सेक्सी पड़ोसन की ठुकाई-1

Sexy padosan ki thukai-1

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और मैंने अभी अभी सेक्सी कहानियाँ पढ़ना शुरू किया है और मुझे बहुत ही अच्छी अच्छी कहानियाँ पढ़ने को मिली जिसमे से कुछ कहानियाँ तो बहुत ही अच्छी थी और अच्छी सेक्सी कहानियों को पढ़कर मेरा भी मन हुआ कि में भी अपने साथ घटित हुई सच्ची घटना को लिखकर आप सभी को पढ़ने के लिए भेज दूँ. दोस्तों यह कहानी मेरी और मेरे पड़ोसे में कुछ समय पहले रहने आई मेरी एक हॉट सेक्सी आंटी की है.

दोस्तों यह कहानी आज से करीब तीन साल पहले की है. उस समय मेरी उम्र 21 थी और वैसे में एक ठीक ठाक दिखने वाला लड़का हूँ और और मेरा रंग साफ है और मेरे लंड का साइज़ वैसे तो मैंने कभी नापा नहीं है, लेकिन मेरे हिसाब से 6 या 7 इंच है और अब में अपनी आंटी के बारे में बताता हूँ. दोस्तों मेरी आंटी दिखने में बहुत सुंदर थी और उनके फिगर का साईज़ 38-32-40 है. तो आप लोग सोच ही सकते है कि वो दिखने में कैसी लगती होगी एकदम पटाका कि किसी का भी दिल उनकी गांड मारने को करेगा. अब में अपनी कहानी पर आता हूँ दोस्तों यह बात जब की है जब में कॉलेज में पड़ता था और हमारे पड़ोस में एक पंजाबी परिवार रहने के लिए आया.

उस परिवार में अंकल, आंटी और उनकी एक बेटी थी, उनकी बेटी 3 साल की थी और वो बहुत सुंदर थी. वो आंटी ज़्यादा किसी से बात नहीं करती थी, लेकिन मेरा उनको देखते ही लंड खड़ा हो जाता था, लेकिन वो किसी से बात नहीं करती थी. वो हमेशा अपने घर में ही रहती थी और कभी कभी ही बाहर निकलती थी, ना तो वो किसी के घर जाती थी और ना ही किसी को अपने घर पर बुलाती थी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी ने स्टडी के साथ सेक्स में भी हेल्प किया-13

तो इस वजह से हम उनसे इतनी बात नहीं करते थे, लेकिन एक दिन अचानक से अंकल की तबीयत खराब हो गई और उस वजह से उनसे चला भी नहीं जा रहा था. तब आंटी हमारे घर पर आई और वो मेरी मम्मी से बोली कि उनके पति की तबीयत खराब है और उनसे बिल्कुल चला नहीं जा रहा है अगर आपका लड़का उनको डॉक्टर के पास ले जाए तो बहुत अच्छा होगा. फिर मेरी मम्मी ने मुझे आवाज़ लगाई और मुझसे कहा कि में अंकल को डॉक्टर के पास ले जाऊँ और इतना सुनते ही मैंने तुरंत अपनी बाईक बाहर निकली और उन्हे डॉक्टर के पास ले गया और अंकल को डॉक्टर के पास से दवाई दिलवाकर घर ले आया.

दोस्तों उस दिन के बाद से आंटी अब हमारे घर आने जाने लगी थी और हम भी आंटी के घर पर आने जाने लगे थे और मेरी मम्मी से बातें करने लगे, लेकिन में उनको जब भी देखता था तो मेरा दिल करता कि बस साली को अभी इस समय पकड़ कर चोद दूँ, लेकिन में बहुत मजबूर था और एक बार में उनके घर पर पकोड़े देने के लिए चला गया. मैंने दरवाजे पर हाथ जैसे ही हाथ लगाया तो वो खुल गया. शायद उन्होंने दरवाजा अंदर से बंद नहीं किया था और में जैसे ही अंदर घुसा तो मैंने देखा कि उनकी बेटी तो उस समय टीवी देख रही थी और अंकल आंटी एक दूसरे से लिपटे हुए थे और अंकल उनकी सलवार में हाथ डालकर उनकी चूत को सहला रहे थे और आंटी उनके लंड को पकड़कर दबा रही थी और वो दोनों मुझे देखते ही तुरंत एकदम से अलग हो गये और फिर आंटी ने मुझसे पूछा कि क्या चाहिए?

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  प्यासी आंटी की चूत का रस निकाला जोरदार चुदाई से

मैंने बोला कि मम्मी ने पकोड़े बनाए थे तो में उनके कहने पर यह आपको देने के लिए आया था. फिर आंटी मेरे पास आई और उन्होंने मुझसे वो पकोड़े ले लिए, लेकिन वो मुझसे आखें नहीं मिला रही थी जैसे उनकी कोई चोरी पकड़ी गई हो. फिर में वहाँ से वापस अपने घर पर आ गया और मैंने एक बार आंटी के नाम की मुठ मारी.

दोस्तों उस दिन के बाद आंटी का व्यहवार मेरे लिए बिल्कुल बदला बदला नज़र आने लगा था और वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगी और हम दोनों में धीरे धीरे बहुत बातें भी होने लगी थी और उस दिन के बाद आंटी हमारे घर ज़्यादा आने लगी और हमेशा ही मुझे देखकर मुस्कुराती और में भी उन्हे देखकर मुस्कुराता और उनसे बहुत सारी बातें और हंसी मजाक किया करता था.

एक दिन में नहा रहा था कि तभी आंटी मेरे घर पर आ गई और उन्होंने मेरी मम्मी से पूछा कि क्या वो हमारे बाथरूम को काम में ले सकती है? दोस्तों उस समय मेरी मम्मी को बिल्कुल भी पता नहीं था कि में बाथरूम में हूँ और फिर उन्होंने आंटी को बोल दिया कि हाँ वो ऐसा कर ले और में हमेशा बाथरूम में पूरा नंगा होकर नहाता हूँ और उस समय हमारे बाथरूम की कुण्डी खराब थी तो आंटी ने जैसे ही दवाजा खोलकर और मुझे अंदर देखकर वापस बंद कर दिया. उस समय में अपने लंड पर साबुन लगा रहा था और मेरे नहाने के बाद जब में बाहर निकला तो आंटी मुझे देखकर मुस्कुराने लगी और में भी मुस्कुराकर वहाँ से चला गया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  गीली चूत : परीक्षा से पहले चुदी

अब में भी आंटी के घर पर ज्यादा से ज़्यादा समय बिताने लगा था और जब भी आंटी किचन में होती तो में भी किचन में चला जाता और फिर में आंटी से कोई भी बहाना बनाकर कुछ भी माँगता तो आंटी मुझसे कहती कि तुम अपने आप ही ले ले और में उस समय जानबूझ कर आंटी की गांड पर अपना लंड लगाता और थोड़ा घिसता. आंटी को मेरी नियत के बारे में पहले से ही सब कुछ पता था इसलिए वो मुझसे कुछ भी नहीं कहती थी और में भी बहुत अच्छी तरह से जानता था कि आंटी मुझसे चुदवाना चाहती है वो अब पूरी तरह से मुझसे आकर्षित हो चुकी है.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!