पति से लिया बेज़्ज़ती का बदला-2

Pati se liya bejjati ka badla-2

दोस्तों उसके मुहं से यह बात सुनकर मेरी तो जैसे हवा ही निकल गई, मेरे पूरे चेहरे का रंग उड़ चुका था और में पसीने से भीग चुकी थी. फिर वो मुझसे बोला कि में उस समय जागा हुआ था, क्यों वो आपको बिल्कुल भी प्यार नहीं करते ना?

यह बात कहकर उसने मेरे कंधो पर हाथ रख दिया, जिसकी वजह से में बिल्कुल सिहर उठी और मेरी आखें भर आई, क्योंकि शायद आज इतने दिन बाद कोई मेरे दर्द को महसूस कर रहा था और अब में उसके हाथ को हटाकर आगे जाने लगी कि तभी दो मजबूत हाथों ने मुझे मेरी कमर से पकड़ लिया और मैंने कहा कि छोड़ो दरवाज़ा खुला है कोई हमे देख लेगा और यह बात कहकर मैंने उसके दोनों हाथों को अपने से अलग किया और जाकर अंदर से दरवाज़ा बंद किया और पीछे मुड़ी और फिर मैंने कहा कि देखो में उस झगड़े से बहुत परेशान हूँ और तुम अब चले जाओ, लेकिन वो तो एकदम पक्का खिलाड़ी निकला.

उसने मुझसे कहा कि जब आपका पति आपको खुश नहीं कर पता तो आप उसके भरोसे क्यों हो? हमें भी एक मौका दो ना और मुझसे यह बात कहकर वो अपनी बेल्ट को खोलने लगा. फिर चैन खोलते हुए पेंट को नीचे गिरा दिया ऐसा करते ही उसका तनकर खड़ा लंड बाहर आ गया, जिसको देखकर में डर गई. मैंने उससे कहा कि बस अब रुक जाओ नहीं तो में दरवाज़ा खोलकर ज़ोर से चिल्लाऊँगी.

दोस्तों वो मेरी बात को सुनकर हंसने लगा और उसने कहा कि कल ही तुम्हारे पति ने तुम्हे ठरकी कहा है और आज अगर सबको पता चला तो सोचो तुम्हारा पति तुम्हे घर से भी निकालेगा, तुम्हारी भलाई इसी में है कि तुम मुझे खुश करो और अपने पति की बेज़्ज़ती का बदला तुम मुझसे चुदवाकर लो.

दोस्तों उसके मुहं से यह सभी शब्द सुनकर मेरे तो पैरों तले ज़मीन खिसक गई और उसने अपनी शर्ट को उतारा और वो पूरा नंगा होकर मेरी तरफ बढ़ रहा था और में अपने इस कमसिन बदन को ढीला पड़ता हुआ महसूस कर रही थी. इतने में उसने मेरे पास आकर मेरे हाथों को दबाकर दरवाज़े पर टिका दिया और वो मेरी गर्दन पर चूमने लगा.

दोस्तों में कुछ नहीं कर पा रही थी और वो मेरी गर्दन के दोनों तरफ चूमे जा रहा था, लेकिन मे अपने गुलाबी होंठो को बचाने में कामयाब हो रही थी और तभी उसने मेरे दोनों हाथों को अपने एक हाथ से पकड़ा और मेरी गर्दन को दबाने लगा. में कुछ सोच पाती कि उससे पहले ही वो मेरे होंठो को अपने काले होंठो से चूस रहा था और मैंने भी अपनी दोनों आँखे बंद करके मज़ा लेने लगी थी.

अब हम जीभ को टटोल रहे थे और मेरी कमर पर एक भीगी सी चीज़ घिस रही थी और देखा तो वो उसका लंड था, करीब 6 इंच लंबा और एकदम काला, जिसका लाल रंग का सुपाड़ा जो एक हल्की सी काली चमड़ी से ढका हुआ था. में अब बहुत मदहोश हो रही थी, क्योंकि मैंने बहुत दिनों से इस लंड को लेने के सपने देखे है.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  40 Minutes Tak Chud Kar Shant Hui Padosan Bhabhi

अब मैंने उसे अपने हाथ से थाम लिया और मेरा हाथ उसके सुपाड़े को उस चमड़ी से मालिश कर रहा था. में थोड़ा सा झुकी और मैंने उसके लंड को सूँघा वाह क्या कमाल की सेक्सी खुशबू थी. मैंने तुरंत उसे अपने मुहं में ले लिया और फिर चूसने लगी वो आआअहह अह्ह्ह सस्स्सह.

दोस्तों में करीब 16-17 बार उसके लंड को चूसकर ऊपर आ गई उसका लंड अब आसमान की तरफ देख रहा था. फिर उसने जल्दी से मेरी पहले से खुली मेक्सी को उतार फेंका. अब में ब्रा और पेंटी में खड़ी हुई थी और वो पागलों की तरह मेरे बूब्स के बीच दरार में अपना मुहं घुसा रहा था और पेंटी के ऊपर से मेरी गांड और चूत पर अपना हाथ घुमा रहा था. दोस्तों मेरे बूब्स और चूत पर मेरे पति कभी मुहं नहीं मारते, क्योंकि उन्हे ऐसा करने से बहुत घिन आती थी और आज वो सब करवाने का मौका मेरे पास था.

मैंने मौका देखकर हाथ पीछे ले जाकर जैसे ही अपनी ब्रा का हुक झटके के साथ खोला तो मेरे दोनों लाज़वाब बूब्स बाहर झूल पड़े और उसने झट से मेरी एक निप्पल को अपने काले मुहं में ले लिया और अपने एक हाथ से वो मेरी कमर को खींचकर पकड़े हुए था और अपने दूसरे हाथ से मेरी उस चूत को नीचे से सहला रहा था और ऊपर से बूब्स को चूस रहा था.

फिर में आआहह उह्ह्ह्ह सस्स्शह करके चिल्ला रही थी और आँख बंद करके सर को दरवाज़े पर धम धम से पीट रही थी. में अपने पैरों को ज़मीन से ऊपर ले आई, लेकिन वो मुझे हवा में चूसे जा रहा था और में उसके कंधो को और सर को सहला रही थी और उसके सर को अपने बूब्स पर दबा रही थी और में अब जन्नत की सेर कर रही थी.

फिर तभी अचानक से मेरा पूरा बदन कांप उठा और में झड़ गई. मैंने उसे अचानक से एक धक्का मार दिया और उससे छूट गई और में जाकर बेड पर बैठ गई. फिर मैंने उससे कहा कि अब बस करो मेरे पति आते ही होंगे प्लीज तुम अब यहाँ से चले जाओ.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब वो मुझसे बोला कि चुपकर साली तू मुझे पागल बनाती है, तेरा पति 7 बजे से पहले नहीं आता और अभी सिर्फ़ एक बजे है और मैंने अब तक सिर्फ़ एक ही बूब्स को चूसा है वाह क्या स्वादिष्ट है? आज से में इन्हें अब हर रोज चूसूंगा समझी, वो मुझसे यह बात बोलकर मेरे ऊपर आ गया और अब वो मेरे दूसरे बूब्स पर टूट पड़ा.

में बिल्कुल पागल सी होकर छटपटा रही थी और अपनी छाती को उसके मुहं पर धकेलती और उससे कहती हाँ और ज़ोर से चूस इन्हे आआहहह वो साला मुझे ठरकी बोल रहा था आईईईइ आज से यह बूब्स बस तुम्हारे है, जब मन हो आकर चूसना उफ्फ्फ वो और जोश में आकर चूसने और अपनी जीभ से खेलने लगा, वो फिर मुझे उल्टा करके मेरी पीठ, कमर और गांड को चूमता काटता और रगड़ता रहा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  पड़ोस की पंजाबन भाभी की चुदाई : सच्ची कहानी है जरूर पढ़े

मैंने उसके सर को धीरे धीरे अपने पैरो के बीच रख दिया. फिर तो वो मेरी चूत को चूसने लगा और मेरी चूत के दाने पर अपनी जीभ को फेरने लगा. में आहहाअ ऊह्ह्ह्ह मेरे शरीर फिर कांप उठा और कुछ ही देर बाद में झड़ गई, वो मेरी जांघो को पकड़े चूमता हुआ फिर बीच में गया और उसने मेरी चूत पर थूक दिया और फिर वो मेरी चूत में अपनी एक अंगुली को डालने लगा, जिसकी वजह से में सिहर उठी.

फिर मैंने कहा कि प्लीज अब डाल भी दे अपने लंड को मेरी इस चूत में, मुझे बहुत खुजली हो रही है, वो अब मेरे ऊपर आ गया और अपनी बाल से भरी हुई छाती को उसने मेरे बूब्स के ऊपर दबा दिया, जिसकी वजह से उसका बड़ा पेट मेरी कमर पर दब रहा था और उसका मोटे लंड का सुपाड़ा मेरी चूत की गुलाबी पंखुड़ियों को छेड़ रहा था.

फिर उसने लंड को अपने एक हाथ से पकड़ा और चूत के मुहं पर टिका दिया, तो में काँपने लगी और तभी उसने एक जोरदार धक्का मारा, लेकिन लंड फिसलकर मेरी नाभि से जा टकराया और में हंस पड़ी. अब मैंने अपने एक हाथ को हम दोनों की छाती के बीच में घुसाकर उसके लंड को पकड़कर दोबारा ले जाकर अपनी चूत के मुहं को दूसरे हाथ से खोलकर उसके सुपाड़े को उनके बीच रखा, वो यह सब देखकर और भी जोश में आ गया और उसने अपने दोनों हाथ मेरी छाती के दोनों तरफ रखकर मेरे मुहं पर अपना मुहं लगाया और एक ज़ोर का धक्का मारा.

अब में आईईईइ ऊऊहह आह्ह्हह्ह में मर गई रूको, तो वो रुक गया और अब वो मेरे मुहं को छोड़कर मेरी गर्दन को चूमने लगा. मैंने अब जाकर चैन की सांस ली और फिर वो बहुत धीरे धीरे से अपने लंड को आगे पीछे करने लगा. तब मैंने महसूस किया कि उसका लंड अब मेरी चूत के अंदर प्रवेश किए जा रहा था और अब मुझे दर्द की जगह एक ऐसी जन्नत का एहसास हुआ, जिससे में अब बिल्कुल अंजान थी और मेरे मन में यह बात भी थी कि एक गंदा सा आदमी मुझे मेरे ही सुहागरात के बिस्तर पर बुरी तरह से रौंद रहा है में कितनी गंदी हूँ.

फिर में और भी जोश में आ गई और उसे पलटकर उसके ऊपर चड़ गई और अपनी चूत में उसका लंड रखकर उछालने लगी थी और उससे बोलने लगी थी कि हाँ चोद दे उफफ्फ्फ्फ़ आईईईई इस ठरकी औरत को, मेरी चूत को अपने इस तगड़े लंड से चोद चोदकर फुला दो ताकि में अपने उस हरामी पति से अपनी उस बेज़्ज़ती का बदला ले सकूँ.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी के घर में घुस के की चुदाई भाग-2

दोस्तों में अब पूरे जोश में आकर ऊपर से उछल रही थी और वो मुझे नीचे से धक्के लगाए जा रहा था. उसने मुझसे कहा कि आअहह्ह्ह बड़ी टाइट और रसीली चूत है रे और यह तेरे दोनों बूब्स उछलते हुए कितने सुंदर लगते है? मुझसे यह बात कहकर वो उठकर मेरे बूब्स को चूसने लगा और में जोश में आकर उससे बोली हाँ चूस ले इन्हे भी, इन्होने भी मुझे बचपन से बहुत परेशान किया है उफफ्फ्फ्फ़ उफफ्फ्फ्फ़ थोड़ा और ज़ोर से चूस, वाह मज़ा आ गया आईईईइ वैसे मुझे इन्हे सबसे पहले ही चुसवाना चाहिए था.

अब वो मुझे अपनी गोद में लेकर खड़ा हो गया और फिर वो खड़े खड़े हवा में मुझे धक्के देकर चोदने लगा. मैंने उसको कसकर पकड़े हुए थी और वैसे ही 15 मिनट लगातार धक्के देकर चोदने के बाद उसने मुझे ज़मीन पर लेटा दिया और अब वो एकदम जोश में आकर स्पीड से मेरी चूत की धुनाई करने लगा था, जिसकी वजह से पूरे कमरे में छप छप खप खप फच फच की आवाज़ गूँज़ रही थी. में अब तक चार बार झड़ चुकी थी.

अब वो मुझसे बोला कि में अब झड़ने वाला हूँ और मैंने उससे कहा कि हाँ में भी और उसके बाद ज़ोर के 4-5 धक्के मारने के बाद उसने सारा माल मेरी चूत के अंदर ही गिरा दिया और वो मेरे पास में गिर पड़ा. फिर मैंने अपनी हालत देखी और मेरी खुली हुई चूत में से उसका बहुत सारा वीर्य टपक रहा था. मेरे बूब्स पर उसके मुहं के लाल निशान बन गये थे और मैंने देखा तो एक काला बुढ्ढा आदमी मेरे पास पड़े हाँफ रहा था मुझे उसको अपने पास देखकर थोड़ी घिन तो जरुर आई, लेकिन मैंने अपने बदले के बारे में सोचकर खुद को बहुत दिलासा दिया.

दोस्तों यह थी मेरी चुदाई की सच्ची दास्तान, जिसमें मैंने ना चाहते हुए भी बदले की भावना में आकर अपनी चूत को कुर्बान कर दिया. मुझे अपनी मस्त वाली चुदाई की मन ही मन ख़ुशी भी थी, लेकिन चुदाई खत्म होने के बाद में थोड़ा सा दु:ख भी हुआ, लेकिन अब सोचने के क्या फायदा था वो तो अपना काम कर गया था और में उसके लंड से चुदकर अपने आप को बहुत संतुष्ट समझ रही थी. दोस्तों ऐसा सुख अगर मुझे अपने पति से पहले ही मिला होता तो में उस गंदे आदमी से अपनी चुदाई क्यों करवाती? लेकिन जो भी हुआ सब ठीक हुआ.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!