ट्यूशन के साथ सेक्स का काम-2

Tution ke sath sex ka kam-2

फिर मैंने यह बात सुनी और झट से हाँ बोल दिया और उसके अगले दिन मैंने पापा से आग्रह किया कि में ट्यूशन कार से जाऊंगा, उन्होंने भी मना नहीं किया और फिर ट्यूशन के बाद में और रिया बाहर एक सुनसान वाले रास्ते पर चले गये और जैसे ही मैंने कार साईड में रोकी और मैंने उसको पकड़ा और उसे किस करने लगा, वो भी मुझको पागलों के जैसे किस करने लगी. फिर मैंने उसके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाना शुरू कर दिया और उसका भी एक हाथ मेरे लंड की तरफ चला गया और वो पेंट के ऊपर से ही उसको मसलने, सहलाने लगी.

फिर मैंने भी अपना हाथ उसकी स्कर्ट के नीचे से डाला और उसकी पेंटी को मसला और मैंने महसूस किया कि वो एकदम गीली थी. फिर मैंने एक साईड से पेंटी में हाथ डाला और अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी और वो एकदम चिल्ला उठी, उतने में एकदम से पुलिस वहाँ से निकली और हम डर गये. फिर मैंने जल्दी से कार स्टार्ट कर ली और वापस घर आ गए. रात को वैसे ही हमने 11 बजे के बाद चेट करना शुरू किया और रूम लॉक करके हम दोनों ऐसे ही एक दूसरे के सामने नंगे हो गए, वो क्या लग रही थी.

मैंने पहली बार ऐसे किसी लड़की को नंगी देखा था सिर्फ ब्लूफिल्म को छोड़कर, उसकी चूत एकदम शेव की हुई हल्की गुलाबी कलर की थी. फिर उसने मेरे सामने डांस किया और अपनी चूत को प्यार करती रही और में भी मुठ मारता रहा. उसने इतने में कहा कि अब उससे कंट्रोल नहीं होता, उसको सेक्स करना है.

फिर मैंने उसे बताया कि एक रात के लिए मेरे माता, पिता किसी की शादी के लिए हरियाणा जा रहे हैं और में ट्यूशन की वजह से नहीं जा रहा हूँ तो तुम भी अपने माता, पिता को बोल दो कि एक रात के लिए असाइनमेंट करनी है, इसलिए तुम भी अपनी एक किसी फ्रेंड के घर पर जा रही हो तो वो मान गयी और उसके बाद हम दोनों सो गये. मुझे बैचेनी से आने वाले कल का इंतज़ार था और आख़िरकार वो दिन आ ही गया और शनिवार को दोपहर तक मेरे माता, पिता शादी में चले गये और में घर पर एकदम अकेला था और हमारे घर पर कोई नौकर भी नहीं है.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  कुँवारी लड़की को पेला पढ़ाई में हेल्प के बदले-3

फिर मैंने रिया को एक मैसेज किया कि वो घर पर जल्दी से आ जाए और एक घंटे क बाद दरवाजे पर लगी बेल बजी और मैंने दरवाजा खोलकर देखा कि वो रिया थी, वाह आज उसमें क्या बात थी. उसने एक लाल कलर का टाईट टॉप पहना हुआ था और उसके नीचे सफेद कलर की लोंग फ्रॉक पहनी हुई थी और फिर मैंने उसे जल्दी से अंदर बुलाया और दरवाजा अंदर से लॉक करते ही उसको पकड़ा और किस करने लगा, हमने दस मिनट तक किस किया और जिसके साथ साथ मैंने उसके बूब्स को भी ज़ोर ज़ोर से दबाया, जिसकी वजह से उसके मुहं से अयायाअयाया औऊऊउ आईईईई वाली भी आवाज़ निकल रही थी.

फिर मैंने जल्दी से पकड़कर उसकी स्कर्ट को उतार दिया, उसने नीचे लाल ही कलर की डोरी वाली पेंटी पहनी हुई थी. फिर मैंने उसको सोफे पर लेटाया और उसकी चूत को चाटने लगा, वो पागलों की तरह मेरे बालों में अपना हाथ घुमा रही थी और साथ साथ अपने बूब्स भी दबा रही थी. फिर मैंने अपने कपड़े उतारे और उसके भी और अब मेरी दिल की इच्छा एक लड़की को अपने सामने पूरी नंगी देखने की पूरी हो गयी और हम एक दूसरे से पागलों की तरह लिपट गये, उसके बूब्स मेरी छाती को छू रहे थे.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर मैंने उसकी गांड पर एक थप्पड़ मारा और उसके जिस्म में जैसे एक करंट सा दौड़ गया और फिर मैंने उसको अपने डाइनिंग टेबल पर ही लेटाया और जल्दी से फ्रिज के पास जाकर बर्फ लेकर आया और उसके जिस्म पर रख दिया, वो अपने दोनों पैरों को ऐसे मसलने लगी. फिर मैंने उसके सारे जिस्म को चूमा और फिर धीरे धीरे किसी भूखे शेर की तरह उसे चाटने लगा, वाह क्या मज़ा आ रहा था. मेरा लंड एकदम से 90 डिग्री पर खड़ा था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  जवानी की झलक दिखाई

फिर उसने फिर से मुझे कुर्सी पर बिठा दिया और मेरे लंड को चूसने लगी और वो ऐसे चूस रही थी जैसे पता नहीं कि वो कितनी बड़ी रंडी हो. मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और एकदम मेरा सारा माल उसके मुहं में निकल गया. उसने फिर से मुझे बेडरूम में चलने के लिए कहा और हम बेडरूम की तरफ गये. मैंने वहाँ पर पहले से ही सारी तैयारी की हुई थी, कंडोम, चोकलेट सब कुछ था. फिर मैंने उसको बेड पर बिठाया और उसके ऊपर चोकलेट को डाल दिया और उसके बूब्स को चूसने लगा और फिर उसकी चूत पर डाला और जीभ से उसकी चूत को चाटा.

फिर उसने मेरे लंड पर डाला और उसे चूसने लगी, एकदम से उसने मेरे लंड को ज़ोर से चूसा और में चिल्लाया और अब वो बहुत गरम हो चुकी थी और उसने मुझसे कहा कि में उसको जल्दी से चोद दूँ, उसकी चूत बहुत प्यासी है और में जल्दी से उसकी चूत को शांत करूँ. फिर मैंने जल्दी से कंडोम पहना और लंड उसकी चूत में डालने लगा, लेकिन उसकी चूत बहुत टाईट थी, क्योंकि वो वर्जिन थी तो मैंने थोड़ा सा लंड अंदर डाला तो उसके मुहं से आवाज़ निकली, आहहाआहह अयाआह यह सुनकर में और भी गरम हो गया और मैंने ज़ोर से एक धक्का देकर अपना लंड उसकी चूत में घुसा दिया और वो एकदम ज़ोर से चिल्ला गई, शायद उसको बहुत दर्द हुआ था.

फिर उसने मेरे हाथों को अपने नाख़ून से नोच दिया और मुझसे लंड को बाहर निकालने का आग्रह करने लगी, लेकिन मैंने उसकी एक भी नहीं सुनी और में लंड को चूत में डालकर एकदम शांत हो गया और जब मैंने कुछ देर बाद लंड को बाहर निकाला तो वो खून से भरा हुआ था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  चुदाई का खेल पार्क में गर्लफ्रेंड के साथ

फिर मैंने उसको धीरे से अंदर डाला और धीरे धीरे से अंदर बाहर डालने लगा और अब उसको अच्छा लग रहा था तो उसने फिर से कहा कि ज़ोर से चोद बहनचोद, यह सुनकर मैंने पूरी ज़ोर से अपना लंड डाला और उसकी चूत की भूख बुझा दी और फिर मैंने उससे कहा कि पोज़िशन चेंज करो. फिर हमने डॉगी स्टाईल में भी सेक्स किया, दो घंटे तक लगातार सेक्स करने के बाद हम एक साथ में नहाए. फिर मैंने उसके बूब्स को बहुत देर तक चूसा और ऐसे ही हमने उस रात 4-5 बार सेक्स किया और अगली सुबह वो अपने घर पर चली गयी.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!