अमेरिका में देसी लड़की की सील तोड़ी-1

Usa wali desi ladki ki seal todi-1

हैल्लो दोस्तों, यह मेरी  पहली स्टोरी है. में 7 साल से अमेरिका में रह रहा हूँ, मेरा नाम जीतू है, में पंजाबी मुंडा हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 9 इंच है. अब में आपका समय ख़राब नहीं करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ.

जैसे कि मैंने आपको बताया कि में 7 साल से अमेरिका में रहता हूँ. फिर भी में अमेरिकन लोगों की तरह खुला नहीं हूँ. यह आज से 1 साल पहले की बात है जब में 12वीं क्लास में था. मेरे साथ एक इंडियन लड़की पढ़ती थी, उसका नाम प्रिया था, उसका फिगर सामान्य था. उसकी हाईट 5 फुट 4 इंच थी और वो बहुत सेक्सी थी. प्रिया चंडीगढ़ की रहने वाली थी और अमेरिका में नयी-नयी आई थी तो इसलिए उसकी इंग्लिश अच्छी नहीं थी. हमारी सभी क्लास एक साथ थी, लेकिन उसने कभी भी मुझसे बात नहीं की थी.

फिर एक दिन हम लोग केमिस्ट्री की क्लास में बैठे थे, तो एक चाइनीज लड़के ने उसे इंडियन होर कहा और उसकी बेज्जती की.

फिर तब प्रिया को इतना समझ में नहीं आया, लेकिन मैंने उठकर उस चाइनीज को पकड़ा और सर के पास ले गया, तो सर ने उसे एक हफ्ते के लिए सस्पेंड कर दिया, तो प्रिया बहुत खुश हुई. अब मुझे भी एक इंडियन लड़की की मदद करके बड़ा अच्छा लगा था. फिर उस दिन के बाद से उसने मेरे पास बैठना शुरू कर दिया और मेरे साथ बातचीत करना शुरू कर दिया. अब हम धीरे-धीरे बहुत ही अच्छे फ्रेंड बन गये थे.

अब किसी भी चीज में कोई मदद चाहिए होती तो वो मुझे कॉल कर लेती थी, तो में उसकी मदद कर देता था. मैंने कभी भी प्रिया को गलत नजर से नहीं देखा था और में उसके बारे में भी यही सोचता था कि वो भी मुझे सिर्फ़ एक अच्छा दोस्त समझती है.

फिर एक दिन उसने मुझे कॉल किया और बोली कि जीतू मुझे लर्नर पर्मिट के लिए टेस्ट देने जाना है (अमेरिका में ड्राइविंग लाइसेन्स लेने से पहले लर्नर पर्मिट के लिए रिर्टन टेस्ट देना पड़ता है) तो मैंने उससे बोला कि नो प्रोब्लम और फिर में अपनी कार लेकर उसे लेने चला गया. फिर जब में उसके घर पहुँचा, तो आंटी यानि उसकी माता जी ने मुझे चाय पिलाई और प्रिया को आशीर्वाद दिया (प्रिया की मम्मी थोड़े पुराने ख्यालों वाली औरत है)

फिर हम लोग घर से निकले और कार में बैठ गये. अब रास्ते में प्रिया अपने टेस्ट के लिए रिव्यू कर रही थी, तो अचानक से एक गाड़ी वाले ने जो हमारे सामने जा रहा था ब्रेक लगा दी और हमारी गाड़ी का एक्सिडेंट होने से बाल बाल बच गयी. फिर मैंने बाहर निकलकर दनादन उसे गालियाँ दी मदरफुक्कर, इडियट, लेकिन वो कमीना भाग गया था. फिर जब में वापस से कार में बैठा तो प्रिया मुझसे पूछने लगी कि यह मदरफुक्कर क्या होता है? तो मेरा मुँह बंद हो गया और सोचने लगा कि अब इसको क्या कहूँ?

तो वो ज़िद करने लगी की जीतू बताओ वरना में टेस्ट में अच्छा नहीं करूँगी. तो मैंने कहा कि इसका मतलब होता है मादरचोद. तो वो बोली कि यह मादरचोद क्या होता है? तो में सोचने लगा कि साली कितना सिर खा रही है? तो मैंने कहा कि यह गंदी बातें है, तुम नहीं समझोगी. तो वो कहने लगी कि हाँ-हाँ में क्यों समझूंगी? मुझे कौन है जो समझाएगा?

मुझे बुरा लगा तो मैंने उससे बोला कि ज़्यादा नौटंकी मत करो और चुपचाप बैठो. फिर थोड़ा आगे जाकर पता नहीं प्रिया के दिमाग़ में क्या आया? वो कहने लगी कि जीत सच बताना कि में तुम्हें कैसी लगती हूँ? तो मैंने कहा कि तुम मेरी सबसे अच्छी दोस्त हो.

वो कहने लगी कि प्यार का पहला स्टेप दोस्ती होता है और में दोस्ती वाला स्टेप पीछे छोड़ना चाहती हूँ और प्यार वाले स्टेप पर पैर रखना चाहती हूँ. अब में हैरान सा हो गया और सोचने लगा था. तो प्रिया बोली कि मुझे अपनी दोस्ती की खातिर हाँ मत कहना और घर जाकर सोचना और मुझे बताना, तो मैंने कहा कि ठीक है.

फिर उस दिन से प्रिया के लिए मेरे मन में विचार एकदम बदल गये. अब धीरे-धीरे में भी उसके प्यार में पड़ने लगा था और फिर एक दिन मैंने उसे फोन किया और बोला कि प्रिया तुम्हारी तरह में भी दोस्ती वाला स्टेप पीछे छोड़ना चाहता हूँ और प्यार वाले स्टेप पर चढ़ना चाहता हूँ. तो प्रिया बहुत खुश हो गयी और फिर हमने काफ़ी देर तक बातें की और फोन काटने के टाईम प्रिया ने मुझसे बोला कि आई लव यू.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मेरी आवाज़ काँपने लगी, लेकिन मैंने भी संभलते हुए बोल दिया कि आई लव यू टू प्रिया और फोन रख दिया. दोस्तो किसी लड़की को आई लव यू बोलने का यह मेरा पहला अनुभव था.

अगले दिन हम लोग स्कूल गये, तो प्रिया ने भागकर मुझे हग किया और एक लंबा किस किया और कहने लगी कि जीतू में तो पहले दिन से तुम्हारी बन गयी थी, एक तुम ही थे जो दोस्ती की माला जपते रहते थे. फिर में कुछ नहीं बोला और उसे किस किया और फिर हम क्लास में चले गये.

अब प्रिया बहुत ज़्यादा खुश रहने लगी थी, मानो उसे पर लग गये हो. अब में भी बहुत खुश था क्योंकि प्रिया बहुत खूबसूरत थी. अब काफ़ी दिन गुजर गये थे. फिर एक दिन प्रिया ने बोला कि चलो स्कूल छोड़कर मूवी देखने चलते है, तो मैंने बोला कि ओके और फिर में अपने घर से अपनी गाड़ी ले आया और हम दोनों मूवी देखने चले गये.

अब रास्ते में जब भी हम स्टॉप सिग्नल पर रुकते, तो प्रिया मुझे कसकर पकड़ती और किस करने लगती. अब यह करते-करते हम लोग मूवी थियेटर पहुँच गये थे. फिर हमने अमेरिकन पार्ट-4 मूवी देखना डिसाइड किया, जो कि बहुत सेक्सी मूवी थी.

अब हम लोग मूवी देखने बैठ गये थे. फिर थोड़ी देर के बाद उस मूवी में एक सीन आया, जब लड़का लड़की के बूब्स दबाता है. तो प्रिया यह देखकर गर्म हो गयी और मेरा हाथ पकड़कर अपने बूब्स पर रख दिया और मेरे कान में बोली कि जीतू अब कंट्रोल नहीं होता है, जानू अब मेरी आग बुझाओ ना. फिर में उसका बूब्स दबाने लगा, अब में भी बहुत गर्म हो गया था.

फिर मैंने प्रिया के कान में कहा कि प्रिया यह मूवी छोड़ो, हम खुद कुछ करते है. फिर प्रिया बोली कि हाए मेरे राजा, ये कही ना मेरे दिल की बात और फिर हम लोग मूवी के बीच में ही उठकर बाहर आ गये. फिर मैंने बाहर आकर देखा तो प्रिया का रंग एकदम लाल हो गया था.