तुझे मज़ा आयेगा-2

(Tujhe Maza Aayega-2)

 

इससे पहले कि मैं आगे की कहानी बताऊँ, मैं आपको अपने बारे में बताती हूँ।

मेरी उम्र 18 साल है और कद 5 फ़ुट 5 इंच है। रंग भी काफी गोरा है, मेरे वक्ष भी कसे हुए हैं, इतने बड़े नहीं पर बिल्कुल गोल हैं और मेरे चुचूक काफी लम्बे हैं। गोरी चूचियों पर सांवले रंग के चुचूक बहुत खूबसूरत दिखते हैं। मुझे देख कर लोग कहते हैं कि मैं मॉडल बन सकती हूँ।

मेरे भैया भी खूब लम्बे और सुन्दर हैं। उन पर तो मेरी सारी सहेलियाँ मरती हैं। मैं भी उनको अंदर से चाहती हूँ पर यह तो भाई बहन का प्यार है। मुझे मालूम न था कि यह चाहत और भाई बहन का प्यार उस दिन बाथरूम में किस रूप में बदलेगा।

भैया ने मेरी पेशाब वाली जगह से अपना मुँह हटाया और मेरी तरफ देखा। मुझे तो बेहोशी सी आई हुई थी। मेरी टांगों में जैसे कोई दम ही नहीं था, मेरे सारे जिस्म में खुमारी सी छा गई थी।

इतने में भैया ने लेटे-लेटे ही अपने हाथ मेरी टी-शर्ट के नीचे डाले और मेरे मम्मों को सहलाना शुरू कर दिया।

मैंने महसूस किया कि उनके छूने से मेरे चुचूक एकदम तन गए हैं और मीठा मीठा सा दर्द हो रहा है।

भैया बोले- क्या मैं तेरी टी-शर्ट भी उतार दूँ?

मैंने कहा- भैया, मैं तो फिर बिल्कुल नंगी हो जाऊंगी !

भैया बोले- तू कहती हो तो मैं भी अपने कपड़े उतार देता हूँ।

मैंने कहा- भैया मुझे जिंदगी में इतना मज़ा कभी नहीं आया ! आप जो बोलेंगे मैं कर दूँगी।

फिर भैया ने मेरी टी-शर्ट भी उतार दी। मैंने नीचे कोई ब्रा नहीं पहनी थी, मैं अब भैया के सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी।

फिर भैया ने भी अपने बाकी के कपड़े उतार दिए।

हम एक दूसरे के सामने बिल्कुल नंगे खड़े थे।

कुछ देर हमने एक दूसरे को ऐसे ही देखा और फिर भैया मेरी तरफ बढ़े और मेरे नंगे जिस्म को अपने नंगे जिस्म से चिपका लिया। उनके होंठ मेरे होंठों से जुड़ गए। उनकी पेशाब वाली चीज़ मेरी पेशाब वाली जगह को छूने लगी।

मेरे जिस्म में फिर से आग सी लग गई, मैंने कहा- भैया, तुम्हारी पेशाब वाली चीज़ फिर बड़ी हो रही है !

भैया बोले- पगली, इसे पेशाब वाली चीज़ नहीं कहते।

फिर क्या कहते हैं भैया? मैंने पूछा।

मेरे भैया अपना मुँह मेरे कान के पास लाये और बोले- इसे लंड कहते हैं।

अपनी जीभ मेरे मुँह में डालते हुए फुसफुसाए- बोल न मेरी बहन, एक बार ! क्या कहते हैं इसे?

मैंने कहा- ओह भैया, यह तुम्हरा लंड फिर कितना मोटा हो गया है और मेरी पेशाब वाली जगह पर मस्ती कर रहा है।

भैया बोले- पगली तेरी पेशाब वाली जगह को चूत कहते हैं।

भैया, तुम्हारा लंड मेरी चूत में घुसने की कोशिश कर रहा है।

क्या तुझे मेरा लंड अच्छा लगा?

हाँ ! मैंने अपनी नज़र नीचे करके बोला।

तो ले ले ना हाथ में !

मैने उनका लंड हाथ में ले लिया जो अब तक फिर से इतने मोटा और लम्बा हो गया था, कम से कम नौ इंच का होगा।

चल अब बिस्तर पर चलते हैं ! और मेरे कुछ कहने से पहले ही मेरे भैया ने अपना हाथ मेरी नंगी कमर में डाला और मुझे अपने बेडरूम की तरफ ले गए। मैंने अभी भी उनका मोटा लंड अपने दायें हाथ से पकड़ा हुआ था।

बिस्तर पर जा कर मेरे भैया ने पूछा- तुझे अब तक सबसे अच्छा क्या लगा?

मैंने अपनी आंखे नीचे करके कहा- जब मेरी चूत से वो पानी जैसी लेस निकल रही थी तो मैं तो जैसे जन्नत में थी और तुम्हारे लंड से जब पिचकारी छुटी तो उस लेस का स्वाद भी मुझे बहुत अच्छा लगा।

तब भैया बोले- तो पिएगी और मेरे लंड की पिचकारी?

मैंने फिर आंखे नीचे कर के अपनी गर्दन हाँ में हिलाई।

मेरे भैया बोले- तो ले ले मेरे लंड को अपने मुँह में और इसे लॉलीपोप जैसे चूस !

मैंने कहा- भैया, पर यह तो गन्दा होता है, मैं इसे कैसे मुँह में ले लूँ?

भैया बोले- मेरी प्यारी छोटी बहन ! यह गन्दा नहीं होता, यह तो ऐसी चीज़ है जिसके बगैर आदमी और औरत रह ही नहीं सकते।

मेरे भैया ने फिर अपना हाथ मेरे सर पर रखा और उसे अपने लंड की ओर ले गए।

उनका लंड अब मेरे मुँह के पास था। लंड का आगे का मोटा वाला भाग चमक रहा था, उसमें से फिर से लेस जैसा कुछ निकल रहा था। मुझ से रहा नहीं गया और मैंने उसको अपनी जीभ से चाट लिया। उस लेस को चाटते ही मालूम नहीं मुझे क्या हुआ, मैंने एकदम सो वो मोटा लंड अपने मुँह में डाल लिया और उसे चूसने लगी।

मेरे भैया तो जैसे पागल हो गए और बोले- हाँ मेरी जान हाँ ! प्लीज़ चाट इसे और निकाल ले मेरा जूस और पी जा इसे ! ओह मेरी बहन ..मेरी रंडी बन जा और चूसती रह इसे उम्र भर !

अपने भैया के मुँह से ऐसी बात सुनकर मैं और भी गर्म हो गई और जोर से उनके लंड को चूसने लगी।

मेरे भैया बोले- ओह मेरी जान ! अपनी एक ऊँगली मेरी गांड के छेद में डाल दे !

मैंने वैसा ही किया। अब भैया का लंड मेरे मुँह में था और मेरी एक ऊँगली उनकी टट्टी वाली जगह में थी।

उनके हाथ मेरे दोनों मम्में दबा रहे थे, मेरे टांगों के बीच से भी पानी जैसी लेस निकल रही थी।

अचानक भैया एकदम से अकड़ गए और बोले- ओह मेरी जान, मेरी बहन, मेरी रंडी ! मेरा छुटने वाला है !

और मैंने ऊँगली उनकी टट्टी वाली जगह में और जोर घुसाई तो वो बोले- हाँ मेरी जान, घुसा दे अपनी ऊँगली मेरी गांड में !(तब मुझे पता चला कि टट्टी वाली जगह को गांड कहते हैं)

उसी वक्त भैया ने अपने लंड को मेरे मुँह में एक झटका दिया और बहुत तेज़ पिचकारी छोड़ी। गर्म गर्म लेस उनके लंड से निकला और मेरे मुँह में गया। वो इतनी तेज़ी से आया था कि मुँह से बाहर भी निकल गया।

पर मैं तो एक एक एक बूंद को चाटने लगी, जो लेस मेरे मुँह से बाहर निकला था उसे मैं अपनी ऊँगली से अपने मुँह में डालने लगी और मेरे भैया का लंड मेरे मुँह में छोटा होने लगा पर मैंने उसे मुँह में ही रखा और धीरे धीरे चूसती रही जब तक कि आखरी बून्द उसमें से नहीं निकल चुकी थी। अब तक मेरी चूत से भी दो बार लेस छुट चुकी थी।

आगे की कहानी बाद में !

Loading...