लॉकडाउन में रीता की चुदाई

Lockdown me Rita ki chudai

राजस्थान के वेलाराम द्वारा भेजी गई कहानी “बस में मिली दीपा डार्लिंग” हजारो लोगो ने पसंद की। अगर आपको भी वेलाराम द्वारा भेजी जाने वाली कहानी पास आई तो इस हॉट सेक्स कहानी को पूरा पढ़ना क्यों ये उनकी दूसरी कहानी है जिसमे उन्होंने लॉकडाउन में सेक्स किया है।

आपने मेरी पिछली कहानी बस में मिली दीपा डार्लिंग पढ़ी होगी। अब दूसरी
कहानी बताने जा रहा हूं।

मैं राजस्थान का वेलाराम हूं। मेरे पड़ोस मे एक लडकी रहती है उसका नाम रीता है। इसलिए मैंने अपनी इस कहानी का नाम लॉकडाउन में रीता की चुदाई रखा है।

उसका फिगर बहुत ही सेक्सी और हॉट है। फिगर साइज 34-30-36 का है।

जब वो कूल्हे मटकाकर चलती है तो मेरा लंड खडा हो जाता है। मै रात दिन रीता
को चोदने के सपने देखता रहता था।

रीता बहुत ही चुदक्कड लडकी थी। वह कॉलेज मे पढती थी और बहुत सारे लडको से
सेक्स रिलेशन बनाती थी।

अभी लॉकडाउन चल रहा था तो रीता घर थी। और उसकी चूत की खुजली बहुत बढ गयी थी।

घर मे सिर्फ रीता और उसकी मम्मी ही रहते थे। उसके पापा किसी कारण इस दुनिया में नहीं थे और भाई
भाभी शहर में रहते थे।

रीता के परिवार और हमारे परिवार मे पडोसी होने के कारण दोस्ताना संबंध
थे। वह अक्सर हमारे घर आती थी। मै उसका पक्का आशिक था पर प्रकट मे दीदी
कहकर ही बुलाता था। वो भी मुझे छोटे भाई की तरह ही समझती थी।

तो लॉकडाउन में एक बार रीता की मम्मी को 2 दिन के लिए बाहर जाना था। रीता
घर पर अकेली थी इसलिए उसने मुझे रात को रीता के पास सोने के लिए कहा।
मेरी तो जैसे लॉटरी लग गयी।

मै रात को खाना खाकर रीता के घर सोने के लिए गया।
हम दोनो के बेड अलग थे और बीच मे 5 फीट की दूरी थी।

हालांकि रीता मुझे शरीफ लडका समझती थी इसलिए मेरी तरफ से बेफिक्र होकर
जल्दी ही सो गयी और मै भी सो गया।

सुबह के करीब 5 बजे जब मेरी नींद खुली तो मुझ पर काम का अंधा भूत सवार हो
गया और मेरा लंड कुतुबमीनार बन गया।

अब मुझे रीता दीदी लंड की प्यास बुझाने का जुगाड नजर आने लगी थी।

मै अपने बिस्तर से उठा और रीता की चादर मे घुस गया। रीता की नींद खुल गयी
और मेरी इस हरकत पर बौखला गयी।

मैने विनती करते हुए कहा-प्लीज दीदी,मुझे वहां ठंड लग रही है मुझे आपके
पास सोने दो।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी के सेक्सी बूब्स और गरम चूत चूसना है

ऐसा कहकर मै रीता के जिस्म से चिपक गया और अपना लंड उसकी गांड से लगा दिया।
मेरी कामुक हरकतो से रीता भी उत्तेजित हो गयी थी और मेरा विरोध नही कर रही थी।
मैने अपने होंठ उसके गाल पर रखे और चूसने लगा और एक हाथ से उसके मम्मे दबाने लगा।
चुदना तो चाहती थी वह पर दिखावे के लिए नखरे झाड रही थी।

मैने रीता की नाईट लैगिंग नीचे उतार दी और पैंटी भी उतार दी। अब वह नीचे
से पूरी नंगी हो गयी थी। मैने भी अपना पैंट और अंडरवियर उतार दिया और 69
की पोजिशन मे आकर रीता की चूत पर अपने प्यासे होंठ रख दिए।

मेरा लंड रीता के मुँह के सामने लहरा रहा था। लम्बे और चिकने लंड को देखकर
रीता के मुँह मे पानी आ गया और न चाहते हुए भी उसने मेरा लंड मुँह मे
लेकर चूसना शुरू कर दिया।

लंड चूसवाने का अनुभव मेरे लिए नया था इसलिए मै बहुत ज्यादा उत्तेजित हो
गया था और आइसक्रीम की तरह रीता की चूत चाट रहा था।
उसकी चूत पर झांटे बढी हुई थी क्योंकि काफी महिनो से कॉलेज नही गयी थी
इसलिए शेव नही की होगी।

मुझे झांटो वाली चूत बहुत पसंद है।

अब मै रीता के ऊपर झुक गया और लंड के मुहाने पर रखकर चूत के दोनो होंठ
खोल दिये और एक धक्का मारा। मेरा लंड आसानी से अंदर घुस गया।
क्योंकि रीता 10-15 लडको से आजतक चुद चुकी थी इसलिए चूत का द्वार चौडा हो गया था।

मै रीता के गाल और होंठ चाटते हुए चोद रहा था और रीता भी मुझसे चिपककर
आह्ह उह्ह्ह उम्म करते हुए चुदाई का मजा ले रही थी।

अब मैने रीता की ऊपरी शर्ट और ब्रॉ खोल दी और उसे घोडी बना दिया। और पीछे
से चूत मे लंड डालकर कमर पर हाथ फिराते हुए चोदने लगा।

मै उसके ऊपर झुक गया और मम्मे दबाते हुए चोदने लगा। उसकी चिकनी चूत मारने
मे मुझे असीम आनंद आ रहा था। चुदक्कड राधा गांड हिला हिलाकर और सेक्सी आहे
लेकर चुदवा रही थी।
अब वो झडने वाली थी और मुझे जोर जोर से चोदने को कह रही थी। मैने भी स्पीड
बढा ली और रीता की चूत ने पानी छोड दिया। अब मै भी झडने के करीब पहुंच गया
था।

मैने रीता के पैर मोडकर घोडी से कुतिया बना लिया और उसका पूरा शरीर बाँहो
मे भरकर दन दनादन चोदने लगा।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दीदी और पड़ोस वाला आदमी

उसका चिकना मखमली शरीर मेरी बाँहो मे था और लंड चूत मे,कसम से स्वर्गिक
आनंद मिल रहा था।
मैने उसके रसीले मम्मे कसकर पकड लिये और उसका गाल पीछे करके चूमने लगा।
अब मै झडने ही वाला था और लगभग 20-25 जबराट धक्को के बाद रीता की चूत मे
झड गया। गर्म और गाढे लंडरस से रीता की चूत भर गयी और रिसने लगी।
पानी गिरने के बाद मै बेहोश सा होकर रीता के ऊपर पसर गया।

फिर मैने रीता के कान मे कहा-दीदू,मैने तो रस आपकी मुनिया मे छोड
दिया। आपको बच्चा हो गया तो!!

वो बोली-कुछ नही होगा,मेरे पास आइपिल है मै खा लूंगी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर मै करीब 10 मिनट तक रीता की चूत मे ही लंड डाले रखा और चुम्माचाटी करता रहा।
फिर मैने लंड बाहर निकाल लिया।

सुबह होने मे अभी आधे घंटे की देर थी। मेरा लंड फिर से खडा होने लगा। इस
बार मेरा निशाना रीता की गांड थी। उसकी मस्त पतीले जैसी गोल गांड को देखकर
हमेशा ही मेरी लार टपकती थी।

मै उसकी गांड पर लंड रगडने लगा और गांड का छेद खोलने की कोशिश करने लगा।
वो मेरी मंशा भांप गयी और कहने लगी-नही यार,यहां मत करो। बहुत दर्द होता है।

मैने कहा-क्यो दीदू आपने पहले नही करवाया यहां पर।

वो बोली-यहां करवाया तो है एक दो बार पर बहुत दर्द होता है।

मैने पूछा-किससे गांड मरवायी थी आपने?

रीता ने कहा-अपने कॉलेज के दोस्त से।

मै बोला-तो फिर मुझसे भी करवा लो न दीदी,क्या आप मुझसे प्यार नही करती।

वो बोली-क्यो नही करती,बहुत प्यार करती हूं। चल मार ले मेरी गांड।

फिर मैने रीता की गांड के छेद पर वैसलीन लगाकर चिकना किया और अपने लंड को
भी चिकना किया। कुछ देर तक लंड पर मुट्ठी मारी जिससे वो डंडे की तरह खडा
हो गया।

अब मैने रीता की गांड के छेद पर लंड रखा और धक्का मारा। मेरा सुपाडा अंदर
घुस गया। रीता उम्म्ह्ह्ह करके एक कराह भरी और मैने एक और धक्का लगाया।

इस बार मेरा आधा लंड उसकी गांड मे था। दर्द के मारे उसके आँसू निकल आए थे।
फिर कुछ धक्को के बाद मेरा पूरा लंड उसकी गांड मे घुस गया।

अब मै आगे पीछे लंड करके उसकी गांड चोदने लगा। उसकी गांड कसी हुई होने के
कारण मुझे बहुत मजा आ रहा था।
मेरा लंड उसकी गांड मे इतना अंदर तक जा रहा था कि उसकी नर्म नर्म टट्टी
से टकरा रहा था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मेरी वासना भरी नजरो के जाल में फांसी भाभी-1

उसके मस्त चिकने चूतडो को मसलते हुए उसकी गांड चोद रहा था।
साथ ही उसकी चूत भी मसल रहा था।

थोडी देर बाद उसकी चूत ने पानी छोड दिया जो आधा तो मैने रीता को चटा दिया
और आधा उंगली से खुद चाट लिया।

मै जोर जोर से धक्के लगाकर रीता की गांड चोद रहा था और वो भी मेरे हर
धक्के का जवाब देते हुए गांड पेलवा रही थी।

मुझे असीम आनंद की अनुभूति होने लगी। मुझे पता चल गया कि लंड पानी उगलने
की कगार पर आ गया है।

कुछ ही धक्को के बाद मै झड गया।
ऐसा लगा जैसे उसकी गांड मे बाढ आ गयी हो और मेरा लंड उसमे डूबा जा रहा हो।

रीता ने मुझे सचमुच चरमसुख दिया था। मै उसका मुरीद होकर उससे लिपटकर सो गया।
हम दोनो गहरी नींद मे चले गये और दिन चढने के बाद हमारी नींद खुली।

रीता किचन मे जाकर चाय बना रही थी। मै जाकर उससे पीछे से लिपट गया और खडे
खडे ही चोदने लगा।

इस तरह पूरे दिन मे हमने कई बार चुदाई की।

उसने मुझसे अपने कॉलेज के दोस्तो के साथ सेक्स की कहानियाँ भी साझा की।
रीता इतनी चुदासी थी कि जब कॉलेज जाती थी तो दिन मे कम से कम एक दो बार
तो चुदवाती ही थी।

अनेक बार उसने ग्रुप सेक्स भी किया था।
जिसमे एक लडके का लंड उसकी गांड मे,दूसरे का चूत मे,तीसरे का मुँह मे और
चौथे और पांचवे लडके का लंड हाथ से हिलाकर मुट्ठी मारती थी।

इस तरह पांचो लडको को एक साथ सेक्स का सुख देती थी।
वो पांचो लडके थक जाते थे लेकिन रीता की प्यास नही बुझती थी।

ये सब रीता ने ही मुझे बताया था। मै उसे पिछले दो महिने से चोद रहा हूं और
हम दोनो आपस मे काफी हद तक खुल गये है।

हम दोनो अक्सर घरवालो से कोई न कोई बहाना बनाकर घर से बाहर आते है और
किसी एकांत स्थान पर रीता अपनी लैगिंग घुटनो तक सरकाकर झुक जाती है और मै
उसे चोद लेता हूं।

इस तरह हम दोनो अपनी जवानी की प्यास बुझा लेते है।

तो कैसी लगी आपको मेरी कहानी?
पढकर जरूर बताना।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!