माँ को कोठे की रण्डी बनाया-2

(Ma Ko Kothe Ki Randi Banaya-2)

मैंने मौसी से पूछा- तीन महीने में साइज पक्का बढ़ेगा ना?
तो मौसी हंसते हुए बोली- सिर्फ बढ़ेगा नहीं … तीन महीने के बाद उसका साइज ऐसा होगा कि रास्ते पर चलने वाला कुत्ता भी उसे बिना चोदे नहीं रह पाएगा … देख लेना बाद में तेरी माँ के लाखों आशिक होंगे.
मैं बोला- मुझे बस उसकी गांड और मम्मे की साइज़ बढ़ानी है. चाहे उसके लिए 6 महीने भी क्यों ना लग जाएं.
उषा- अरे तेरी माँ की चुत का भोसड़ा बन जाएगा … उसका क्या?
मैं बोला- मौसी चुत तो होती ही है चुदने के लिए … उसे एक चोदे या हजार … क्या फर्क पड़ता है. मैं बस ये चाहता हूँ कि आप उसे टॉप की रंडी बना दो. मैं बस उसे रंडी बनते हुए देखना चाहता हूँ.

मौसी बोली- ठीक है अगले हफ्ते ले कर आ … सब हो जाएगा.

जाते वक्त उस साथ में आई रंडी ने मुझसे कहा- देख लेना तेरी माँ कमाल की रंडी बनगी. मैं ऊषा मौसी को जानती हूँ … उसके बहुत लोगों से कॉन्टॅक्ट हैं. तेरी माँ की गांड और चुत का पूरा भुरता बना देगी. तू बस उससे पंगा मत लेना … उसके बहुत गुंडों से कॉन्टॅक्ट हैं. तू 3 महीने इधर आना भी मत. तीन महीने के बाद तुझे तेरी माँ मिल जाएगी … और गलती से भी तूने पंगा लिया, तो अपनी माँ को भूल जाना. मौसी बहुत कमीनी है … वो तेरी माँ को जिंदगी भर यहीं रखेगी और तू चाहकर भी कुछ नहीं कर पाएगा. मैं तेरे को अन्दर की बात बता देती हूं. तेरी माँ की ब्लू फिल्म भी बनेगी. मौसी तुझे कॉल करेगी, तू प्यार से हां बोल देना. वो तुझे पैसे भी दे देगी. तूने गलती से इनकार किया, तो ब्लू फिल्म तो बनेगी ही, ऊपर से तुझे पैसे भी नहीं मिलेंगे. मौसी का एक ही फंडा है. प्यार से रहो तो प्यार से सब मिलेगा.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  जन्मदिन के बहाने चूत चुदाई

ब्लू फिल्म की बात सुन कर मेरा दिमाग सुन्न हो गया था. पर उतना ही मज़ा आ रहा था. माँ को रंडी बनाने की ख्वाहिश जो पूरी हो रही थी. बस अब तो एक ही इच्छा थी कि 3 महीने बाद मेरे माँ का साइज 36-28-32 का बन जाए. क्योंकि मैं उसे हॉट बनाकर दूसरों को जलाना चाहता था.

मैं अपने घर चला गया.

मैं नागपुर में रहता था. मैं अपने घर आया. मैंने माँ से कहा कि तुम्हें अब जॉब करनी चाहिए.
वो बोली- हां मुझे भी ऐसा ही लगता है. मगर तीन साल के बाद मुझे अपने जॉब का कुछ याद नहीं है.
तो मैंने उनसे कहा- पुणे में एक कालेज है
वो भी तैयार हो गई. हमने अगले हफ्ते की प्लानिंग की और मैंने ऑनलाइन एक रूम बुक कर दिया. हम दोनों वहां पहुंच गए. जिधर उनको नौकरी करनी थी,
मैंने माँ से कहा- चलो पुणे घूम कर आते हैं.
वो भी तैयार हो गई.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मैंने उनसे जिद की कि आज शार्ट स्कर्ट और टॉप पहन लो.वो भी मान गई. मैंने उसे घूमने वाली सभी जगह दिखाईं और अनजान बनते हुए मैं उसे बुधवार कोठे में आ गया. उधर आने से पहले मैंने उसे एक कोल्डड्रिंक पिलाई, उसमें मैंने उसे एक वासना बढ़ाने वाली दवा पिला दी.कुछ देर बाद हम दोनों कोठे में आ गए.वो बोली- ये कौन सा एरिया है?मैंने बोला- मुझे भी नहीं पता.वो बोली- चलो यहां से … मुझे अजीब सा लग रहा है. यह जगह गंदी है.मैं बोला देखने में बड़ा मजा आ रहा है … मुझे देखने दो.वो कुछ नहीं बोली. उसने स्कर्ट पहना था, तो सभी मर्द उसे रंडी समझ रहे थे. मैंने उसे जानबूझ कर अपने से दूर हटा दिया था. मैं किधर रह गया हूँ, उसे पता नहीं था. रांड बाजार में शाम का टाइम फुल धंधे का टाइम होता था. मैंने उसे जानबूझ कर अकेला छोड़ दिया था और मैं दूर से उस पर नजर बनाए हुए था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  टिंडर वाली सेक्सी आंटी हिंदी सेक्स स्टोरीज

अब हर कोई उसे रंडी समझ रहा था. उस बीच उसकी नज़र मुझे ढूंढ रही थी. मैं देख रहा था कि हर कोई उसके बदन को छू रहा था … उसे समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ.इस बीच चार लड़कों का एक गैंग आया और उसमें से एक ने पूछा- ओए रंडी … कितना लेगी … बड़ा मस्त लग रही है.ऐसा बोलते हुए वो लोग उसे खींच कर एक कोने में ले गए.मैंने महसूस किया कि उसकी आँखों में सेक्स का नशा छा रहा था. आज तक मेरे अलावा उसे किसी और ने टच नहीं किया था. अलग अलग लोगों का छूना उसे अच्छा लग रहा था.

वो चार लड़के उसे छेड़ने लगे और उससे बोलने लगे- चल बोल … कितना लेगी?वो बोली- आप जैसा समझ रहे हो … मैं वैसी नहीं हूँ.तो एक लड़का बोला- तो इतना शार्ट स्कर्ट टॉप पहन कर इधर क्या कर रही है. टॉप तो तूने ऐसा पहना है, जो पूरे मम्मे दिखा रहा है. ऐसे कपड़े पहन कर रांड बाजार में कोई पूजा तो नहीं करने आता.

ऐसा बोलते ही एक लड़के ने उसको अपनी और खींचा और कसके पकड़ लिया. साथ ही उसने मेरी माँ को किस कर लिया. दूसरे लड़के ने पीछे से टॉप के अन्दर हाथ डाला और मम्मे दबाने लगा. तीसरे लड़के ने उसकी स्कर्ट को उठा कर उसकी चड्डी खींच कर उतार और फेंक दी. मम्मे मसलने वाले लड़के ने ब्रा भी फाड़ कर फेंक दी.
ये सब इतनी जल्दी हुआ था कि उसे पता ही ना चला. अब वो मदहोश हो चुकी थी. उसे भी मज़ा आने लगा था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  टीचर की यौन वासना की तृप्ति-11

अगले भाग में

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!