भाभी को दो बच्चों की माँ बनाया-1

Bhabhi ko do bacho ki maa banaya-1

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम पीयूष है और में गुडगाँव हरियाणा से हूँ और आज में आप सभी चाहने वालो को अपना एक सच्चा सेक्स अनुभव बताने जा रहा हूँ. यह एक अच्छी चुदाई की घटना है जो कुछ समय पहले मेरे साथ घटित हुई और अब ज़्यादा बातें ना करते हुए में आप लोगों को अपना मनपसंद सेक्स अनुभव पूरा विस्तार से बता रहा हूँ.

दोस्तों यह बात तब की है जब में करनाल हरियाणा में रहता था और मेरी गर्लफ्रेंड उस समय दिल्ली में नौकरी करने लगी थी. उसका नाम शालिनी था और वो एक बहुत बड़ी प्राईवेट कम्पनी में नौकरी करती थी. में उसके साथ उसके फ्लेट में रहता था और उसे बहुत बार चोदता था, लेकिन दोस्तों यह कहानी उसके बारे में नहीं है. एक दिन में अपनी गाड़ी लेकर दिल्ली से वापस आ रहा था तो वो सर्दियों का समय था और उस समय बहुत ठंड पड़ रही थी.

में दिल्ली से कुछ किलोमीटर दूर निकला ही था कि मैंने देखा कि रास्ते में एक बस खराब हो गई है और बहुत सारे लोग दूसरी बस का इंतजार कर रहे थे तभी मुझे एक सुंदर सी औरत 30-32 साल की अलग सी खड़ी दिखाई दी. फिर मैंने थोड़ी हिम्मत करके उससे कहा कि अगर आपको बुरा ना लगे तो क्या में कोई आपकी मदद कर सकता हूँ? तो उसने तुरंत कहा कि हाँ जी मुझे अंबाला जाना है और यह बस भी खराब हो गई है और दूसरी बस पता नहीं कब आएगी?

फिर मैंने भी मौके पर चौका मार दिया और उससे कहा कि हाँ में भी अंबाला ही जा रहा हूँ, अगर आप कहे तो में आपको वहां तक छोड़ दूँगा? अब उसने इधर उधर देखा फिर मेरी तरफ देखा और कहा कि ऐसे किसी अंजान लड़के पर में कैसे विश्वास कर लूँ? तो मैंने उससे कहा कि वो तो आपको देखना है कि में आपके विश्वास के लायक हूँ या नहीं, आप अकेले से और परेशान खड़े दिखाई दिए इसलिए मैंने अपनी गाड़ी रोक ली वरना तो यहाँ पर सारी दुनिया खड़ी है और वैसे मेरा नाम पीयूष है और में अंबाला में रहता हूँ.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी की अदा पर हम फिदा

फिर वो इतना सुनकर खिड़की से थोड़ा दूर हो गई मुझे लगा कि जा रही है और मैंने अपनी गाड़ी को फिर से स्टार्ट कर लिया तभी उसकी आवाज़ आई अरे मेरा बेग तो गाड़ी में रख दो. तभी मेरे मन में लड्डू फूटा और में झट से उतरा और मैंने उसका बेग गाड़ी की पीछे वाली सीट पर रख दिया. फिर हम दिल्ली से चल पड़े ठंड बहुत थी इसलिए मैंने हीटर चला रखा था तो उसे थोड़ा अच्छा महसूस हुआ और उसने अपनी जेकेट की चैन को खोल दिया और नीचे उसका गहरे गले का सूट जिससे उसकी छाती बिल्कुल साफ दिख रही थी उसके बूब्स का साईज़ करीब 36 का होगा और उसके इतने सेक्सी बूब्स को देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया.

फिर मैंने लंबी साँस लेते हुए उससे पूछा कि आपका नाम क्या है? अब उसने अपना नाम रवीना बताया और फिर बताया कि में अपने पति को एरपोर्ट तक छोड़ने आई थी. में हर बार आती हूँ, लेकिन आज उनकी फ्लाइट थोड़ा लेट हो गई और इसलिए मुझे ज़्यादा समय लग गया. फिर मैंने उससे कहा कि अच्छा तो आपके पति बाहर है ( दोस्तों मुझे पति से क्या लेना देना था? में तो उसी के बारे में जानकारी निकालने लगा) और आप क्या करते हो? तो वो बोली कि में सारा दिन घर पर रहती हूँ और अपनी सास, ससुर देवर के पास रहती हूँ और हमारे बच्चे नहीं है और मेरे पति बाहर रहते है, में साल साल भर अकेली रहती हूँ. फिर मैंने पूछा कि अरे यार कितना समय हो गया है आपकी शादी को? तो वो बोली कि पूरे 6 साल

हिंदी सेक्स स्टोरी :  पति के दोस्तों के साथ मनायी सुहागरात-1

में : क्यों फिर भी कोई बच्चा नहीं?

रवीना : नहीं बस अभी मेरे पति का मन नहीं है.

में : और आपका?

रवीना : ह्म्‍म्म्म लंबी साँस के बाद, अरे यार मेरे मन होने ना होने से क्या फ़र्क पड़ता है?

अब मुझे वो कुछ ज्यादा दुखी सी लगी, तभी मैंने अपनी बात को बदल दिया और में उससे बोला कि अगर आप बुरा ना मानो तो क्या में एक बात बोलू?

रवीना : बोलो?

में : वैसे आप हो बहुत सुंदर और आपका पति बड़ा खुसकिस्मत है जिसे आप जैसी सुंदर पत्नी मिली.

अब वो मुझसे बोली कि हाँ वो तो बहुत खुशकिस्मत, लेकिन मेरी किस्मत का क्या? पता नहीं कब खुलेगी मेरी किस्मत?

में : क्यों ऐसा क्या हुआ आपकी किस्मत को?

रवीना : कुछ नहीं छोड़ो तुम कुछ अपने बारे में बताओ.

मैंने कहा कि कुछ नहीं जी में तो बस कंप्यूटर ऑपरेटर हूँ और गुड़गांव में नौकरी करता हूँ और अभी वहीं से आ रहा हूँ, एक और बात यार में अपने आप को रोक नहीं पा रहा हूँ बोलने से कि शादी के इतने सालो बाद भी आपने फिगर को बड़ा सम्भालकर रखा है नहीं तो इतने सालों में तो सभी औरते बेकार हो जाती है.

रवीना : हंसते हुए अच्छा जी आपको ऐसा क्यों लगा?

में : सच बताऊँ तो आपने जब अपनी जेकेट की ज़िप खोली तो मेरी नज़र.

रवीना : तुरंत मेरी बात को काटते हुए हाँ मुझे पता है हर लड़के की नज़र सबसे पहले वहीं पर जाती है और वो हंसते हुए बोली मुझे सारा दिन कोई काम थोड़ी है बस में अपने शरीर को सम्भालती रहती हूँ.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

में : फिर हम दोनों मुस्कुराने लगे और फिर मैंने उनसे बोला कि वैसे आप अगर मेरी पत्नी होती तो में आपका पूरा पूरा ख़याल रखता.

रवीना : हाँ, लेकिन जिसके पास जो चीज़ होती है उसकी वो कदर नहीं करता.

में : हम तो करते है जी अगर आप चहो तो कभी हमे आज़माकर भी देख लेना.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  देवर का अंडरवियर में मोटा लंड देख पागल हुई

रवीना : मुझे क्या आज़माना है, जो भी तुम्हारी पत्नी आएगी वो ही तुम्हे आज़माएगी?

में : हाँ वो तो आज़माएगी ही, लेकिन आप जैसी सुंदर बीवी हो तो कसम से निकल पड़ेगी.

रवीना : (हंसते हुए) हाँ मुझसे भी सुंदर आ जाएगी.

में : आप बुरा ना मानो, लेकिन आपका फिगर क्या है?

रवीना : लेकिन, तुम मेरा फिगर जानकर क्या करोगे?

में : करना क्या है बस दिल में यह बात रहेगी कि इतनी हॉट औरत साथ में बैठी और में उससे उसका फिगर भी नहीं पूछ पाया?

रवीना : ओह हॉट क्या सच में, लेकिन मुझे अब बुरा लगने लगा है.

में : मुझे माफ़ करना मेरा मतलब था कि सुंदर.

रवीना : क्यों सिर्फ़ हॉट और कुछ नहीं?

में : मतलब? हॉट तो आप हो ही ना सुंदर भी हो.

रवीना : और क्या?

में : और सेक्सी भी हो मुझे माफ़ करना और वो मेरी बात काटते हुए बोली

रवीना : इतना बच्चो जैसे क्यों व्यहवार कर रहे हो मुझे पता है कि में सेक्सी और हॉट हूँ? जब में बाहर निकलती हूँ तो पड़ोस के सभी लड़के मुझ पर नज़र गढ़ाए रखते है.

में : अब मुझे कुछ अजीब सा महसूस हुआ और में बोला कि आप सच में बड़ी सेक्सी, हॉट और सुंदर हो आपके साथ सेक्स करने वाला तो कसम से बहुत अच्छी किस्मत वाला होगा और अब में मन ही मन सोचने लगा कि यह मैंने क्या बोल दिया? में तुरंत उनसे कहने लगा कि प्लीज़ मुझे माफ़ करना और मेरी बातों को दिमाग में ना लेना, वो में अपने आपको रोक नहीं पाया और पता नहीं क्या बोल दिया?

रवीना : कोई बात नहीं होता है.

में : आपका बहुत बहुत धन्यवाद.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!