम में ले गया और इसी दौरान मैंने उसकी खुली हुई चूत को किस किया. फिर मैंने उसको बैठा दिया तो जया ने जब पेशाब किया तब मैंने मग में पानी लेकर जया की चूत पर पानी के छींटे मारकर उसको धो दिया और इसके बाद जया को उठाकर मैंने एक बार फिर से बेड पर लेटा दिया, तभी उसने मुझसे पूछा कि अब क्या है? तो मैंने उससे बोला कि अभी तो असली काम बाकी है मेरी रानी आज तो तुमने मुझे असली जन्नत के मज़े दिए है. में भी तो तुम्हे ऐसा ही मज़ा देना चाहता हूँ.

उससे यह बात कहते हुए में अपने लंड को सहला रहा था. फिर जया मेरे खड़े लंड को देखकर बोली कि प्लीज़ तुम अब रहने भी दो में बहुत तक चुकी हूँ और तुम भी अपनी इस ताक़त को कल के लिए बचा कर रख लो प्लीज अब रात बहुत हो चुकी है और मुझे नींद भी बहुत आ रही है. प्लीज हम कल से दोबारा ऐसे ही मज़े किया करेंगे. दोस्तों मैंने भी उसकी उस बात को मान लिया था और फिर हम दोनों वैसे ही पूरे नंगे एक दूसरे के साथ चिपककर करीब रात के दो बजे हमारी चुदाई को खत्म करके सो गए.