समधी समधन का प्यार; बड़ी बड़ी गुलाबी चूचिया चूसी 😍

Samdhan ki chudai kahani

मेरा नाम अनुपमा है मैं 40 साल की जवान औरत हु मैं दिल्ली की रहने वाली हु दिखने में अकर्षक हु बड़े बड़े बूब्स मस्त गाड़ है स्टोरी पर आरी हु।

मेरे घर में मैं और मेरे पति विनोद जो 41 साल के है मेरी एक बेटी निर्मला 20 साल की है वो भी जवान हो चुकी है मेरे जेठ जेठानी मेरे घर के बगल में रहते है जेठ का नाम प्रेम है हो 42 साल के है मेरी जेठानी कंचन 41 साल की है वो भी बहुत सेक्सी औरत है तने हुवे बूब्स है उनके कोई बच्चा नही है।

ये बात 1 साल पहले की जब मेरी बेटी का रिश्ता आया फिर उसकी शादी भी हो गयी अब घर में मैं और मेरे पति ही रह गए एक दिन मैं ब्लाउज पेटीकोट में थी तभी पति देव का मूड बन गया उन्होंने बीच अगन में मुझे चोद दिया मैं भी मस्ती में चुदवाती थी इसी तरह जिंदगी कट रही थी।

एक दिन मेरे समधी जी ने हमे अपने घर बुलाया मैं और मेरे पति उनके यहाँ पहुँच गए मैने उस वक्त सिल्क साड़ी और लो कट ब्लाउज पहना हुवा था मैने गौर किया समधी जी मुझे देख रहे थे मेरे समधी का नाम सुरेंद्र था वो 41 साल के मर्द थे मेरी समधन रज्जो 40 साल की थी वो भी मस्त औरत थी।

धिरे धिरे रात हो गयी मैं और समधन जी एक पास लेट गए पति और समधी एक पास बेटी दामाद अपने कमरे में थे काफी थकान की वजह से मुझे नींद आ गयी रात को मेरी आँख खुली मैने देखा समधन जी की मैक्सी ऊपर उठी थी उनका हाथ चुत पर था वो मसल रही थी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी की गांड बहन के सामने चोदी

कुछ देर बाद मुझे भी गर्मी चढ़ गयी मैं जान बुझ कर समधन से लिपट गयी और उनकी चुत सहलाने लगी तभी वो बोली क्या कर रही हो मैने कहा तुम्हारी आग सांत कर रही हु मैने अपने लिपिस्टिक वाले हॉट उनके हॉट पर लगा कर पीने लगी वो मस्ती में मेरी चुचियो को दबाने लगी।

मैने मस्ती में उनसे पूछा समधन जी क्या समधी जी लेते नही है वो मेरी चुत को सहलाते हीवे बोली लेते तो बहुत है पर अब उनको नया माल चाहिए मैने कहा तो मेरी ले ले वो हसने लगी तभी मेरे दिमाग में एक ख्याल आया क्यो ना समधन को अपने पति से चुदवा दु मैं समधी जी से चुद जाऊ

ये बात मैने समधन जी से बताई वो मान गयी अगली दिन हमने प्लान बनाया रात को सब खाने पे आ गए जैसे ही बेटी दामाद अपने कमरे में गए तभी समधन जी एक दारू की बोतल ले आती हमारे पतियों को कुछ खबर ही नही थी क्या हो रहा है।

फिर सबने पी तभी सब आपस में बात करने लगे फिर रात काफी हो गयी तभी समधन जी बोली आज सबको साथ लेटना पड़ेगा समधी बोले क्यो वो बोली आप लोगो के कमरे में लाइट नही है कुछ खराब हो गयी है फिर सब मान गए।

फिर हम सब कमरे में गए डबल बेड पड़ा हुवा था पहले समधी जी लेट गए फिर समधन फिर मैं और किनारे पति लाइट बंद कर दी गयो करीब 1 घण्टे बाद मैने एक हाथ समधन की चुचियो में डाल कर दबाने लगी बलाउज के हुक खोल दिए नीचे ब्रा नही थी वो मस्ती मेरी चुत सहलाने लगी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  रंडी माँ और चुदक्कड़ बहन का दूध

एक हाथ मैने पति के लड़ पे रख दिया और हिलाने लगी वो मस्ती में मेरी चुचियो को दबाने समधन ने उधर समधी को भी तैयार कर दिया फिर अंधेरे में मैंने समधन को उठने को बोला हम दोनो उठ कर बेड से उतर गए फिर मैं समधन की तरफ लेट गयी और समधन मेरी तरफ समधी जी ने जैसे ही मेरे दूध को पकड़ लिया मैं मस्त होकर उनसे लिपट गयी।

लड़ को हिलाने लगी काफी भारी लड़ था वो वो मेरी चुत उंगली करने लगे तभी मैने उनको अपने ऊपर ले लिया पेटीकोट नीचे कर दिया उन्होंने जोस में लड़ मेरी चुत में पेल दिया हल्की आवाज में मैं आआह….कह कर रह गयी वो दक्के लगाने लगे।

फच फच की आवाज आने लगी उधर पति देव समधन को पेलने लगे पूरा बेड हिल रहा था फिर समधन आआह….सससस….करने लगी तभी समधी जी मेरी चुदाई करते हुवे बेड के बगल में लगे लाइट को जला दिया जैसे ही लाइट जली सब सन रह गए समधी जी ये क्या हो रहा है मैने उनकी कमर पकड़ ली बोली रुको मत करो।

फिर वो जोस में मेरी लेने लगे मैं आआह….चोदो आआह….समधन आआह वो मस्ती में गाली देने लगी चोद हरामी तेरी रंडी औरत ने मुझे चुदवा दिया आआह….और तेज मस्त में समधी जी ने एक जोर डर दक्के के साथ माल मेरी चुत में छोड दिया लिपट कर चूमने लगे।

उधर मेरे पति ने भी माल छोड़ दिया हम काफी टाइम लेटे रहे फिर रात को एक एक बार और चुदाई हूवी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मामा के गावं का एक सच

सुबह मैं और समधन उठ कर घर का सारा काम किया तभी मैं किचन में थी समधी जी ने मुझे पकड़ लिया संधान के सामने और दूध दबाने लगे बोले चलो नहाने फिर मैं उनके साथ नहाने चली गयी उन्होने बतरूम में मुझे चोद दिया।

समधी जी अपने काम पे चले गए मेरे पति को भी कुछ काम था वो भी चले गए फिर समधन जी मुजसे बोली आज बहु को दिखाने जाना है तुम राजू के लिए खाना बना लेना राजू मेरा दामाद था।

जैसे ही सब चले गए मैं किचन में काम कर रही थी तभी दामाद जी आ गए उन्होंने मुझसे जो कहा वो सुन कर मेरे होस उड़ उनको मुझे और समधी जी को देख लिया था फिर उसने मेरे हाथ को पकड़ा और कहा सासु जी मुझे भी करने दो।

मैने मना कर दिया वो गुस्सा करने लगा मैने उससे भी चुदवा लिया।।।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!