दोस्त की नई प्यासी दुल्हन की चुदाई-1

Dost ki Nai payasi dulhan ki chudai-1

हैल्लो दोस्तों, में आज आप सभी सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेने वालों के लिए अपनी एक सच्ची घटना लेकर आप सभी की सेवा में आया हूँ. दोस्तों में अपनी इस कहानी में आप सभी को बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने एक दोस्त की असंतुष्ट पत्नी को अपने लंड से चोदकर पूरी तरह से संतुष्ट किया और उसको चुदाई का असली मतलब बताया, जिसकी वजह से बहुत खुश हुई और मैंने उसकी वैसी बहुत बार चुदाई के मज़े लिए और अब में उस कहानी को पूरी तरह विस्तार से सुनाना शुरू करता हूँ जिसको पढ़कर आप भी मज़े करो.

दोस्तों में और मेरा एक दोस्त जिसका नाम शेखर है हम दोनों बहुत ही गहरे दोस्त है. हमारी यह दोस्ती बहुत सालों से है और मेरा हमेशा उसके घर पर हर कभी आना जाना लगा रहता था और वैसा ही हाल उसका भी था, जिसकी वजह से हम दोनों के घरवाले एक दूसरे से बहुत अच्छी तरह परिचित थे.

दोस्तों मेरे उस दोस्त की शादी को अभी करीब 6 महीने ही हुए थे. उसकी पत्नी का नाम सुनीता है और उसकी अच्छी किस्मत से उसको वो लड़की भी एकदम मस्त पटाका मिली थी और मेरी उस हॉट सेक्सी सुनीता भाभी का फिगर 36-28-36 है उनका रंग बहुत गोरा और वो दिखने में बहुत ही सुंदर है जिसकी वजह से में उनकी तरफ बहुत बार आकर्षित हुआ.

मेरे उस दोस्त की एक दुकान है, यह घटना तब की है जब इस 31 दिसंबर को वो दस दिनों के लिए कहीं बाहर घूमने गया हुआ था और जब में उसके घर पर किसी काम की वजह से चला गया तो मैंने देखा कि सुनीता भाभी उस समय घर में बिल्कुल अकेली थी.

दोस्तों मेरी वो सुनीता भाभी बहुत हंसमुख स्वभाव, शरारती और सेक्सी है और वो मुझसे बहुत बार हँसी मज़ाक किया करती है और उस दिन वो अकेली थी. उन्होंने मुझसे कहा कि देव आज तुम खाना यहीं पर मेरे साथ खा लो और फिर हम दोनों उसके बाद फिल्म देखेंगे.

मैंने उससे हाँ कहा और फिर हम दोनों ने साथ में बैठकर खाना खाया और फिर उसके बाद हम साथ में फिल्म देखने लगे थे. उस समय सुनीता ने लाल कलर की साड़ी पहनी हुई थी, उसमे वो बहुत सेक्सी लग रही थी और उसमें से उनकी ब्रा मुझे साफ साफ नजर आ रही थी और उस फिल्म में कुछ देर बाद दो तीन लिप किस आए और तब मेरी नज़र अपनी उस भाभी पर चली गई.

मुझे देखकर वो शरमा गई और यह सब देखकर तो मेरा लंड पहले से ही तनकर खड़ा हो चुका था. हम दोनों उस समय एक ही बिस्तर पर बैठे हुए थे और उस समय रात के करीब 11 बज चुके थे.

मैंने उनको कहा कि में अब अपने घर पर जा रहा हूँ तभी वो मुझसे बोली कि आप यहीं पर सो जाओ, दोस्तों में सच सच अपने मन की बात कहूँ तो मेरे मन की इच्छा भी यही थी जो अब पूरी हो रही थी, क्योंकि आज पूरी रात में उसको जमकर चोदना चाहता था और फिर में उनके कहने पर वहीं पर सो गया और कुछ देर फिल्म खत्म होने के बाद वो भी उसी बिस्तर पर मेरे पास ही लेट गई.

तभी अचानक गलती से मेरा एक हाथ उनके बूब्स पर छू गया, लेकिन वो मुझसे कुछ भी नहीं बोली जिसकी वजह से मुझे थोड़ी सी हिम्मत आ गई और अब मैंने हिम्मत करके उसके हाथों पर अपना हाथ रखकर सहलाने लगा, लेकिन वो अब भी चुप ही रही और में धीरे धीरे आगे बढ़ता चला गया. फिर वो भी अब मेरा साथ देने लगी थी और वो मेरी तरफ सरक गई जिसकी वजह से उसके मुलायम बड़े आकार के बूब्स मेरी छाती से दबने लगे.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मेरा लंड तनकर झटके देने लगा और अब उसने धीरे धीरे मेरे सारे कपड़े को उतार दिया, जिसकी वजह में अब सिर्फ़ अंडरवियर में हो गया. फिर मैंने भी सबसे पहले उसकी साड़ी को उतार दिया, जिसकी वजह से वो भी अब ब्लाउज और पेटीकोट में हो गई. फिर मैंने थोड़ी देर तक उसके बूब्स को दबाया और उसके बाद ब्लाउज और पेटिकोट को भी उतार दिया, जिसकी वजह से अब वो मेरे सामने सिर्फ गुलाबी रंग की ब्रा और पेंटी में गज़ब की सेक्सी लग रही थी.

में कुछ देर तक उनको अपनी चकित नजरों से देखता रहा. फिर उसने मुझे पूरा नंगा कर दिया और फिर मैंने भी उसकी ब्रा और पेंटी को उतार दिया. उस लाइट की रोशनी में उसका दूध जैसा गोरा पूरा बदन चमक रहा था और उसके बाद हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे को चूमने, चाटने लगे थे.

उसके 36 इंच के बूब्स को में चूसने के साथ साथ ज़ोर से दबा भी रहा था, इसलिए एक बूब्स मेरे मुहं में था और एक बूब्स हाथ में था और वो मेरे लंड को सहला रही थी करीब हम दोनों ने एक घंटे तक वैसे ही चूमा चाटी के मज़े लिए, तब उसने मेरे पूरे बदन को चूमा और कुछ देर बाद वो मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी थी और उसने जोश में आकर मेरे लंड को बहुत देर तक चूसा और जब में झड़ गया तो उसने मेरा पूरा वीर्य पी लिया.

दोस्तों मैंने देखा कि उसकी चूत एकदम साफ थी और उस पर एक भी बाल नहीं था. वो बहुत ही आकर्षक रसभरी उभरी हुई थी, जिसको देखकर में ललचाने लगा था. अब मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया और में भी अब उसकी चूत को चूसने लगा था.

वो मेरे सर को अपनी चूत पर दबाकर मेरे मुहं को वो अपनी चूत में पूरा घुसाने की कोशिश करने लगी थी क्योंकि वो तब बहुत जोश में थी और करीब दस मिनट चूत को चूसने के बाद उसने भी अपनी चूत से पानी छोड़ दिया था, जिसको में पी गया. फिर मैंने उसकी चूत को चाटकर पहले की तरह चमका दिया था.

अब हम दोनों एक बार फिर 69 की पोज़िशन में हो गए और वो मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी. शायद उसको ऐसा करने में बहुत मज़ा आ रहा था और उसके मुहं की गरमी को पाकर थोड़े ही देर में मेरा लंड एक बार फिर से तनकर खड़ा हो गया था.