विधवा साली कि सेक्स की भूख को जाड़े में ठंडा किया

Vidhwa sali ki sex ki bhook ko jaade me thada kiya

हैलो दोस्तो मैं अंकुर

आपके लिए एक नई कहानी ले कर आया हूं जो बहुत ही
मजेदार है
मैं ऐसा उम्मीद है कि आपको जरूर अच्छा लगेगा
तो मैं टाइम ना बिताते हुए मै कहानी पर आता हूं

मै अंकुर मेरी हाईट 5 फिट 7इचं है और बलिस्ट हूं यानी खत पिता परिवार का हूं मेरा उप के छोटे से शहर मै उरई मै बिजनेस है ।
और मेरे लौड़े की साइज 7इचं है और 3इचं मोटा है।
जो किसी भी औरत को मज़ा दे कर ही छोड़ता है।

मेरी साली का ससुराल ग्वालियर है ।
मेरी साली सुरु एकदम गोरी और सेक्सी लगती है गोल गोल चूतड़ बड़े बड़े चूची क्या कहूं मस्त माल है।
उसकी और उसकी बहन की सादी एक साथ हुई थी एक साल सब कुछ अच्छा चला लेकिन तीन साल के बाद साली सुरु के हसबैंड का बीमारी के चलते एक्सपायर हो गए। अब वो बिल्कुल अकेली थी ।
अब उसके घर में बाद एक बुड्ढी सास और 1साल का बेटा रोनी था ।
जिसके साथ ही उसे अब जिंदगी काटनी थी ।

लेकिन उसकी सेक्स कि भूख जिसको सांत करना पड़ता वो नहीं कर पाती।
मुझे कैसे पता वो मेरी बीवी यानी अपनी बहन से कहती कभी कभी, तो मेरी बीवी मुझे बता देती थी।
मै भी उसको चोदना चाहता था मै अपनी बीवी से खूब था लेकिन साली के लिए थोड़ा सोचता था।
दिसंबर में मेरे को बिजनेस के लिए ग्वालियर जन था 10 दिन के लिए मेरी बीवी बोली कि सुरु के यहां चले जाओ ।
वहीं रुक जाना मै खूब होगया मै मज़ाक किया की तुम्हे दिक्कत तो नहीं होगी बोली साली आधी घरवाली होती है।
फिर मै अगले दिन ट्रेन पकड़ के साली के घर चला गया।

वाह पहुंचते ही साली ने स्वागत किया क्या लग रही थी साली
फिर चाय नाश्ता किया। और आराम करने लगा।
रात को खाना खाने के बाद मै साली के रूम मै गया और बात चित होने लगी काम वाम के बाद मै बोला कैसी कत रही है। वो बोली कैसा करेगा जीजू बस बच्चे के सहारे कट जा रही है जिंदगी। मै बोला कि हैं इसके अलावा भी है जिंदगी में।थोड़ी देर मै मै उससे एकदम खुल के बात करने लगा।
तो उदास हो के बोली क्या कर सकती हूं तो फिर सेक्स को कैसे बुझाती हो । बोली उंगली से कम चल जाता है ।फिर मै अपना हाथ उसके हाथ पर रख दिया और बोला मै बुझा दूं बोली कि ये सब गलत है मै बोला कहा गलत है
वैसे भी साली अधी घरवाली होती है।
वो तो मज़ाक की बात है।
मै बोला ऐसा कुछ नहीं बहुत दिन से मेरे लंड भी भूख है और तुम भी तो बोली दीदी नहीं है क्या बोली । मैं बताया की वो प्रेगनेंट है 7 माह की।
फिर मै अपना एक हाथ से उसको ब्लाउज पर से चूची मसलने लगा। और किस करने लगा वो विरोध करती रही मै किस करना और चूची दबाना चालू रखा अब वो अपने आप को ढीला के छोड़ दिया। ऐसा होता भी क्यो नही उसको भी तो सेक्स की इच्छा होती थी।
जो जग गई। फिर वो भी साथ देने लगी और मुझे भी किस करने कहीं और मेरे लौड़े को सहलाने लगी ।
फिर हम दोनों केले की छिलके की तरह कपड़ा उतार दिया ठंडी होने बाद भी हम लोगो ठंड नहीं लग रहा था।
वो मेरा लंड सहलाती मै चूची को दबाता आह क्या मज़ा आ रहा था चूची पीने और दबाने में
फिर मै अपना हाथ उसके बूर पर ले गया। और चूत को कस के मसल दिया वो अब मसलते ही आई हाय उई करने लगीं….. ohhhh उम्म् karne लगी
फिर मै बुर के अंदर उंगली डालने लगा तो बोली जीजू
मै रोज उंगली करती हूं मेरे को आपका मोटा लंड घुस्वाना है बुर में… उई आह उह आह उह=… हां ऐसे हियी मा ओह आह=….

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  विधवा भाभी जी की चुदाई का मज़ा

मैं भी कई दिनों से बुर का भूखा था मै भी हां मेरी रणडी
मै भी भूखा हूं और मै उसकी टांगे फैलाई और झाट के बीच मै बुर की फांकों के बीच छेद में लंड रख कर रगड़ने लगा
वो बेचैन हो गईं … गाड़ हिला हिला कर बुर में घुसाने की कोशिश करने लगी पर मोटा लंड होने से घुस नहीं रहा था
उससे रहा नहीं जा रहा था बोली हाय मेरे जीजू लंड को मेरे जुजी में घुसेड़ दो प्लीज बहुत दिनों की भूखी हूं
मै बोला बुर में घुस नहीं रहा है….तुम्हारा बुर फट जायेगी।

बोली तुम चिंता मत करो फट जाए तो जाए गुसा दो मेरे जूजी में आह आह आह उह उह फिर मै बुर पर रगड़ते हुए कस के एक धक्का दिया मेरा लन्ड आधा घुस गया ….
उसकी चीख निकल पड़ी उई मां मर

गई री जीजू ने जुजि फार दिया फिर मै दूसरा धक्का दिया अब पूरा का पूरा लंड बुर में समा गया।
आह क्या बुर की गर्मी थी मुझे महसूस हो रहा था वो अब फी चिला रही थी और बड़बड़ाने लगी निकाल गर्मी जीजू मुझे नहीं बुर को चुद्वाना आई मा मर गई फिर मै उसकी चूचियों को सहलाने लगा और धीरे धीरे बुर मै लंड से चोदने लगा
अब उसको भी मज़ा आने लगा और आई उई आह आह
आह आह उई उई उई आह आह उह आह उह उह उह आह उह किए जा रही पूरा कमरा हम लोगो की कामुक आवाजें से भर गया आई उई हाय ओह आह उह
साली बोली फार दो जीजू मेरे जूजि को से बुर फारो
बहुत दिन से प्यासी है ये बुर हरामजादी बुर चोदी कहीं की
आह आउच ओह ओह माई गॉड जोर से चोदो जीजू और जोर से जीजू इस बुर को भोसड़ा बना दो आई मा
कहते हुए मेरे को कस के पकड़ के खाल्लास हो गए
मै अभी दना दन चोदे जा रहा था वो फिर से तैयार हो गए

हिंदी सेक्स स्टोरी :  साले की बीवी की कामुक चुदाई

फिर से कहने लगी और जोर से जीजू बस इतना ही खाए हो क्या तुम दीदी को क्या चोदते होगे
जिससे मेरा जोश बढ़ गया और
मै उसे कूतिया बाना की तरह बाना करके गाड़ मै कस के ठोक दिया अब वो कहीं गाड़ फार दिया जीजू बताए बिना
आह तुम ही तो के रही थी इतना ही खाए हो लो गाड़ मरवाओ हरामजादी फिर कस कस के गाड़ मारने लगा वो आह उई मम्मी आह करने लगी
गाड़ मारने में मज़ा आ रहा था फिर मै पीछे से ही बुर पेलने लगा एक बार बुर और एक बार गाड़ इस तरह उसको दोनों मज़ा आ रहा था गाड़ बुर दोनों का वो मज़े ले रही थी आह जीजू साइज आह उह आह आह उह उह उह किए जा रही रही और पीलवा रही थी गाड़ बुर
फिर मै झरने वाला था दो घंटे की सेक्स के बाद बोला कहा गिराऊ वो बोली बुर को आज तृप्त कर दो बहुत दिनों से प्यासी है …
आह आह उह फिर हम दो नो एक साथ झर गए मेरा पूरा वीर्य उसके बुर में भर गया।
उस दिन के 10 दिनों तक उसके बुर भरता बनाता रहा।
अब जब भी ग्वालियर जाता हूं उसके बिना चोदे नहीं आता।
कैसी लगी स्टोरी।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!