देवर जी आप कुछ ऐसा करो-4

Devar ji Aap Kuchh Aisa Karo- 4

जब भाभी मेरा लण्ड चूस रही तो मैंने अपनी टीशर्ट उतार दी और मैं पूरा नंगा था, अब बारी थी अपनी गोरी चिकनी भाभी के बचे हुए कपड़े उतार कर उनको नंगा करने की।

मैंने भाभी को पकड़ कर खड़ा कर दिया और बिल्कुल द्रोपदी के चीरहरण की तरह उनकी साड़ी खींचनी शुरु कर दी।

भाभी भी गोल गोल घूम के अपनी साड़ी उतरवा रही थी।

अब उनके पेटीकोट की बारी थी जो उनके शरीर के पूरे दर्शन करने में बीच में आ रहा था। मैं उनके पास गया और उनका नाड़ा खोल कर पेटीकोट थोड़ा चौड़ा कर दिया और जैसे ही मैंने पेटीकोट छोड़ा वो नीचे गिर गया।

अब मेरी इतने दिनों की इच्छा पूरी हो गई थी औत भाभी भी मेरे सामने बिल्कुल नंगी एक रंडी की तरह खड़ी थी। मैं उनके शरीर को देख रहा था। गुलाबी होंठ, तने हुए स्तन, फूली हुई चूत और पीछे गोल गोल तरबूज जैसे नितम्ब।

आज मुझे भाभी के तीनों छेदों में अपना लण्ड डालना था। यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉंम पर पढ़ रहे हैं।

भाभी मुझसे लिपट गई और बोली- अब रहा नहीं जा रहा ! मेरी चूत का रिबन काट दो।

मैंने भाभी को पंलग पर लिटाया और उनके ऊपर बैठ कर उनकी चूत पर अपन लण्ड रखा और भाभी को बोला- भाभी, मस्त चुदाई मुबारक हो !

वो भी बोली- तुमको भी ! बहुत इंतज़ार के बाद यह मौका मिला है तो शुरु करो।

इतना सुन कर मैंने एक झटका मारा तो मेरा टोपा उनकी चूत के छेद में घुस गया।मस्ती से भाभी के मुँह से भी आहा उह्ह की आवाजें निकलने लगी। मेरे अगले झटके से भाभी की चूत में मेरा पूरा लण्ड घुस गया। भाभी खूब चुदी हुई थी तो मुझे लण्ड डालने में कोई परेशानी नहीं हुई पर इतनी चुदाई के बाद भी उनकी चूत कसी हुई थी। मैं अपना लण्ड उनकी चूत में अंदर-बाहर करने लगा। वो भी अपनी गाण्ड उचका-उचका के मेरा साथ दे रही थी, मैं साथ में उनके स्तन दबा रहा था और होंठ चूस रहा था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  देवर ने मेरे साथ सुहागरात मनाई और जमकर चूत चुदाई की

थोड़ी देर में ही हम लोगों का पानी निकलने लगा तो पूरे कमरे में पच पच की आवाजें आने लगी। भाभी चिल्ला रही थी- चोदो राजा चोदो, अपनी भाभी को अपनी पत्नी, अपनी रखैल की तरह चोदो और मेरी सारी तम्मना पूरी कर दो।

मैं भी उनको चोदते चोदते बोल रहा था- भाभी, बहुत दिनों से तुम्हारी मारना चाहता था पर मौका नहीं मिल पा रहा था तो आज मैं तुमको नहीं छोड़ूंगा, तेरी पूरी तरह से मार लूंगा आज। मेरी रानी आज तू मेरी माल है और मैं अपने माल को आसानी से नहीं छोड़ता।

भाभी बोली- मेरे राजा, तुम चोदो, छोड़ने की बात क्यों करते हो? आज तो मैं ही तुमको नहीं छोड़ूँगी।

करीब 25 मिनट बाद हम दोनों ने अपना पानी छोड़ दिया। मैंने अपना सारा रस उनकी चूत में ही निकाल दिया। मैं उनके ऊपर ही लेट कर सो गया।

फिर हम दोनों उठे क्योंकि उनके बेटे के उठने का समय हो गया था, मन तो नहीं कर रहा था पर मज़बूरी थी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर रात को भाभी ने सेक्सी मेक्सी पहनी बिल्कुल पारदर्शी, और हमने सेक्स के मज़े लिए।

अगली दिन सुबह जब उनका बेटा स्कूल चला गया तो वो मेरे पास आई। मैं तब तक सो रहा था, बिल्कुल नंगा। उन्होंने मुझे चादर उढ़ा दी थी। वो मेरे ऊपर चढ़ कर बैठ गई और मेरा लण्ड पकड़ के अपनी चूत पर लगा के जोर से बैठी तो मेरा लण्ड उनकी चूत में उतर गया।

वो मेरे ऊपर बैठी बैठी उचक रही थी और मैं नीचे मज़ा ले रहा था।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  माधुरी के मधुरस का स्वाद-2

उस दिन हम लोगों ने दिन भर सेक्स किया, बिना समय ख़राब किये। हम लोग अपना पानी छोड़ते और थोड़ी देर में फिर तैयार हो जाते और चुदाई करते। मैंने भाभी को घोड़ी बना कर भी चोदा, उनको उल्टा लिटा कर उनकी चूत मारी।

दिन में हम लोगों ने कैमरा लगा कर उसको टीवी से जोड़ दिया तो हम लोगों की लाइव चुदाई हम लोग टीवी पर भी देखते जा रहे थे, बिल्कुल ब्लू फ़िल्म की तरह लग रही थी। शाम तक हम लोगों का यही कार्यक्रम चला। जब शाम को भाई का कॉल आया कि वो भोपाल पहुच गए हैं तब हमने अपनी एक फ़ाइनल चुदाई की और नहाने चले गए और तैयार होकर बैठ गए।

जब तक उन लोगों ने दरवाजे की घंटी नहीं बजा दी हम लोग एक दूसरे से चिपके हुए थे और जो कुछ कर सकते थे वो कर रहे थे।

मैं उनकी चूत में उंगली कर रहा था वो मेरा लण्ड चूस लेती थी। बैठे बैठे भी हम लोगों ने चुदाई की। वो मेरी गोदी में बैठ के मेरा लण्ड अपनी चूत में डलवा कर उचक रही थी और साथ में ही उनके स्तन भी उछाले मार रहे थे। मस्त दृश्य था वो भी।

आप खुद ही सोचो आपकी गोदी में बैठ कर कोई लड़की अपनी चूत मरवाए और उसके चूचे भी ऊपर-नीचे उछल रहे हो तो कैसा लगेगा आपको।

उस दिन के बाद जब भी हम लोगों को मौका मिलता हम चुदाई करते। मैं भोपाल करीब 6 महीने रहा और भाभी की चुदाई की। उसके बाद भी भाभी मुझे घरवालों का कार्यक्रम बता देती और जब उन लोगों को बाहर जाना होता तो मैं पहुँच जाता और उनके जाने के बाद हम अपनी यादें ताज़ा करते चुदाई करके !

हिंदी सेक्स स्टोरी :  भाभी को दिखाई नई ब्लू फिल्म

पर ये मौके कम ही मिले तो आज भी अपनी भाभी और उनकी सोनपरी जैसी चूत को याद करता हूँ।

इस दो दिन की चुदाई में मैंने भाभी को साथ नहाते समय भी चोदा और तभी उनकी गाण्ड मारी। पर वो मेरी अगली कहानी में बताऊँगा क्योंकि वो अपने में एक अलग अनुभव है।

यह कहानी आपको कैसी लगी, कृपया जरूर बताइएगा। मुझे आपके प्रोत्साहन की जरुरत है तो मेल जरूर करें।

//कहानी समाप्त//

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!