प्रिंसिपल मेम को गर्म करके ऑफिस में पेल दिया–2

Principal mam ko gram karke office me pel diya-2

कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि मै महक और कल्पना मैडम को चोदने के लिए तड़प रहा था लेकिन उन दोनों को चोदने के लिए जगह का जुगाड नहीं हो पा रहा था।फिर कल्पना और महक मैडम ने प्रिंसिपल मेम को चोदने का प्लान बनाया। मैं प्लान के मुताबिक प्रिंसिपल मेम को चोदने के लिए गर्म करने लगा। अब कहानी आगे…………….
मैं आह आह ऊंह करता हुआ मैडम के बूब्स को दबाता जा रहा था। आह ये मैडम के बड़े बड़े रसदार बूब्स। तभी मैंने मैडम के ब्लाउज में हाथ डाल दिया और उनके बूब्स को अच्छी तरह से पकड़ लिया।मैडम अभी भी रजिस्टर में लिख रही थी।मैडम कुछ भी नहीं कह रही थी। अब मैं मैडम के बूब्स को अच्छी तरह से दबाने लगा।मैडम के बड़े बड़े बूब्स मेरे हाथो में भी नहीं आ रहे थे। तभी मैंने मैडम के बूब्स को जोर से मसल दिया। अब प्रिंसिपल मेम की चीख निकल पड़ी।उनके हाथ में से पेन छूटकर दूर गिर पड़ा। अब मेडम ने शरमा कर गर्दन नीचे कर ली।

अब मैं समझ चुका था कि मैडम कुछ कह नहीं पा रही है लेकिन उनको चूत में लंड लेना है। तभी मैंने उनकी व्हील चेयर को घुमाकर मेरी तरफ मोड़ लिया। मैडम मुझसे नजर नहीं मिला पा रही थी। तभी मैंने तुंरत मेरी टाई और शर्ट खोल दी। फिर पेंट खोल दी। अब मैंने लंड को मेरी वी शेप की अंडरवियर में डाले रखा। अब मेरा लन्ड अंडरवियर में तम्बू बनाकर मैडम के सामने खड़ा हो गया। अब मैं नीचे बैठ गया और मेडम की साड़ी और पेटीकोट को उनकी जांघो तक पूरा खिसका दिया जिससे मैडम की मोटी मोटी गुद्देदार जांघे और गौरी चिकनी चमचमाती टांगे मेरी सामने नंगी हो गई।

अब मैंने मैडम की एक टांग को मेरे कंधे पर रख लिया और उसे चूमने लगा।मैडम की कोमल टांगो को चूमने में मुझे बहुत ज्यादा मज़ा आने लगा।धीरे धीरे मेडम बहुत ज्यादा गर्म होने लगी।थोड़ी सी देर में मैंने मेडम को जांघो तक अच्छी तरह से चूम डाला। मैडम गर्म होकर बहुत ज्यादा शरमा रही थी। अब मैंने मेडम के ब्लाऊज में नीचे से हाथ डाल दिया और फिर से उनके मस्त मुलायम रसदार बूब्स को रगड़ने लगा। अब मेडम चेहरे को ऊपर करके कसमसाने लगी।उनकी गर्दन पसीने से भीगने लगी। अब मैं मैडम की गर्दन को चूमने लगा। तभी मेडम ने अधीर होकर मुझे बाहों में कस लिया और मेरी पीठ को सहलाने लगी। अब धीरे धीरे मेडम की सिसकारियां बढ़ती जा रही थी। इधर मेरे लन्ड की भी हालत खराब हो रही थी।
तभी मै खड़ा हो गया और मेडम की पीठ को नीचे झुकाकर पीछे से उनके ब्लाऊज को खोल दिया। अंदर उन्होंने ब्रा नहीं पहनी हुई थी। अब मैंने तुंरत मैडम के ब्लाउज को खोल टेबल पर रख दिया।

ओह!गजब मैडम के बड़े बड़े बूब्स नीचे लटक गए।उनके गौरे चिकने बूब्स पर हल्के भूरे रंग के निप्पल थे।मैडम के बूब्स को देखते ही मेरे मुंह में पानी आ गया।फिर क्या था मै मैडम के बूब्स पर टूट पड़ा और ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए मैडम के बूब्स को दबाने लगा।
मैडम– आह आह ओह आह आह ओह ऊंह आह।
मैं मैडम के बूब्स को जोर जोर से कसौटी पर कसने लगा। मैडम दर्द को सहन करते हुए आह आह आह ऊंह ऊंह आह ओह करने लगी लेकिन मैडम ने मुझ से कुछ नहीं कहा। मैं भी बिना कुछ कहे उन्हें बूब्स को रगड़े जा रहा था।ऑफिस में परम शांति होने के बावजूद भी यहां भयंकर आग लगी हुई थी। अब मैं मैडम के बूब्स को मुंह में दबाने लगा लेकिन मैडम के बूब्स ज्यादा बड़े होने के कारण मेरे मुंह में नहीं आ पाए।फिर भी मै बूब्स को चूसते हुए मैडम के बूब्स को मुंह में दबाने की पूरी कोशिश करने लगा। अब मैं फटाफट मैडम के बूब्स को चूस रहा था।मैडम लंबी सांस लेते हुए मेरी पीठ को सहला रही थी।
तभी मैंने मैडम के पेटीकोट में हाथ डाल दिया और उनकी पैंटी को जा पकड़ा। अब मेडम मेरे हाथ को पकड़ने लगी लेकिन उनकी कोशिश बेकार गई और मेरे हाथ ने उनकी बड़ी चूत को मुठ्ठी में भर लिया। मुझे मैडम की चूत पर बड़ी बड़ी काली झांटे महसूस हुई। अब मैं मैडम के बूब्स को चूसते हुए उनकी चूत को भीचने लगा। अब मेडम की दोनो तरफ से गांड़ फटने लगी।तभी मैंने महसूस किया कि मैडम की चूत तो पहले से ही बहुत ज्यादा गीली हो चुकी थी। तभी मैंने मेडम की चूत में दो तीन उंगलियों पेल दी। मैडम एकदम से भौखला उठी और उनकी सिसकारियां फुट पड़ी।
मैडम– आईईईई आईईईई ऊंह ओह आईईईई ऊंह ।

अब मैं मैडम के बड़े बड़े स्तनों को चूसते हुए मैडम की चूत को उंगलियों से चोदने लगा।मैडम चेयर पर बैठे बैठे कसमसाते जा रही थी।उनकी सिसकारियां बढ़ती जा रही थी।
मेडम– आह आह ऊंह ऊंह ओह आह आईईईई।
तभी मैंने मैंने मेडम को चेयर पर से उठाया और उन्हें ऑफिस की मेन टेबल पर झुका दिया। अब मैं लपालप अच्छी तरह से मैडम के बूब्स को चूसने लगा।मैडम शरमाते हुए आंखे बंद कर रहीं थी। अब तक मै मैडम के बूब्स को चूस चूस कर गीला कर चुका था।

मैं– ऊंह आह ऊंह आह ओह मज़ा आ गया मेडम।आपके बूब्स तो पूरे रसीले है।
इधर मेरे लन्ड की हालत खराब हो रही थी।
अब मैंने मेडम के रसीले होठों पर हमला बोल दिया और उन्हें ताबड़तोड़ तरीके से चूसने लगा।मैडम पागल सी होने लगी। मैं भूखे कुत्ते की तरह मैडम के होंठों की लिपस्टिक को चूसने लगा।मेडम को ज्यादा कुछ समझ में नहीं आ रहा था। वो चुपचाप आंखे बंद करके किस करवा रही थी।फिर वो मुझे बाहों में भरने लगी। अब पूरे ऑफिस में पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ अहुच आउच पुच्छ की आवाजे आने लगी। कुछ देर में ही मैंने मेडम के होंठो को पूरी लिपस्टिक को रगड़ डाला।
अब मैं थोड़ा नीचे सरका और मेडम के मखमली पेट को चूमने लगा।आह आह ओह एकदम रबड़ के जैसा पेट। मैडम के पेट पर किस करने की वजह मैडम बहुत ज्यादा मचलने लगी। तभी उनके हाथ मेरे बालों में पहुंच गए और वो मेरे बालो में हाथ डालने लगी। इधर मै लगातार मैडम की चूत को खोदता जा रहा था।
तभी मैंने मेडम को टेबल पर से उठाया और उन्हें दीवार दीवार की तरफ मुंह करके खड़ा कर दिया। अब मैंने मैडम को पीछे से दबा लिया और उनकी शानदार गौरी चिकनी पीठ पर किस करने लगा।आह! क्या पीठ थी मेडम की,एकदम गाजाराई हुई।
मैडम– आह आह आह आह्हह आऊ आउन्ह ओह।

अचानक मैंने मेडम के बूब्स को जोर से दबा दिया।मैडम एकदम से चिंहुक उठी।इधर मेरा लन्ड मैडम की गांड का छेद ढूंढ़ रहा था। अब उनकी सिसकारियां तेज होने लगीं थी। मैं कभी मेडम के बूब्स को दबाता तो कभी मैडम के पेट को रगड़ देता। मुझे मैडम को कसने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।
कुछ देर बाद मैंने मेडम की साड़ी पेटीकोट में से निकाल दी।फिर उनके पेटीकोट का नाडा खोल दिया जिससे पेटीकोट अपने आप ही नीचे गिर पड़ा। अब मैंने मेडम की चूत में उंगलियां घुसा दी।मैडम की चूत अंदर से बहुत ज्यादा गर्म हो चुकी थी। मैं मैडम की चूत को सहलाने लगा। अब मेडम बिफर पड़ी।
मेडम– आईईईई आईईईई ओह आईईईई ऊंह ओह आह।
अब मेडम की गांड़ फटने लगी।उन्हें बहुत ज्यादा दर्द हो रहा था।
मैं– आह आह ओह ऊंह मैडम। क्या मस्त चूत है आपकी।आह आह ।

मैडम– आह आह ओह आईईईई उईईई आह।
लगातार प्रहार से मैडम पागल हो उठी। अब मेडम कहां तक दर्द सहन करती।तभी मैडम का जिस्म अकड़ा और उन्होने चूत में से गरमा गर्म लावा उड़ेल दिया। अब मैंने उन्हें लावे को पैंटी में ही रगड़ दिया।
मैडम पसीने पसीने हो चुकी थी। अब मैं नीचे बैठ गया और मेडम की पैंटी को उतार दिया। अब मेडम की नंगी गांड़ मेरे लन्ड में आग लगाने लगी। उनके बड़े बड़े चूतड़ कमाल के थे। मैं उन्हें देखकर पागल हो उठा।
अब मैं उन्हें कभी सहलाता तो कभी रगड़ देता।तभी मैंने मेडम की गांड़ में उंगली घुसा दी।मेरी उंगली आराम से उंगली गांड़ में घुस गई।मुझे समझ में आ गया कि मैडम गांड़ मरवाती है।फिर मै मैडम की गांड को उंगली से चोदने लगा तो मैडम आह आह ऊंह ओह करने लगी। थोड़ी देर तक मैंने मेडम की गांड़ को रगड़ा।

अब मेरा लन्ड ज्यादा इंतजार नहीं कर सकता था। तभी मैंने मेडम को नीचे रेड कारपेट पर लेटा दिया। अब मैं मैडम के नंगे मादक जिस्म पर चढ गया। मैं फिर से मैडम के बड़े बड़े बूब्स को होंठो को चूसने लगा।मैडम मुझे बाहों में भरकर मेरी पीठ को सहलाने लगी।थोड़ी सी देर में मैंने मैडम को रगड़ डाला। अब मैंने मैडम की मोटी मोटी जांघो को पकड़ा और उनकी बड़ी सी चूत में लंड रख दिया।फिर मैंने ज़ोरदार धक्का लगाया तो मेरा पूरा लन्ड मैडम की चूत के ग्राउंड जीरो पर जा पहुंचा। मैडम दर्द से बिलबिला उठी।
मैडम– आईईईई ओह ओह आईईईई आईईईई आह्ह

अब मैं मैडम को अच्छी तरह से चोदने लगा।मुझे मैडम की बड़ी चूत में लंड ठोकने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। मेडम दर्द से तड़प रही थी।वो हाथो को इधर उधर फेकने लगी। मेरा लन्ड फूल स्पीड में मैडम की चूत की गहराई को नाप रहा था।मैडम के बूब्स ज़ोर ज़ोर से उछल कूद कर रहे थे। मैं गांड़ हिला हिलाकर कर मेडम की ताबड़तोड़ चुदाई कर रहा था।
मैं– आह आह ओह मैडम,आह मज़ा आ रहा है।आह आह।
मैडम– आह आह ओह आएईईईई आह आह ओह।

मैडम दर्द से बिलखती जा रही थी लेकिन कुछ कह नहीं रही थी। मैं तो मैडम को कसकर पेले जा रहा था।फिर कुछ ही देर में मेडम आह ऊंह आह करके झड़ गई।उनकी चूत के गर्मा गर्म लावा को मेरे लन्ड ने तहस नहस कर दिया। अब पूरे ऑफिस में फकफक चुदाई की आवाज़ आने लगी। मैडम बेहाल हो चुकी थी। उनके नाजुक, मादक, जिस्म पर पसीना बहने लगा। मैं उनको अच्छी तरह से चोद रहा था।
अब मेडम का दर्द कम होने लगा। अब मेडम धीरे धीरे आह आह ऊंह आह करती हुई चुदाई का मज़ा लेने लगी। जिस तरह से मैडम मेरे सामने सीधी साधी बनने की कोशिश कर रही थी उससे मुझे ये समझ में आ गया था मेडम बहुत ज्यादा चुदक्कड़ है।ये बिना कुछ कहे चुदाई का फूल मज़ा लेे रही है।

अब मैंने मैडम की जांघो को छोड़ा और उनके पूरे भरे पूरे बदन को बाहों में लपेट कर उनकी चूत की जबरदस्त ठुकाई करने लगा। अब मेडम ने मुझे बाहों में कस लिया और मेरी पीठ को नाखूनों से नोचने लगी। अब तक मेरा लन्ड मैडम की चूत का भोसड़ा बना चुका था। तभी मैंने मेडम को कसकर पकड़ लिया और उनकी चूत में मेरे लन्ड ने गरमा गर्म माल छोड़ दिया। मेरे लन्ड के पानी से मैडम पानी पानी हो चुकी थी। मैं पसीने पसीने होकर मैडम के जिस्म के ऊपर ही पड़ा रहा। फिर कुछ देर बाद मैं उठा और फिर से मैडम के चूत को चाटने और सहलाने लगा।धीरे धीरे मेरा लन्ड फिर से पोजिशन में आने लगा। अब मैंने फिर से मैडम की चूत पर लंड टिकाया और धड़ाधड़ मैडम को पेलना शुरू कर दिया।
मैडम– आह आह आह ऊंह ऊंह आह ओह।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मैडम की चूत पेलते पेलते मैडम की चूत फिर से पानी पानी हो गई और मेडम का भरा पूरा बदन अकड़ गया।फिर से मैडम की सिसकारियां फुट पड़ी।
फिर कुछ देर बाद मैं 69 पोजिशन में आ गया और गांड़ हिला हिलाकर मैडम के मुंह में लंड डालने लगा।मैडम बिना कुछ कहे मेरे लंड को मुंह में लपक रही थी। इधर मै मैडम की गीली गर्म चूत को चाट रहा था। फिर मै उंगलियों को चूत में अंदर तक घुसा कर मैडम की चूत के पाताल लोक को खोदने लगा। मेरी इस हरकत से मैडम की जान हलक में आ रही थी।
मैडम– आह आह आह ऊंह आह आह ओह।
लेकिन लंड मुंह में होने के कारण मैडम सही तरह से आह आह ऊंह भी नहीं कर पा रही थी।उनकी बुरी तरह से गांड़ फट रही थी। तभी मेडम की चूत ने फिर से पानी पानी कर दिया।फिर मैंने मेडम की चूत के नमकीन पानी को अच्छी तरह से पी लिया।

अब मैं मैडम के मादक जिस्म पर से उठ गया और मेडम से मेरा लन्ड चूसने के लिए कहा तो मैडम मना करने लगी।तो मैंने कहा मैडम नखरे मत करो और चुपचाप मेरा चूसो। मुझे सब पता चल गया कि आप बहुत ज्यादा चुदक्कड़ हो।
मेरी बात सुनकर मैडम ने चुपचाप मेरा लन्ड पकड़ लिया और फिर आराम से लंड चूसने लगी। मैं उनके बिखरते बालो को संवारने लगा।मैडम बहुत अच्छी तरह से मेरा लन्ड चूस रही थी। उनके लंड चूसने के तरीके से पता चल रहा था कि मैडम को लंड चूसने का लंबा चौड़ा अनुभव है।तभी मैंने मेडम के सिर को पकड़कर मेरे लन्ड को मेडम के मुंह में ठूंस दिया और मेडम के मुंह को चोदने लगा।
मैडम– आह आह आह आह ऊंह ऊंह ऊंह आह ओह।

मैं पूरे जोश में आकर मैडम के मुंह को चोद रहा था।फिर मैंने मेरे लन्ड का पूरा रस निचोड़ कर मैडम को पिला दिया। मैडम मेरे लन्ड के पूरे रस को पी गई। अब मैंने मैडम को प्रिंसिपल चेयर पर बैठाया और फिर वापस मैडम की गरमा गर्म चूत को सहलाने और कुरेदने लगा। मुझे मैडम की चूत को कुरेदने और सहलाने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। मैडम धीरे धीरे आराम से मादक सिसकारियां भर रही थी। अब तक मैडम की चूत का गुलाबी हिस्सा बाहर दिखने लग गया था। मैडम की हालत खराब हो चुकी थी। अब मेरा लन्ड फिर से मैडम की चूत की सैर करने के लिए तैयार था।

अब मैंने मैडम को चेयर पर से उठाया और खुद चेयर पर बैठ गया। अब मैंने मैडम को मेरे लन्ड पर बैठा लिया और फिर मैडम की चूत में लंड फंसाकर मैडम के बूब्स को दबाने और चूसने लगा। अब मेडम की गरमा गर्म सांसे मेरी सांसों से टकरा रही थी।मैडम नज़रे इधर उधर करके चूत में लंड ठुकवा रही थी। मैडम को इस तरह से चोदने में मुझे बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।
कुछ देर तक ऐसा करने के बाद मैंने मेडम को फिर से रेड कारपेट पर पटका और लपालप उनकी चूत के परखच्चे उड़ाने लगा।फिर मैडम की चूत को मेरे लन्ड के पानी से भरकर लंड को शांत किया। अब तक मै और मैडम बुरी तरह से थक चुके थे। हम पसीने से लथपथ होकर ऑफिस के रेड कारपेट पर पड़े हुए थे।फिर कुछ देर बाद हम होश में आए और मै मैडम के जिस्म पर से उठ गया। अब मेडम उठकर पैंटी पहनने लगी तो मैंने मैडम की पैंटी पकड ली।

मैडम– रोहित अब तो पहनने दे ना।मुझे कुछ काम करना है।
मैं– आपको काम करना है तो आओ काम कर लो।
अब मैं मैडम को हाथ पकड़कर चेयर पर के आया और खुद चेयर पर बैठकर प्रिंसिपल मैडम को मेरे लन्ड पर बैठा लिया। अब मेडम रजिस्टर में फिर से लिखनी लगी। मैं आराम आराम से मैडम के बड़े बड़े बूब्स का मज़ा लेने लगा।इधर मेरा लन्ड मैडम की गांड के छेद से टकराने लगा।
मैडम– रोहित प्लीज ये बात किसी को मत बताना।
मैं– मेम आप चिंता मत करो मै किसी को नहीं बताऊंगा लेकिन अब मैं अगर किसी को स्कूल में चोदु तो आप चोदने देना।
मैडम– लेकिन तू किसको चोदना चाहता है?
मैं– मेम, महक और कल्पना मैडम को।

मैडम– बहुत मस्त माल पर हाथ मारा है तूने। ठीक है चोद लेना। मुझे कोई दिक्कत नहीं है।लेकिन तू जो भी करे उसका पता किसी और को नहीं चलना चाहिए।
मैं– नहीं चलेगा मेडम।
अब मेडम ने काम खत्म किया।फिर मैंने मेडम को एक बार और पेल डाला। अब मैंने मैडम को पैंटी और ब्लाउज पहनाया।फिर पेटीकोट को पहनाकर नाडा बांध दिया। मेरी मैडम की गांड मारने की इच्छा हो रही थी लेकिन बुरी तरह से थकने के कारण मै खुद तैयार नहीं हुआ। अब मेडम साड़ी पहनकर तैयार हो गई। अब मैंने भी मेरी यूनिफॉर्म पहन ली।

आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं– [email protected]

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!