प्यासी भाभी को चुदवाना था-2

Payasi bhabhi ko chudwna tha-2

अब मैंने देखा कि वो बड़ी ही कमाल की और सेक्सी लग रही थी और उन्होंने वो ड्रेस भी बहुत सेक्सी पहन रखी थी और में जब घर में पहुंचा तो मुझे पता चला कि उस इतने बड़े घर में हम दोनों के अलावा कोई भी नहीं था और थोड़ी देर साथ में बैठकर इधर उधर की बातें करने के बाद भाभी अब मुझे अपने बेडरूम की तरफ ले गई और उसके बाद उन्होंने फ़्रीज़ से विस्की को बाहर निकालकर हम दोनों के लिए उसके दो बड़े पेग बना लिए, उसके बाद एक गिलास उन्होंने मुझे दे दिया और एक वो खुद भी पीने लगी. अब हम दोनों विस्की को पीने के साथ साथ हंसी मजाक कुछ प्यार भरी बातें भी करने लगे.

कुछ उन्होंने मुझे अपने बारे में बताया और कुछ मैंने उनसे कहा, लेकिन थोड़ी ही देर के बाद मुझे विस्की का नशा महसूस होने लगा और भाभी भी उसके नशे में आने लगी. फिर भाभी ने मुझसे कहा कि अब उनको मेरे साथ डांस करना है. फिर हम उठकर खड़े हो गए और हम दोनों एक दूसरे की बाहों में आकर डांस करने लगे. मेरे हाथ में भाभी का एक हाथ था और मेरा दूसरा हाथ उनकी भरी हुई कमर पर था और डांस करते वक़्त उसके वो बड़े आकर के रुई जैसे मुलायम बूब्स मेरी छाती के बीच में आकर दब रहे थे जिसकी वजह से मेरा नशा दुगना हो रहा था, भाभी को भी मेरे साथ बड़ा मज़ा आ रहा था. फिर वो भी नशे के साथ साथ बहुत ही जोश में थी.

अब में उसके नरम रसभरे होंठो पर चूमने और चूसने लगा और डांस करते करते में उसके बूब्स को भी अपनी छाती से दबाने घिसने लगा था, जिसकी वजह से अब भाभी पूरी तरह से मस्ती में आ गई थी उसके बाद में धीरे धीरे उसके गरम सेक्सी बदन को कपड़ो से आज़ाद करने लगा था, जिसकी वजह से थोड़ी देर में वो पूरी तरह से नंगी हो गई और वो नंगी ही मेरे साथ डांस करने लगी. फिर डांस करते वक़्त उसके गोरे गोलमटोल बूब्स क्या मस्त उछल रहे थे और यह देखकर मेरा लंड पूरा जोश में आकर तन गया.

मैंने उससे कहा कि अब आप मेरे भी कपड़े उतार दो, मेरे मुहं से इतना सुनकर उसने तुरंत ही मेरे भी सारे कपड़े उतार दिए और अब हम दोनों बिल्कुल नंगे ही एक दूसरे से चिपककर डांस करने लगे थे, जिसकी वजह से हम दोनों जोश में आकर बहुत गरम हो चुके थे. दोस्तों एक तो उस शराब का नशा और एक उससे भी ज्यादा उसके गोरे गरम नंगे जिस्म का नशा मेरे ऊपर चढ़कर मुझे दीवाना बनाये जा रहा था और में धीरे धीरे बेकाबू होता जा रहा था.

में उसको अब अपनी बाहों में ही लिपटे हुए उसके बेड पर ले गया और फिर उसको नीचे लेटाकर अब में उसके गोल गोल आकर्षक बूब्स को चूसने लगा, जिसकी वजह से वो जोश में आकर धीरे धीरे सिसकियाँ लेने लगी थी और अब में उसके निप्पल को अपने मुहं में भरकर चूसने बूब्स को दबाने के साथ साथ अब उसकी गरम चूत में अपनी ऊँगली भी डालने लगा था.

मैंने महसूस किया कि उसकी चूत एकदम चिकनी बहुत गरम और टाइट भी वो बहुत थी, जिसकी वजह से में बहुत आश्चर्यचकित था. अब मैंने अपने मुहं से उसके बूब्स को बाहर निकालकर उससे पूछा कि क्या तुमने अभी तक तुम्हारी इस चूत को पहले कभी चुदवाया है कि नहीं? यह तो मुझे किसी कुंवारी लड़की की चूत तरह महसूस हो रही है जैसे अब तक इसमें किसी का लंड गया ही ना हो?

तब उसने मुझसे कहा कि मैंने इसको पहले भी अपने पति के लंड से चुदवाया तो है, लेकिन मेरे पति का लंड तो बहुत छोटा है और वो मेरी चुदाई करते समय ज्यादा देर तक नहीं टिक पाते और वो मेरी चूत में अपना लंड डालकर करीब पांच मिनट में ही झड़कर अपना लंड बाहर निकालकर मुझे वैसे ही तड़पता हुआ छोड़ देते है और उसने मुझसे कहा कि तुम्हारा तो यह मेरे पति से भी लंबा मोटा है, आज इससे मुझे मज़ा आ जाएगा.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब में उसकी चूत में अपनी दो उँगलियों को डालकर अंदर बाहर करने लगा, उसके मुहं से हल्की हल्की आह्ह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ स्स्स्सीईई की आवाजे भी निकल रही थी और यह सब उसकी छोटी चूत की वजह से था और अब वो भी जोश में आकर मेरा लंड चूसने लगी थी. दोस्तों उसकी गरम कामुक चूत में ऊँगली करते करते मैंने महसूस किया था कि वो दो बार झड़ चुकी थी और में एक बार उसके मुहं में भी झड़ चुका था.

करीब बीस मिनट के बाद मैंने उससे कहा कि चलो अब तुम असली मज़े लेने के लिए तैयार हो जाओ. फिर उसने मुझसे कहा कि हाँ में तो कब से तुम्हारे साथ वो मज़े लेने के लिए तैयार हूँ. आज तुम मुझे बहुत जमकर चोदो मुझे वो पूरे मज़े दो, जिसके लिए में इतनी प्यासी हूँ. आज तुम मेरी इस आग को बिल्कुल शांत कर दो और चोदो मुझे, आज मेरी सारी इच्छाए पूरी कर दो और आज तुम मेरी जमकर चुदाई करो, मेरे दर्द की तुम बिल्कुल भी चिंता मत करना, चलो अब अपना वो खेल तुम शुरू करो, जिसके लिए मैंने तुम्हे यहाँ पर बुलाया है.

फिर मैंने अब उसकी वो बातें सुनकर पूरी तरह से जोश में आकर मैंने तुरंत ही उसके दोनों पैरों को अपने कंधे पर रख लिया और फिर अपने लंड को मैंने उसकी चूत के दरवाजे के सामने लाकर खड़ा कर दिया था और अब मेरा लंड उसके दरवाजे पर दस्तक दे रहा था.

मैंने एक ही ज़ोर के झटके से अपना पूरा लंड उसकी छोटी सी चूत में जबरदस्ती ठोक दिया. उसके बाद में वैसे ही रुक गया और वो उस दर्द की वजह से ज़ोर से चिल्ला पड़ी आईईईईइ माँ में मर गई स्सीईईईइ आह्ह्ह्ह मुझे बहुत दर्द हुआ और उन्होंने मुझसे कहा कि अबे साले कुत्ते गांडू थोड़ा सा धीरे डालना तू इतना ज़ोर क्यों लगा रहा है? आज रात को मुझे मेरी यह चूत अपने पति के सामने भी रखनी है, कहीं यह फट गाएगी तो में अपने पति को क्या कहूँगी और उसको क्या जवाब दूंगी?