सेक्सी धोबन और उसका बेटा-18

Sexy Dhoban Aur Uska Beta-18

मैने अपने लंड को ठीक चूत के खुले हुए मुँह पर लगाया और धकका मारा, लंड थोड़ा सा अंदर को घुसा, पानी लगे होने के कारण लंड का सुपरा अंदर चला गया था, माँ ने कहा “शाबाश ऐसे ही सुपाडा चला गया अब पूरा घुसा दे . मार धक्का कस के और चोद डाल मेरी बुर को बहुत खुजली मची हुई है”

मैने अपनी गांद तक का ज़ोर लगा के धक्का मार दिया पर मेरा लंड में ज़ोर की दर्द की लहर उठी और मैने चीखते हुए झट से लंड को बाहर निकल लिया.

माँ ने पुछा “क्या हुआ, चिल्लाता क्यों है”
“ओह मा, लंड में दर्द हो रहा है”.

माँ उठ कर बैठ गई और मेरी तरफ देखते हुई बोली “देखूं तो कहाँ दर्द है”

मैने लंड दिखाते हुए कहा “देखो ना जैसे ही चूत में घुसाया वैसे ही दर्द करने लगा”

माँ कुछ देर तक देखती रही फिर हंसने लगी और बोली “साले अनाडी चुदक्कड चला है माँ को चोदने अबे अभी तक तो तेरे सुपाडे की चमडी ढंग से उलटी ही ऩही है तो दर्द ऩही होगा तो और क्या होगा, चला है माँ को चोदने . , चल कोई बात ऩही मुझे इस बात का ध्यान रखना चाहिए था, मेरी ग़लती है, मैने सोच तूने खूब मूठ मारी होगी तो चमडी अपने आप उलटने लगी होगी मगर तेरे इस गुलाबी सुपाडे की शकल देख के ही मुझे समझ जाना चाहिए था की तूने तो अभी तक ढंग से मूठ भी ऩही मारी, चल नीचे लेट अब मुझे ही कुछ करना padega लगता है”.

मैने तो अब तक यही सुना था कि लड़का लड़की के उपर चढ़ कर चोदता है. मगर जब माँ ने मुझे नीचे लेटने के लिए कहा तो मैं सोच में पड गया और माँ से पुछ “नीचे क्यों लेटना है माँ , क्या अब चुदाई ऩही होगी”.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Chudwane Ke Liye Mom Ne Job Kia-2

मुझे लग रहा था कि माँ फिर से मेरा मूठ मार देगी. माँ ने हँसते हुए कहा “ऩही बे चुदाई तो होगी ही, जितनी तुझे चोदने की आग लगी है मुझे भी चुदवाने की उतनी ही आग लगी है, चुदाई तो होगी ही, तुझे तो अभी रात भर मेरी बुर का बाजा बजाना है मेरे राजा, तू नीचे लेट अब उल्टी तरफ से चुदाई होगी.
“उल्टी तरफ से चुदाई होगी, इसका क्या मतलब है माँ ”
“इसका मतलब है मैं तेरे उपर चढ़ के खुद से चुदवाउंगी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

कैसे चुदवाओगी ?

ये तो तू खुद ही थोड़ी देर के बाद देख लियो मगर, फिलहाल तू नीचे लेट और अपना लंड खडा कर के रख फिर देख मैं कैसे तुझे मज़ा देती हूँ ”
मैं नीचे लेट तो गया पर अब भी मैं सोच रहा था कि माँ कैसे करेगी. माँ ने जब मेरे चेहरे पर हिचकिचाहट के भाव देखे तो वो मेरे गाल पर एक प्यार भरा तमाचा लगते हुए बोली “सोच क्या रहा है माधरचोद? . अभी चुप चाप तमाशा देख फिर बताना कि कैसा मज़ा आता है”

कह कर माँ ने मेरे कमर के दोनो तरफ अपनी दोनो टाँगे कर दी और अपनी बुर को ठीक मेरे लंड के सामने ला कर मेरे लंड को एक हाथ से पकड़ा और सुपाडे को सीधा अपनी चूत के गुलाबी मुँह पर लगा दिया. सुपाडे को बुर के गुलाबी मुँह पर लगा कर वो मेरे लंड को अपने हाथो से आगे पीछे कर के अपनी बुर के दरार पर रगड़ने लगी. उसकी चूत से निकला हुआ पानी मेरे सुपाडे पर लग रहा था और मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मेरी साँसे उस अगले पल के इंतेज़ार में रुकी हुई थी जब मेरा लंड उसके चूत में घुसता. मैं दम साधे इंतेज़ार कर रहा था तभी माँ ने अपने चूत के फाँक को एक हाथ से फैलाया और मेरे लंड के सुपाडे को सीधा बुर के गुलाबी मुँह पर लगा कर उपर से हल्का सा ज़ोर लगाया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मम्मी ने मौसी की चूत का भोसड़ा बनवाया-2

मेरे लंड का सुपाडा उसके चूत के फांको बीच समा गया. फिर माँ ने मेरे छाती पर अपने हाथो को जमाया और उपर से एक हल्का सा धक्का दिया मेरे लंड का थोडा सा और भाग उसकी चूत में समा गया. उसके बाद माँ स्थिर हो गई और इतने से ही लंड को अपनी बुर में घुसा कर आगे पीछे करने लगी. थोड़ी देर तक ऐसा करने के बाद उसने फिर से एक धक्का मारा, इस बार धक्का थोरा ज्यादा ही जोरदार था और मेरे लंड का लगभग आधा से अधिक भाग उसकी चूत में समा गया. मेरे मुँह से एक ज़ोर की चीख निकल गई. क्यों कि मेरे लंड के सुपाडे की चमडी एकदम से पीछे उलट गई थी. पर माँ ने इस पर कोई ध्यान ऩही दिया और उतने ही लंड पर आगे पीछे करते हुए धक्का मरते हुए बोली “बेटा चुदाई कोई आसान काम ऩही है, लड़की भी जब पहली बार चुदती है तो उसको भी दर्द होता है, और उसका दर्द तो तेरे दर्द के सामने कुछ भी ऩही है, जैसे उसके बुर की सील टूटती है वैसे ही तेरे लंड की भी आज सील टूटी है, थोड़ी देर तक आराम से लेटा रह फिर देख तुझे कैसा मज़ा आता है”.

माँ अब उतने लंड को ही बुर में ले कर धीरे धीरे धक्के लगा रही थी. वो अपने गांड को उछल उछल के धक्के पर धक्का मारे जा रही थी. थोडी देर में ही मेरा दर्द कम हो गया और मुझे गीलेपन का अहसास होने लगा. माँ की चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था और उसकी बुर से निकलते पानी के कारण मेरे लंड का घुसना और निकलना भी आसान हो गया था. माँ अब और ज़ोर ज़ोर से अपनी गांड उछाल उछाल के धक्के लगा रही थी और मेरे लंड का ज़यादा से ज़यादा भाग उसके चूत के अंदर घुसता जा रहा था. माँ ने इस बार एक ज़ोरदार धक्का मारा और मेरे लंड का ज्यादातर भाग अपनी चूत में छूपा लिया और सिसकरते हुए बोली “सस्स्स्स्स्सिईईईईई हाय दैयया, कितना मोटा लंड है जैसे की गरम लोहे का रोड हो, एकदम सीधा बुर के दीवारो को रगडी मार रहा है, मेरे जैसी चुदी हुई औरत के बुर में जब ये इतना कसा हुआ है तो जवान लौंडियों की चूत फाड़ के रख देगा, मज़ा आ गया, ले साले और घुसा लंड और घुसा” कह कर तेज़ी से तीन चार धक्के मार दिए. माँ के द्वारा तेज़ी से लगाए गये इन धक्को से मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  माँ ने दूध वाले को दूध पिलाया

कहानी जारी है……

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!