प्यासा दिल प्यासी रात-2

(Pyasa dil pyasi raat-2)

मेरा हाथ अचानक ही उसके लण्ड से टकरा गया। उसका तनाव का अहसास पाते ही मेरे रोंगटे खड़े हो गये। मेरे चूत की कुलबुलाहट बढ़ने लगी। उसके हाथ अब मेरे सीने पर रेंगने लगे। मेरी सांसे बढ़ चली। वो भी उत्तेजना में गहरी सांसे भर रहा था। मैं अतिउत्तेजना के कारण अपने आप को उससे दूर करने लगी। मुझे पसीना छूटने लगा। मैं एक कदम पीछे हट गयी।

“भाभीऽऽऽ …….. मत जाओ प्लीज्….” वह आगे बढ़ कर मेरी पीठ से चिपक गया। उसका एक हाथ मेरे पेट पर आ गया। मेरा नीचे का हिस्सा कांप गया। मेरा पेट कंपकंपी के मारे थरथराने लगा। मेरी सांसे रुक रुक कर निकल रही थी। उसका हाथ अब मेरी चूत की तरफ़ बढ़ चला। मेरे पेटीकोट के अन्दर हाथ सरकता हुआ मेरी चूत के बालों पर आगया। अब उसने तुरन्त ही मेरी चूत को अपने हाथों से ढांप लिया। मैं दोहरी होती चली गयी। सामने की ओर झुकती चली गयी। उसका लण्ड मेरी चूतड़ों कि दरार को रगड़ता हुआ गाण्ड के छेद तक घुस गया। मैं अब हर तरफ़ से उसके कब्जे में थी। वह मेरी चूत को दबा रहा था। मेरी चूत गीली होने लगी थी।

“राज्…. हाऽऽऽय रे…….. मेरे राम जी…. मैं मर गई !” मैंने उसका हाथ नहीं हटाया और वो ज्यादा उत्तेजित हो गया।

“भाभी…. आप कितनी प्यारी है….” मैंने जब कोई विरोध नहीं किया तो वह खुल गया। उसने मुझे अब जकड़ लिया। मेरे स्तनो को अपने कब्जे में लेकर होले होले सहलाने लगा। उसके प्यार भरे आलिंगन ने और मधुर बातों ने मुझे उत्तेजना से भर दिया। जिस प्यार भरे तरीके से वो ये सब कर रहा था…. मैंने अपने आपको उसके हवाले कर दिया। मेरा शरीर वासना के मारे झनझना रहा था। उसका लण्ड मेरी गाण्ड के छेद पर दस्तक दे रहा था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Chocolate Kiss To Indian Bhabhi From Spain

“तुम मुझे प्यार करते हो….!” मैंने वासना में उसे प्यार का इज़हार करने को कहा।

“हां भाभी…. बहुत प्यार करता हूं….तब से जब मैं आपसे पहली बार मिला था !”

“देखो राज……..ये बात किसी को नहीं बताना…. मेरी इज्जत तुम्हारे हाथ में है…. मैं बदनाम हो जाऊंगी…. मैं मर जाऊंगी….!” मैंने उस पर अपना जाल फ़ेंका।

“भाभी…. मैं मर जाऊंगा….पर ये भेद किसी को नहीं कहूंगा….” मेरी विनती से उसका दिल पिघल उठा।

“तब देरी क्यूं…. मेरा पेटीकोट उतार दो ना…. अपने पजामे की रुकावट हटा दो….” मुझसे अब बिना चुदे रहा नहीं जा रहा था। उसने मेरे पेटीकोट का नाड़ा खोल डाला और पेटीकोट अपने आप नीचे फ़िसल गया। उसका लण्ड भी अब स्वतन्त्र हो गया था।

“भाभी…. आज्ञा हो तो पीछे से शुरु करू…. तुम्हारी प्यारे प्यारे गोल गोल चूतड़ मुझे बहुत पसन्द है….” उसने अपनी पसन्द बिना किसी हिचक के बता दी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

“राऽऽऽज…. अब मैं तुम्हारी हू…. प्लीज़ अब कहीं से भी शुरू करो…. पर जल्दी करो…. बस घुसा दो….” मैंने राज से अपनी दिल की हालत बयां कर दी।

“भाभी…. जरा मेरे लण्ड को एक बार प्यार कर लो और थूक लगा दो….” मैंने प्यार से उसे देखा और नीचे झुक कर उसका लण्ड अपने मुंह में भर लिया…. हाय राम इतना मस्त लण्ड !…. वो तो मस्ती में फ़नफ़ना रहा था। मैंने उसका सुपाड़ा कस के चूस लिया। और फिर ढेर सारा थूक उस पर लगा दिया। अब मैं खड़ी हो गयी…. राज के होंठो के चूमा…. और अपने चूतड़ उघाड़ कर पीछे निकाल दी। मेरे गोरे चूतड़ हल्की रोशनी में भी चमक उठे। मैंने अपनी चूतड़ की प्यारी फ़ांके अपने हाथों से चीर दी और गाण्ड का छेद खोल कर दे दिया। मेरे थूक से भरा हुआ उसका लण्ड मेरी गाण्ड के छेद पर आ टिका। मैंने हल्का सा गाण्ड का धक्का उसके लण्ड पर मारा। उसकी सुपारी मेरे गाण्ड के छेद में फ़ंस गयी। उसके लण्ड के अंदर घुसते ही मुझे उसकी मोटाई का अनुमान हो गया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी ने कहा कि तुम बड़े शैतान हो-2

“राज…. प्लीज…. चलो न अब…. चलो….करो ना !” पर लगा उसे कुछ तकलीफ़ हुई। मैंने पीछे जोर लगाया तो उसने भी लण्ड को दबा कर अंदर घुसेड़ दिया। पर उसके मुख से चीख निकल गयी।

“भाभी…. लगती है…. जलता है….” मुझे तुरन्त मालूम हो गया कि उसने मुझे ही पहली बार चोदा है। उसके लण्ड की स्किन फ़ट चुकी थी। मेरा मन खुशी से भर उठा। मुझे एक फ़्रेश माल मिला था। एक बिलकुल नया लण्ड मुझे नसीब हुआ था। मेरे पर एक नशा सा चढ़ गया।

“राजा…. बाहर निकाल कर धक्का मारो ना…. देखो तो मेरा मन कैसा हो रहा है। ऐसी जलन तो बस दो मिनट की होती है….” मैंने उसे बढ़ावा दिया।

उसने मेरा कहा मान कर अपना लण्ड थोड़ा सा निकाल कर धीरे से वापस घुसेड़ा। फिर धीरे धीरे रफ़्तार बढ़ाने लगा। मैं उसका लण्ड पा कर मस्त हो उठी थी। मैंने अपने दोनो हाथ छत की मुंडेर पर रख लिये थे और घोड़ी बनी हुई थी। मैंने अपने दोनो पांव पूरे खोल रखे थे। चूतड़ बाहर उभार रखे थे। राज ने अब मेरे बोबे अपने हाथों में भर लिये और मसलने लगा। मैं वासना के मारे तड़प उठी। उसे लण्ड पर चोट लग रही थी पर उसे मजा आ रहा था। उसके धक्के बढ़ते ही जा रहे थे। उत्तेजना के मारे मेरी चूत पानी छोड़ रही थी। अचानक उसने अपना लण्ड बाहर निकाल लिया…. और मेरी तरफ़ देखा। मैं उसका इशारा समझ गयी। मैं बिस्तर पर आ कर लेट गयी।

“भाभी…. आप बहुत प्यारी है….सच बहुत मजा आ रहा है…. जिन्दगी में पहली बार इतना मजा आया है….” मुझे पता था कि जब पहली बार किसी चूत में लण्ड जायेगा तो ….मजा तो नया होगा…. इसलिये आत्मा तक तो आनन्द मिलेगा। और फिर मेरी तो जैसे सुहाग रात हो गयी…. कई दिनों बाद चुदी थी। फिर कितने ही दिनों से मन में चुदने कि इच्छा थी। किस्मत थी कि मुझे नया लण्ड मिला।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  सेक्सी आंटी की पुरानी भूख मिटाई

राज मेरे पास बिस्तर पर आ गया। मैंने अपनी दोनो टांगे ऊपर उठा दी और चूत खोल दी। राज ने आराम से बैठ कर अपना लण्ड हाथ से घिसा और हिला कर चूत के पास रख दिया। मैं मुस्कुरा उठी…. उसे ये नहीं पता था कि लण्ड कहां रखना है…. मैंने उसका लण्ड पकड़ कर चूत पर रख दिया।

“राजा…. नये हो ना…. तुम्हे तो खूब मजा दूंगी मै….आ जाओ…. मुझ पर छा जाओ….” मैंने चुदाई का न्योता दिया।

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!