भाई ने बीबी की चुत चोदकर गर्भवती किया- भाग 6

Bhai ne biwi ki chut chodkar garbhvati kiya- Part 6

मालिनी ने सिंगल राउंड में झड़ने का अपना रिकॉर्ड तोड़ कर नया रिकॉर्ड बनाया था, वो अभी भी थक कर चूर होकर बेसुध सी बिस्तर पर पड़ी थी, मनु अपना ढीला लंड मालिनी के चुत के ओठों पर घिस रहा था, उसने प्यार से मालिनी के गालो पर थपकी देकर उसको आवाज दी – जान उठो पहला राउंड समाप्त हो चूका है, चलो कुछ चाय नास्ता के बाद दूसरा राउंड खेलेंगे. मालिनी ने अधखुली पलकों से मनु को देखा, मनु ने मालिनी के गालो पर एक किस कर लिया, मालिनी अंगड़ाई लेते हुए उठ बैठी और अपने दोनों हाथो को ऊपर उठाते हुए ख़ुशी जाहिर करती हुयी बोली – हुर्रे मैंने पहले राउंड में बिना चुत में लंड घुसाए ही झड़ने का रिकॉर्ड तोड़ दिया ऐसा कह कर उसने उसके दोनों गालो और माथे पर किस कर लिया।

मालिनी मनु के चरण स्पर्श करने लगी तो मनु ने उसे उठा कर सीने से लगा लिया और बोला – जानू तुम्हारी जगह मेरे हृदय में है दोनों आलिंगन में बंध गए फिर दोनों ने एक साथ खाना खाया (दोनों ने एक दूसरे को खाना खिलाया), खाना खाकर मनु ने मालिनी को कहा – डार्लिंग अब वो घड़ी आ गई है, जिसका मैं और तुम दोनों बेसब्री से इंतजार कर रहे थे. मालिनी मनु की बात समझ कर बोली – मैं बेडरूम में जा रही हूँ आप ५ मिनट बाद आ जाना आपकी दुल्हन आपके लिए तैयार रहेगी ऐसा कह कर मालिनी बेडरूम में चली गयी, करीब पांच मिनट बाद मनु बेडरूम में गया, वाकई संजू ने कमाल का बेड सजाया था मोगरे और गुलाब की लड़ी बेड के चारो और लगायी गयी थी तथा क्रीम कलर की सिल्क की चादर पर गुलाब की पंखुड़ी से दो दिल बनाये गए थे।

बगल के टेबल में कई प्रकार की मिठाई, पान और मसालेदार दूध रखा हुआ था. मालिनी बेड पर छुई मुई सी बैठी हुयी थी, आज सही मायने में उसकी सुहागरात होने वाली थी, इसी बिच मनु ने अंदर कदम रखा, उसने एक नजर मालिनी पर डाली फिर उसने रोमांटिक म्यूजिक लगा दिया, वो बेड पर गया उसने अपने हाथो से मालिनी का घूँघट उठाया, मालिनी अभी भी पलके झुकाकर बैठी थी, मनु ने मालिनी के चेहरे को हाथ में लेकर उसके ओठों को चुम लिया फिर उसने पास रखी मिठाईयो में से एक मालिनी के मुँह में डाल दी, मालिनी ने भी मनु को अपने हाथो से मसालेदार दूध दिया, मनु ने आधा दूध पिया और गिलास मालिनी के ओठों से लगा दिया मालिनी ने दूध पिने के लिए न किया तो मनु ने जबरदस्ती मालिनी को दूध पीला दिया।

फिर उसके बाद मनु ने दोनों पानो (ये पान खास सुहागरात के लिए बनाये गए पान थे जो जुम्मन मिया की दुकान से लाये गए थे जिन्हे पलंग तोड़ पान कहा जाता था इन पान की खासियत ये थी की अगर कोई नामर्द भी इस पान को खा ले तो औरत का पानी ७-८ बार निकलवा दे, फिर तो मनु एक बांका मर्द था जो बिना पान के भी मालिनी का पानी ७-८ बार निकाल देता था) को अपने हाथो में लेकर एक मालिनी के मुँह में डाल दिया जबकि दूसरे को खुद ने खा लिया, फिर उसने मालिनी का घूँघट पूरा निचे कर दिया और उसकी नथ उतारने लगा आज सही मायने में मालिनी की नथ उतराई थी, उसने एक एक करके मालिनी के सारे शरीर के गहने उतार दिए उसने मालिनी की पीठ पर हाथ फेरते हुए उसे लिटा दिया, अब मनु मालिनी के माथे, गाल, ओठों पर, गर्दन पर और चूचियों पर किस करने लगा मालिनी की सांसे अब तेज तेज चलने लगी, मनु मालिनी की नाभि के अंदर अपनी जीभ फिरना लगा।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दोस्त की बहन को लंड पर नचाया – [पार्ट 3]

मालिनी अब हलकी हलकी सिसकारियां लेने लगी, मनु अब निचे की ओर आने लगा उसने मालिनी के लहंगे के अंदर हाथ डालकर उसके कूल्हे दबाने लगा,मालिनी अब आआआह उफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ सीईई इस तरह की आवाजे निकल रही थी, मनु ने मालिनी को माथे से लेकर पैर तक धीरे धीरे चूमा, फिर उसने मालिनी को पलटा दिया और अब उसकी पीठ और गांड को चूमने लगा मनु मालिनी की पीठ की खुली जगह पर अपनी जीभ से चाटने लगा, वो अपने दांतो से मालिनी की चोली की डोरी खोलने लगा एक एक कर उसने मालिनी की चोली की साडी डोरी खोल दी फिर उसने मालिनी को पलटा दिया और उसके शरीर से चोली को अलग कर दिया अब मालिनी ऊपर सर ब्रा में थी मंन्नु ने मालिनी के क्लीवेज में अपना मुँह लगाकर उसे चूमने चाटने लगा, जुम्मन मिया का पान अब असर करने लगा था, मनु और मालिनी पूरी तरह उत्तेजित हो गए थे वो दोनों जोर जोर से सांसे ले रहे थे, मनु का एक हाथ मालिनी की चूची मसल रहा था जबकि उसका दूसरा हाथ लहंगा का नाड़ा खोल रहा था, कुछ ही पलो मनु ने मालिनी का लहंगा भी उतार कर फेंक दिया।

अब मालिनी सिर्फ ब्रा और अंडरवियर में थी, मनु मालिनी को माथे से लेकर जांघो तक चाटने लगा मालिनी ने अपनी दोनों मुठ्ठी से पलंग की की चादर को कस कर पकड़ लिया, अब वो जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी, मनु ने भी अपनी शेरवानी और पैजामा उतार फेंका अब वो भी सिर्फ अंडरवियर में ही था, मनु का लंड चड्डी फाड़ कर निकलने को बेताब था मनु अब मालिनी के ओठों को लेमन चूस की गोली की तरह चूस रहा था, वो पूरी तरह मालिनी पर छा गया था, वो जोर जोर से मालिनी की चूचियों को मींजने लगा, मालिनी अब उफ्फफ्फ्फ़! आआआआआह! एससससस आईआईए! उफ्फफ्फ्फ़ इस तरह की आवाजे निकाल रही थी।

अचानक मनु ने मालिनी की ब्रा के हुक को पीछे हाथ डाल कर खोल दिया, मालिनी के दोनों कबूतर आजाद हो गए, जिन्हे मनु पागलो की तरह प्यार करने लगा. उसने मालिनी के निप्पल को मुँह में लेकर जोर जोर से चूसने लगा, मालिनी के निप्पल तन कर कड़े हो गए थे, मनु ने मालिनी की चड्डी पर से ही मालिनी की चुत को सहला दिया, मालिनी की चुत बेतहाशा पानी छोड़ रही थी, मालिनी की चड्डी पूरी तरह से चुतरस से भीग गई थी, मनु ने अपनी उंगलियों को मालिनी की चड्डी में फसा कर धीरे धीरे निचे खिसकाने लगा, मालिनी ने भी गांड उठा कर चड्डी को निचे जाने दिया, मालिनी अब जन्मजात नंगी थी मनु ने मालिनी की पाव रोटी की तरह फूल गयी चुत को अपने हाथो से से दबाकर निचोड़ने लगा, बिच बिच में वो चुत में ऊँगली भी कर रहा था।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  गेंदामल हलवाई का चुदक्कड़ कुनबा 2

मालिनी की चुत बहुत ज्यादा रस छोड़ रही थी, मनु ने बिना देरी किये अपना मुँह मालिनी की चुत से लगा दिया उसने मालिनी की चुत के ओठों को फैला कर अपनी जीभ अंदर तक घुसा कर जीभ से मालिनी को चोदने लगा वो चुत के दाने को भी काट रहा था, सारे कमरे में मनु के चुत चाटने से चप चप और मालिनी की सिसकारियों की आवाजे गूंजने लगी, मालिनी – ओह्ह्ह्हह्ह जान उफ्फ्फ्फफ्फ्फ्फ़ अब बस करो मैं सहन नहीं कर पा रही हूँ, उईईई! आआआआह एसससससस ऐसे कहते हुए झड़ने लगी।

मनु ने मालिनी के चुत से निकला हुआ सारा रस चपड़ चपड़ करके पि लिया, झड़ने के बाद मालिनी निश्चिंत लग रही थी, उसने मनु से बोला – जान आपने मुझे एक बार तो झड़ा दिया पर मैं अभी भी पूरी तरह से आपकी दुल्हन नहीं बन पायी हूँ, जानू मेरे पीरियड हुए आज ७ दिन हो गए है ये बढ़िया टाइम है आपके बाप बनने का, हो सकता है आप एक हस्ट पुस्ट बेबी बॉय के पप्पा बन जाओ, मैं तो ये सोच के ही एक्साइटेड हूँ. मनु बोला – हां जान अब तुम तैयार हो जाओ अब मै तुम्हारे पेट में अपना बीजारोपण करने जा रहा हूँ।

ये कह के मनु ने मालिनी को चित्त लिटा कर उसके सारे बदन को धीरे धीरे चूमने लगा, मालिनी अब फिर से गरम होने लगी वो भी मनु का भरपूर साथ दे रही थी, मालिनी अब मनु का अंडरवियर उतारने लगी कुछ ही देर में मनु का लम्बा मोटा लंड मालिनी के आँखों के सामने झूल गया, अब मनु भी मालिनी की तरह जन्मजात नंगा हो गया मनु ने मालिनी को अपने बदन से पूरी तरह चिपका लिया, मालिनी की चूची मनु के सीने से बुरी तरह दब गयी, वो अब मालिनी के ओठों को चूमने लगा दोनों ने अपने ओठ एक दूसरे के ओठों से चिपका लिए दोनों आनंद के सागर में गोता लगा रहे थे. मनु मालिनी की चूची मींजने लगा, मनु का लंड अब विकराल रूप में आ गया था, मालिनी मनु से बोली – जान आप मेरी गोद भरने वाले मुझे एक बार आपके हथियार को हाथ में लेकर अच्छे से प्यार करने दो. मनु ने मालिनी के सामने अपना लंड लहरा दिया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  जिन्दगी के सफर में चूत का प्रसाद-2

मालिनी ने उसे अपने दोनों हाथो में लेकर पहले चूमा और फिर उसकी आगे की चमड़ी को खींच के पीछे कर दिया, अब उसने सेब की तरह लाल मोटे सुपाड़े को अपनी जीभ से चाटने लगी, उसने मनु के लंड को मुठियाते हुए अपने मुँह में भर लिया, मनु ने काफी उत्तेजित हो गया मालिनी अब मनु के लंड को जोर जोर से चूसने लगी, मनु के लंड से प्रिकम निकल कर मालिनी के मुँह में लग गया, मालिनी काफी ज्यादा उत्तेजित थी वो मनु के लंड को छोड़ना नहीं चाह रही थी, पर मनु पहले एक बार मालिनी को चोद लेना चाहता था उसकी इच्छा थी की पहले मालिनी की चुत में झड़े फिर तो ये सब होता ही रहेगा क्यों उसे मालिनी को गर्भवती भी करना था।

उसने मालिनी को इशारे से मना कर दिया, मालिनी ने अनमने मन से मनु के लंड को छोड़ा, हालांकि वो खुश भी थी की अब वो मनु के खूंटे जैसे लंड से चुद कर पेट से हो जाएगी. जैसे ही मालिनी ने मनु के लंड को छोड़ा मनु ने मालिनी के ओठों पर जोरदार चुम्बन लिया उसके बाद उसने मालिनी के तने हुए निप्पल को बारी बारी से चूसा, मालिनी की चुत बेतहाशा पानी छोड़े जा रही थी, अब फ़ाइनल का समय आ गया था मनु ने मालिनी के चुत के ओठों को थोड़ा सा फैला कर अपना सुपाड़ा थोड़ा सा फसाया मालिनी के मुँह से सससससस ऐसी सिसकारी निकल गए जैसा की मैं पहले ही बता चूका हूँ की मनु का लवड़ा आम लवड़ा नहीं है।

वो तनने पर करीब १ फिट लम्बा और ३ फिट तक चौड़ा होता है, मालिनी की चुत ही सुपाड़े से पूरी ढक गयी थी, हालाँकि जब से मनु मालिनी को चोद रहा है तब से उसकी चुत चौड़ी हो गयी थी फिर भी लंड के मुकाबले वो बहुत छोटी थी, चूँकि मालिनी की चुत भरपूर पानी छोड़ रही थी इसलिए मनु को चुत मारने के लिए कोई लुब्रीकेंट की जरुरत नहीं थी, अब मनु ने पहले अपने लंड को मालिनी की चुत पर हल्का सा ऊपर निचे रब करने लगा। दोस्तों कहानी जारी है और इसका सातवां भाग भी इसी तरह उत्तेजित करने वाला है, आप अपनी प्रतिक्रिया मुझे इस मेल id भेजने की कृपा करे [email protected]

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!