सर्दी में प्रिंसिपल मेम ने चुदवा लिया–5

Shardi Me Principal Madam Ne Chudwa Liya-5

मैं–ओह। तो मेम आपने तो पहले ही मज़े ले लिए।चलिए अब जल्दी से घोड़ी बन जाओ।मेरा लन्ड भी आपकी गांड़ मारने के लिए तड़प रहा है।
मेम– मेरा स्टूडेंट् अब मेरी गांड़ मारकर ही मानेगा।
तभी मेम बेंच को पकड़कर घोड़ी बन गई। अब मैंने मेम की गांड़ के छेद में लंड रखा और मेम को पकड़कर तेज़ धक्के के साथ लंड मेम की गांड़ में पेल दिया।मेरा लन्ड एकबार में ही मेम की गांड़ में पूरा फिट हो गया।लंड गांड़ में फिट होते ही मेम दर्द से चीख पड़ी।

मेम– आईईईई मर गई।आईईईई आईईईई एईईई आह आह आह ऊंह।

अब मैं ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए मेम की गांड़ मारने लगा।मेरा लन्ड मेम की गांड़ में तगड़ा प्रहार कर रहा था।मेम दर्द से कराह रही थी।मुझे मेम की गांड़ मारने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।मेम के बड़े बड़े चूतड़ ज़ोर ज़ोर से हिल रहे थे।
मेम– आईईईई आह आह आह ओह बैन्न के लौड़े, मर गई मै तो।आह आह आह।
मैं– बहुत मज़ा आ रहा है मेम।आह आह ओह हाई आपकी ये मस्त गांड़।आज तो इसको चोद चोदकर फाड़ डालूंगा।
मेम– तो फाड़ दे साले कुत्ते के पिल्ले। ये तेरा लंड है या घोड़े का।जान ही निकाल रहा है मेरी तो।आह आह आह आह आह आह ओह।
मैं– लंड तो मेरा ही है लेकिन तू घोड़े का समझ लेे मेरी रण्डी।

मैं धकाधक मेम की गांड़ मारे जा रहा था।अब तक मेरा लन्ड मेम की गांड़ के चीथड़े बिखेर चुका था।

मेम– बस कर मेरे सय्या। अब नहीं झेला जा रहा है तेरा लंड।
मैं– बस इतनी सी देर ही तेरी गांड़ फट गई साली छिनाल।अभी तो तुझे जी भरकर पेलूंगा।बहुत दिनों से तड़पा रही थी तू।आज तो पूरी कसर निकाल लूंगा।ओह तेरी ये मोटी गांड़।
मैं मेम की गांड में ताबड़तोड़ धक्कमपेल कर रहा था। अब मेम से सहन नहीं हुआ और उन्होंने कांपते हुए चूत रस बहा दिया।चूत रस मेम की टांगो से बहता हुआ फर्श पर फ़ैल गया। मैं अभी भी मेम को बजा रहा था।फिर थोड़ी देर बाद मैंने मेम को फर्श पर पटक दिया। अब मेम घुटनों के बल घोड़ी बन गई और मैं घोड़ा बनकर मेम की फिर से गांड़ मारने लगा।
मेम– आह आह आह ओह आह बस कर अब तो मेरे घोड़े। तेरी घोड़ी की जान निकल रही है।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  टीचर की यौन वासना की तृप्ति-7

मैं– घोड़ी की जान निकलाने में ही तो घोड़े को मज़ा आता है।आह आह आह।
मेम– आज तो घोड़ा घोड़ी को पूरी घायल करके ही मानेगा।
मैं– हां मेरी घोड़ी।
मैं दे दना दन मेम की गांड़ मारे जा रहा था।मेम दोनो हाथ आगे टिकाकर गांड़ मरवाए जा रही थी। अब मेरा निकलने वाला था।तभी मैंने मेम को फर्श पर पटक दिया और उन्हें बाहों में कसकर मेम की गांड़ में सारा लावा भर दिया। अब जाकर मेरे लन्ड को शांति मिली थी। मैं कुछ देर तक मेम के ऊपर ही पड़ा रहा।फिर थोड़ी देर बाद उठा।
मेम– हाय मेरे सैंया तूने तो मेरी हालत ही खराब कर दी। देख मेरी गांड़ और चूत दोनों तूने सुजा दी है।
मैं– जब तक चूत और गांड़ की हालत खराब नहीं होती है तब तक चुदाई करने का मज़ा ही नहीं आता है।
मेम– हां मेरे चोदु राजा।आज तो तूने मुझे जन्नत की सैर ही करवा दी। ला मै तेरे लंड को फिर से खड़ा कर देती हूं।
अब मेम फिर से मेरे लन्ड को चूसने और सहलाने लगी।धीरे धीरे मेरा लन्ड तूफान बनकर खड़ा हो गया। अब मैंने मेम को बाहों में उठा लिया और उन्हें ऑफीस में लेे जाने लगा।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अजब गजब नज़ारा था यारो जिस मेम को देखकर कभी मै इतना डरता था आज उसी मेम को पूरी नंगी करके बाहों में उठा रखा था।मेम भी आराम से मेरी बाहों में बैठी हुई थी।आज हम दोनों पूरा खुलकर चुदाई का आनंद लें रहे थे।हम टीचर और स्टूडेंट्स का रिश्ता भूल चुके थे।
कुछ ही पलों में मैं मेम को लेकर ऑफिस में पहुँच गया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मेरी क्लास टीचर की चुदाई

मेम– वहीं चोद लेता कुत्ते के मूत। यहां लाने की क्या जरूरत थी।
मैं– मुझे तुझे फिर से ऑफिस में चोदने की इच्छा हो रही है ,हरामजादी, मेरी रण्डी।
मेम– चोद ले भैण्ण के लौड़े।

अब मैंने मेम को प्रिंसिपल चेयर पर बैठाया और उन्हें मेरी तरफ घुमा लिया। अब मै आराम से मेम की चूत को चाटने लगा।मेम धीरे धीरे सिसकारियां भरने लगी।मुझे मेम की चूत चाटने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।फिर मैंने मेम के बूब्स को बुरी तरह से चूस डाला। फिर मैंने मेम की चूत में लंड डालकर उन्हें चेयर पर ही बुरी तरह से बजा डाला।मेम फिर से आह आह आह आह आह आह आह करने लगी।
कुछ देर चुदाई करने के बाद अब मैंने मेम को चेयर पर से उठा दिया और खुद चेयर पर बैठ गया। अब मैंने मेम की चूत में लंड डालकर उन्हें मेरी गोद में बैठा लिया।मेम ने मुझे बाहों में कस लिया।

मेम– आह आह आह ओह ऊंह आज लाइफ में पहली बार चुदाने में इतना मज़ा आ रहा है।आहाहा ओह आह आह।
मैं– मेम आप बहुत ज्यादा रिपचिक माल हो।आपको चोदने में मुझे भी बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा है।आह आह आह।
मेरा लन्ड मेम की चूत में लगातार हमला कर रहा था। अब मै मेम के बूब्स को भी मसलने लगा।
मैं– ओह रण्डी,तेरे बूब्स तो बड़े कमाल के हैं।
मेम– तो चूस ले साले, हरामी।
फिर मैंने मेम के बूब्स को अच्छी तरह से चूस डाला। अब मैंने मेम को नीचे उतार दिया और सोफे पर उनको फिर से घोड़ी बना दिया। अब मै फिर से मेम की गांड़ के किले को भेदने लगा।मेम फिर से दर्द से करहाने लगी।लेकिन मैंने मेम पर कोई रहम नहीं किया और ज़बरदस्त तरीके से मेम की ठुकाई करने लगा।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मास्टरनी को बेटे का सुख दिया भाग-2

मेम– आह आह आह आह आईईईई आईईईई आह आह आह ओह मेरे सैंया। आह आह और कितना ठोकेगा।
मैं– आज तो ठोकने का ही दिन है मेरी रण्डी।आह आह मज़ा आ रहा है आज तो।
फिर मैंने बहुत देर तक मेम की गांड़ को अच्छी तरह से बजाया। अब मैंने मेम को सीधा कर लिया और अबकी बार मेम की चूत में लंड सेट करके उन्हें सोफे पर चोदने लगा।मेम बड़े आराम से मेरे लन्ड को चूत में लिए जा रही थी।मुझे भी आज मेम को चोदने में बड़ा मज़ा आ रहा था।मेरा लन्ड घपागप मेम की चूत की गहराई में जाकर सर्विस किए जा रहा था।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!