बुआ की बेटी से मौसी की बेटी को चोदा

(Bua ki beti se mausi ki beti ko choda)

बुआ की बेटी से मौसी की बेटी को चोदा

दोस्तो नमस्कार कैसे हो
में आपका दोस्त सुमित फिर से एक सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूं
में अभी 23 साल का हूं में उत्तराखंड का रहने वाला हूं
मेरे परिवार में में ममी पापा है
अब में सीधा कहानी पर आता हूं
अपने मेरी पिछली कहानी बुआ की बेटी को चोदा उसके जन्म दिन पर पढ़ी है
मेरी मौसी की बेटी का नाम मेघा है वो 2 बहने है मेघा और सुनैना है
ये घटना मेघा की चुदाई की है जो कि पिछले साल की है
वो भी मेरी उमर की है 22 साल की है
वो दिखने में थोड़ा सा सवाली है
उसकी 32 28 30 है

बात तब की है जून के महीने में सिवनी (बुआ की बेटी) और मेघा दोनों मेरे घर छुट्टियां बिताने आती थी
अब मेघा से तो में नॉर्मल ही बाते करता था लेकिन शिवानी को तो जब भी मुझे मौका मिलता उसे पकड़ लेता था हम दोनों को चुदाई करने का मौका नहीं मिल रहा था
मेरे घर में भी अलग कमरे नहीं थे मेघा सिवनी एक ही कमरे में सोते थे। पर दो बेड थे एक में एक में वो दोनो सोती थी
इसी तरह दिन निकाल रहे थे
एक दिन ममी ओर मेघा का बाज़ार जाने का प्लान बना उन्हें घूमना भी था वो मुझे और सिवनी को भी बोला पर हमने मना कर दिया
आवो वो दोनो मार्केट चलें गए ओर घर पर में और शिवानी रह गए थे
अब हमारे पास पूरे दो घंटे बाकी थे
मैने शिवानी को अपनी बाहों में लिया और उसे किस करने लगा
मैने उसके सलवार सूट उतार दिए उसने भी मुझे नंगा कर दिया

अब में उसके बूब्स को दबाए जा रहा था वो भी पूरा साथ दे रही थी में भी अब जोश में आ गया
अब मैने देर ना करते हुए उसकी चूत में लंड लगा के घिसने लगा
वो भी जोर जोर से सिसकारी लेने लगी
मैने अब ज्यादा तड़पना ठीक नहीं समझा और अब लंड को उसकी चूत पर पेल डाला और धाकपेल चुदाई होने लगी मैने उसे करीब 30 मिनट तक चोदा
फिर हमने कपड़े पहने और साथ में लेते ही थे कि मेराफोन बज उठा तो मौसी की बेटी का फोन था
मैने फोन उठाया तो वो सीधा बोली मजे ले लिए हो तो दरवाजा खोलो या नहीं मेरा ऐसा सुनते ही गान्ड फटने लगी
मैने यह बात शिवानी को बताया और दरवाजा खोला और वो अन्दर अशी और हम दोनों पर बरसने लगी
मैने आज सब कुछ देख लिया तुम दोनों ने भाई बहन के रिश्ते को खत्म कर दिया है
वो बोली में बुआ यानी मेरी ममी को सब बता देगी
में: मेघा ऐसा मत करना हर जो तू बोलेगी वो करेगे
मेघा: ये बताओ कब से चल रहा है ये सब चुदाई तुम दोनों के बीच में
में: पिछले साल से जब में शिवानी के जनम दिन पर गया था

पर ये बताओ तुम कब आयि जल्दी क्यों आईं?
मेघा: जैसे ही हम मार्केट गई तो ममी की एक सहेली बताया की उनकी दूसरी सहेली कि तबीयत खराब है इसलिए ममी वाहा चली गई और में घर आ गई
घर आकर मैने गेट खटखटाया तो तुमने गेट नहीं खोला। में जैसे फोन करने को हुई तो शिवानी की सिसकारी की आवाज़ आती तो मुझे लगा कुछ गड़बड़ है।
में घर के पीछे आती ओर तुमरे खिड़की के छेद से देखा तो तुम शिवानी से सेक्स करने में लगे थे में तो किया अभी इं दोनो को रंगे हाथ पकड़ते हूं
तो मैने सोचा पहले इनका होने देती तब अन्दर जा के खबर लेती हूं
में: यार मेघा मेरी बहन ये बात किसी को मत बताना शिवानी ने भी रिक्वेस्ट की
मेघा: ठीक है एक शर्त पर
में: जो तुम बोलेगी वो करने को तेयार हूं
मेघा: अब से आप मुझे भी इसी तरह से प्यार करोगे

में: अरे ऐसा नहीं होगा तुम मेरी बहन हो
मेघा; बहन चोद आज बहन की याद आती तब कहा गई थी तेरा भाई बहन का प्यार जान तू इस रण्डी को चोद रहा था
फिर में भी क्या करता मैने भी हा बोल दिया में तो खूब था मुझे एक ओर चूत जो मिल रही थी
और शिवानी को भी मानना पड़ा
फिर तब तक ममी भी आ गई थी
अब हमने रात का खाना खाया और अपने कमरे में आ गए
मेघा: आज हम सब साथ में सोएंगे
में शिवानी मेघा साथ ने लेट गए और घर वालो का सोने का इंतजार करने लगा
में:, मेघा तूने आज तक चुदाई की है क्या?
मेघा: नहीं भाई
में: चोक कर मजाक मत करो यार
मेघा; आपकी कसम यार आज तक मेरे जिस्म को किसी ने छुहा भी नहीं

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

आप ही मेरे जिस्म को निचोड़कर आज
मेघा: सच बात तो ये है मुझे सिवनी ओर तुम पर सक हो गया था कि तुम दिनों के बीच में कुछ तो है तुम दोनों एक दूसरे से ज्यादा ही चिपके रहते थे एक दिन मैने इसको कमरे में तुमसे किस लिए हुए भी देखा पर में उसे नॉर्मल ही समझी थी
पर परसो सब सामने आ गया था
अब शिवानी बोल पड़ी अब को हो ज्ञासो हो गया अब हम दोनों बहने मिल के अपने भाई का ख्याल रखेंगे
मेघा बोली अब से ये मेरा भाई नहीं में पति है
अब शियनी बाहर यह देखने गई की सब सोए की नहीं
मेघा ने यह मुझे पकड़ के किस करने लगी ने भी उसका साथ देने लगा
में उसके होठ को काट भी रा था उसके मुंह से हल्की दर्द भारी वजन भी निकाल रही थी
तभी शिवानी अन्दर आई
और हमें एक दूसरे के साथ लगे देख के बोली लगता है आग ज्यादा लगी है

मैने बोला जानू अभी इसकी आग को भुजाने से तब तेरी आग भूजता हूं
अब में अब उसके बूब्स को दबाने लगा
अब मैने उसके सूट ओर सलवार को उतार फेका उसने अन्दर लाल रंग की ब्रा पेंटी पहनी थी पहनी थी
उसनेंही मेरा सर्ट ओर पेंट उतार दिया में बस अब अंडरवियर ने रहा गया
वो इतनी क़यामत लग रही थी जैसे कोई हेरोइन हो बदन उसका बहुत गोरा था
में उसके उपर टूट पड़ा और जोश में आकर मेरे उसकी ब्रा ही फाड़ डाली
मेघा बोली बोली भाई ज्यादा फाड़ने का ज्यादा सोक है
शिवानी बोल पड़ी अभी तो सिर्फ कपड़े फेट है
अभी तो चूत भी फटने वाली है तेरी
मेघा हंस पड़ी देखते ही कियना दम है
में आह मेघा के बूब्स को चूसने लगा वो भी जोश में आकर मुंह से आवाज़ निकाल रही थी
में अपने हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा जिससे वो और भी जोश में आ गई
मैने उसकी चूत के अंदर उंगली डाली तो वो एक दम से सिहर सी उठी
वो भी अपने हाथो से मेरे लंड को हिलाने लगी
मैने उसे बोला ऐसे मुंह में को तो वो सीधा मुंह में लेकर चूसने लगी

ऐसे चूस रही थी जैसे कोई पोर्नस्टार ही
में उसकी इस मस्त चुसाई के सामने ना तिक पाया 10 मिनट में झड़ गया
सारा माल गिरा दिया पर वो किसी रण्डी से कम थोड़ी थी सारा लंड चाट चाट के साफ़ कर दिए
अब में उसके चूत पर आ गया में उसकी चूत को चाटने लगा वो मेरे सिर को जोर जोर से दबाने लगी मी भी उसकी चूत चते जा र था
कुछ मिनट में वो झड़ गई मैने उसकी चूत का सारा पानी पी लिया
मैने सिवनी को देखा तो वो अपनी चूत में उंगली किए जा रहे थे वो मेरा लन्ड सहला रही थी
मैने अब ज्यादा देर करना ठीक नहीं सोचा ओर उसकी चूत में लंड लगा के रगड़ने लगा में उसे तड़पने लगा
वो बोली बहन चोद मुझे चोद भी ले अब।
मैने शिवानी को पास बुलाया उसके कान के बोला इसका मुंह दबाने अब
वो मेघा के पास आ गई मेरे इसरे किया उसने मेघा मुंह पर हाथ लगा दिया मैने मेघा की चूत में ढाका मारा तो पहले लंड का टोपा गया उसके बाद मैने 2 ओर झटका दिया।
वो छटपटाने लगीं उसके आंखों से आंसू निकाल रहे थे वो तो चीखना भी चाह रही थी पर सिवनी के मुंह दबाने से चीख सब के रहा गई
अब में 5 मिनट तक संत रहा सिवनी ने उसके मुंह से हाथ हटाया वो रो रही थी और बोल जा रही थी मुझे नहीं करना तुम बहुत हवासी हो में मार जाती तो में हंसते हुए बोला मेरी जान च्चुड़ने से कोई नहीं मरता
अब मैने धीरे धीरे लंड आगे पीछे करने लगा और उसको चोदने लगा वो भी पूरा साथ देने लगी

करीब 25 मिनट की चुदाई में वो 2 बार झड़ गई और में भी झड़ गया।
में उसके उपर लेट के आराम करने लगा
फिर उसके बाद मैने शिवानी को भी चोदा और अगले दिन मेघा की भी गान्ड मारा
उस दिन से जब तक वो दोनो मेरे साथ रही मैने उन दोनों को रोज चोदता रहता हूं
अब आपको अगली एक घटना लेके आऊंगा
और आज तक ये सिलसिला चल रहा है
आपको ये कहानी कैसी लगी मुझे मेल करें
[email protected]
धन्यवाद