पति के सामने बॉयफ्रेंड से चुदवाया-1

Pati ke samne boyfriend se chudwaya-1

प्लीज़ दोस्तों, आप सभी से मेरा यह आग्रह है कि आप लोग लंड और चूत को बाहर निकालकर अच्छी तरह से रगड़कर पूरे मज़े लेकर यह कहानी पढ़े. दोस्तों मेरा नाम कोमल है और मेरी उम्र 24 साल है और में एक शादीशुदा लड़की हूँ. दोस्तों मेरी शादी दो साल पहले समीर नाम के उस लड़के से हुई थी, जो अब मेरा पति परमेश्वर बन चुका था.

दोस्तों जब से में सेक्स के बारे में समझने लगी थी. उसके बाद से में चुदक्कड़ किस्म की बन गई और यह बात धीरे धीरे मेरे पति को भी समझ में आने लगी थी और मुझे अपनी चुदाई करवाने का बहुत शोक है, में बरोडा, गुजरात से हूँ और में दिखने में बहुत ही हॉट, सेक्सी हूँ. मेरे बूब्स एकदम गोल और बड़े आकार के है, मेरी कमर पतली और गांड कुछ ज्यादा ही उभरी हुई है, में अपने हमेशा पहनने वाले टाईट कपड़ो में बहुत ही चुदासी दिखती हूँ और में खुद जानबूझ कर भी ज़्यादातर कपड़े ऐसे ही पहनती हूँ कि उनसे मेरे सेक्सी बदन के हर एक अंग का आकार किसी को भी बिल्कुल साफ साफ दिखे और वो मेरी तरफ आकर्षित हो जाए.

दोस्तों कुल मिलाकर मुझे पराए मर्दो के लंड को खड़े करना बहुत अच्छा लगता है और ऐसा करने से मुझे एक अजीब सी संतुष्टि मिलती है और में उसके खड़े लंड को देखकर मन ही मन बहुत खुश होती हूँ. दोस्तों में आज ठीक ऐसी ही अपनी जोश से भरी चुदाई की सच्ची घटना आप सभी पाठकों के लिए लेकर आई हूँ और में उम्मीद करती हूँ कि यह आप लोगों को जरुर पसंद आएगी.

दोस्तों यह बात मेरी शादी से कुछ सालों पहले की है, जब में एक कॉलेज में अपनी पढ़ाई पूरी कर रही थी, तब मेरा एक बॉयफ्रेंड था. उसका नाम राजेश था, मेरी यह दोस्ती उसके साथ करीब दो साल तक रही और में उसके साथ बहुत खुश थी और हम लोग कॉलेज में मिलने के बहाने फिल्म देखने जाते थे और बाहर इधर उधर घूमते फिरते और हम दोनों कभी कभी एक दूसरे को किस भी करते थे. दोस्तों मैंने उसको अपने साथ किसिंग और बूब्स दबाने से ज़्यादा कुछ नहीं करने दिया, लेकिन वो काम भी कभी कभी सही मौका देखकर होता था और जब कभी वो मेरे गाल को पकड़कर जबरदस्ती मेरा मुहं खोलकर अपनी जीभ को मेरे मुहं के अंदर डालता तो मुझे बड़ा मज़ा आता.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  जेठ ने खेला प्यार भरी चुदाई वाला खेल

कुछ देर नाटक करने के बाद में भी उसका पूरा पूरा साथ देने लगती और हम दोनों मज़े लेते. दोस्तों यह सब हम दोनों के बीच करीब दो साल तक चला, लेकिन मैंने कभी भी उसको अपनी चुदाई करने का ऐसा कोई भी मौका नहीं दिया था, जिसका वो थोड़ा सा भी फायदा उठा सके और इस बीच मेरी शादी फिक्स हो गई और में भी मन ही मन बहुत खुश थी कि मेरी एक बहुत अच्छे दिखने वाले हट्टेकट्टे सुंदर लड़के से सगाई करवाई जा रही थी और मेरी अच्छी किस्मत से में जितनी बड़ी चुदक्कड़ थी, उतना ही बड़ा समीर भी चुदक्कड़ निकला. उसे भी चुदाई करने का बहुत शौक था.

मेरी तरह वो भी सेक्स करने का बहुत भूखा था और मेरी सगाई फिक्स होने के चार दिन बाद ही हम दोनों ने एक अच्छा सा सही मौका देखकर अपना पहला सेक्स किया और में तब तक वर्जिन थी, इसलिए मुझे थोड़ा दर्द भी जरुर हुआ था, लेकिन उसके साथ साथ मज़ा भी तो बहुत आया था और उस चुदाई के अहसास को में अपनी किसी भी शब्दों में आप लोगों को नहीं बता सकती कि वो कैसे मज़ा था और ऐसे ही चुदाई के मज़े करते करते कुछ महीनो में हमारी शादी भी हो गई और अब हमारी सेक्स लाईफ भी बहुत अच्छी चलती जा रही थी.

दोस्तों में अपने पति का साथ पाकर अपने उस बॉयफ्रेंड को भी बिल्कुल भूल चुकी थी. अब समीर मुझे बहुत अच्छे से चोदते थे और पूरे मज़े देते थे और मुझे उनके लंड की सवारी करना और उनकी गालियों के साथ अपनी चुदाई करवाना बहुत पसंद था और अब में भी चुदाई के समय बहुत गंदी गंदी गालियाँ बोलती हूँ, उसकी वजह से हमारा जोश और भी ज्यादा बढ़ जाता है, जैसे कि हाँ भोसड़ी के चोद मुझे आअहह मादरचोद फाड़ दे मेरी चूत को, ज़ोर से चोद साले कुत्ते चूतिए और वो भी मुझे कभी रांड तो कभी छिनाल, रखेल और कभी मादरचोद कुतिया कहकर लगातार जोरदार धक्के लगाकर चोदता रहता था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी के दिल पर लंड की छाप

फिर एक दिन समीर मुझे बहुत जोरदार धक्के गालियाँ देकर चोद रहा था. तभी अचानक से उसने मुझसे पूछ लिया कि कोमल तुम मुझे सच सच बताओ कि हमारी शादी से पहले तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड था कि नहीं? दोस्तों पहले तो में उसके मुहं से यह बात सुनकर बहुत चकित थी, लेकिन मैंने अपने बॉयफ्रेंड के साथ कभी सेक्स नहीं किया था, इसलिए मुझे बिल्कुल भी संकोच नहीं था और इसलिए में एकदम निडर होकर बोली.

में : हाँ मेरा एक दोस्त था और उसके अलावा कुछ भी नहीं.

समीर : सिर्फ़ दोस्त या फिर बॉयफ्रेंड?

में : हाँ मेरा कॉलेज के समय एक बहुत अच्छा बॉयफ्रेंड था.

समीर : उसका क्या नाम था?

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

में : आप जाने दो ना, मुझे उसके बारे में कुछ भी याद नहीं करना.

समीर : प्लीज बताओ, में ऐसे ही पूछ रहा हूँ, मुझे तुम्हारे बीते हुए कल से कोई भी आपत्ति नहीं है.

में : उसका नाम राजेश था.

समीर : क्या तुम्हें कभी उसकी याद आती है? और तुमने उसके साथ क्या क्या किया था?

में : ओफफो आप मुझसे यह सभी बातें क्यों पूछ रहे हो?

समीर : प्लीज डार्लिंग एक बार बताना, मुझे सुनना अच्छा लग रहा है तुम्हारे बॉयफ्रेंड राजेश के बारे में बातें करके अच्छा लगता है, देख अब मेरा लंड खड़ा हो रहा है, बताओ उसने तुम्हें कहाँ कहाँ छुआ?

में : हमने सिर्फ़ एक दूसरे को किसिंग की है और वो भी कभी कभी.

समीर : कभी कभी क्या? प्लीज पूरी तरह खुलकर बताओ मुझे.

में : वो कभी कभी राजेश मेरे बूब्स भी दबाता था और जब उसको सही मौका मिलता तो वो मेरे निप्पल को अपने मुहं में लेकर मेरा दूध भी पीता था और मुझे उसको दूध पिलाना बहुत अच्छा लगता था, लेकिन हमने बस इसके आगे कभी भी कुछ नहीं किया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी को दिया बर्थ-डे गिफ्ट-1

समीर : क्या कभी तुमने उसके लंड को पकड़ा या छुआ भी था और उसकी मोटाई को महसूस भी किया था?

में : हाँ, लेकिन बस एक बार जब हम उस दिन एक पब्लिक पार्क में बिल्कुल अंधेरे में बैठकर बहुत जमकर किस कर रहे थे, तब वो मेरे एक बूब्स को अपने मुहं में भरकर चूस रहा था और दूसरे बूब्स की निप्पल को निचोड़ रहा था और उसके ऐसा करने की वजह से में तब बहुत गरम हो गई थी और मैंने उसका लंड उसकी पेंट के ऊपर से ही दबा लिया और फिर में उसको सहलाने लगी और फिर कुछ देर बाद मैंने उसकी पेंट की ज़िप को खोलकर लंड को बाहर निकाला, ज्यादा अंधेरा होने की वजह मुझे कुछ नहीं दिखा, लेकिन हाँ छूने से मुझे बहुत अच्छी तरह से पता चल गया कि उसका लंड बहुत ही मोटा और आकार में लंबा भी था, तुम्हारे लंड से भी मोटा, लंबा लंड.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!