टीचर की प्यास बुझा कर पास हुई मैं-2

(Teacher Ki Pyas Bujha Kar Pass Hui Main-2)

वो मेरे गोरे गालो के साथ गले पर किस करना शुरू किया। गले पर किस करते ही मै मदहोश होने लगी। वो मेरी मदहोशी को देखते हुए उन्होंने अपना हाथ मेरे बूब्स पर रख दिया। बूब्स दबा कर किस करने का पूरा मजा ले रहे थे। पहली बार मेरे को इतना जबरदस्त मुलायम दूध दबाने का मजा दे रहा था। सर ने मुझे उठाकर मेरी साडी हटाकर ब्लाउज को निकाल दिया। काले रंग की ब्रा में मेरे बूब्स बहुत ही मस्त लग रहे थे। मेरे दूध पीने के लिए सर ने दूध को ब्रा से आजाद कर दिया। काले निप्पल को दबाते ही मै “…..ही ही ही……अ अ अ अ .अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह….. उ उ उ…” की आवाज निकालने लगी। मेरे दूध को दबाते हुए वो पीने लगे। मै उनके कान पर हाथ रखकर उनका सर अपने दूध में दबा रही थी। मै उनसे कह रही थी। चूसो!! चूसो!! आज सारा दूध पीकर मेरे को और मजा दो। वो बहोत ही मजे ले ले कर पी रहे थे। मेरा दूध कडा होने लगा। बंटी सर उसे पीना छोड़कर अपना पैंट निकालने लगे। वो मेरे सामने अंडरबियर में ही खड़े थे। जोश में सर को मेरे सामने अंडरबियर में खड़ा होने में कोई शर्म नहीं आ रही थी। मैंने उनके अंडरबियर को खीच के निकाल दिया। Teacher Ki Pyas

सर: अब तेरी बारी है। अब तू मेरे लंड को चूसकर अच्छे से खड़ा कर
मैं: जो आज्ञा सर जी!

इतना कहकर मै उनके ढीले लंड को पकड़ कर हिलाने लगी। उनका ढीला लंड धीरे धीरे टाइट होने लगा। मै उनके लंड को मुह में रख कर अपना जीभ लगा रही थी। मेरी खुरदुरी जीभ उनके लंड पर रगड़ रगड़ कर उनका खड़ा कर रही थी। उनका लंड टाइट होने लगा। लोहे के रॉड जैसा खड़ा होकर उनका लंड मेरी मुह से बाहर आने लगा। सर को मेरी चूत चोदने की उत्तेजना होने लगी। उनके लंड का सुपारा गुलाबी हो चुका था। सर ने अपना लंड मेरी मुह से निकाला। मेरी साडी को उतारते हुए मेरे को पेटीकोट में कर दिया। उन्होंने मेरी पेटीकोट का नाडा खोल दिया। नाडा खुलते ही मै पैंटी में हो गई। पेटीकोट सरक कर नीचे गिर गयी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  टीचर की समस्या को हल किया-1

उन्होंने मेरी चूत देखने के लिए मेरी पैंटी निकाल दी। मेरे को बिस्तर पर लिटाकर मेरी टांगों को फैला दिया। टांगो को फैलाते ही मेरी चूत दिखने लगी। चेहरे से भी ज्यादा खूबसूरत मेरी चूत लग रही थी। सर मेरी चूत को देखकर अपना लंड हिलाकर जीभ लपलपा रहे थे। मेरी चूत पर काले रंग की खाल उभरी हुई थी। उन्होंने मेरी चूत का रस चखने के लिए अपना मुह मेरी चूत में लगा दिया। जीभ लगा कर मेरी चूत चाटने लगें। चूत चटवाने में तो मेरे को बहोत मजा आ रहा था। मै “उ उ उ उ उ……अ अ अ अ अ आ आ आ आ… सी सी सी सी….. ऊँ—ऊँ…ऊँ….” सिसकारी भर रही थी। मेरी चूत के दाने को काट काट कर मेरे को बहोत ही उत्तेजित कर रहे थे। मै चुदने को तड़प रही थी। मैं उन्हें लंड डालने को कहने लगी। Teacher Ki Pyas

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मै: सर मेरी चूत में अब अपना लंड घुसा दो। फाड़ दो मेरी चूत!! आज मेरी चूत गर्मी को शांत कर दो! और न तड़पाओ मेरी जान!

जोश में मेरे को पता ही नही चल रहा था मै बोल क्या रही हूँ, सर भी ऐसे शब्दों को सुनकर उत्तेजित हो गये। उन्होंने अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया। मै अब कंट्रोल नहीं कर पा रही थी। बिस्तर के चादर को मै हाथो से समेटते हुए दबा रही थी। सर मेरी गर्म चूत में अपना लंड घुसाने लगे। उनके मोटे लंड का टोपा मेरी चूत धक्कम धक्का मार कर किसी अंदर कर दिया। मै जोर से “ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ उ…… अ आ आ आ आ….” की चीख निकाल रही थी। उन्होंने धक्के पर धक्का मार के पूरा लंड मेरी चूत के अंदर घुसा दिया। वो अपनी कमर उठा उठा कर लंड अंदर बाहर करने लगे। मेरी चूत में उनका 7 इंच का लंड घुसा हुआ था। मै बहुत ही बेकरारी से उनका लंड घुसवा रही थी। मेरी तड़प को कुछ कम करने में उन्होंने मेरे को लगभग 5 मिनट तक जोरदार चुदाई करके मजा दिया। Teacher Ki Pyas

हिंदी सेक्स स्टोरी :  टीचर की यौन वासना की तृप्ति-7

दर्द से आराम मिलते ही मै उन्हें और जोर से चोदने को कहने लगी। मै भी अपनी गांड उठाकर जोर जोर से चुदाई करवानी शुरू कर दी. वो मेरे को बोल बोल के बहोत ही उत्तेजित करने लगे। वो मेरी गांड पर हाथ मार मार कर चोद रहे थे। मै “ सर जी!! और जोर से… और जोर से चोदो चोदो फाड़ डालो मेरी चूत” बोल बोल कर सारा माहौल ही जोशीला कर दिया। सर बिना रुके लगभग 20 मिनट तक मेरी टांगो को फैला कर चुदाई की। मै भी “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” की आवाज के साथ अपनी गांड उठा कर चुदवा रही थी। मेरी चूत की चटनी बन रही थी। वो झड़ने वाले लग रहे थे। लेकिन उससे पहले ही उन्होंने अपना लंड तुरन्त ही निकाल कर चुदाई रोक दी। कुछ देर बाद मेरे को चोदने का पोजीशन चेंज करके कुतिया बना दिया। मेरी कमर पकड़ कर अपना लंड मेरी चूत में घुसाकर जोर जोर से चुदाई करने लगे। मेरी चूत जल्दी जल्दी की रगड़ बर्दाश्त न कर सकी। मैं जल्द ही झड़ गयी। मै “आऊ…..आऊ….हमम मम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” की आवाज के साथ चुद रही थी। मेरी चूत की चटनी बनाकर उससे जूस निकलने लगी। कुछ ही पलों में सर भी झड़ने को हो गये। उन्होंने चुदाई की रफ़्तार और बढ़ाकर मेरी चूत का बुरा हाल कर दिया। उन्होंने अपना लंड मेरी चूत से निकाल लिया। सारा माल मक्खन की तरह हो गया। उनके लंड पर ढेर सारा माल लगा हुआ था। उनका लंड भी जबाब दे गया। वो अपना लंड मेरे मुह में ठूसकर जोर जोर से “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” की आवाज के साथ स्खलित होने लगे। मेरा पूरा मुह उनके लंड के पानी से भर गया। मै उनके माल को पीकर शांत हो गयी। सर मेरे ऊपर नंगे ही कुछ देर तक लेटे रहे। उसके बाद एक बार मेरी और जम कर चुदाई की। आज भी वो मेरे को चोद कर अपनी पत्नी की याद मिटाते है।  Teacher Ki Pyas

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!