ताईजी को चोदा चाय पिलाकर-3

(Tai ji ko choda chudai pilakar-3)

फिर मैंने उनकी कमर को पकड़कर बहुत धक्के मारे. उनकी गांड का छोटा सा गुलाबी छेद बड़ा खूबसूरत था.. बड़े-बड़े कूल्हे और छोटा सा छेद बहुत सुंदर लग रहा था. फिर मैंने उनके होल को ऊँगली से रगड़ना शुरू कर दिया. इधर तेज़-तेज़ धक्कों के झटके से उनकी बड़ी गांड हिलने लगी.. यह मुझे देखकर बहुत अच्छा लगा और मैंने उनके कूल्हों पर चांटे मारे और तेज़-तेज़ धक्के मारे. धीरे-धीरे ताईजी की चूत मैं उनका भी पानी आ गया था जिससे चूत बहुत चिकनी हो गयी थी. तो मेरा और उनका पानी मिलने से बहुत मज़ा आने लगा और हर धक्के से मेरे जिस्म मैं एक अज़ीब सा अहसास आने लगा..

मुझे बहुत मज़ा आने लगा. फिर मैं उनके ऊपर लेट गया और उनकी चूची को नीचे से पकड़कर दबाने लगा और चूत मैं कसकर धक्के मारने लगा.. मैं उनके शरीर कमर और कंधे को किस करते हुए धक्के मारने लगा. उनका शरीर, कूल्हे मेरे जिस्म से चिपक गये थे और मुझे अब लंड आगे पीछे करके हिलाने मैं बड़ा मज़ा आ रहा था. तभी कुछ देर तक धक्के मारने के बाद मुझे अहसास हुआ कि ताईजी की चूत मैं पानी बड़ने लगा है और फिर उनकी चूत से एकदम से बहुत सारा पानी आ गया और ताईजी ने उउंम्म की आवाज़ निकाली और फिर आआहह करके झड़ गयी.

तभी मैं समझ गया कि वो झड़ गई है और मैं उनके पानी से भरी हुई चूत मैं धक्के मारता रहा और उनकी चूत पानी की वजह से पच-पच आवाज़ करने लगी. फिर धक्के मारने पर उनके पानी का झाग बनकर मेरे लंड पर नज़र आने लगा और स्पीड बड़ाने पर झाग मोटा और गाड़ा हो गया और पछ-पछ की आवाज भी बड़ गयी थी. फिर कुछ देर बाद मुझे गज़ब का अहसास हुआ और मेरा भी पूरा पानी ताईजी की चूत मैं निकल गया. उनकी चूत मेरे पानी से डूब गयी मैं और चुपचाप लंड उनकी चूत मैं डाले हुए उनकी कमर को किस करता रहा. कुछ देर बाद मैं उनके ऊपर से उठा और ताईजी के पास मैं लेट गया. मेरी नज़र उनकी मोटी गांड पर जा रही थी. फिर मैंने सोचा कि आज मौका सही है और मेरा मन गांड मारने का कर भी रहा था.. उनकी चूत से मेरा सफेद पानी निकल रहा था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  कोरोना काल में पड़ोस की आंटी की चुदाई

तो मैंने उनकी चूत मैं उंगली डालकर देखा तो वो पानी से भरी हुई थी.. फिर उनके मोटे-मोटे कूल्हे और छोटे से गांड के होल को जीभ से चाटने लगा. मैंने उनको हाथों से बहुत दबाया और कुछ देर ऐसा करते-करते मेरा लंड फिर से फुल टाईट हो गया. तो मैंने उनकी गांड पर अपने लंड के सुपाड़े को रखा और धीरे से दबा दिया.. मेरा बड़ा लंड उनकी टाईट गांड पर फिसल गया और ऊपर निकल गया.. 3-4 बार कोशिश करने पर मेरा लंड फिसल गया. तो मैंने उनके पैरों को पूरा खोला और दोनों हाथ की उँगलियाँ घुसाकर होल को चोड़ा कर दिया.. जिससे उनका छेद खुल गया और मैंने थूक लगाकर उसमे अपना लंड घुसा दिया.

मेरा लंड उसमे आधे से थोड़ा कम अंदर चला गया.. क्योंकि उनका छेद बहुत टाईट था. फिर मैंने कसकर अपने लंड को अंदर दबाया और मेरे झटके मारने से ताईजी का पूरा जिस्म आगे पीछे होने लगा.. उनका पूरा जिस्म हिल जाता. धीरे धीरे मेरा पूरा लंड उनकी गांड के अंदर चला गया और मैं कुछ देर उनकी गांड मैं लंड डालकर उनके ऊपर ही लेट गया. मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि मेरा पूरा लंड ताईजी की मोटी गांड के अंदर है. फिर मैं ऐसे ही लंड डाले हुए उनके साथ लेटे रहना चाहता था.. तो मैं बहुत देर तक उनकी गांड मैं लंड डाले हुए उनके ऊपर लेटा रहा..

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर मैंने धीरे-धीरे अपनी कमर को हिलाना शुरू किया और लंड को हिलाने लगा. गांड के होल मैं मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मेरा लंड ताईजी की गांड मैं फंसा हुआ था और मैं धक्के मारता रहा. फिर 10 मिनट के बाद मैं उनकी गांड मैं ही झड़ गया. यह सब करके मुझे बड़ा आनंद आया.. मैंने ताईजी के सेक्सी जिस्म को चोद दिया. फिर थोड़ी देर रुकने के बाद मैंने एक बार और उनको चोदा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  ताईजी को चोदा चाय पिलाकर-2

फिर मैंने उनके नंगे जिस्म की, चूत की, चूची की, कुछ फोटो ली और अपना कैमरा देखा तो उसमे पूरी चुदाई रिकोर्ड हो गई थी. फिर मैंने गीले कपड़े से उनकी गांड और चूत को अच्छे से साफ किया और उनको वापस उनकी पेंटी पहनाई और चुपचाप अपने रूम मैं चला गया. जब उनके उठने का टाईम ज़्यादा हो गया तो मैं उनके चेहरे पर पानी डालकर छुपकर देखने लगा. ताईजी अपने सर पर हाथ लगाकर धीरे से बेड से उठी और धीरे-धीरे चलने की कोशिश करने लगी.. शायद उनके सर मैं दर्द हो रहा होगा और कुछ दूर चलने के बाद उन्होंने बेड पर बैठकर अपनी मेक्सी ऊपर की और अपनी पेंटी मैं हाथ डालकर चूत चेक करने लगी.. शायद उनकी चूत और गांड मैं दर्द हो रहा था.

फिर वो टॉयलेट चली गयी और वहाँ पर बहुत देर तक रुकी रही. फिर जब वो टॉयलेट से निकली तो मैंने कहा कि आप चक्कर से गिर गयी थी तो वो कुछ नहीं बोली और चुपचाप जाकर के लेट गयी. शाम को मम्मी, पापा देर से आए तो वो उठी और अपना नॉर्मल काम करके जल्दी ही सो गयी.. लेकिन जब रात को 12 बज रहे थे और सब सो रहे थे तो वो मेरे रूम मैं आई और मुझसे कहा कि मेरे कमरे मैं आओ मुझे तुमसे कुछ बात करनी है.. मैं बहुत डर गया कि कहीं ताईजी सच ना जान गयी हो.

फिर मैं उनके रूम मैं गया तो ताईजी ने मुझसे कहा कि सच सच बता दिन मैं क्या हुआ था. ये सुनते ही मेरे तो होश उड़ गये. उनके बहुत जोर देने पर मैंने उनको सब कुछ सच सच बता दिया और कैमरे मैं उनकी फोटो और रिकॉर्डिंग भी उनको दिखा दी. फिर ताईजी मुझे बोली कि तुझे ये सब करना ही था तो मुझसे ही बोल देता. मैं खुद ही तुझे अपने जिस्म का मजा दे देती. यह सुनकर मैं हैरान रह गया और उनसे सॉरी मांगने लगा.. तो वो बोली कि कोई बात नहीं.. सेक्स जब दिमाग मैं चड़ता है तो ये सब हो ही जाता है. लेकिन ध्यान रखना कि ये बात किसी को पता नहीं लगनी चाहिये. दोस्तों उस दिन के बाद ताईजी खुद खुशी खुशी मुझे अपनी चूत देती है और मस्त चुदाई करवाती है ..

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!