लम्बे इन्तजार के बाद मिलन के क्षण-1

Lambe Intjar Ke Baad Milan Ke Pal-1

चार महीने हो चुके, आज मिलने की घड़ी आने वाली है; शाम को 8 बजे घर पहुँच जाऊँगा। घर वालों से मिलने के अलावा इस बात की ज्यादा ख़ुशी है कि शादी के बाद पहली बार घर जा रहा हूँ।
घड़ी में 8.15 हो रहे हैं।

घर के अंदर जैसे ही कदम रखा, सब घर वाले आ गए मिलने, पर मेरी नजरें जिसे खोज रही थी वो तो दिखाई नहीं पड़ रही।
खाना खाया, सब से बातें की, तभी मेरी नजरें रसोई की तरफ गयी, देखा तो कोने में खड़ी वो मेरी तरफ ही देख रही है।
नजरें मिली, उसने शर्मा कर नजरें झुका ली; मैं एकटक उसी की तरफ देखता रहा; वापस नजरें मिली तो उसने पहले तो गुस्से से देखा, फिर कुछ उलाहना सी देती नजर आई और फिर जल्दी से ऊपर अपने कमरे में आकर मिलने की याचना।

5 मिनट बाद वो ऊपर कमरे में चली गयी। अब नीचे मुझसे एक एक मिनट काटना मुश्किल हो रहा था।
फिर जब सबने बोला की थका हुआ होगा, जाकर आराम कर ले, तो दौड़ पड़ा मैं ऊपर की ओर!

जाकर देखा तो कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था, दरवाजा खटखटाया; दिल के अंदर अजीब सी हलचल थी, ख़ुशी थी, जल्दी थी दरवाजा खुलवाने की।
मन कर रहा था कि जैसे ही दरवाजा खोलेगी, कस के गले लगा लूंगा उसे।

इन्तजार की घड़ियाँ ख़त्म हुई, उसके दरवाजे के पास आने की आहट हुई, फिर कुण्डी खुलने की… और फिर धीरे से दरवाजा खुलने की आवाज आई।
मैंने अंदर आकर कुण्डी लगाई, लाइट चालू की तो देखा मेरी सलोनी दीवार की तरफ मुंह करके शरमाते हुए खड़ी है। वही कपड़े पहन रखे हैं जो हमने आज के लिए फाइनल किये थे। पेटीकोट, सिल्वर कलर का ब्लाउज, लाल सुर्ख साड़ी।

अब रहा तो मुझसे भी नहीं जा रहा कि इतना पास आके भी दूरी रहे; धीरे से नाम लिया उसका ‘सलोनी…’
पर उसकी तरफ से कोई हलचल नहीं हुई।
फिर मैं पास में गया, उसकी कमर से होते हुए अपना दांया हाथ उसके पेट पे रखा और अपना चेहरा उसके दाहिने कंधे पे टिकाकर उसके कान के पास फिर धीरे से उसका नाम लिया ‘सलोनी…’

इस बार तो वह बिजली सी फुर्ती से पीछे मुड़ते हुए मेरे गले से लग गयी, हाथ मेरी पीठ पर कस गए, चेहरा मेरी छाती में धंसा लिया। साँसें भारी हो गयी, लंबी लंबी साँसे ले रही थी मेरी सलोनी।
मेरे भी हाथ अपने आप उसके पीठ पर रेंगने लग गए।
फिर मेरी उँगलियाँ पता नहीं कैसे उसकी पीठ और कमर पर अपने आप खेलने लगी, जैसे मेरे वश में ही न हो। और मेरी इस हरकत से तो उसकी साँसों में जैसे तूफ़ान सा आ गया, उसने मचल के अपना चेहरा उठा के मेरे सीने पर दूसरी तरफ और जोर लगाते हुए धंसा लिया। उसकी पकड़ और मजबूत हो गयी, ऐसे लग रहा था जैसे वो मेरे अंदर ही घुस जाना चाहती हो।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  बड़े बेदर्द बालमा-3

फिर मैंने हिम्मत करते हुए उसे थोड़ा सा अपने से दूर करने की कोशिश की ताकि मैं अपनी सलोनी को जी भर के देख सकूँ। पर उसने तो जैसे ठान रखी हो ना छोड़ने की।
उसके कान के पास जाके मैं धीरे से फुसफुसाया- सलोनी, प्लीज!
शायद इसका असर हुआ और उसने अपनी पकड़ ढीली की, अपना चेहरा मेरी छाती से हटा कर थोड़ा दूर किया पर नजरें अभी भी झुकी थी।

तो मैंने उसकी ठुड्डी को हाथ से पकड़ कर प्यार से ऊपर किया, आँखों से आँखें मिली। फिर पता नहीं कब चेहरे पास आ गए, होंठ से होंठ जुड़ गए और दोनों एक आनन्दमयी सागर में गोते लगाने लगे। एक दूसरे के होंठों को ऐसे चूसने लगे जैसे यही एकमात्र जरिया है 4 महीने की दूरियों को भुलाने का।
कभी वो मेरे नीचे वाले होंठ को पकड़ के पूरा अपने अंदर खींच लेती, फिर पक्क की आवाज से छोड़ती; कभी मैं उसके मुंह के अंदर तक अपनी जीभ घुसेड़ देता। कभी वो अपनी जीभ मेरे मुंह के अंदर डाल कर मेरी जीभ के साथ खेलने लती।

और इस बीच मैंने अपना दाहिना हााथ उसके सर के पीछे रखा और उसे अपनी और खींच कर और जोर से जुबान लड़ाने लगे, होंठ चूसने लगे। दोनों के मुँह से उम्म्म्म अह की आवाजें निकल रही थी। बीच बीच में पुच्च्च पुच्च्च्च की आवाज आ रही थी पर दोनों में से कोई भी रुकने को तैयार नहीं था।

स्मूच करते करते मेरा दूसरा हाथ उसके उसके बाकी शरीर से खेलने लगा। कभी उसकी नंगी कमर पे आकर चुटकी काट लेता। कभी पीठ पे जाके सलोनी को अपनी ओर खींच लेता, जिससे सलोनी भी मस्ती में आकर और जोर से चूसने और उम्म्म म्म्मह की आवाज करने लगती।

फिर अचानक से सलोनी ने किस करना छोड़ कर अपने चेहरे को मेरे होठों के सामने फिराने लगी। कभी मैं उसके बाएं गाल को मुह में लेकर चूसता और कभी हल्का सा काट देता।
इस बीच मैंने हल्के हल्के उँगलियों की पोरों को उसके गर्दन, कंधे, कानों के आस पास फिराना शुरू किया।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  बीबी को रांड बना कर चोदा

इस क्रिया के बाद जो सलोनी जैसे पूरी ही मस्ती में आ गयी, वो कभी अपनी गर्दन को इधर-उधर फेंकती और कभी जोर से शेरनी की तरह आवाज करते हुए अपनी बाहों को मेरे गले में डाल कर पूरी पीछे की तरफ झुक जाती तो मौका मिलते ही मैं उसके गर्दन पर किस कर लेता।

कुल मिला कर दोनों मस्ती में डूबे थे, सलोनी ने करीब 20 मिनट से अपनी आँखें मस्ती में बंद कर रखी थी। बस इस मिलन का आनन्द लिए जा रही थी; ना खुद कुछ बोल रही थी और न ही मुझे बोलने का मौका दे रही थी।

कुछ समय सलोनी को गालों और गर्दन पे किस करता रहा, फिर उसे गले लगा कर अपना मुंह उसके बांयी तरफ के कान के नीचे ले गया और अपने एक हाथ से बाल हटाते हुए उसके कान के थोड़ा सा नीचे पुच्च्च्च सी आवाज निकालते हुए हल्का सा किस किया, फिर थोड़ा नीचे एक और ऐसे करते करते गर्दन से होते हुए दाहिने कान की तरफ पहुंचा और उसके नीचे जीभ की नोक फेरने लगा, और बीच बीच में किस भी कर देता।

और इन सब पर सलोनी की मदमस्त, मादक आवाजें, सिसकारियाँ मुझे और भी मस्ती में ला दे रही थी।
सलोनी किसी मस्ती में डूबे हुए पागल से कम नहीं लग रही थी जो कभी तो मुझे अपने से चिपका लेती और कभी जोर से सिसकारी लेते हुए जोर से मेरे बाल पकड़ कर मेरा सर पीछे खींच लेती और जोर जोर से स्मूच करने लगती।

बस इसी तरह चूमते चूमते मैं उसके कान की तरफ बढ़ने लगा और मेरा एक हाथ रेंगते हुए उसकी साड़ी खोलने में लग गया। साड़ी खोल के नीचे गिराने के बाद अब मेरी प्यारी सलोनी मेरे सामने बस चमकदार पेटीकोट और ब्लाउज में खड़ी थी।
मैंने अचानक से उसके कान की लौ को जीभ और होठों के बीच ले लिया और उसे धीरे धीरे चूसने लगा और एक हाथ से ब्लाउज का एक बटन खोल दिया।

कान की लौ को चूसते चूसते बीच बीच में हल्का सा काट लेता था ताकि सलोनी की और मादक सिसकारियाँ सुन सकूँ। और इधर मेरा हाथ उसके क्लीवेज को हल्के हल्के सहलाते हुए ब्लाउज के बटन खोलने में लगा था।
जब ब्लाउज पूरा खुल चुका तो उसे निकाल कर साइड में गिरा दिया और अब मेरे सामने वो नजारा आया जिसका मैं इतने महीनों से इन्तजार कर रहा था।
36″ की जालीदार ब्लैक कलर की ब्रा, जिसमें मेरी सलोनी के गोरे गोरे, दूध जैसे चुच्चे खुल कर सामने आ रहे थे।
प्यार से मैंने उनके बीच की खाई में 3-4 किस कर दिए तो सलोनी शर्मा सी गयी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मेरी वाईफ की चुदाई मैंने करवाई

अब मैं और सलोनी फिर से स्मूच करने लगे और इस बीच मेरे हाथ उसकी नंगी पीठ पर नाचने लगे और सलोनी सिसकारियाँ लेते हुए इसके मजे लेने लगी। इसी तरह उसके ब्रा का बटन ढूंढ कर खोल दिया, और ब्रा भी निकाल कर साइड में गिरा दी और मेरा दाहिना हाथ उसकी कमर से होते हुए उसके बायें बोबे को सहलाने टच करने लगा और करते करते हाथ उसके निप्पल तक जा पहुंचा।
मैंने ध्यान दिया कि जैसे ही मेरा हाथ सलोनी के निप्पल तक पहुंचा, सलोनी ने स्मूच में कोई हरकत करना बंद कर दी और उसका पूरा ध्यान निप्पल की तरफ आ गया, वो इन्तजार करने लगी निप्पल छेड़ने का, पर मैंने भी उसे चिढ़ाने के लिए निप्पल को छोड़ अपना हाथ फिर से उसकी कमर पर फिराने लगा।
और इससे थोड़ी जोश में आई और अधिक उग्रता से स्मूच करने लगी।

मैं एक बार फिर अपना हाथ उसके निप्पल तक लेकर आया और इस बार उसके बायें निप्पल को अपनी तर्जनी ऊँगली से हल्का सा टच किया जिससे सलोनी के मुंह से एक लंबी सी आह्ह्ह निकली। फिर मैंने अपनी उंगली को उसके मुंह में डाला तो वो उसे भी मजे से चूसने लगी।

वही उंगली अब वापस लाकर उसके निप्पल पर टच किया तो सलोनी जोर से सिसकारी लेते हुए आगे की ओर झुक गयी और जोर जोर से पागलों की तरह स्मूच करने लगी। अब मैंने भी उसे ज्यादा तड़पाना ठीक नहीं समझा और उसके निप्पल को अंगूठे और उंगली के बीच में पकड़ कर हल्का हल्का सहलाना और दबाना शुरू किया।

उसके मुंह से तो अब अलग अलग फ्रीक्वेंसी में सिसकारियाँ निकलने लगी, स्मूच भी कर रही थी और जैसे ही वो और मस्ती में आती, उसके मुंह से निकली हुई सिसकारियाँ मेरे मुंह में दब जाती।

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!