आंटी ने आंटियों को चुदवा के बनाया जिगोलो

Aunty ne auntyo ko chudwa ke banaya jigolo

Hot Aunties, मेरा नाम रोहित है और मेरी उम्र २७ साल है।

यह मेरी पहली कहानी है।

मैं आप लोगों को आज से तीन साल पहले, जब मैं अपनी मास्टर डिग्री कर रहा था, उस समय मेरे जीवन में घटी सच्ची घटना के बारे में बताने जा रहा हूँ।

मैं रोहतक में अपने दोस्त के मकान के ग्राउंड फ्लोर में किराये पर रहता था और उसी मकान के एक फ्लोर पर एक तीस साल की औरत अपने चार बच्चों के साथ रहती थी, और उसका पति सूरत में कपड़ों का काम करता था।

उस वर्ष हम आस-पड़ोस के बच्चों और औरतें के साथ लोहड़ी की आग सेंक रहे थे, आग ख़त्म होने के बाद सब अपने-अपने घर चले गये।

मैं अपने रूम में जाने से पहले वाशबेसिन पर अपना मोबाइल रख कर बाथरूम में पेशाब करने चला गया और पीछे से उन आंटी ने मेरे मोबाइल से अपने मोबइल में मिस कॉल करके मेरा नंबर ले लिया और रात को मेरे को मिस कॉल कर-कर के परेशान करती रहीं।

आखिर में मैंने अपना सेलफोन बंद किया और सो गया, अगले दिन कॉलेज से वापस आने के बाद मैंने उस नंबर का पता करने की सोची कि आख़िर वो किसका है।

जब मैंने उस नंबर पर कॉल किया तो छत पर फ़ोन बजने की आवाज आई और उसने फोन कट कर दिया, मैंने फिर दोबारा फ़ोन किया तो इस बार उसने फ़ोन उठाया और बात करने लगी।

मैंने उससे पूछा – आप कौन बोल रहे हो?

उसने मुझे कहा – आपको मुझे अगर प्यार करना हो तो बताऊँ कि मैं कौन बोल रही हूँ? और फ़ोन कट कर दिया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  आर्यन एक सेक्स कथा-6

मुझे अब उस पर शक हो गया कि वो शायद ऊपर वाली आंटी हो सकती हैं। फिर मैं छत पर गया, वो भी वहीं बैठी थीं।

अब छत पर ही जब मैंने उस नंबर पर कॉल किया तो उसका मोबाईल बज उठा और वो मेरा नंबर देख कर हँसने लगी और कहा कि आपको पता चल ही गया।

फिर मेरे पूछने पर उसने बता दिया कि उसने मेरा नंबर कैसे और क्यों लिया।

उसके बाद जब मैं अगले दिन दूसरे फ्लोर पर बने बाथरूम में फ्रेश हो रहा था तो मौका देख कर वो आंटी भी अंदर आ गयी।

जब मैंने उनको बाहर जाने के लिए कहा तो उन्होंने मना कर दिया और कहा कि दरवाजा खुला छोड़ दूंगी और लोगों को चिल्ला के बुला लूँगीं अगर ज्यादा बोलेगे तो, और मुझे चोंटी काटने लगी।

मेरे मना करने के बाद जब वो नहीं मानी तो मैंने उसके चुचे भींच दिए, वो दर्द से पीछे हटने लगीं तो उनका ब्लाउज आगे से थोड़ा सा फट गया।

मैंने उसको पकड़ कर जोर-जोर से उसकी चूचियां भींचने लगा और वो सी-सी की आवाज़ करने लगी।

फिर मैंने उसका पूरा ब्लाउज खोल दिया, उसने ब्रा नहीं पहनी थी, जिससे उसकी ३८” की चुचियाँ नंगी दिखाई देने लगी।

उनको देख कर मुझे जोश आ गया और मैं उनको अपने मुँह में पकड़ कर चूसने लगा और एक हाथ से उसकी साडी खोलने लगा।

मुझे उस समय बहुत ही मजा आ रहा था, उसका पता नहीं। लेकिन वो मेरे सिर को पकड़ कर अपनी छाती पर जोर से दबा रही थी।

साडी निकालने के बाद मैंने उसके पेटीकोट को उपर उठाया और उसके चूतड़ भींचने लगा और वो सी-सी करने लगीं और अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और मेरे हाथ पकड़ कर हटा दिया, जिससे उसका पेटीकोट नीचे गिर गया और फिर से उसके चुतड दबाने लगा।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  देसी गर्ल व्हाट्सप्प नंबर को सेक्सी चैट से पटाया,

वो मेरा लण्ड पकड़ कर अपनी चूत पर रगड़ने लगी, जब लण्ड अंदर नहीं जा रहा था तो उसने अपनी टाँगें चौड़ी कर ली जिससे मेरे हाथ की उंगली उसकी गाण्ड के छेद पर लगने लगी।

अब वो नीचे बैठ गयी और मेरे लण्ड को चूसने लगी, थोड़ी देर बाद मेरा पानी निकल गया और वो सारा पानी पी गई।

जब मेरा ढीला पड़ गया तो वो उसको दोबारा मुँह में ले कर चूसने लगी, अब तो तो मेरा लण्ड पहले से भी बड़ा हो गया।

लगभग ७” का हो गया था मेरा लण्ड और वो खड़ी हो कर मेरे लण्ड को अपनी चूत में डालने लगी और मैं उसके होंठ चूसता रहा।

जब मेरा लण्ड अंदर नहीं गया तो मैंने उसको झुकने को कहा।

मैं उसकी ३८” की गाण्ड देख कर ललचा गया और लण्ड उसकी गांद में ही पेल दिया, जिससे उसको दर्द होने लगा और मैं उसकी चुचियाँ पकड़ कर भिचने लगा और आगे-पीछे होने लगा।

अब तो उसको भी मजा आने लगा और मेरा साथ देने लग गई।

फिर मैंने अपने हाथों से उसकी चूत को पकड़ लिया और चूत में उंगली करने लगा, जिससे उसको और ज्यादा मजा आने लगा।

अब वो कहने लगी – प्लीज, मेरी चूत भी चोद दो।

मैंने उसकी तड़प को देख कर उसकी चूत में लण्ड डाल दिया और आगे-पीछे होने लगा। वो भी आगे-पीछे होने लगी, उसको बहुत ही मजा आ रहा था और पीछे अपना हाथ करके मेरे चुतड पकड़ने की कोशिश कर रही थी।

करीब १५-२० की चुदाई के बाद उसने अपना पानी छोड़ दिया और नीचे बैठ गई।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  सोनिया रंडी की ट्रेन में चुदाई-2

जब मैंने उसको कहा – मेरा पानी नहीं निकला है तो उसने मुँह से मेरा लण्ड चूस कर मेरा पानी निकल दिया।

फिर हम दोनों नहा कर नीचे आ गए और वो अपने रूम में और मैं अपने में आ गया, और इस तरह हमारा प्रतिदिन सेक्स का कार्य चलने लगा।

एक दिन उसने मुझ से कहा कि वो पड़ोस वाली मीनू आंटी भी चुदवाना चाहती है तो मैंने पूछा कि क्या मीनू को किसने बताया?

उसने कहा – मैंने।

फिर जब वो मुझसे बार-बार कहने लगी, तब मैंने मजाक में कह दिया कि पैसे लगेंगे। तब तो उसने कुछ जवाब नहीं दिया।

एक दिन जब में कॉलेज से जल्दी आ गया था तो उसने मुझे ऊपर बुला लिया और हम अपनी शरारत करने लगे और इतने में मीनू आंटी आ गई और मुझे पीछे से पकड़ लिया, और चूमने लगी।

फिर मैंने उसके साथ भी सेक्स किया और उसने मुझे ३०००/- रुपए भी दिए, इस तरह वो दोनों मिलकर मेरे से रुपयों में औरते चुदवाने लगी और मैं जिगालो बन गया, आज कल मैं दिल्ली में रहता हूँ।

प्लीज़, मुझे जरुर बताना कि मेरी पहली कहानी कैसी लगी।

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!