सहेली के यारों से चुद गई मैं-1

(Saheli Ke Yaron Se Chud Gai mai-1)

हेलो, मैं नेहा उत्तर प्रदेश के एक शहर से हूँ। मैं 20 साल की एक खूबसूरत लड़की हूँ, मैं ग्रेजुएट हूँ, मेरे पापा का बिज़नेस है, वो दिल्ली में मेरी माँ और छोटी बहन के साथ रहते हैं, मेरी बहन मुझसे 3 साल छोटी है।

मैं कानपुर में अकेली रहती हूँ, यहाँ भी अपना मकान है। पापा से पढ़ाई के साथ पूरा खर्च पानी का पैसा मिलता रहता है जिस वजह से मुझे कोई चिंता नहीं रहती और बिंदास रहती हूँ और ऐश करती हूँ।

मेरी एक सहेली है अंजलि… मैं और वो ख़ूब ऐश करते हैं, हम दोनों ने बहुत से लड़के पटा रखे हैं ऐश करने के लिए और अपना काम बनाने के लिए।

बात आज से दो साल पहले की है जब मैं 18 साल की थी। मैं अकेली रहती थी तो अक्सर अंजलि मेरे घर आ जाती थी रात को रहने। अंजलि के दो ख़ास यार थे अमित और राज… अंजलि अक्सर उन दोनों से अपनी चुदाई करवाती थी जो मुझे भी पता था।

अंजलि अक्सर मेरे घर का बहाना बना कर उन दोनों से चुदवाती थी। वैसे मैं भी फ़्लर्ट बहुत करती थी पर चुदवाया नहीं था।
हम दोनों लड़कियों का फिगर बहुत मस्त है और हम दोनों देखने भी बहुत सुन्दर हैं मेरी हाइट 5’6″ है और अंजलि 5 ‘5″ की है।
मेरा फिगर 34-28-34 है और अंजलि भी कुछ ऐसी ही है।
अक्सर हम दोनों मेरे घर पर डिलडो से मज़े लेते रहते हैं। उसकी चूत और गांड तो लंड से चुद कर मस्त हो चुकी है और मेरी उसने डिलडो घुसा कर दोनों मस्त कर दी है।

एक रात अंजलि अपने दोनों दोस्तों को मेरे घर लेकर आई और एक कमरे में चली गई।
रात मैंने खिड़की से देखा तो तीनो नंगे होकर एक दूसरे से चिपके थे। अमित के ऊपर अंजलि चढ़ी थी और गपागप लंड अन्दर बाहर ले रही थी।
फिर धीरे से राज ने अपना लंड अंजलि की गांड में डालना शुरु किया, अंजलि की हल्की चीख निकल गई।
थोड़ी ही देर में दोनों लंड आराम से अन्दर बाहर जाने लगे, अब तीनों को मज़ा आने लगा था।
यह कहानी आप HotSexStory.xyz पर पढ़ रहे हैं !

यह सब देख कर तो मेरी चूत में भी खुजली होने लगी थी, मैं चूत में ऊँगली घुसाने लगी थी, मुझे भी मज़ा आने लगा था, शायद अंजलि ने मुझे खिड़की के बाहर देख लिया था, पर वो कुछ बोली नहीं।
मैं भी अपने कमरे में आकर डिलडो को अन्दर बाहर करके अपनी गर्मी शांत करके सो गई।

सुबह राज और अमित चले गए तो अंजलि ने मुझे जगाया और बोली- की अन्दर आ कर सामने से सब कुछ देखती तो और मज़ा आता!

पर मैंने कुछ जवाब नहीं दिया।
अंजलि ने शायद अपने दोस्तों को यह बात बताई होगी। उसके दोस्त अब अंजलि से कहने लगे कि वो दोनों मुझे चोदना चाहते हैं तो अंजलि मुझे इस बात के लिए राजी करे।

अंजलि ने मुझे सीधे कहा- अमित और राज तुझे चोदना चाहते हैं…

मेरा मन होते हुए भी मैंने उसे डर की वजह से मना कर दिया। वैसे अमित और राज से चुदवाने का मन तो मेरा भी करता था पर एक डर था जो मुझे रोक रहा था।
जब उनकी बात नहीं बनी तो उन्होंने मुझे झूठ बोल कर राज़ी करने की कोशिश की। अंजलि मुझसे बोलीइ अमित के यहाँ पार्टी है और तुझे भी बुलाया है। राज को लेकर सिर्फ 4 लोग ही होंगे पार्टी में।

पहले तो मैंने मना किया कि मुझे इस चुदाई पार्टी में नहीं जाना… पर अंजलि ने कहा कि सिर्फ पार्टी है और ऐसा कुछ भी नहीं होगा।
बहुत समझाने पर मैं राज़ी हो गई, तय दिन हम दोनों वहाँ पहुँच गई।
अंजलि ने शार्ट केपरी और स्लीवलेस टीशर्ट पहनी थी और मैंने शोर्ट स्कर्ट और स्लीवलेस टॉप पहना था।
मेरी स्कर्ट और टॉप थोड़ी झीने कपड़े की थी जिससे मेरी काली ब्रा और पैंटी साफ़ दिख रही थी।

वहाँ पहुँच कर राज और अमित ने हम दोनों की ख़ूब खातिर की, दोनों मुझे खा जाने वाली नज़रों से घूर रहे थे।
मुझे कुछ शक हुआ पर उस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया और पार्टी के मज़े लेने लगी।
वो तीनों डांस करने लगे, अमित आगे से और राज पीछे से अंजलि के चिपक गया और नाचते हुए उसके दूध और चूत और गांड पर हाथ लगाने लगे।

अब तो मुझे गड़बड़ लगी और मैं जाने के लिए उठी तभी दोनों लड़कों ने अंजलि को कुछ बोला तो वो मुझसे बोली- लो एक सॉफ्ट ड्रिंक तो पी लो।
कुछ सोच कर मैंने ड्रिंक पी ली, अब मुझे हल्का सा नशा होने लगा, शायद उसमें कुछ नशा मिला कर मुझे पिलाया था।
अब तीनों नाचते हुए अपने कपड़े उतारने लगे, राज और अमित ने अंजलि की केपरी और टीशर्ट उतार दी, और ब्रा और पेंटी के ऊपर से ही उसके बड़े बड़े दूध और चूत दबाने और मसलने लगे, अंजलि भी मस्ती में आकर उनकी पैंट उतारने लगी।

मैंने फिर जाने की कोशिश की तो मुझे यह कह कर रोका कि वो मेरे साथ कुछ नहीं करेंगे, मैं बस देख कर मज़े ले लूँ।

मस्ती की वजह से मैं फिर बैठ गई और उन्हें देखने लगी।

वो तीनों फिर बिजी हो गए, अब राज पीछे से और अमित आगे से अंजलि के चिपक गया। राज ने ब्रा खींच कर उतार दी और अमित ने आगे से उसकी पेन्टी उतार दी।
फिर अंजलि ने एक एक कर के दोनों को पूरा नंगा कर दिया और मेरे सामने ही राज पीछे से अंजलि की गांड चूसने लगा और अमित उसके दूध… अमित ने एक दूध मुँह में लिया और दूसरे हाथ से उसका दूसरा निप्पल दबाने लगा।अंजलि के निप्पल मेरी ही तरह बड़े बड़े हैं।

ये सब देख कर मेरे मुख से भी आह उह की आवाजें आने लगी और न चाहते हुए भी मेरे हाथ मेरे उरोजों पर नाचने लगे।
उधर राज अब अंजलि के होंठ चूस रहा था और अमित उसकी चूत में ऊँगली घुसाए हुए जीभ से चूस भी रहा था।
अंजलि मस्ती में चिल्ला रही थी ‘आह आ आ ह ह ह उह उह उह’ कर रही थी और उनके लंड हिला रही थी।

फिर अंजलि नीच बैठ गई और बारी बारी से दोनों का लंड मुँह में अन्दर तक ले कर मज़े से चूसने लगी।
दोनों लड़के मुझे खा जाने वाली निगाहों से घूर रहे थे।
अब मैं भी मस्ती में आकर अपनी पेंटी नीचे कर के अपनी ऊँगली चूत में घुसाने लगी और दूसरे हाथ से अपने दूध दबाने लगी, अपने टॉप के दो ऊपर के बटन मैंने खोल दिए जिससे उनको मेरे दूध और चूत की थोड़ी झलक मिल रही थी और इसी वजह से अमित अपना लंड जोर से अंजलि के मुँह में पेल रहा था और राज ने ऊँगली जोर से अंजलि की गांड में घुसा दी।

अंजलि बोली- लो सालो रण्डीबाजो, तुम्हारे लिए मैं अपनी सबसे प्यारी सहेली को ले आई बहला कर… अब वो गर्म हो रही है, चोद लेना उसे।

अमित बोला- हाँ मेरी जान अब नेहा को भी आज रंडी बना कर चोदेंगे हम दोनों… पहले वो तेरी चुदाई देख कर गर्म तो हो ले।

मुझे भी उनकी बातों में मज़ा आने लगा था अब, मेरा एक पानी निकल चुका था, वो दोनों ये सब देख रहे थे।

अंजलि को बिस्तर पर लिटा कर दोनों उसके ऊपर चढ़ गए और एक एक दूध मुँह में लेकर चूसने लगे और अमित ने एक ऊँगली उसकी चूत में डाल दी।
तीनों अब पूरी तरह से मस्ती में आ चुके थे।
अब अमित ने अपना लंड अंजलि की चूत पर रगड़ना शुरु किया, अंजलि पूरी तरह मस्तिया गई थी। फिर जब अमित का लंड चूत के पानी से थोड़ा गीला हो गया तो एक ही झटके में अमित ने अपना लंड अंजलि की चूत में घुसा दिया।
अंजलि की तो चीख ही निकल गई, अंजलि बोली- साले कुत्ते बहनचोद धीरे घुसा।

उसकी यह भाषा सुन कर मैं तो दंग ही रह गई क्यूंकि मैंने कभी अंजलि को ऐसी गाली देते कभी नहीं सुना था।
पर अमित रुका नहीं और दो झटकों में ही पूरा लंड अन्दर करके उसे पूरी रफ़्तार में चोदने लगा।
राज ने तब तक अपने लंड अंजलि के मुंह में पूरा अन्दर तक घुसा दिया था और अन्दर बहार कर रहा था।
अब अंजलि मस्त हो कर चुदवा रही थी।

अमित और राज अब हम दोनों को गालियाँ दे कर बात कर रहे थे जिससे अंजलि और मुझे भी मस्ती आ रही थी।
राज कह रहा था- अंजलि… आज तेरी सहेली नेहा को भी तेरी ही तरह रंडी बना कर चोदेंगे, साली मादरचोद लाइन नहीं देती थी।
अमित भी बोला- आज इस बहन की लौड़ी को रण्डी कुतिया बना कर चोदेंगे।

तभी राज बेड पर लेट गया और अंजलि अपने ऊपर आने को बोला, अंजलि उसके ऊपर आकर बैठ गई और अपने हाथों से राज का 7 इंच का लौड़ा पकड़ कर अपनी चूत में लेकर उसके ऊपर बैठ गई।
राज का 7 इंच का लंड पूरा उसकी चूत में घुस गया, वो मज़े ले कर राज को चोदने लगी।
अमित ने तुरंत अंजलि की गांड में थूक लगा कर ऊँगली घुसाना शुरु कर दिया। अब तो अंजलि पागल कुतिया की तरह चिल्लाने लगी बोली- साले मादरचोदों जोर से मुझे दोनों तरफ से चोदो। साले हरामी अमित, डाल अपना 8 इंच का लौड़ा मेरी गांड में।

अब अमित ने भी बिना देर किये उसकी गांड में अपना लौड़ा घुसेड़ना शुरु किया। अमित ने थूक से पहले ही अपना लंड और अंजलि की गांड दोनों चिकनी कर लिया था तो थोड़ी ही देर में अमित का लंड अंजलि की गांड में सेट हो गया।
अब अंजलि सैंडविच बनी अपनी चूत और गांड मरवा रही थी।
कहानी जारी रहेगी।

Loading...