कालबॉय बनकर बुझाई मीना की प्यास

Callboy bankar bujhai mina ki chut ki pyas

बात उन दिनों की है जब मैं बारहवीं में था, उन दिनों मुझे लड़कियों पर कुछ ज्यादा ही प्यार आता था। एक दिन की बात है, जब मैं अपनी बायोलोजी की परीक्षा देकर घर आया, थोड़ा फ्रेश होकर मैं सोने जा रहा था, तभी मेरी गर्लफ्रेंड सुमन का फोन आया। उसने मुझसे पूछा- क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- सोने जा रहा हूँ।
उसने मुझसे पूछा- एक काम है, करोगे क्या?
मैंने कहा- हाँ मेरी जान, तेरे लिए तो जान हाजिर है।

सुमन ने मुझे बताया कि उसकी एक पक्की सहेली पुणे से यहाँ घूमने आई है, और उसे एक एस्कॉर्ट की जरुरत है, क्या तुम किसी को जानते हो जो काम भी अच्छा करे और दाम भी कम ले।
मैंने कहा- सोच कर बताता हूँ।
फिर मैंने सोचा कि क्यों ना मैं ही कुछ करुँ? लेकिन कैसे?
फिर मैंने तुरंत सुमन को फोन किया और कहा- सुमन, लड़का तो है लेकिन तुम्हारी फ्रेंड से कैसे बातचीत होगी?
उसने कहा- आप उसका नंबर मुझे दे दो, मैं उसे दे दूँगी।

मैंने तुरंत जाकर एक नया सिमकार्ड ले लिया और नंबर सुमन को दे दिया, साथ में नाम अंशुमन बता दिया।
सुमन ने मेरा नया नंबर अपनी सहेली को दे दिया। मैं सुमन की सहेली के काल का इंतजार करने लगा। आखिर और करता भी क्या?
तकरीबन रात को नौ बजे सुमन की सहेली का काल आया और एक मीठी सी आवाज कानों में पड़ी- हैलो, क्या मैं अंशुमन जी से बात कर सकती हूँ?
मैंने कहा- हाँ मैडम, अंशुमन बोल रहा हूँ ! आपकी तारीफ?
उसने कहा- मैं मीना बोल रही हूँ, आपका नम्बर सुमन से मिला।
मैंने कहा- कौन सुमन?
उसने कहा- मुझे आपका नंबर सुमन के बायफ्रेंड ने दिया है।
फिर मैंने सोचा कि ज्यादा इधर-उधर करुँगा तो शायद बुरा ना मान जाए तो मैंने कहा- हाँ हाँ मैडम, बोलिए, मैं क्या कर सकता हूँ आपके लिये?
तो उसने फट से कहा- मुझे एक कालबाय चाहिए।
मैंने कहा- हाँ मैडम, वो मैं कालबाय ही हूँ।
उसने कहा- आप मुझे मीना बोल सकते हैं ! वैसे आपका चार्ज कितना है?

हिंदी सेक्स स्टोरी :  परुखी को रंडी बनाया

मैंने कहा- आपको जो अच्छा लगे, आप मुझे दे देना क्योंकि आप मेरे साथ पहली बार डील कर रही हैं।
उसने कहा- ओके ! ठीक है। तो हम रविवार को मिलें?
मैंने कहा- श्योर !
उसने अपना पता मुझे दे दिया और दोपहर में बारह बजे के बाद आने को कहा।
मैं इतवार को तैयार होकर निकला और सीधे मीना के बताये हुये पते पर पहुँच गया।
मैंने दरवाजा खटकाया तो एक धांसू माल जींस और टाप में मेरे सामने आकर खड़ी हो गई। माशा अल्लाह ! क्या होंठ थे, उसके ब्रेस्ट का क्या कहना ! कमर तो मानो एकदम कयामत !

उसने पूछा- आप?
मैंने कहा- मैडम मैं अंशुमन।
तो मीना ने मुझे अंदर आने को कहा, मैं अंदर चला गया।
मीना ने मुझसे कहा- आप देखने में कालबाय तो लगते नहीं?
मैंने भी झट से कहा- आपको देखकर लगता नहीं कि आपको कालबाय की जरुरत होगी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मीना ने कहा- हां क्या करें अंशुमन जी, नया शहर है, यहाँ किसी पर भरोसा भी तो नहीं कर सकती। और बताइये आप क्या लेंगे?
मैंने कहा- कुछ भी चलेगा ! वैसे मीना जी आपकी उम्र क्या होगी?
मीना ने बताया कि वो 19 साल की है।
फिर हम दोनों ने साथ में बैठकर मदिरापान किया और फिर मैंने कहा- काम शुरु करें?
मीना ने कहा- हाँ, जरूर जनाब !
मेरे मन में तो लड्डू फ़ूट रहे थे। मैं पहले भी कई बार सेक्स कर चुका था।
मैंने मीना को कहा- अब आप मेरी हो जानेमन !
उसने कहा- हाँ, अब मैं तुम्हारी हूँ
मीना गर्म हो चुकी थी, मैंने मीना के कोमल होंठों पर अपने जुल्मी होंठों से चुम्बन करना शुरु कर दिया। वो पल मेरे लिये एकदम जन्नत सा था !
अचानक मीना ने मुझसे दूर होकर हांफते हुये कहा- आप तो जान ले लोगे ! थोड़ा साँस लेने दो जनाब।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  माँ को कोठे की रण्डी बनाया- 4

फिर मैं मीना के ऊपर लेटकर एक हाथ से उसकी चूचियाँ मसलने लगा और दूसरे हाथ से उसके कपड़े उतारने लगा, साथ में चूमाचाटी भी कर रहा था। कुछ देर बाद मैंने उसके बदन से एक-एक करके सारे कपड़े उतार दिए।
क्या बताऊँ, उसकी चूत तो एकदम कयामत ! क्या कहना !
मीना की चूत देखकर मुझसे रहा नहीं गया, मैंने तुरंत अपनी पैंट उतारकर अपने लंड का सुपारा मीना की चूत पर रखकर सहलाने लगा। मीना सिसकारियाँ ले रही थी।
बस अब सब्र का बांध टूट पड़ा और मैंने दूसरे-तीसरे झटके में पूरा लण्ड मीना की चूत में डाल दिया, कुछ मिनटों में मीना ने मुझे जोर से पकड़ लिया और झड़ गई।

मैं कहाँ से झड़ता, मैंने सेक्स की गोली जो ले रखी थी।
मीना झड़ने के बाद तड़प तड़प कर चुदाई का मजा ले रही थी और बोल रही थी- फक मी फास्टर !
कुछ देर बाद मैं झड़ने वाला था, तभी मैंने मीना से कहा- मेरा पानी निकलने वाला है !
उसने कहा- मेरे बूब्स पे गिरा दो।
और मैंने अपना वीर्य मीना के चुच्चों पे गिरा दिया और हम दोनो एक दूसरे से लिपटकर सो गये।
बाद में हम दोनों ने नहा कर एक-दूसरे को कपड़े पहनाए और मैं अपने पैसे लेकर वहाँ से चला आया।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!