सासू माँ की चुदाई

Sasu ma ki chudai

हाय मेरे दोस्तों मैं हैदराबाद से हूं और मेरा नाम राजन है। मैं अपनी सासू मां के साथ बीता एक सेक्स का सच्चा हादसा आपके साथ बांटना चाहता हूं। मेरी शादी एक वर्ष पहले ही हुयी थी। मैं एक उनतीस वर्ष का सुन्दर और सेक्सी लड़का हू। मेरी शादी एक सत्तरह वर्षीय लड़की के साथ हुयी है और वो बहुत ही खूबसूरत है। उसकी मां भी उतनी ही सुन्दर व सेक्सी है। उस समय मेरी सासू मां की उम्र पैंतीस वर्ष की थी और उनका भी विवाह मात्र सोलह साल की उम्र मे ही हो गया था। उन्हे कोई नहीं कह सकता था कि वे पैंतीस साल की है, वे तो देखने मे चौबीस-पच्चीस साल की लगती थी।

वो एक विधवा थी, उनके पति दो वर्ष पूर्व ही चल बसे थे। तीन जुलाई को मैं और ,मेरी पत्नी मेरे ससुराल को गये। वहां पर मेरी सास हमारा इन्तज़ार कर रही थी। उन्हें देख कर मैं बहुत खुश हुआ। मैने कहा ‘कैसे है सासू मां।’ वो बोली ‘ठीक हूं बेटा।’ मैने मुस्करा कर कहा- ‘आपकी उम्र और मेरी उम्र मे कोई ज्यादा फ़र्क नहीं है।’ सास ने जवाब दिया – तो क्या हुआ रिश्ते में तो तुम मेरे दामाद लगते हो’। मैने कहा – ‘हा दुर्भाग्य से मुझे पैदा होने मे थोड़ी देर हो गयी वर्ना मै तो आपसे ही शादी करता” ये सुनते ही वो शर्मायी और कहने लगी – ठीक है बातें तो होती ही रहेगी, तुम लोग जरा फ़्रेश हो जाओ’ हम लोग वहां से बाथ रूम फ़्रेश होने के लिये चले गये। फिर सबने साथ में डिनर लिया। फिर मैं और मेरी पत्नी बेड रूम मे चले आये। बेड रूम मे एक खिड़की भी थी जो मेरी सासू मां के कमरे मे खुलती थी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Mamaji My College Professor

थोड़ी देर मैनें और मेरी पत्नी ने आराम किया। रात करीब एक बजे मेरी नींद खुल गयी और मैं अपनी पत्नी के कपड़े उतारने लगा। मेरी पत्नी जाग गयी और कहने लगी ‘आज नही, मुझे नींद आ रही है’ मैने कहा -‘ तुम सो जाओ और मुझे अपना काम करने दो’ फिर मैने उसके सारे कपड़े उतार दिये। वो मुझे बार बार रोक रही थी। इस तरह हमारी तकरार से सासू मां भी जाग गयी। उन्होने धीरे से हमारी खिड़की खोली और अन्दर हमें देखने लगी। मैने अपना काम जारी रखा और और अपनी पत्नी को चूमने लगा। पहले उसके नाजुक होंठ पर किस किया, फिर उसके मादक चूचियों पर और फिर उसकी रस भरी चूत पर्। इतने भर से मेरी पत्नी अब मूड मे आ चुकी थी और फिर उसने मेरे ऊपर के सारे कपड़े उतार दिये।

हम दोनो एक दूसरे के जिस्म पर चूमा चाटी करते रहे और फिर मैने अपना पेण्ट खोला और अपना आठ इंच से भी लम्बा लन्ड निकाला। ये सब मेरी सासू मां देख रही थी। मैने खिड़की पर चुपके से देखा वो वहीं पर खड़ी थी। मुझे देख कर वो थोड़ा सा पीछे हट गयी। मैने लण्ड को पत्नी की चूत मे धकेल दिया और फिर जोरदार धक्के मारने आरम्भ कर दिये। मेरी पत्नी भी बहुत आनन्दित होने लगी थी। वो आआह्हह्ह, ऊओह्हह, ऊम्मम की आवाजे निकाल रही थी। कुछ देर बाद मैने अपना लण्ड बाहर निकाल लिया। वो सफ़ेद वीर्य से भरा हुआ था। मेरी पत्नी ने जल्दी से मेरा लण्ड अपने मुख में ले लिया और मस्त हो कर उसे चूसने लगी। ये सब देख कर मेरी सासू मां के मुख से सीत्कार सी आवाज निकल गयी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  मम्मी बन गयी अंकल आंटी की गुलाम-2

मैने उनकी आवाज को सुन लिया था। वो बहुत बेचैन हो गयी थी। मैने और मेरी पत्नी ने कुछ देर बाद कपड़े पहन लिये थे। कुछ देर बाद मेरी पत्नी सो चुकी थी। मैं अपनी पेण्ट पहन कर कमरे से बाहर निकला और बालकॉनी में आ कर खड़ा हो गया। मैने कमीज नहीं पहन रखी थी और अपनी ही धुन मे गुनगुना रहा था। अचानक मुझे पीछे से किसी ने पकड़ लिया। इसके पहले कि मैं पलटता वो मुझसे लिपट गयी। मैने समझा कि मेरी पत्नी है। लेकिन कुछ अजीब सा महसूस हो रहा था। उसके जिस्म से बहुत मधुर सी सुगन्ध आ रही थी जो मैने अपनी पत्नी के जिस्म से कभी महसूस नहीं की थी। मैं परेशान था कि कौन है जो मुझसे आकर ऐसी लिपट गयी है। मैं पलट कर उसका चेहरा नहीं देख सकता था।

फिर उसके कांपते हाथ मेरी पेण्ट की जिप की तरफ़ बढे और मेरे लण्ड को पकड़ कर जोर जोर से सिसकते हुये दबाने लगी। मुझे बहुत अच्छा लगने लगा था। पर मुझे अभी तक पता नहीं था कि ये कौन है। मैने उसके हाथ को अपने लण्ड से हटाया तो देख कर दंग रह गया और मेरी आंखे खुली की खुली रह गयी। वो और कोई नहीं मेरी सासू मां थी। मुझे देख कर वो कहने लगी ‘तुम्ही ने तो कहा था कि हमारी उम्र में कोई फ़र्क नहीं है और अगर तुम जल्दी पैदा हो जाते तो मुझसे ही शादी करते। अब समझ लो ना तुम जल्दी पैदा हो गये हो’ इसके पहले मैं कुछ कह सकूं सासू मां के मुख से फिर आवाज निकली ‘देखो मैं एक जवान विधवा हूं, मैं अपने पति के बिना रह रही हूं, जो कि बहुत मुश्किल काम है। तुम मेरी इस मुश्किल को दूर कर सकते हो, मेरी इस बेचैनी को कम कर सकते हो। मेरी जिंदंगी रंगीन बना सकते हो’ ये कहते हुये वो मुझे बेताहाशा चूमने लगी और मेरे हाथो को अपने कसे हुये उभारो पर यानि चूंचियों पर रख दिया। सासू मां का सीना दबते ही उनके मुख से एक मद भरी सिसकारी निकल पड़ी। इसके बाद क्या हुआ वो बहुत उत्तेजक और दिलकश है। लेकिन आपको कुछ और इन्तज़ार करना होगा।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!