प्यासी आरती की चुदाई होटल में

(Pyasi aarti ki chudai ki hotel me)

हेल्लो दोस्तो मोहित फिर आप के लिए रसभरी कहानी लेकर हाजिर है एक दिन में घर पर ऑफिस की छुट्टी के कारण बोर हो रहा था तो अपना ईमेल चेक करने लगा तो मुझे हैंगआउट पर आरती का मेसेज मिला हम कई सालो से एक दूसरे से हैंगआउट पर बात कर रहे थे वह एक खूबसूरत महिला थी मैने उसके पति व उसकी सेक्स लाइफ पर बात की उसने कहा उसका पति एक कंपनी में बहुत बड़े पद पर काम करता था। उसका पति इंग्लैंड में रहता था मैने उसको अपनी मजेदार बात से उतेजित भी कर रहा था और उसे एक दिन अपने साथ बिताने को बोला तो वो तुरंत तैयार थी वह सन्डे का दिन था मैने पहले से ही एक होटल बुक कर लिया था था में सबसे पहले होटल पहुंच कर उसका इंतजार किया वो 20 मिनिट के बाद आई मैने चेक इन किया।

कमरे में अन्दर जाते ही मैंने उसको अपनी बांहों में भर लिया।वो बोली- इतनी जल्दी क्या है.. छोड़ो भी। लेकिन मैंने उसकी एक ना सुनी और उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उनको चूसने लगा। वो कसमसाने लगी थी, मैंने देर ना करते हुए उसको बिस्तर पर लिटा दिया।
अब हम दोनों गर्म होने लगे थे, हमारी साँसें बहुत तेज हो चुकी थीं, मैंने अपने होंठ फिर से उसके रसीले गुलाबी होंठों पर रख दिए और उन्हें चूसने लगा।
उसके हाथ मेरी गर्दन पर थे, मैं उसकी गरम साँसों को महसूस कर सकता था।
उफ्फ.. क्या बताऊँ दोस्तो.. एक अजीब सा नशा था उसके होंठों में.. मैं उन्हें लगातार चूस रहा था, वो मेरी बाहों में मचल रही थी। अब मैं उसके होंठों से होकर उसको गालों को चूमने लगा, उसके कानों की लौ को चूसने लगा। वो पूरी तरह मस्त हो चुकी थी। इसी दौरान मैंने उसका टॉप उतार दिया। आह.. अन्दर का नज़ारा देखकर मेरा लंड झटके खाने लगा। उसकी काली ब्रा में गोरे-गोरे चूचे क़यामत ढा रहे थे। मैं उसके मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही बुरी तरह मसलने लगा.. साथ में मैं उसको कान के नीचे हल्का-हल्का काट भी रहा था। इसी बीच मैंने अपनी शर्ट और बनियान भी उतार दी, मैंने उसकी साड़ी और ब्लाउज का बटन खोल दिया और साथ ही पेटीकोट का नाडा खिसकाने लगा। उसने अपने चूतड़ों ऊपर उठाकर पेटीकोट उतारने में मेरी मदद की।

जैसे-जैसे उसका पेटीकोट को मैं नीचे सरका रहा था.. मेरे हाथ उसकी गोरी चिकनी जांघों से रगड़ खा रहे थे। उसकी गुलाबी पैंटी पूरी गीली हो चुकी थी और उसकी चूत की मादक खूशबू मुझे और अधिक पागल कर रही थी। वो सीत्कार करने लगी थी.. उसके मुँह से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाजें निकल रही थीं।अब मैं फिर से उसके ऊपर आ गया, मैं उसके मम्मों को मसलने के साथ-साथ उसकी गर्दन पर बाईट करने लगा। वो मेरी गर्म साँसों को अपनी गर्दन पर फील कर रही थी।

मैंने उसकी गर्दन पर ‘लव बाईट’ करते हुए वहाँ धीरे से फूँक मारी। उसको हल्की सी ठण्ड का एहसास हुआ.. जिससे उसको अच्छा लगा। उसके हाथ लगातार मेरी पीठ पर चल रहे थे और वो सीत्कार कर रही थी। उसकी आँखें गुलाबी हो चुकी थी और चेहरा पूरा लाल हो गया था। फिर मैं अपने हाथ उसकी ब्रा के हुक्स पर ले गया और जैसे ही मैंने उसकी ब्रा के हुक खोले.. उसके तने हुए चूचे जैसे एकदम से आज़ाद हो गए। उसके दूध जैसे गोरे मम्मों के ऊपर गुलाबी चूचुकों ने तो मुझे पूरा पागल कर दिया। मैं पागल होकर उनको चूसने लगा और वो मेरे सर को अपनी चूचियों पर दबाने लगी। मैं उसके एक निप्पल को चूसने लगा तथा दूसरे को एक हाथ से मसलने लगा। कभी मैं दाएं मम्मे को चूसता.. तो कभी बाएँ को.. साथ में मैं उनको हल्का-हल्का काट भी लेता था.. जिससे वो मस्ती और दर्द से कराह उठती थी। वो अपने एक हाथ से मेरे पैंट की ज़िप खोलने लगी। मैंने खड़े होकर अपना पैन्ट भी उतार दिया। अब मैं सिर्फ अंडरवियर में था। मेरा लंड खड़ा था और अंडरवियर फाड़ने को बेताब हो रहा था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  लेडी बाॅस की चुदाई

मैं वापस बिस्तर पर आया और उसके मम्मों को चूसने लगा, उसने एक हाथ से मेरी अंडरवियर उतार दी। जैसे ही मेरा लम्बा और मोटा कड़क लंड बाहर आया.. वो चौंक कर रह गई, बोली- बाप रे.. इतना बड़ा लंड.. मैं ये अपने अन्दर नहीं ले पाऊँगी। मैंने कहा- बस देखती जाओ।
उसको थोड़ी घबराहट भी हो रही थी। मेरे लंड पर प्री-कम लगा हुआ था.. जिसकी वजह से वो चिकना हो रहा था।
वो मेरे लंड को हाथ में लेकर आगे-पीछे करने लगी। अब मैंने अपना एक हाथ उसकी पैंटी में घुसेड़ दिया। जैसे ही मेरा हाथ उसकी पैंटी के अन्दर गया.. तो उसकी क्लीन शेव्ड चूत के गीली होने की वजह से फिसल कर और नीचे चला गया, वो एकदम से उछली। फिर मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी, उसने शर्म के मारे एक हाथ अपनी चूत पर रख लिया। अब वो पूरी नंगी मेरी बाँहों में थी, सफ़ेद रोशनी में उसका पूरा शरीर चमक रहा था.. वो एकदम जन्नत की हूर लग रही थी। मैं उसको देखकर बेकाबू हो रहा था, मेरा लंड पूरे जोश में आकर जैसे फटने वाला था। उसके मम्मों से नीचे आकर मैं उसकी नाभि को चूमने लगा। वो पूरी मस्ती में चिल्ला रही थी.. मैं अपनी जीभ से उसकी नाभि की गहराई को चाट रहा था।

फिर मैं और नीचे आया और अपनी उंगली से उसकी गुलाबी चूत के दोनों होंठों को अलग कर दिया.. जो पानी छोड़ रही थी। ऐसा करने से वो चिहुंक उठी।
अब तक हम दोनों पूरे नंगे हो चुके थे। मैं अपना मुँह उसकी चूत के नज़दीक लाकर सूंघने लगा.. वहाँ से पानी रिस रहा था। तभी मैंने अपनी जीभ उसकी गुलाबी चूत की फाँकों में घुसा दी और चूत के अन्दर गोल-गोल घुमाने लगा। वो अपनी जांघों को आपस में रगड़ने लगी और अपने हाथों से मेरा सर अपनी चूत पर दबाने लगी। वो ज़ोर-ज़ोर से ‘आहें..’ भरने लगी थी। मैं उसके कामरस के स्वाद का दीवाना हो गया और उसकी चूत की मादक खूशबू मुझे पागल कर रही थी। मैं कभी-कभी उसकी क्लाइटोरिस को भी चूम लेता था।वो अपनी चूत उछाल रही थी और बोल रही थी- मोहित आई लव यू.. प्लीज फ़क मी नाओ..मैं अपनी एक उंगली भी धीरे-धीरे उसकी चूत पर फेरने लगा था। तभी उसका पूरा शरीर अकड़ने लगा.. वो नीचे से तेज झटके मारते हुए झड़ गई। मैं उसका नमकीन पानी पूरा पी गया। अब मैं बिस्तर पर घुटनों के बल बैठ गया और उसको अपना लंड चूसने को कहा। वो अभी भी शर्मा रही थी और उसका चेहरा पूरा लाल था। पहले तो उसने मना किया लेकिन मेरे फ़ोर्स करने पर वो मान गई और मेरा लंड हाथ में लेकर आगे-पीछे करने लगी। फिर वो मेरे लंड का सुपाड़ा अपने मुँह में लेकर चूसने लगी। मेरा पूरा लंड उसके मुँह के अन्दर नहीं जा रहा था लेकिन वो अन्दर लेने की पूरी कोशिश कर रही थी। धीरे-धीरे वो मेरे लंड को अपने गले तक अन्दर लेने लगी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  Police wali aurat ki chudai - xxx kahani

फिर मैंने उसको बेड पर लेटने को कहा, मैं उसके ऊपर उल्टा लेट गया, उसकी टाँगें मेरे सर की ओर थी और मेरी टाँगें उसके सर की ओर थीं। हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए थे।
हम लगभग 15 मिनट तक ऐसे ही चुसाई करते रहे। इसी बीच वो एक बार मेरे मुँह मैं झड़ चुकी थी। अब मैं भी झड़ने वाला था तो मैं उसके मुँह में तेज-तेज झटके मारने लगा और एक के बाद एक करके मैंने कई पिचकारियां उसके मुँह में छोड़ दीं और मेरे साथ वो फिर से झड़ गई। वो मेरे वीर्य की एक-एक बूँद पी गई। अब तक वो तीन बार झड़ चुकी थी और मैं एक बार खल्लास हो चुका था। अब हम दोनों की हालत बहुत ही ख़राब हो चुकी थी, आरती की आँखों में मेरे लंड के लिए एक अजीब तड़प थी, उसने कहा- प्लीज मोहित अब चोद भी दो.. मुझसे अब और कंट्रोल नहीं होता.. फाड़ दो मेरी चूत।

मेरा लंड फिर से पूरे जोश में आ चुका था। मैंने उसको पीठ के बल बिस्तर पर लिटाकर उसकी कमर के नीचे एक तकिया लगाया.. जिसकी वजह से उसकी चूत ऊपर को उठ गई। उसकी चूत तीन बार झड़ने के कारण पूरी गीली थी।
मैं उसके ऊपर आ गया और अपना लंड हाथ से पकड़ कर उसकी चूत पर रगड़ने लगा। उससे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, वो झुंझलाकर बोली- अब चोद भी दे यार.. क्यों तड़फा रहा है। वो ये कहते हुए नीचे से मेरे लंड पर दबाव डालने लगी। मैंने उसके होंठों को अपने मुँह में जकड़कर एक धक्का मारा.. लेकिन मेरा लंड बाजू में फिसल गया।वो हँसने लगी..लेकिन मुझे पता था कि जल्दी ही वो रोना भी शुरू कर देगी। मैंने फिर से अपना लंड उसकी चूत पर लगाया और एक ज़ोरदार झटका मारा। अबकी बार मेरा लंड उसकी चूत में आधा करीब घुस गया था। उसने चिल्लाने की कोशिश की.. लेकिन उसके होंठ मेरे मुँह में होने के कारण उसकी आवाज़ बाहर नहीं आई। वो मेरी बांहों में जल बिन मछली की तरह छटपटाने लगी.. लेकिन मैंने अपनी मज़बूत पकड़ बनाए रखी। साथ में मैं उसके मम्मों को भी सहलाता रहा।

वो रोने लगी.. उसकी आँखों से आंसू आने लगे, मैंने कहा- ज्यादा देर दर्द नहीं होगा.. थोड़ा और सहन कर लो।
दो मिनट बाद जब वो थोड़ी नार्मल हुई.. तो मैंने फिर से एक जोरदार झटका मारा और मेरा लंड उसकी चुद के अन्दर घुसता चला गया। वो दर्द के मारे उसके आखो में आशु आगये जिसे मेने अपने होठों से पीना शुरू कर दिया। उसने मरी सी आवाज में कहा मोहित आराम से थोड़ी देर रुक जाओ लेकिन मैंने उसकी एक ना सुनी। उसने कहा मोहित मुझे नहीं चुदवाना.. प्लीज छोड़ दो मुझे।
मैं फिर से उसके होंठों को चूसते हुए उसके मम्मों को सहलाने लगा। धीरे-धीरे वो फिर से नार्मल होने लगी। कुछ मिनट बाद उसने नीचे से अपनी कमर हिलानी शुरू कर दी। मैं समझ गया कि वो अब तैयार है।
मैं अपना लंड धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करने लगा। उसको अभी भी हल्का दर्द हो रहा था.. लेकिन साथ में वो खुश भी हो रही थी क्योंकि उसको लगा उसने पूरा लंड अन्दर ले लिया है। थोड़ी देर हल्के धक्के मारने के बाद मैंने फिर से ज़ोरदार धक्का मारा। वो इसके लिए बिल्कुल तैयार नहीं थी.. इसलिए ज़ोर से चिल्लाई, उसने दर्द के मारे अपने नाखून मेरी पीठ में गड़ा दिए। उसकी आँखों से फिर से आंसू आने लगे। थोड़ी देर की चुदाई की वजह से वो बहुत गर्म हो गई थी..

हिंदी सेक्स स्टोरी :  स्टूडेंट की माँ को चुदाई का पाठ पड़ाया

इसलिए उसने ज्यादा मना नहीं किया और कुछ ही पलों बाद मेरा साथ देने लगी। अभी भी उसको दर्द हो रहा था लेकिन साथ में मज़ा भी आ रहा था। धीरे-धीरे उसका पूरा दर्द गायब हो गया और सिर्फ मज़ा आने लगा। अब हम दोनों पूरे जोश में आ चुके थे और शानदार तरीके से चुदाई में लगे हुए थे। इसी बीच वो झड़ गई और मुझे मना करने लगी.. लेकिन मैंने उसको इग्नोर किया और लगातार धक्के देता रहा। कुछ धक्कों के बाद वो फिर से जोश में आ गई और मेरा साथ देने लगी। पूरे कमरे में चूत रस में लंड की ठोकरें लगने के कारण ‘फच्च.. फच्च..’ की आवाज़ गूंज रही थीं। जैसे ही मैं ऊपर से धक्का मारता.. वो नीचे से कमर उछालती। साथ में वो चिल्ला भी रही थी ‘आआह्ह्ह.. मोहित.. उउफ्फ्फ.. और जोर से चोदो मुझे.. उम्म्म.. प्लीज मेरी चूत फाड़ दो।’
उसकी आवाज़ सुनकर मैं और भी ज्यादा जोश में आ गया और तेज-तेज धक्के मारने लगा। हम दोनों चुदाई का भरपूर आनन्द ले रहे थे। मैंने उसको लगातार कई मिनट तक चोदा। अब मैं अपनी चरम सीमा पर पहुँच चुका था.. जिस वजह से मैं उसको फुल स्पीड से चोदने लगा।

मैंने उससे पूछा- मेरा होने वाला है, कहाँ निकालूँ। तो वो बोली- मेरी चूत में ही छोड़ दो। मैंने तेज झटके मारते हुए अपना सारा माल उसकी चूत में छोड़ दिया। मेरे साथ ही वो फिर एक बार झड़ गई।
मैंने उससे पूछा- मज़ा आया?
वो बोली- मोहित आज तुमने मुझे वो मज़ा दिया है.. जो मैं सोच भी नहीं सकती थी। मेरा मन उसके साथ एक बार और सेक्स करने का था.. लेकिन उसको घर जाने की जल्दी थी। मैंने उसको उठाया, उसको अभी भी दर्द हो रहा था और ठीक से चल भी नहीं पा रही थी। उसने फिर से मिलने का वादा किया। फिर हमने एक लम्बा लिप किस किया और वहाँ से चल दिए। वो मुझे छोड़ने बस स्टैंड तक मेरे साथ आई.. फिर हमने एक-दूसरे को हग किया और जल्दी मिलने का वादा किया।
ये मेरी उससे आखिरी मुलाक़ात थी..थोड़े दिन बाद उसका पति उसे अपने साथ इग्लैंड लेकर चला गया।
दोस्तो, यह थी मेरी कहानी, कैसी लगी आपको.. अपने विचार और सुझाव जरूर भेजें।
मोहित[email protected]

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!