जैम लगाकर भाभी की चूत फाड़ी-1

Jam lagakar bhabhi ki choot fadi-1

हैल्लो दोस्तों, मुझे बहुत समय पहले से ही सेक्सी कहानियाँ पढ़ने का बहुत शौक था. मैंने अब तक बहुत सारी कहानियों के मज़े भी लिए, क्योंकि मुझे सेक्स करना उससे सम्बन्धित सभी काम करना बहुत अच्छा लगता और आप यह मान ले, उसमें मेरी शुरू से ही बड़ी रूचि रही है, इसलिए आज में अपनी भी एक सच्ची घटना और मेरा सेक्स अनुभव आप लोगों तक लेकर आया हूँ, जिसको मैंने बहुत मन लगाकर लिखकर आप तक पहुंचाया है और अब में पहले अपना परिचय और उसके बाद वो घटना सुनाता हूँ.

दोस्तों में गुजरात के राजकोट शहर में रहता हूँ और में 26 साल का हूँ. मेरे लंड की लम्बाई 6 इंच है. दोस्तों आज में आप सभी को जो अपनी कहानी सुनाने जा रहा हूँ, वो मेरी और मेरे कज़िन और उसकी बीवी की है. दोस्तों में इस कहानी में आप सभी लोगों को बताऊंगा कि कैसे मैंने अपने भाई की सेक्सी पत्नी को अपने भाई के साथ मिलकर उसके पूरे बदन पर जैम लगाकर पहले चाटा और उसके बाद मस्त मज़े से चोदा. दोस्तों में उम्मीद करता हूँ कि यह मेरा सेक्स अनुभव आप लोगों को जरुर पसंद आएगा.

दोस्तों यह घटना करीब एक सप्ताह पहले की है, जब मेरे मामा का लड़का जिसका नाम मनीष है, वो और उसकी पत्नी अल्पा मेरे घर पर कुछ दिनों के लिए आए हुए थे और तब मेरे घर के सभी लोग किसी काम से बाहर हमारे गाँव गये हुए थे. फिर रात को हम सभी लोगों ने एक अच्छी होटल में जाकर रात का खाना खाया और फिर उसके बाद हम लोग रात को फिल्म देखने चले गए और रात के करीब 12 बजे के बाद हम फिल्म देखकर अपने घर पर आ गए और फिर घर पर आकर मैंने और मनीष ने बरमूडा और टी-शर्ट पहन लिया और अल्पा ने जालीदार मेक्सी पहनी हुई थी, जिसमें से उसका गोरा गोरा गदराया हुआ बदन चिकनी जांघे दिखाई दे रही थी, जिसकी वजह से मेरा तो लंड उसका वो हॉट सेक्सी बदन देखते ही टाईट होकर उसकी चूत को सलाम करने लगा था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  सर्दी में भाभी की गर्मी को ठंडा किया

अब मेरी नजर बार बार उसकी छाती गोरे गोलमटोल बूब्स पर जा रही थी, जो आकार में इतने बड़े थे कि वो उसकी ब्रा से भी बाहर निकलने को पागल हुए जा रहे थे और बूब्स का आकार ज्यादा बड़ा होने की वजह से वो उस ब्रा के अंदर पूरी तरह से समा भी नहीं रहे थे और वो सब कुछ देखकर में बड़ा चकित था.

में अकेला ही पलंग पर सो गया, क्योंकि उसका आकार छोटा था और मेरे भाई ने ज़मीन पर मेरे पलंग के पास में ही अपना बिस्तर लगा लिया और मनीष का भी बिस्तर उसके पास में लगा हुआ था और वो एक चादर अपने ऊपर डालकर लेटा हुआ था. फिर करीब आधे घंटे के बाद मैंने अपनी चोर नजर से देखा कि मनीष अब जोश में आकर चादर के अंदर से पास में सो रही वो अपनी पत्नी अल्पा के बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने मसलने लगा था, जिसकी वजह से अल्पा के मुहं से हल्की हल्की आवाजें आ रही थी और उन सिसकियों को सुनकर मेरी नींद खुल गई, लेकिन उसको लगा कि में अब तक सो गया हूँ, इसलिए वो बिना चिंता के अपने काम में लगे रहे.

वो कुछ देर बाद अल्पा को किस करने लगा, जिसकी वजह से मेरा लंड तो पूरा तनकर खड़ा हो गया और अब मनीष ने अपनी टी-शर्ट को उतार दिया और फिर उसने चादर के अंदर से ही अल्पा की मेक्सी को भी उठाकर उसके गले तक ऊपर कर दिया. वो सब मुझे उस पतली सी चादर के ऊपर से दिखाई दे रहा था और फिर वो कुछ देर बाहर निकलकर वापस चादर के अंदर घुसकर वो अब नीचे की तरफ जाकर अल्पा की चूत को अपनी जीभ से कुत्ते की तरह चाटने लगा, मुझे जिसकी आवाज़ भी आ रही थी. तभी मैंने देखा कि उनके हिलने की वजह से अल्पा के पीछे से वो चादर थोड़ी सी ऊपर हो गयी और अल्पा की पूरी नंगी गोरी कमर मुझे साफ साफ दिखाई देने लगी और में एकदम चकित होकर देखता रहा. दोस्तों अल्पा की वाह क्या मस्त गोरी गोरी और बड़ी आकार की गांड थी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  Bhabi ki pyaasi chut

अब तो मुझसे रहा भी नहीं जा रहा था, इसलिए मैंने अपना एक हाथ पलंग से नीचे लटका दिया. उसके बाद मैंने थोड़ी सी हिम्मत करके अल्पा की गांड को अपने हाथ से छू दिया और उसको छूकर मेरे पूरे शरीर में करंट सा फैल गया. मुझे बहुत अच्छा महसूस हुआ और उसकी गोरी मुलायम गरम कमर को छूकर बड़ा अच्छा लगा तो मेरी हिम्मत बढ़ गई. अब धीरे धीरे उस पर अपने हाथ को घुमाने लगा, लेकिन तब भी अल्पा ने कुछ भी नहीं बोला और उसकी तरफ से बिल्कुल भी विरोध ना होता हुआ देखकर मेरी हिम्मत अब और भी ज्यादा बढ़ गयी और में अपना पूरा हाथ उसकी गांड पर फेरने लगा. दोस्तों उसकी वाह क्या मस्त मखमल जैसी मुलायम गोलमटोल गांड थी और उसको छूकर मेरा जी तो कर रहा था कि में अभी इसी समय उसको खड़ा करके उसकी पूरी गांड को किस कर लूँ.

फिर में उसकी पूरी कमर पर एक तरफ अपना हाथ फिराने लगा. तभी अचानक से मनीष ने अपना एक हाथ पीछे किया तो मेरा हाथ उसके हाथ से छू गया, जिसकी वजह से अब मनीष को भी पता चल गया कि में सोया नहीं हूँ. फिर मनीष ने चादर के अंदर से ही अल्पा से बहुत धीमी आवाज में कुछ कहा और फिर वो मुझसे कहने लगा कि यश तुम भी हमारे साथ नीचे ही आकर सो जाओ. दोस्तों मुझे तो उसके मुहं से वो बात सुनकर बहुत मज़ा आ गया और फिर अल्पा थोड़ी सी आगे की तरफ सरक गई और में उसके पीछे जाकर लेट गया, लेकिन अब मनीष ने उस चादर को अपने ऊपर से हटा दिया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Bhabhi ki pyasi chut-1

अब मैंने भी उन दोनों पति पत्नी का इशारा तुरंत समझकर अल्पा को अपने सामने उस हालत में देखकर तुरंत आगे बढ़कर मैंने उसकी पूरी मेक्सी को उतार दिया और मनीष ने भी अपने कपड़े उतार दिए और उन दोनों को बिना कपड़ो के देखकर मैंने भी झट से अपने कपड़े उतार दिए, जिसकी वजह से मेरा 6 इंच लंबा और मोटा लंड देखकर मनीष बोला कि अरे यार तेरा लंड तो बहुत बड़ा है, इससे आज अल्पा को तो बहुत मज़ा आ जाएगा. फिर मैंने कहा कि तुम मुझे एक मौका तो देकर देखो, तुमने कभी ऐसा मज़ा नहीं किया होगा, में तुम्हें आज इतना मज़ा दूँगा और फिर में अल्पा के गोरे कंधे पर किस करने लगा, वाह क्या मस्त मखमल जैसा और मुलायम बदन था.

में उसके पूरे बदन पर अपनी जीभ को फेरने लगा और अपने होंठो से उसको चूमने लगा, अल्पा के मुहं से सिसकियों की आवाज़ बाहर निकलने लगी, अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह और उसकी साँसे भी धीरे धीरे तेज़ हो गयी और मनीष उसके बूब्स को चूस रहा था. अब अल्पा सीधी लेट गयी और मनीष ने अपना लंड अल्पा के मुहं में डाल दिया और में उसके पूरे बदन पर किस करने लगा और उसको चूमने, चाटने लगा, सबसे पहले मैंने उसकी नाभि के पास चाटना शुरू किया.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!