रेखा- अतुल का माल-2

(Rekha Atul Ka Maal-2)

सरीना अतुल से बोली- अतुल जी, रेखा गाण्ड मरवाने को तैयार है। आप उसकी गाण्ड प्यार से मारिएगा। अकेले आप गाण्ड नहीं मार पाएंगे। रेखा आपकी बीवी तो है नहीं, इसलिए अपने माल का मज़ा राजीव जी को देंगे तभी आप गाण्ड मारने में सफल हो पाएंगे और एक बार आपने औरतों की गाण्ड मारना सीख ली तो आप कई औरतों को खुश कर सकते हैं।

अतुल सरीना से धीरे से बोला- कुतिया को कोई भी चोद दे, मुझे कोई दिक्कत नहीं ! लेकिन मुझे आज गाण्ड मारना सीखना है क्योंकि मैंने अपने दो दोस्तों की बीवियों को बताया हुआ है कि मैं गाण्ड मारने का खिलाड़ी हूँ और उनमें से एक की दो दिन बाद मुझे गाण्ड मारनी है, दूसरी अगले महीने जब मेरा दोस्त सिंगापुर जाएगा, तब मरवाएगी। अगर मैं उनकी गाण्ड नहीं मार पाया तो मैं किसी को मुँह नहीं दिखा पाऊँगा।

सरीना बोली- मैं आपको गाण्ड का खिलाड़ी बना कर भेजूँगी। आप जब रेखा की गाण्ड मारें तब राजीव जी उसे लौड़ा चुसवाएंगे।

सरीना ने हमें कुछ बातें सिखाईं, अब रास्ता साफ़ था, अतुल के माल रेखा को अब मैं बजा सकता था।

हम सब लोग कमरे में आ गए।

सरीना रेखा से बोली- आप अतुल का लण्ड धीरे धीरे चूसें, साथ ही साथ राजीव आपकी चूत को चोदेगा। दो-दो लण्डों का मज़ा जब आप लेंगी तो गाण्ड मरवाने में दिक्कत नहीं आएगी।

अतुल ने अपना लण्ड रेखा के मुँह में डाल दिया। मैंने रेखा की चूत अपनी 3-4 उँगलियों से सहलानी शुरू कर दी, उसकी चूत के दाने पर मेरी रगड़ तेज होती जा रही थी। हम तीनों सेक्स का आनन्द ले रहे थे।

एक मिनट के बाद रेखा लण्ड मुँह से बाहर निकालते हुए बोली- चोदिये ना ! बहुत खुजली हो रही है।

सरीना इसी का इंतजार कर रही थी, बोली- राजीव जी, अब इसकी चूत फाड़ दीजिए।

मैंने बिना देर किये रेखा की गीली चूत में अपना लण्ड घुसा दिया। सरीना के कहे अनुसार चूचियाँ दबाते हुए तेज धक्कों के साथ मैंने रेखा को चोदना शुरू कर दिया था। अतुल ने सरीना के इशारे पर अपना लण्ड निकाल लिया था।

रेखा की चूत में आज पहली बार आठ इंची मोटा लण्ड घुसा था, वो ऊई आह ! मर गई ! फट गई ! की आवाज़ करती हुई मुझसे चुद रही थी।

सरीना अतुल से बोली- अब इसकी चुदाई के बाद आप इसकी गाण्ड में अपना लण्ड पेलना। मोटे लण्ड से चुद रही है अब इसे गाण्ड में दर्द भी कम लगेगा।

रेखा को कुछ देर चोदने के बाद मैंने सरीना के इशारे पर लण्ड बाहर निकाल लिया सरीना ने मेरा लण्ड रेखा की गाण्ड पर छुला दिया और बोली- राजीव जी थोडा सा इसकी गाण्ड में ठोक कर अपने वीर्य से इसकी गाण्ड भर दो !

मैंने रेखा की गाण्ड में लण्ड घुसा दिया। मैं प्यार से उसकी गाण्ड ठोंक रहा था रेखा दर्द से चिल्लाने लगी थी बड़ी मुश्किल से एक इंच मेरा मोटा लण्ड घुसा होगा। उसके बाद मेरे 2-3 छोटे धक्कों के बाद रेखा की गाण्ड वीर्य से नहा गई। इसके बाद एक गीले कपड़े से मैंने अपना लण्ड पौंछा और सरीना के पास बैठ गया। रेखा बिस्तर पर उल्टी लेट गई थी। उसके चेहरे से चुदाई की ख़ुशी दिख रही थी। उसकी गाण्ड में अंदर तक मेरा वीर्ये घुसा हुआ था।

पाँच मिनट के आराम के बाद सरीना ने रेखा के बालों पर हाथ फिराया और बोली- चलो उठो और अब अपनी गाण्ड अपने यार से फटवाओ ! आज रात मज़े की रात है !

रेखा को कोहनी के बल सरीना ने लिटाया और उसके मुँह में पहले मेरा लण्ड डलवा दिया और रेखा को धीरे धीरे लण्ड के आगे के हिस्से को चूसने को कहा। कुछ देर बाद सरीना के इशारे पर मेरा लण्ड अंदर तक उसके मुँह में चलने लगा। अतुल ने रेखा की गाण्ड पर लण्ड छुला दिया था। २ इंच के करीब रेखा की गाण्ड पहले ही फाड़ दी गई थी और मेरे वीर्ये से रेखा की गाण्ड चिकनी भी हो रही थी इसलिए अतुल का पाँच इंची लण्ड आधे से ज्यादा घुस गया था। मैंने थोड़ी देर के लिए लण्ड निकाल लिया और उसकी चूचियाँ दबाते हुए उसे कस कर पकड़ लिया अतुल धीरे धीरे रेखा की गाण्ड ठोक रहा था, रेखा चिल्ला रही थी, उसकी आँखों से पानी गिर रहा था, मेरी पकड़ मजबूत थी इसलिए वो लण्ड निकाल नहीं पा रही थी।

सरीना चिल्ला रही थी- साली रंडी ! अंदर लेने की कोशिश कर ! बाहर क्यों निकाल रही है?

सरीना ने उसके बाल कस कर खींचना शुरू कर दिए और अतुल पर चिल्लाते हुए बोली- थोड़ा सा बच रहा है, जल्दी घुसा दे।

अतुल पूरी ताकत से लण्ड अंदर पेलने लगा थोड़ी देर में अतुल का पाँच इंची लण्ड पूरा गाण्ड में घुसा हुआ था। सरीना ने रेखा के बाल अब सहलाने शुरू कर दिए और बोली- अब तेरी गाण्ड में पूरा घुसा हुआ है, आराम से गाण्ड मरवा और मज़े कर ! शुरू में सबके दर्द होता है। राजीव जी का लण्ड तेरे मुँह के आगे है मन करे तो चूस लियो, दुगना मज़ा आएगा।

अतुल ने धीरे धीरे उसकी गाण्ड गोदनी शुरू कर दी थी। रेखा हूँ हूँ की सिसकारी भर रही थी। थोड़ी देर में अतुल ने गाण्ड बजाना शुरू कर दिया अब रेखा की गाण्ड अच्छी तरह बज रही थी, रेखा की चिल्लाने की आवाजें गूँज रही थी। रेखा मस्ती से गाण्ड मरवा रही थी और चिल्ला रही थी। मेरा लण्ड रेखा के मुँह के आगे उछालें मार रहा था।

सरीना ने मुझे इशारा किया और बोली- अब साली को मसल दो।

मैंने आगे बढ़कर लण्ड मुँह में डाल दिया और उसकी चूचियों को कस कस कर हाथों से दबाने लगा। अब रेखा की गाण्ड गुद रही थी और मुँह में मेरा लण्ड चल रहा था। चूचियों की मालिश और चुचूक नोचते हुए मैं उसको अपना लण्ड चुसवा रहा था, रेखा को बहुत मज़ा आ रहा था।

मैंने थोड़ी देर के लिए लण्ड बाहर निकाल लिया और उसके मुँह के आगे खड़ा कर दिया तो रेखा बोली- ऊह ऊहं ! मत निकालो !

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

और उसने आगे बढ़कर फिर मुँह में लण्ड डाल लिया। सरीना दूर से रेखा की गुदती गाण्ड और लण्ड चुसाई का मज़ा ले रही थी।

सरीना बोली- राजीव जी, इसने लण्ड चूस तो बहुत लिया अब इसके मुँह में प्यार से लण्ड ठोक दो, बेचारी चूस चूस कर थक थक गई होगी।

मैंने रेखा के बाल पकड़े और धीरे धीरे उसके मुँह में लण्ड पेलना शुरू कर दिया। इधर अतुल प्यार से धीरे धीरे उसकी गाण्ड ठोके जा रहा था। बीच में अतुल बोला- सरीना जी मज़ा आ गया। रेखा की गाण्ड और मुँह दोनों में चुदाई चल रही थी, सरीना ने मेरी गाण्ड में ऊँगली की, मैंने लण्ड बाहर निकाल लिया।

रेखा पगला रही थी, बोली- और करो, मत निकालो ! ऊई ऊई मारो ! बड़ा मज़ा आ रहा है।

सरीना ने अतुल से कहा- अब साली की फाड़ दो ! पूरी गरम है !

सरीना ने टीवी चला दिया था, अतुल ने सरीना जी के इशारे पर लण्ड पूरी ताकत से रेखा की गाण्ड में ठोंक दिया रेखा पागलों की तरह चिल्ला रही थी- ऊह, आह ! मर गई ! फट गई ! निकालो निकालो !

लेकिन गाण्ड रेखा की अतुल ने गोदनी जारी रखी। रेखा पलंग पर फिसल गई अतुल उसकी कमर कस के पकड़ा हुआ था उसने रेखा की गाण्ड मारने की स्पीड तेज कर दी। रेखा चिल्लाए जा रही थी- छोड़ो मर गई ! अब नहीं ! फट गई ! मादरचोद ! निकाल कुत्ते ! मर जाऊँगी।

सरीना बोली- अब कुतिया की गुदी है !

अतुल की गाण्ड पर चोट जारी थीं, कुछ देर बाद सरीना ने अतुल से कहा- अतुल जी। प्यार से !

अब अतुल धीरे हो गया था, रेखा के बाल सहलाते हुआ सरीना ने कहा- रेखा, तुम एक बार फिर राजीव जी का लण्ड चूसो !

मैंने रेखा के मुँह में लण्ड घुसा दिया। उधर अतुल रेखा की गाण्ड चोद रहा था और रेखा मेरा लौड़ा लोलीपोप की तरह चूस रही थी। दो मिनट बाद अतुल ने अपने वीर्य की पिचकारी रेखा की गाण्ड में छोड़ दी और अपना लण्ड कुछ ही देर बाद बाहर निकाल लिया। रेखा की गाण्ड लण्ड से फट चुकी थी। यह सब देखकर मैं पूरा उत्तेजित था, मैंने भी अपनी पिचकारी रेखा के मुँह में छोड़ दी, रेखा का पूरा मुँह वीर्य से भर गया, उसने मेरा लण्ड रस पलंग पर उलट दिया और सीधी होकर पलंग पर बेसुध होकर लेट गई। अतुल भी बेसुध हो रहा था, मेरा लण्ड खाली हो गया था लेकिन मुझे लग रहा था कि मुझे रेखा की गाण्ड और चोदनी चाहिए।

मेरा लण्ड चुदी हुई रेखा को देखकर दुबारा खड़ा हो रहा था।

सरीना बोली- रेखा और अतुल, आप आराम करिए मैं और राजीव आपके लिए अनार का जूस लाते हैं।

मैं और सरीना जूस लेने बाहर आ गए।

कहानी जारी रहेगी