भाभी के साथ रासलीला-1

Bhabhi ke Sath Raslila-1

भाभी के साथ रासलीला
नमस्कार दोस्तो.. मै मोहित आज फिर एक आपबीती घटना कहानी के रूप में हाज़िर कर रहा हूँ।
बात अभी साल भर पुरानी है मुझे कंपनी के काम से दिल्ली भेजा गया 3 महीनों की ट्रेनिंग के लिए वहां जाकर मेने सबसे पहले किराये के लिए कमरा ढूढा। वहां मुझे योगेश जी के यहां अच्छा रूम मिलगया।
योगेश सिंह 67 साल के बहुत बड़े ट्रांसपोर्टर हैं, बहुत अमीर हैं। उन्होंने इस उम्र में 35 साल की पायल से दूसरी शादी कर ली, यह पायल की भी दूसरी शादी थी। 35 साल की पायल बहुत सुन्दर मस्त मौला दबंग तीखे नयन नक्श बड़ी-बड़ी काली-काली आँखों वाली दूध सी गोरी मखमली स्किन वाली अमीर औरत थी। वो टाइम पास करने के लिए बच्चों का एक छोटा सा स्कूल चलाती थी।

योगेश सिंह जी ने मुझे अपना मकान सुरक्षा के कारण दिया था क्योंकि उनको अक्सर बाहर जाना पड़ता था।
शाम को ऑफिस की ट्रेनिंग से आकर मैं चूंकि बोर होता था और पायल भाभी भी अकेली होती थी और बोर हो रही होती थी तो मैं अक्सर पायल भाभी को अपने साथ चाय के लिए बुला लेता था।
मुझे इस घर में एक महीने हो गए थे और मैं मेरी और पायल जी की अच्छी दोस्ती हो गई थी।

मेरी एक गर्ल फ्रेंड थी रीना… रीना पतली दुबली कद में भी छोटी करीब 5 फुट 3 इंच, 24 साल की मेरे ऑफिस में ही नौकरी करती थी।
मैं रोज़ रात को रीना के साथ सेल पर बात करता था, हम दोनों खूब मजा ले लेकर फ़ोन सेक्स चैट करते थे, मैं मुठ मारता था और वो अपनी चूत में उंगली करती थी।
यह बात पायल भाभी को कैसे पता चली मुझे नहीं मालूम… परंतु एक दिन उसने मुझे खुद ही बताया कि वो बीच के दरवाज़े से मेरी बातें सुनती है और उसे उसमें बहुत अच्छा लगता है।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  बीवी को अपने दोस्त से चुदवाया

मुझे पायल भाभी के हाव भाव से.. बातों से.. और उसकी मस्त जवानी के जलवे दिखाने से लगता था कि वो मेरे साथ सेक्स करना चाहती है।
मुझे भी उसकी मस्त गोरी-गोरी चिकनी-चिकनी गदराई जवानी को देखना बहुत अच्छा लगता था और वो भी दिल खोल कर दिखाती थी।
कभी कभी तो हम दोनों में लपट झपट चुम्मा चाटी भी हो जाती थी और मैं उसके चूतड़ या कमर मसल देता था।

और वो गालियाँ देकर हंस देती!
एक दिन शाम को मैं ऑफिस से चाय बना कर बैठा भाभी का इंतज़ार कर रहा था.. पर वो कहीं गई थी।
थोड़ी देर बाद जब आई तो मैंने कहा- हाय पायल भाभी, क्या हो रहा है… आज कहाँ घूम रही हैं.. मैं तो चाय के लिए इंतज़ार कर रहा था।
‘हाय सच्ची मोहित…’ भाभी के चहेरे पर शरारती मुस्कान थी- कुछ नहीं हो रहा मोहित.. बस ऐसे ही.. आज बहुत बोर हो रही थी तो पड़ोस में चली गई थी। पर तू चाय के लिए क्यों इंतज़ार कर रहा था? तू चाय पी लेता!
पायल ने कुर्सी पर बैठते हुए कहा।

मैंने चाय का मग उसके सामने रख दिया और टेबल के सहारे उसके सामने खड़े हुए उसकी ब्लाउज में खड़ी तनी हुई चूची नंगी गोरी चिकनी कमर सपाट पेट और सेक्सी गहरी नाभि को निहार रहा था।
‘अरे भाभी, बस यही तो बात है.. जब से आपके साथ दोस्ती हुई है, अकेले चाय पीने में मजा ही नहीं आता। आज साड़ी में बहुत सुन्दर लग रही हैं। यह रंग भी आपके ऊपर बहुत अच्छा लग रहा है।’ मैंने शरारत से आँख मार कर कहा।

‘हां… हां… क्यों नहीं… सारा माल घूरने को जो मिल रहा है साले बदमाश..!’ पायल ने भी मुस्करा कर आँख मार दी- सच तो यह है मोहित… तेरा यह घूरना ही मेरी मस्ती का सहारा है.. वो कहते है ना.. जब किस्मत पर पड़े हों हथौड़े तो क्या मिलेंगे लौड़े!
पायल भाभी बड़ी निराशा भरी निगाहों से प्यार से मेरी तरफ देख रही थी, उनकी निगाहों में प्यार की चाह साफ झलक रही थी, उनका पल्लू निचे गिर गया था।
‘हाय भाभी, ऐसे क्यों बोलती हो? आप जैसी मदमस्त बिंदास सुन्दर सेक्सी हॉट औरत हो तो मस्त हथौड़ों की क्या कमी.. बहुत मिल जाएँगे। एक से एक माल!’ मैंने प्यार से उसके कंधे पर हाथ रख कर कहा।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  Ruchi bhabhi ne din raat chut ki pyas mitayi

‘हाय राजा.. बस यही तो नहीं मिलता राजा, तेरा यह प्यार तो जान ही ले लेगा… पहली शादी हुई.. साले ने दो साल तक गांड मार छोड़ दिया.. उसके बाद सोचा था कि पढ़ लिख कर कुछ मस्त तगड़ा गबरू प्यार करने वाला जवान मिल जायगा.. पर क्या हुआ मिला यह पिचकु.. जो बस नंगा खड़ा करके अपनी मुठ मार कर खुश है मेरी तो कोई फ़िक्र ही नहीं… हां मुझे सामने खड़ी करके मुझे अपने आप उंगली करते देख बहुत खुश हो जाता है। मुझे रंडी की तरह बहुत पैसे तो दे देगा पर मेरी ख़ुशी का क्या करूँ.. वो तो पैसे से नहीं मिल सकती ना!’
‘ऐसी बात मत कर.. आपके इस सुन्दर सेक्सी चेहरे पर यह उदासी अच्छी नहीं लगती.. आप तो बस हंसती हुई बदमाशी वाली अदा में ही मस्त लगती हैं।’ मैंने हंस कर कहा- अच्छा यह बताओ, आपको क्या चाहिये.. मैं हूँ ना आपका दोस्त!
मेरी बातें सुन कर भाभी हंस पड़ी- .हाय सच्ची… यह बता मोहित, तुझे मेरी किस बात से सबसे ज्यादा उत्तेज़ना होती है।

भाभी ने अपनी कुर्सी मेरे नज़दीक खिसका कर मेरी तरफ प्यार से देख कर पूछा।
‘क्या भाभी आप जानती तो हैं… आपकी बदमाशी भरी बातों के साथ आपकी खड़ी मस्त गोल-गोल चिकनी-चिकनी चूची.. और लंबी पतली कमर… आज तो सच में चूम कर प्यार करने का मन कर रहा है..’ मैंने उसके चेहरे को हाथ में लेकर उसकी प्यासी आँखों में झांकते हुए कहा।
‘हाय मोहित.. रोज तो लपट-झपट.. चुम्मा चाटी में चुम कर दबा कर मजा लेता है साले.. आज ऐसे ही कर ले राजा.. मुझे तो तुझे देख कर ही बहुत अच्छा लगता है, तेरी ये गर्म-गर्म निगाहें बहुत मस्त कर देती हैं।’

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मम्मी को मिला दो लोड़ो का मजा-2

भाभी ने मेरा हाथ अपने ब्लाउज के ऊपर अपनी 36 साइज की नर्म चूची पर रख कर मेरी जांघों को पजामे के ऊपर से खड़े लंड के पास सहलाने लगी।
मैंने भाभी की मखमली चूची हल्के से दबा दी और नीचे झुक कर उसके होंठों को चूम लिया। पायल भाभी के मुख से सिसकारी निकल गई- सी… अह्ह्ह… उई… उम्म्ह… अहह… हय… याह… धीरे से दबा राजा!
भाभी ने पाजामे में खड़ा लंड हाथ में पकड़ लिया- वाह राजा… बहुत जबरदस्त मोटा तगड़ा है तेरा माल तो?
‘आपका माल भी क्या मस्त है भाभी… मैं घुटनों पर उनके सामने बैठ गया और उनकी कमर.. चपटे पेट और नाभि को चूमने लगा, हाथ चूची पर चल रहे थे।

‘भाभी आज तो माल दिखा दो.. बहुत मन कर रहा है आपकी इस मस्त गोरी-गोरी चिकनी-चिकनी गदराई जवानी को देखने का!’
‘हाय राम.. मोहित आज तुझे क्या हो गया है राजा… मेरा मन भी बहुत मचल रहा है यार!’
भाभी मस्ती और चुदास में लहरा रही थी, आंखों के डोरे लाल हो रहे थे, उनके मुंह से सिसकारियां निकल रही थी- सी… एईई… अह्ह्ह… कम ऑन मोहित, हम सब करेंगे जो तू चाहता है। पर पहले चाय तो ख़त्म कर ले और थोड़ी सी प्यार की बातें करनी हैं।’

भाभी ने मुझे खींच कर अपने बराबर में कुर्सी बैठा लिया और चूमने लगी, उसके हाथ लंड को पकड़े हुए हिला रहे थे- उफ़ मोहित तेरा माल बहुत मस्त है यार…

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!