पराई बीवी को रखैल बनाकर सुहागरात मनाई-1

Parayi aurat ke sath suhagrat-1

हैल्लो दोस्तों आप सभी पढ़ने वालों के लिए में अपनी एक मस्त पहली चुदाई की सच्ची घटना को आप सभी को सुनाने के लिए यहाँ तक पहुंचा हूँ और इसमें आज में आप सभी को बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने अपने मकान मालिक की पत्नी को जमकर चोदा और उसकी चुदाई के मज़े लेकर उसको पूरी तरह से संतुष्ट किया? दोस्तों अब में आप सभी को अपना परिचय देते हुए अपनी आज की कहानी को सुनाता हूँ.

दोस्तों मेरी उम्र 25 साल है और में हैदराबाद का रहने वाला हूँ. में बहुत अच्छे हंसमुख स्वभाव का अच्छा सुंदर दिखने वाला गोरे रंग का लड़का हूँ और मुझे देखकर हर कोई मेरी तरफ आकर्षित हो जाता है. मेरी लम्बाई 5.6 और मेरे लंड का आकार 6 इंच है जो किसी भी आकार की छोटी, मोटी चूत को अपनी चुदाई से पहली बार में ही पूरी तरह से संतुष्ट करने के लिए बहुत है और मैंने अपनी पहली चुदाई करके उस चूत को पहली बार में ही जन्नत के मज़े करवा दिए.

मैंने उसको बहुत जमकर चोदा उसके कामुक गदराए हुए गोरे जिस्म की आग को मैंने शांत किया जिसकी वजह से वो मुझसे बहुत खुश हुई और उसने मुझे अपनी चुदाई के वैसे बहुत सारे मौके दिए और हर बार मैंने उसको चोदकर अपने लंड को शांत किया तब मुझे असली चुदाई कैसे होती है और उसमे कैसा मज़ा आता है यह सब पता चला. अब आप सभी को ज्यादा बोर ना करते हुए में सीधा अपनी कहानी को सुनाना शुरू करता हूँ.

दोस्तों यह घटना मेरे साथ तब घटी जब में अपनी पढ़ाई को खत्म करके अब काम की तलाश में था और मुझे बहुत ही जल्दी एक बहुत अच्छी कंपनी में नौकरी मिल भी गई थी, मुझे वहां से अच्छी ख़ासी तनख़्वा भी मिल रही थी और इस दौरान मुझे एक घर की तलाश में हैदराबाद आना पड़ा और फिर मुझे एक रूम किराए से मिल गया, वो एक मकान मालिक के साथ रहने वाला घर था उस मकान के तीन कमरों को घर के मालिक अपने काम में लेते थे और बच्चा एक रूम उसको में अपने काम में लेता था.

दोस्तों उस घर में तीन लोग रहते थे और उस घर के मालिक जिनका नाम राहुल है, उसका अपना खुद का व्यापार है, उनकी पत्नी जिसका नाम जया है. वो एक ग्रहणी है और उनकी लम्बाई 5.3 गोरी मस्त दिखने वाली औरत है, उनके बदन का आकार 34-26-36 है और उनके बूब्स बहुत बड़े भरे हुए है, गोरा बदन, काले लंबे बाल, गोल बड़ी आखें, उनकी एक लड़की जिसका नाम कावेरी और एक लड़का जिसका रोहित है.

दोस्तों उनकी वो लड़की उस समय अपने घर से बाहर किसी होस्टल में रहकर अपनी पढ़ाई कर रही थी और उनको वो लड़का अभी उम्र में चार साल का था इसलिए वो घर में ही रहता था और मुझे बाद में पता चला कि जया के साथ राहुल की यह दूसरी शादी है और यह लड़का जया की पहली संतान है और राहुल की वो दूसरी संतान है, राहुल की पहली पत्नी जिसका नाम शालिनी था उसकी कुछ सालों पहले एक रोड़ एक्सिडेट में मौत हो गई थी और उसके बाद ही राहुल ने अपने माता पिता के कहने पर दूसरी शादी की उसके माता पिता उसके गाँव में रहते है वो कभी कभी यहाँ आते है और राहुल को अक्सर उसके बिजनेस की वजह से दूसरे देशो में जाना पड़ता था और इसलिए जया के कहने पर उन्होंने अपने घर का एक रूम किराए पर देने के लिए विचार बनाया था, जिसकी वजह से जया को उसके पति के चले जाने के बाद अकेलापन महसूस ना हो और जब में रूम के लिए पहली बार उनके घर पर गया तो झट से वो मुझे रूम देने के लिए तैयार हो गए, क्योंकि में कुंवारा था और में अच्छा पैसा भी कमा रहा था.

मुझे पूरी तरह से परखने के लिए राहुल भी करीब चालीस दिन तक घर से ही रहकर अपना काम संभाल रहे थे और में तो बस 15 दिनों में ही उन लोगों से बहुत अच्छी तरह से घुलमिल गया था जिसकी वजह से में उनके घर का अब एक सदस्य बन चुका था और में वहां पर उन लोगों के साथ बहुत खुश था.

दोस्तों मेरे ऑफिस में मेरी नौकरी के दिनों में सोमवार से शुक्रवार तक ही काम होता था और दो दिन फ्री टाइम पर में उनके घर के काम में उनकी मदद किया करता था और में उनके बच्चे के साथ भी खेला करता था, जिसकी वजह से वो भी बहुत खुश रहते थे और मैंने भी तब तक अपनी किसी भी हद को पार नहीं किया था.

दोस्तों वो दोनों पति और पत्नी एक दूसरे के साथ बहुत प्यार से रहते थे, लेकिन रात के समय में वो हर रात को लड़ाई किया करते थे और जया की बातों से यह मुझे साफ साफ ज़ाहिर होता था कि उसकी शारीरिक भूख को शांत करने के लिए उसके पति का योगदान बहुत कम था या एकदम नहीं के बराबर था. यह बात मुझे एक महीने के भीतर ही पता चल चुकी थी, क्योंकि उन लोगों के बेडरूम और मेरे रूम के बीच में एक दरवाजा ही था.

एक बार सोमवार के दिन राहुल को अपने काम की वजह से दूसरे देश में जाना था और उसका वो ट्रिप करीब बीस दिन का था और उसको पहले बेंगलोर, गोवा, मुंबई और फिर उसके बाद बाहर दूसरे देश में जाना था. फिर जब में सोमवार के दिन अपने ऑफिस से वापस आया तो जया ने मुझसे कहा कि आज से तुम खाना हमारे साथ ही खा लेना, जब तक राहुल वापस ना आ जाए और मैंने हाँ कह दिया. उस दिन मैंने खाना खाने के बाद थोड़ी सी गपशप करके में करीब दस बजे रात को सो गया, लेकिन सर्दी की वजह से कुछ देर बाद मेरी नींद अचानक से खुल गई.

करीब रात के 11.00 बजे का समय हुआ था और उसी समय मुझे एक अजीब सी आवाज़ सुनाई दी, तब मैंने जाकर उस बीच के दरवाजे से पास वाले कमरे के अंदर झांककर देखा तो उस समय मैंने देखा कि जया उस समय पूरी नंगी होकर अपने बिस्तर पर लेटी हुई थी और वो अपनी गोरी, चिकनी, गरम चूत में अपनी दो उँगलियों को डालकर उसका पानी बाहर निकालने की कोशिश कर रही थी और वो थोड़ी देर के बाद अपनी चूत को शांत करके वैसे ही सो गई, लेकिन मुझे तो उस रात को वो सेक्सी द्रश्य देखकर पूरी रात नींद ही नहीं आई. में उसके बारे में ही सोचता रहा.

दूसरे दिन रात को भी ठीक वैसा ही हुआ था और उस समय तक में थोड़ा सा नासमझ था, क्योंकि में तब तक समझता था कि शारीरिक भूख केवल मर्दों को ही होती है और उस दिन रात को में पहली बार में जया के बारे में सोचकर मुठ मार रहा था और फिर अपने लंड के शांत हो जाने के बाद पता नहीं कब में सो गया और अगली सुबह पूरा दिन जब भी मेरा लंड उसके विचार से खड़ा होता तब में मुठ मारकर मेरे अंदर की आग को शांत करने की कोशिश किया करता था, लेकिन मैंने इस बात को भी नहीं सोचा था कि जया उस दरवाजे से मुझे देख भी सकती है और रविवार के दिन भी में वैसे ही नंगा होकर मुठ मार रहा था कि तभी अचानक से जया मेरे रूम के दरवाजे के पास आकर खड़ी हो गई और उसने दरवाजे को खोल दिया. में तो उस समय जोश में होने की वजह से मैंने अपने हाथ को मेरे लंड पर ढक लिया, लेकिन जया मुझे नंगा देखकर वापस चली गयी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

तब मुझे मेरी गलती का अहसास हुआ और मेरी ग़लती सिर्फ़ यह है कि लंड को साफ करके बाथरूम से आने से पहले मैंने अपने रूम दरवाजा बंद नहीं किया था. फिर शर्म की वजह से मैंने मुठ मारना बंद किया और थोड़ी ही देर के बाद में बाहर चला गया और फिर में शाम को पांच बजे वापस आ गया.

फिर उस रात को में खाने के लिए जया के पास भी नहीं गया, लेकिन फिर भी जया मेरे कमरे में आकर मुझे आने के बोलने लगी और उसके कहने पर में खाना खाने के लिए चला गया और खाना खाते समय जया मुझसे मेरे बारे में पूछताछ करने लगी. इस बीच मैंने उसको बताया कि मेरी शादी के लिए मेरे घर वाले कोई अच्छी लड़की देख रहें है और उसी समय झट से जया ने कहा कि हाँ तभी तो तुम अभी से ही उसके लिए तैयार होना चाहते हो.

अब में उसके मुहं से वो बात सुनकर बिल्कुल चुप हो गया और मैंने सुबह जो भी हुआ था उसके लिए उससे मुझे माफ़ करने के लिए कहा, लेकिन जया ने इस बात पर इतना गौर नहीं किया और अब वो मुझसे कहने लगी थी कि हर एक औरत या मर्द को अपनी शारीरिक भूख को शांत करना होता है चाहे वो उसके लिए कुछ भी कर सकते है, चाहे वो सब काम शादी से पहले या शादी के बाद और फिर उसने मुझे बताया कि वो भी अपनी चूत को शांत करने के लिए उसमे उंगली किया करती है और उसने पूछा कि क्या तुम यह सब बाते जानते हो?

तब मैंने उसको अपने मन की सारी बातें सच सच बताई कि हाँ मैंने आपको चोरी-छिपे कई बार ऐसा करते हुए देखा है, इसलिए तो में तुम्हे सोच सोचकर इन दिनों मुठ भी मार रहा हूँ. फिर मेरे मुहं से यह बात सुनकर जया हंसने लगी और वो बोली कि तो ठीक है हम दोनों ही एक दूसरे को नंगे तो पहले से ही देख चुके है फिर हम दोनों के बीच में यह सब शरम क्यों? क्यों ना हम दोनों अपनी भूख को एक साथ मिलकर शांत करे लें.

दोस्तों में तो उसके मुहं से यह बात सुनकर एकदम चकित रह गया और उस वजह से मेरा मुहं एकदम ही बंद हो चुका था. तभी जया मुझसे अपने मन की बात खुलकर कहने लगी कि अब में भी अपने पति राहुल से बहुत तंग आ चुकी हूँ मेरी यह पहली शादी है, लेकिन राहुल की यह दूसरी शादी है इसलिए मेरे साथ सेक्स करके एक बच्चा पैदा करके अब राहुल एकदम शांत हो गया है और वो मेरे इस जिस्म की उस भूख को भी अब पूरी तरह से नज़र अंदाज कर रहा है और मुझे तो यह शादी उससे अपने माँ, बाप के ज़ोर जबरदस्ती की वजह से करनी पड़ी, क्योंकि हम दोनों के बीच में उम्र का अंतर करीब 15 साल है.

में अब 30 साल की हुई हूँ और वो है 45 साल के. दोस्तों में तो अब उसकी वो बातें सुनकर बिल्कुल ही परेशान हो चुका था और मुझे वो सब कुछ समझाने के लिए जया ने एक उधारण भी बताया कि हर एक औरत या मर्द को मज़े मस्ती करने का समय 16 साल से 40 साल के बीच का होता है और इस 15 साल में उनका सोने, खाने, पीने में तो कम से कम 10 साल चले जाते है और फिर बचे 5 साल में वो क्यों ना ऐश करे? दोस्तों ऐसी बातें करके जया मुझे हर तरह से अपनी चुदाई करने के लिए मनाना चाहती थी और तब मैंने उससे पूछा कि तो में अब क्या करूं तो उसने मुझे बताया कि तुम मुझे अपनी पत्नी बना लो.

मैंने उससे पूछा कि वो कैसे? तभी उसने झट से कहा कि जब भी राहुल घर पर नहीं रहेंगे तब में तुम्हारी पत्नी बन जाती हूँ और बाकी के समय में राहुल की पत्नी बन जाउंगी और ऐसा कहते हुए वो अपने हाथ को मेरे बालों में घुमाना चाहती थी, परंतु मैंने उनसे कहा कि ऐसे मामले में तो मेरा बिल्कुल भी अनुभव नहीं है, में तुम्हारे लिए क्या कर सकता हूँ? तब जया ने बताया कि में तुम्हे सब कुछ सिखाती हूँ और में तुम्हे औरतों के मामलों में तो एकदम अनुभवी बना दूंगी. अब मेरा लंड धीरे धीरे खड़ा होने लगा था.

फिर भी मैंने अपने आप पर कंट्रोल करके उनसे एक दिन का समय माँगा और मेरे मुहं से यह बात सुनकर जया ने कहा कि क्या सिर्फ़ एक दिन? इसका मतलब कल शाम पांच बजे तक ही? दोस्तों तब तक मैंने खाना खा लिया था और उसके बाद में मेरे रूम में आ गया था. मेरी सोच इस बात पर थी और उस रात को मुझे नींद भी नहीं आ रही थी, लेकिन दूसरी तरफ जया को पूरी तरह से विश्वास था कि में उसकी बात मान लूँगा और उस रात को देरी से सोने की वजह से में सुबह 10 बजे को उठा और मैंने अपने ऑफिस में फोन लगाकर उनको बताया कि आज मेरी तबियत ठीक नहीं है और में उस वजह से दो या तीन दिन तक ऑफिस नहीं आ सकता.