सेक्सी औरत मेरी सास बनी-2

Maine saas ki chudai ki-2

तभी में बहुत खुश हुआ और उसके घर पर चला गया और फिर हम दोनों बातें करने लगे। तभी रात के करीब 8 बजे थे.. हमने चाय पीकर बातें भी बहुत कर ली थी। फिर कुछ देर बाद वो किचन में कप धोने चली गयी.. तभी थोड़ी सो आवाज़ हुई। फिर मैंने पूछा कि क्या हुआ आप ठीक है ना? तभी उसने कहा कि हाँ ठीक हूँ कप गिर गया तो फूटट गया था और वो काँच को उठा रही थी। फिर उसी वक़्त में भी वहाँ गया देखा वो नीचे ज़मीन पर पड़े काँच के टुकड़े उठा रही थी.. उसकी साड़ी का पल्लू गिरा हुआ था। फिर मुझे उसके गोरे गोरे ठोस मसल दिख रही थी। तभी उसने मेरी तरफ देखा और फिर मैंने नज़र चुरा ली वो समझ गयी कि में क्या देख रहा था। फिर उसने अपना पल्लू सीधा किया और में हॉल में आकर बैठ गया।

फिर कुछ देर बाद वो आई और बातें करने लगी.. लेकिन इस बार उसके चेहरे पर एक अजीब सी खुशी और हवस भरी स्माइल मुझे नज़र आई। तभी उसने मुझसे कहा कि शादी कब करने वाले हो? जल्दी से कर लो। फिर मैंने कहा कि हाँ जल्द ही करने वाला हूँ थोड़ा कमा तो लूँ। फिर उसने कहा कि कोई दोस्त है या नहीं तुम्हारी? तभी मैंने कहा कि क्या मतलब? फिर उसने कहा कि अरे मतलब गर्लफ्रेंड। फिर मैंने कहा कि अब तक तो नहीं.. कोई लड़की आज तक पसंद ही नहीं आई। फिर उसने कहा कि तुम्हे कैसी लड़की पसंद है? फिर मैंने कहा कि एकदम सीधी साधी सुंदर लड़की।

तभी उसने कहा कि तब तो ना होने के बराबर होगी। फिर मैंने कहा कि क्या मतलब है? फिर उसने कहा कि मतलब क्या अगर सीधी साधी होगी तो जो तुम्हे चाहिए वो तुम्हे कभी नहीं मिलेगी और फिर क्या फ़ायदा? तभी मैंने कहा कि क्या में समझा नहीं? फिर उसने कहा कि इतने भी भोले मत बनो तुम्हारी उम्र के लड़को को क्या चाहिए तुम्हे नहीं पता क्या? फिर उसकी ऐसी बात सुनकर में हैरान हो गया क्योंकि वो खुलकर बात करने की कोशिश में थी। फिर में था जो शरमा रहा था तभी मैंने स्माईल दी। फिर वो भी हंसने लगी और फिर क्या था.. वो और भी खुल गयी। फिर मैंने कहा कि हाँ आपकी बात तो सही है लेकिन क्या करें बात किस्मत की है मेरे सभी दोस्तों की किस्मत बहुत अच्छी है में ही खराब किस्मत का हूँ। तभी उसने कहा कि ऐसा मत कहो तुम बहुत अच्छे दिखते हो, हेंडसम हो तुम्हे तो कोई भी पसंद कर लेगी.. यहाँ तक की शादीशुदा औरत भी फिदा होगी तुम पर। तभी मैंने कहा कि क्या चने के झाड़ पर चड़ा रही हो आप और हम हंस पड़े। फिर वो बोली कि नहीं.. में सच बोल रही हूँ। तभी मैंने कहा कि मुझे तो ऐसा नहीं लगता। फिर वो बोली कि तुम झूट बोल रहे हो.. क्या तुम्हे औरतें पसंद नहीं है? तभी मैंने थोड़ा शरमाते हुए स्माईल दी। फिर वो बोली कि अरे क्यों लड़कियों की तरह शरमा रहे हो? ऐसा होता है इस उम्र में तुम्हारे उम्र के लड़के अपने से बड़ी उम्र की लड़कियों को बहुत पसंद करते है.. फिर चाहे वो 4 बच्चो की माँ ही क्यों ना हो? यारो में तो सच मे भोचक्का रह गया.. क्योंकि वो औरत तो मेरे मन को पढ़ रही थी और मेरे रोम रोम में हवस जाग रही थी और शरम तो इतनी आ रही थी जैसे मानो कि मेरी चोरी पकड़ी गयी हो।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  गेंदामल हलवाई का चुदक्कड़ कुनबा-27

फिर उसने कहा कि क्या हुआ क्या सोच रहे हो? तभी मैंने कहा कि कुछ नहीं बस ऐसे ही। तभी उसने कहा कि अरे तुम तो बड़े शर्मीले हो। फिर मैंने कहा कि हाँ बात तो सही कही आपने। फिर उसने कहा कि तुम्हे शादीशुदा औरते पसंद है? तभी मैंने तुरंत हाँ कहा। फिर उसने कहा कि मुझे पता है में तो बस ऐसे ही पूछ रही थी। फिर मैंने कहा कि क्या मतलब? तभी उसने कहा कि मतलब क्या? अभी कुछ देर पहले जो हुआ पता नहीं क्या और वो हँसने लगी? फिर मैंने कहा कि क्या आपको अंकल प्यार करते है? फिर उसने कहा कि हाँ करते तो है लेकिन मुझसे 10 साल बड़े है तो प्यार कम हो गया है और हँसने लगी। फिर मैंने कहा कि ऐसा क्यों? तभी उसने कहा कि तुम हो ना.. क्या तुम मुझसे प्यार नहीं करते?

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

तभी मैंने कहा कि क्या आंटी आप भी? फिर उसने कहा कि.. अरे क्या हुआ में तो तुम्हे बहुत प्यार करती हूँ? फिर मैंने कहा कि तो में भी करता हूँ। फिर वो बोली कि.. अभी तुम घर जाओ कल रविवार है ना तुम्हारी छुट्टी होगी कल यहीं पर आ जाना खाने पर फिर हम दोनों कुछ बाते करेंगे। फिर मैंने कहा कि ठीक है.. में मन ही मन खुश होकर घर आया और कल के इंतज़ार में रात गुजारी और फिर दूसरे दिन 11 बजे में उसके घर पहुँच गया और अपने घर में बता दिया कि में बाहर जा रहा हूँ ऑफीस के एक दोस्त की शादी है रात को देर से आऊंगा और फिर में उस औरत के घर चला गया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दीदी की सास की गांड फाड़ी-1

वो मेक्सी में थी बहुत ही सेक्सी लग रही थी चलती तो उसकी गांड बड़ी होने की वजह से हिलती थी उसकी पेंटी की लाईन मुझे पागल कर रही थी.. उसने ब्रा नहीं पहनी थी लेकिन बूब्स बड़े और ठोस थे तो इसलिए निप्पल की नोक साफ साफ दिख रही थी और बूब्स जोर जोर से हिल रहे थे.. में हॉल में सोफे पर बैठा था। तभी वो अपना काम खत्म करके मुझसे बोली कि अंदर आ आओ तुम्हे घर दिखाती हूँ और मेरा हाथ पकड़ कर बेडरूम में ले गयी और कहा कि ये है तेरे अंकल का और मेरा कमरा.. बगल का कमरा मेरी बेटी का है और उसने कहा कि बैठो और में बेड पर बैठ गया। फिर वो किचन में गयी पानी की बोतल लेकर आई और फिर एकदम मेरे पास में आकर बैठ गई। फिर मैंने पानी पिया और उसे बोतल दी उसने सामने ड्रेसिंग टेबल पर रख दी और फिर बाल बनाने लगी। तभी में उसे पिछवाड़े से देख रहा था और उसने मेरी नज़र को सामने आईने में से पकड़ लिया और वो मुड़कर मेरे सामने खड़ी हुई और अपने बाल बाँधते हुए बोली क्या सोच रहे हो? तभी मैंने कहा कि कुछ नहीं फिर उसने मुझे हाथ पकड़ कर खड़ा किया। फिर में एकदम उसके सामने खड़ा था और उसने मेरी आँखो में आँखे डालकर देखा और फिर मुझसे लिपट गयी और फिर मुझे अपनी बाँहों में कसकर बोली.. बस अब शरमाओ नहीं प्लीज आज मेरे साथ सो जाओ।

तभी मैंने उसे एक बार देखा और फिर मैंने भी उसे कसकर पकड़ा उसने मुझे चूमा और मैंने भी चूमा। फिर मैंने अपना एक हाथ उसके शरीर, कूल्हों पर और उसकी गांड को और भी आगे छुआ। फिर उसकी चूत मेक्सी के ऊपर से ही मेरे लंड को छूने लगी.. वो पागल हो रही थी और फिर उसने मुझे छोड़ा और मुझे बेड पर लेटाया। तभी में उसके ऊपर लेटा और चूमने लगा में उसके दोनों बूब्स पकड़ कर दबाने लगा। उसकी मेक्सी ऊपर करके उसकी नंगी टांगो को सहलाने लगा। तभी उसने कहा कि बस रुक जाओ और उठकर बैठी और मुझे कहा कि कपड़े उतारो। फिर मैंने अपने कपड़े उतारे.. उसने अपनी मेक्सी उतारी उसके नंगे बड़े बड़े बूब्स देखकर में पागल हो गया। फिर वो सिर्फ़ पेंटी में थी में तुरंत ही उनको दबाने लगा और मुहं में भर भरकर चूसने लगा।

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!