कोठे वाली के साथ सेक्स का अनुभव

Kothewali ke sath sex ka anubhaw

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम हनी है और में दिखने में हैंडसम हूँ और में रोजाना जिम जाता हूँ. मेरी उम्र 20 साल है और मेरा लंड किसी भी लड़की और आंटी को आराम से संतुष्ट कर सकता है. अब में आपका ज्यादा टाईम ख़राब नहीं करूँगा और अब में अपनी स्टोरी पर आता हूँ.

ये बात 2 महीने पुरानी है और मैंने तब तक एक बार भी सेक्स नहीं किया था, मेरा मन तो बहुत करता था, लेकिन कभी मौका ही नहीं मिला था. रविवार का दिन था और में आराम से सो रहा था कि अचानक मेरे दोस्त का फोन आया कि उसकी फाईल घर पर रह गई है और वो न्यू दिल्ली रेल्वे स्टेशन पहुँच गया है और उसे वो फाईल चाहिए, तो में उसे वो फाईल देने चला गया.

में सुबह 11 बजे निकल गया था और जब बहुत गर्मी थी तो मैंने सोचा कि कार ही ले जाता हूँ, लेकिन ट्रेफिक बहुत मिलता इसलिए में अपनी बाइक से ही चला गया. फिर जब में वहाँ पहुँचा तो मेरा पूरा चेहरा पसीने से भर गया था, क्योंकि गर्मी ही इतनी थी.

फिर मैंने उसे वो फाईल दे दी और वो वापस चला गया, लेकिन अब मेरा तो वापस जाने का बिल्कुल मन नहीं था, क्योंकि गर्मी ही इतनी थी. फिर मैंने सोचा कि आज तक मैंने सेक्स तो किया नहीं है, तो क्यों ना जीबी रोड़ (जहाँ पर बहुत कोठे है) जाया जाए? लेकिन ऐसे सूखे-सूखे जाने में तो मज़ा नहीं आता तो मैंने पहले 2 बियर पी और फिर में वहाँ के लिए चल पड़ा. जीबी रोड़ रेल्वे स्टेशन के पास ही है तो मैंने अपनी बाइक वहीं पर ही खड़ी कर दी और पैदल जाने की सोची.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  कॉलबॉय बनने की शुरुआत एक भाभी की चुदाई के साथ

फिर में वहाँ पहुँचा और अब उस रोड़ पर पहुँचते ही मैंने देखा कि जगह-जगह कोठे नंबर्स भी लिखे थे. फिर में 64 नंबर के कोठे की और चल पड़ा, क्योंकि वो गवर्नमेंट अप्रूव्ड कोठा है और वहाँ कोई डर नहीं है और देखा कि नीचे हार्डवेयर की शॉप थी और ऊपर कोठे थे और गर्ल्स बालकनी में खड़ी होकर कस्टमर्स बुला रही थी और फिर जब में कोठा नंबर 64 में पहुँचा और जैसे ही सीढियाँ चढ़ता, तो मुझे ऐसा लगा जैसे में किसी गुफा में आ गया हूँ, क्योंकि वहाँ अंधेरा ही इतना था और पुरानी सीढियाँ थी. वहाँ नीचे भी एक हॉल टाईप था, जिसमें कुछ 40-45 साल की कुछ औरतें बैठी थी और कस्टमर्स बुला रही थी, लेकिन में उन्हें इग्नोर करके सीढ़ियों पर चढने लगा. अब वहाँ बहुत से लोग बाहर आ रहे थे और उतने ही अंदर जा रहे थे और वहाँ पर बहुत शोर था.

फिर में दूसरे फ्लोर पर गया और जैसे ही एंटर हुआ तो मैंने देखा कि क्या जन्नत थी? वो क्या मस्त जगह थी? और वहाँ पर कुछ नेपाली रंडिया और कुछ इंडियन रंडियाँ भी थी, उन रंडियों ने मस्त सेक्सी ड्रेस पहन रखी थी और वो उन ड्रेस में क्या सेक्सी लग रही थी? अब उन्हें देखकर तो मेरा मूड बन गया था. अब में पसंद करने के लिए अपनी नज़र घुमा-घुमाकर एक-एक रंडी को देख रहा था और वहाँ तो आप जाओगे तो रंडिया खुद ही हमसे चिपकने लगती है और वो भी 1 नहीं 3-3 आ कर, कोई हमारे गाल पर किस करेगी तो कोई हमारा लंड ऊपर से पकड़ेगी. ऐसा होगा तो कोई भी खुद को जन्नत में महसूस करेगा, ये बिल्कुल सच है और मेरे साथ भी यही हुआ है और अब मेरा तो लंड खड़ा हो गया था मेरा क्या? सबका ही खड़ा हो जाएगा. फिर मैंने देखा कि एक रंडी चुपचाप बैठी थी और वो दिखने में बहुत सुंदर लग रही थी, उसने ज्यादा मेकअप भी नहीं किया था और फिर भी वो बहुत सुंदर लग रही थी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  रंडी की चुदाई कहानी

फिर मैंने जा कर उससे पूछा कि कितने लोगी, तो उसने कहा कि 320 रूपए. फिर मैंने उसे 320 रूपए दिए और वो मुझे एक स्माइल पास करके काउंटर पर चली गई और मुझसे कहा कि अपना फोन भी यहाँ जमा करा दो. तो में सोचने लगा, फिर उसने कहा कि डरो मत, यहाँ सब ठीक है.

फिर मैंने अपना फोन जमा करा दिया. फिर उसने कहा कि आप ऊपर चलो में 1 मिनट में आती हूँ. फिर में ऊपर चला गया जहाँ 7-8 छोटे-छोटे रूम बने हुए थे. फिर 5 मिनट के बाद वो आ गई और रूम खोला और मुझे अंदर जाने को कहा और फिर खुद भी अंदर आ गई और रूम अंदर से लॉक कर दिया. फिर वो लेट गई और बोली कि टिप नहीं दोंगे, तो मैंने कहा कि बेबी सब कुछ मिलेगा इंतजार तो करो. फिर मैंने उससे कहा कि तुम मेरे कपड़े उतारो और में तुम्हारे कपड़े उतारता हूँ, तो वो राज़ी हो गई.

अब में उसके बूब्स पर भी अपना हाथ लगा रहा था, क्या बूब्स थे उसके? कसम से यार 38 साईज के तो होंगे ही और गोरे-गोर बहुत सॉफ्ट थे. फिर मैंने उसकी स्कर्ट भी उतार दी, उसकी चूत बिल्कुल साफ थी, क्लीन शेव और बहुत गोरी थी. फिर उसने मेरे कपड़े उतारने शुरू किए, उसने पहले तो मेरी टी-शर्ट उतारी और फिर जीन्स उतार दी और फिर मेरी अंडरवेयर उतारते ही मेरा मोटा लंड एकदम से बाहर आ गया. वो मेरे मोटे लंड को देखकर बोली कि इतना मोटा और बड़ा, तो मैंने कहा कि हाँ आज यही आपकी चूत में जाएगा, तो वो हँसने लगी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  बहन मेरे दोस्त और उसके बाप की रंडी-1

फिर उसने कंडोम का एक पैकेट निकाला और मेरे लंड पर पहना दिया. फिर वो लेट गई और में उसके ऊपर आ गया. फिर मैंने उसे एक स्मूच भी दी और उसके बूब्स भी पिये, तब तक मेरा लंड बिल्कुल टाईट हो चुका था. फिर उसने मेरा लंड पकड़कर अपनी चूत में घुसा दिया और मुझे हग करके लेट गई. फिर में उसे चोदने लगा और धीरे-धीरे करके में तेज़ हो गया और तेज-तेज धक्के मारने लगा. अब वो बहुत जोर-जोर से चिल्ला रही थी ऊव अया उम्म्म हम्मम्मम चोदो मुझे चोदो और ज़ोर से अयाया ऊव.

अब में झड़ने वाला था तो उसने अपनी चूत टाईट कर ली और में उसकी चूत में ही झड़ गया. अब मेरे झड़ते ही उसने मुझे एक लंबी स्मूच दी और कहा कि उसे भी बहुत मज़ा आया. फिर हम खड़े हो गये और फिर हमने अपने-अपने कपड़े पहन लिए. फिर मैंने उससे वादा किया कि नेक्स्ट टाईम भी में उसके पास ही आऊंगा और उसे 200 रुपए टिप में दिए. फिर मैंने बाहर जा कर अपना फोन ले लिया और घर चला गया.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!