टीचर की प्यास बुझा कर पास हुई मैं-1

(Teacher Ki Pyas Bujha Kar Pass Hui Main-1)

हाय फ्रेंड्स मेरा नाम कामना हैं। मै लखनऊ में रहती हूँ। मैं देखने में बहोत ही खूबसूरत और लाजबाब माल लगती हूँ। मेरे को चुदने में बहोत ही मजा आता है। अब तक मैंने कई लड़को को अपनी चूत का दर्शन करा के उनसे चुदवाया है। मेरे को भी बड़ा और मोटा लंड बहोत ही पसंद है। मेरे को लड़को के अलावा मेरे अंकल ने भी चोदा है। मैंने बूढ़े बड़े सबसे चुद कर सेक्स का अनुभव लिया है। मेरे दोनो मम्मे पीने को सब कोई बेचैन सा रहता है। मैं भी चुद चुद के रंडी बन चुकी थी। मेरे को कोई एक बार भी इम्प्रेस कर ले जाता तो मैं उससे बहोत ही आसानी से चुद जाती थीं। मेरी चूत का रस बहोत ही रसीला है। उसे पीकर सब अपनी प्यास बुझाते हैं। मेरे को देखकर टीचर का लंड खड़ा हो गया। Teacher Ki Pyas Bujha Kar Pass Hui Main.

मेरे टीचर भी मेरे को चोद डालने को उत्सुक थे। वो बहाना ही ढूंढ रहे थे। आखिरकार उनको मौक़ा मिल ही गया। फ्रेंड्स ये बात 2 साल पहले की है। जब मैं 12 में पढ़ती थी। मेरा पेपर होने वाला था। उससे कुछ दिन पहले मेरी बड़ी बहन की शादी होने वाली थी। मैं सारा दिन घर के ही काम में बिजी थी। मेरे को पढ़ने का मौका ही नहीं मिल पाया था। मेरे को कुछ समझ में ही नहीं आ रहा था। मै किस तरह परीक्षा दूँगी! बड़ी टेंशन हो रही थी। मेरे को एक टीचर बहोत पसन्द करते थे। ये बात मेरे को पता थी। मेरे दिमाग में एक आईडिया आया क्यों ना मै टीचर को ही पटा लूं?

उनका नाम बंटी था। वो भी बहोत स्मार्ट थे। उनकी उम्र लगभग 38 साल की रही होगीं। लेकिन देखने में वो एकदम से नौजवान लगते थे। वो अब भी हरकते लड़को के जैसे करते थे। उनकी बीबी को गुजरे हुए 3 साल से भी ज्यादा हो गए थे। उस समय मै 12 में पढ़ रही थी। वो भी चूत के लिए तड़प रहे थे। काफी दिन हो गए थे उनको चूत का दर्शन किये हुए। बंटी सर प्रिसिपल सर के बहोत ही करीब थे। वो ही परीक्षा की पूरी तैयारी करते थे। वो मेरे क्लास में इंग्लिश पढ़ाते थे। मैंने एक दिन उनके घर जाकर उनसे कुछ पूछने के बहाने से गयी हुई थी। वो घर पर अकेले ही रहते थे। उनके बच्चे स्कूल चले गए थे। Teacher Ki Pyas

सर: क्या बात है बेटा मेरे घर कैसे आना हुआ??
मै: सर मेरे को इंग्लिश में ये चेप्टर नहीं समझ में आया था। वही मै आपसे समझने आयी हुई थी
सर: ठीक है बेटा! अंदर आ जाओ

मै अंदर गयी तो सर का पूरा घर बहोत ही अच्छा लग रहा था। मेरे को वो अपने ड्राइंग रूम में लेकर गए। मै सोफे पर बैठी थी। उस दिन मैं बहोत ही हॉट सेक्सी माल बनकर गयी हुई थी। फुल मेकअप करके उनके सामने बैठी हुई थी। मैंने उस दिन ब्लू कलर का सलवार समीज पहन रखा था। कुछ देर पढ़ाने के बाद सर को कही जाना पड़ गया।

सर: बेटा मेरे को एक जरूरी काम से बाहर जाना है। दो तीन घंटे रुक जाओ तो मैं तुम्हे पढ़ा दूंगा
मै: ठीक है सर मैं अपने घर पर फ़ोन करके बोल दे रही हूँ। आज मैं अपने फ्रेंड के घर रुक गयी हूँ

सर का चेहरा खिल उठा। वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुराये और चले गए। कुछ ही देर में वो वापस आ गए। Teacher Ki Pyas

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मै: सर आप इतनी जल्दी कैसे आ गए।
सर: तुम्हे पढ़ने की कोई जरूरत नहीं। मै तुम्हे पास करवा दूंगा। लेकिन उसके बदले में तुम्हे कुछ करना होगा।
मै: क्या करना होगा?

सर: तुम मेरे को बहोत अच्छी लगती हो। जब मैं तुम्हे देखता हूँ तो मेरे को मेरी बीबी की याद आ जाती है। फिर उसके साथ रात बिताने की यादें आ जाती है

मै: सर इसमें मै आपकी कैसे मदद कर सकती हूँ?
सर: मेरे साथ मेरे बेड रूम में चलकर मेरी प्यास बुझानी होगी
मै: सर आप ये क्या कह रहे हो?
सर: सच मेरा बिस्तर आज तक सूना पड़ा है। इस पर अकेले ही रहता हूँ। आज तुम मेरा साथ दे दो!
मै: किसी को पता चल गया तो क्या होगा?
सर: किसी को नहीं पता चलेगा। यह बात सिर्फ हम लोगो को ही पता है। हम लोगो के ही बीच में रह जायेगी
मै: ठीक है!

इतना सुनकर सर उछल पड़े। मेरा हाथ पकड़कर वो अपने बेडरूम में ले कर जाने लगे। मेरे को बहोत ही मजा आने वाला था। क्योंकि मेरे को चुदने में सबसे ज्यादा मजा आता था। वो मेरे को अपने बेड पर ले जाकर बिठा दिए। मै उनको देख देख कर मुस्कुरा रही थी। बंटी सर मेरे को देखकर कहने लगे। Teacher Ki Pyas

सर: तेरे को साडी पहननी आती है?
मै: हाँ
सर: तो आज के लिए मेरी बीबी की साडी पहनकर मेरी बीबी बन जाओ!

उन्होंने मेरे को आलमारी से साडी निकाल कर पहनने को दे दिया। मैं दुसरे कमरे में जाकर कपड़ा चेंज किया। जैसे ही मैंने बैडरूम में एंट्री ली। बंटी सर तो बेचैन हो गए। कुत्ते की तरह मेरे पर टूट पड़े। मेरे को दरवाजे के पास से उठाकर बिस्तर तक ले आए। मेरे को बिस्तर पर पटक कर दरवाजा बंद करने लगे। उसके बाद मेरे करीब आकर मेरे को घूरने लगे।  मेरे ऊपर हाथ फेरने लगे। मै गर्म होने लगी। मेरी नाजुक होंठो पर उन्होंने अपना होंठ टिकाकर जोरदार किस करने लगे। मै भी साथ दे रही थी। कभी मेरे होंठ को वो चूसते तो कभी मै उनके होंठ को बारी बारी से चूस रही थी। उनका होंठ खूब फूल आया। इतनी जोरदार की होंठ चुसाई से उनके होंठ और भी ज्यादा काले हो गए। मै और भी ज्यादा गजब की माल दिखने लगी। मेरी आँखे बड़ी शराबी लग रही थी। ऐसा बंटी सर कह रहे थे। मेरे को जोर से दबाते ही जा रहे थे। कुछ ही देर में मेरी साँसे बढ़ने लगी। मै जोर जोर से साँसे भरने लगी। वो भी उत्तेजित होने लगे। मैं भी सर को कस कर दबाने लगी। Teacher Ki Pyas

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!