ट्रैन में चोदा बहन की बुर उसकी मर्ज़ी से-13

Train Mein Choda Bahan Ki Bur Uski Marji Se-13

स्वीटी उन दोनों से बोली, “असल में मैं भी यह आज देखना चाहती हूँ। पीछे वाले हिस्से को ऐसे होते हुए सिर्फ़ सुनी हूँ आज तक, सो आज जब गुड्डी तैयार हो गई विक्रम से पीछे करवाने के लिए तो मैं भी सोची कि अब यह मौका नहीं खोया जाए। वैसे तुम लोग सेक्स करती हो?” मेरी बहन ने यह सवाल बड़ा सही पूछा था। ताशी ने हीं जवाब दिया, “ज्यादा नहीं, ५ बार की हूँ लड़के के साथ, वैसे हम दोनों बहन आपस में मजा करते रहते हैं। आशी अभी तक किसी लड़के के साथ नहीं की है।” फ़िर वो गुड्डी की तरफ़ देखते हुए बोली, “अगर आधा-एक घन्टा का बात है तो क्या हम भी यह देख लें… अगर बुरा लगे म्री बात तो मना कर देना प्लीज।” उसकी बात सुन कर मेरा लन्ड एक झटका खा गया। गुड्डी अब मुझसे बोली, “क्या कहते हो गाँडू पार्टनर….?” मेरे मुँह से बिना सोचे निकला, “जैसा तुम समझो, इस मामले में तो तुम्हारे सामने मैं अनाड़ी हूँ।” उसने हँसते हुए कहा, “हूँह्ह्ह्ह…. अनाड़ी…., चलो आज तुमको गाँड़ू बना ही देती हूँ। लाओ दवाई दो… आधा घन्टा तो तैयारी में लगेगा।” और मैंने जेब से दोनों दवा निकाल कर उसको दे दिया। गुड्डी वहीं खड़ी हो गई और फ़िर एक तो मोम-जैसा कैप्सुल था जिसको उसने अपनी गाँड की छेद में घुसाने से गाँड़ का सारा मल/पैखाना निकल जाता और दुसरा दवा, एक मलहम था तेज दर्द-निवारक। उसने उन दवाओं के बारे में बताया। मैं दंग था कि साली को क्या सब पता है…. लगा कि क्या स्वीटी को उसके साथ रख कर मैं कहीं गलती तो नहीं कर रहा। पर फ़िर लगा कि अब जब स्वीटी चुदाने लगी है तो गुड्डी जैसी जानकार का साथ उसके हक में ही है, सो मैं अब अपनी बहन की सेक्स-सुरक्षा के प्रति आश्वस्त हो गया। गुड्डी ने वहीं सब के सामने उस मोम जैसे कैप्सुल को एक-एक करके तीन, अपनी गाँड़ की छेद में घुसा ली और फ़िर अपना नाईटी नीचे करके वहीं बैठ कर बातें करने लगी और मुझे बोली कि मैं अब वियाग्रा खा लूँ, उसका असर होने में करीब एक घन्टा लगेगा।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मामा की लड़की को चोदकर मस्त किया-1

अभी १०:३० हो रहा था और उसने कहा कि वो करीब १२ बजे अपने गाँड़ में डलवाएगी। मैं बोला कि फ़िर अभी से १२ बजे तक मैं क्या करुँगा? गुड्डी खिलखिला कर हँसी और बोली, “इतनी सारी लौन्डिया है और तुम को कुछ समझ नहीं आ रहा, भोंदूँ कहीं के….”, तभी आशी बोली, “दीदी, क्या एक बार आगे वाले में भी घुसाएँगे भैया क्या?” गुड्डी बोली, “मैं तो अब सिर्फ़ गाँड़ मरवाउँगी….अब यह तो यही जाने या फ़िर तुम लोग में से कोई चुदा लो। वियाग्रा का असर तो करीब ११:३० से शुरु होगा और तब करीब एक घन्टे तो लन्ड टन्टनाया रहेगा मेरे लिए।” मैंने स्वीटी की तरफ़ देख कर इशारा किया और तब स्वीटी भी मेरा मन भांप कर बोली, “आशी अगर तुमको इतना मन है तो अपना चुदा लो आज एक बार….।” आशी यह सुन कर घबड़ा गई, “नहीं…नहीं…, पहले कभी की नहीं हूँ, कहीं मम्मी जान गई तो…।” मैं देख रहा था कि ताशी सब चुप-चाप सुन रही है। मैंने अब उसको ही कहा, “ताशी, तुम तो पहले की हो यह सब, तो आज एक बार जल्दी से मेरे साथ सेक्स कर लो, देखो यह बच्ची बेचारी भी देख लेगी सब और समझ भी लेगी।” मेरी बात सुन कर ताशी तो ना… ना… करने लगी पर बाकी तीनों लड़कियों ने मेरा साथ दिया और ताशी के ना… ना… करते हुए भी मैं अपनी जगह से उठा और फ़िर ताशी के चेहरे को अपने हाथों में ले कर उसके होठ चुमते हुए उसके ना… ना… का राग हीं बन्द कर दिया। ५ सेकेण्ड में हीं ताशी भी मुझे होठ चुमने में सहयोग करने लगी। मैंने अब उसके बगल में बैठते हुए उसको अपनी गोदी में खींच लिया। ताशी एक बार मुझसे छुटने की कोशिश की, “कभी ऐसे किसी के सामने नहीं की हूँ…. मुझे शर्म आ रही है, मैं नहीं करुँगी अभी।” मैंने और फ़िर बाकी सब ने उसको समझाना शुरु किया। मैं उसके बदन पर हाथ घुमा रहा था और इधर-उधर चेहरे पर चुमता जा रहा था। उसका बदन गर्म होने लगा था।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  दीदी बनी मेरी रानी

मैं उसके सामने खड़ा हो गया और फ़िर स्वीटी, जो ताशी के ठीक बगल में बैठी थी, से बोला “स्वीटी अब तुम जरा ताशी के हाथ में मेरा लन्ड पकड़ाओ न” और मैं अपने शर्ट का बटन खोलने लगा। स्वीटी आगे बढ़ी और मेरे जीन्स-पैन्ट की जिप खोल कर मेरे आधा फ़नफ़नाए हुए लन्ड को बाहर खींच ली। इतनी देर में मैं अपने कपड़े उतार चुका था सो जीन्स-पैन्ट के बटन को खोलते हुए उसको नीचे करके अपने बदन से निकाल कर पूरा नंगा खड़ा हो गया। मेरा लन्ड अभी आधा ही ठनका था और लाल सुपाड़े की झलक मिलने लगी थी। छोटी बहन आशी के मुँह से निकला, “माय गौड…”, मैं पूछा – “कभी देखी हो आशी मर्दाना लन्ड….।” उसके चेहरे पर आश्चर्य था। मैंने उसको कहा, “आओ पकड़ कर देखो इसको…” और मैं अब उसकी तरफ़ बढ़ कर उसका हाथ पकड़ कर अपने लन्ड पर रख दिया और फ़िर जब वो लन्ड को अपनी मुट्ठी में लपेट ली तब मैंने उसके मुट्ठी के उपर अपने हाथ से मुट्ठी बना कर उसके हाथ को अपने लन्ड पर हल्के-हल्के चलाया। मेरे लन्ड के सामने की चमड़ी अब पीछे खिसक गई और मेरा लाल सुपाड़ा चमक उठा। धीरे-धीरे लन्ड खड़ा होने लगा था, वो अब करीब ७” हो गया था। ताशी सब देख रही थी। मैंने अब आशी को कहा, “मुँह में लोगी? देखो एक बार मुँह में ले कर”…. और मैंने अपना लन्ड उसके चेहरे की तरफ़ कर दिया। वो न में सर हिलाने लगी तो मैंने भी उसको बच्ची जान जिद नहीं किया और फ़िर एक बार अपना ध्यान उसकी बड़ी बहन ताशी की तरफ़ किया। अब मैंने ताशी को पकड़ कर खड़ा कर लिया और फ़िर उसको बाहों में भींच कर जोर-जोर से चुमने लगा। मेरा खड़ा लन्ड उसकी पेट में चुभ रहा था। ताशी एक भूरे रंग के प्रिन्टेड सूती सेमी-पटियाला सलवार-सूट पहने थी। उसको भी शायद मन होने लगा था चुदाने का। वो अब मेरा साथ दे रही थी। मैंने अब पहली बार उसकी चूचियों को पकड़ा और फ़िर उसके चेहरे से अपना ध्यान हटा कर उसकी चुचियों पर लगा दिया। उसके हाथ को मैंने अपने हाथ से पकड़ कर अपने लन्ड पर रख दिया और वो भी मेरा इशारा समझ कर अब लन्ड सहलाने लगी थी। मैंने उसके पीठ की तरफ़ हाथ ले जा कर उसके कुर्ते की जिप खोल दी और फ़िर उसका कुर्ता उतार दिया। सफ़ेद ब्रा में उसके भरी हुई छाती मेरे सामने इतरा रही थी। दोनों बड़ी-बड़ी चूची सामने में एक दुसरे से चिपकी हुई थीं और उसका ब्रा जो शायद थोड़ा पहले का था, बड़ी मुश्किल से उसकी ३६ साईज की चुचियों को सम्भाले हुए था।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!